क्या किसी को उसकी बातों से जज करना सही है?...


user

Kavita Panyam

Certified Award Winning Counseling Psychologist

1:29
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए जांच करना जो होता है मतलब एक सेंटेंस प्रदान करना जो कि सही नहीं होता हां लेकिन आप एनालाइज कर सकते हैं आप इसके बारे में जांच कर सकते हैं कि उनका पर्सनालिटी कैसा है उनका इमोशनल मेच्योरिटी कितना है उनकी सोच कैसी है उनका नॉलेज और कैसा है और उनका लाइफ में आउटलुक क्या है यह आप जांच कर सकते हैं उनकी बातों और इमोशंस के द्वारा और फिर आप देख सकते हैं कि आपके साथ उनका पर्सनालिटी कैसा जमता है अगर सब कुछ ठीक है तो दोस्ती की जगह ठीक नहीं है तो फिर उनको एक वेतनश्रेणी एक हाय बाय के रिश्ते तक की रखिएगा तो जांच करके आपने अपने डिसाइड करना कि आपके लिए सही है नहीं अलग है लेकिन जज करके एक सेंटेंस प्रदान करना कि यह फलाना प्रसन्न ऐसा है यह गलत है हम किसी को जज करने का हमें किसी को जज करने का ना तो अधिकार है ना कि नहीं वह सही है क्योंकि हम खुद परफेक्ट इन नहीं होते और दूसरे के की जांच करने से आपका जो आपके खुद के जो नेगेटिव क्वालिटीज होते हैं वह बाहर आ ही जाते हैं और क्योंकि अगर हम हम जो दूसरों को प्रदान करते हैं मतलब हम ऑलरेडी जानते हैं कि वह क्वालिटीज क्या है तो जाहिर है हमें भी थोड़े होंगे वरना हम को पता नहीं होता वह क्या है तो जज करना यह बहुत ही नेगेटिव वर्जित होता है और हमें जज नहीं करना चाहिए हां अब ऑनलाइन कीजिए जांच कीजिए और देखिए कि आपके लिए वह इंसान सही है कि नहीं और उसके बाद आप कोई भी निर्णय लीजिए

dekhiye jaanch karna jo hota hai matlab ek sentence pradan karna jo ki sahi nahi hota haan lekin aap analyse kar sakte hai aap iske bare mein jaanch kar sakte hai ki unka personality kaisa hai unka emotional maturity kitna hai unki soch kaisi hai unka knowledge aur kaisa hai aur unka life mein outlook kya hai yah aap jaanch kar sakte hai unki baaton aur emotional ke dwara aur phir aap dekh sakte hai ki aapke saath unka personality kaisa jamata hai agar sab kuch theek hai toh dosti ki jagah theek nahi hai toh phir unko ek vetanashreni ek hi bye ke rishte tak ki rakhiega toh jaanch karke aapne apne decide karna ki aapke liye sahi hai nahi alag hai lekin judge karke ek sentence pradan karna ki yah falana prasann aisa hai yah galat hai hum kisi ko judge karne ka hamein kisi ko judge karne ka na toh adhikaar hai na ki nahi vaah sahi hai kyonki hum khud perfect in nahi hote aur dusre ke ki jaanch karne se aapka jo aapke khud ke jo Negative kwalitij hote hai vaah bahar aa hi jaate hai aur kyonki agar hum hum jo dusro ko pradan karte hai matlab hum already jante hai ki vaah kwalitij kya hai toh jaahir hai hamein bhi thode honge varna hum ko pata nahi hota vaah kya hai toh judge karna yah bahut hi Negative varjit hota hai aur hamein judge nahi karna chahiye haan ab online kijiye jaanch kijiye aur dekhiye ki aapke liye vaah insaan sahi hai ki nahi aur uske baad aap koi bhi nirnay lijiye

देखिए जांच करना जो होता है मतलब एक सेंटेंस प्रदान करना जो कि सही नहीं होता हां लेकिन आप एन

Romanized Version
Likes  69  Dislikes    views  644
KooApp_icon
WhatsApp_icon
12 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!