कानून को लोग क्यों नहीं मानते?...


user

Ansh jalandra

Motivational speaker & criminal lawyer

0:32
Play

Likes  131  Dislikes    views  2612
WhatsApp_icon
7 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

राघवेंद्र पुरोहित

बाल संरक्षण अधिकारी (महिला एवं बाल विकास)

1:12
Play

Likes  43  Dislikes    views  861
WhatsApp_icon
play
user

Daulat Ram Sharma Shastri

Psychologist | Ex-Senior Teacher

2:00

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

कम उम्र के लोग इसलिए नहीं मानते क्योंकि राजनीति की त कल्ला जी ज्यादा बढ़ गई है मैं चुनाव में था तो एक पुलिस अधिकारी सबसे बीएसपी सब से बात हुई थी उन्होंने कहा था कि वह हम लोग बड़ी मेहनत करके तो गुंडे डकैत बदमाशों को पकड़ते हैं पकड़ कर ला भी नहीं पाते अभी पल भी नहीं ला पाते उससे पहले ही राजनीतिज्ञों के फॉर्म आ जाते हैं नेताओं के बड़े लीडर्स दें और उनको छोड़ देते तो कानून को आज की राजनीति गंदी राजनीति अंधा कानून फिल्म के गाने कम होती जा रही है जबकि यह होना चाहिए कि किसी भी नेता का दखल नहीं होना चाहिए यदि कितनी घटिया की कितनी गंदी हो गई है कि हर समझदार व्यक्ति इसे दो बजना पसंद कर रहा है मंडप राजनीति तो देश की सारी होनी चाहिए देश के कानून की पत्थर सिटी का मेन कारण पहले भी समझदार लोग थे पहले भी क्या ऐसे से पुलिस अधिकारी हुए हैं जिन्होंने अपना कर्तव्य के लिए अपने परिवार तक को परवान कर दिए हैं और दूसरी बात आज के बाद कभी जो है वह भी अपने को नहीं रहा है कोर्ट के द्वारा के पंच परमेश्वर से ऊपर होते हैं भारतीय जनता के जो एक आधा जीने का है वह राजनीति से तो उनको कहना हो चुकी है लोगों को लेकिन वोट ही थे कोठी कानून पलाउ करवाते थे अब तो स्थिति बहुत इस राजनीति के सब कुछ चौपट कर दिया गंदी

kam umr ke log isliye nahi maante kyonki raajneeti ki t kalla ji zyada badh gayi hai chunav mein tha toh ek police adhikari sabse bsp sab se baat hui thi unhone kaha tha ki vaah hum log badi mehnat karke toh gunde dacoit badmashon ko pakadten hain pakad kar la bhi nahi paate abhi pal bhi nahi la paate usse pehle hi rajaneetigyon ke form aa jaate hain netaon ke bade leaders de aur unko chod dete toh kanoon ko aaj ki raajneeti gandi raajneeti andha kanoon film ke gaane kam hoti ja rahi hai jabki yah hona chahiye ki kisi bhi neta ka dakhal nahi hona chahiye yadi kitni ghatiya ki kitni gandi ho gayi hai ki har samajhdar vyakti ise do bajna pasand kar raha hai mandap raajneeti toh desh ki saree honi chahiye desh ke kanoon ki patthar city ka main karan pehle bhi samajhdar log the pehle bhi kya aise se police adhikari hue hain jinhone apna kartavya ke liye apne parivar tak ko parvan kar diye hain aur dusri baat aaj ke baad kabhi jo hai vaah bhi apne ko nahi raha hai court ke dwara ke punch parmeshwar se upar hote hain bharatiya janta ke jo ek aadha jeene ka hai vaah raajneeti se toh unko kehna ho chuki hai logo ko lekin vote hi the kothi kanoon palau karwaate the ab toh sthiti bahut is raajneeti ke sab kuch chowpat kar diya gandi

कम उम्र के लोग इसलिए नहीं मानते क्योंकि राजनीति की त कल्ला जी ज्यादा बढ़ गई है मैं चुनाव म

Romanized Version
Likes  9  Dislikes    views  296
WhatsApp_icon
user
1:03
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मनुष्य किसी बात को जो है अब अपनी दिल किसी का नहीं कर पाता बोलते नहीं होती है सभी को नहीं मानता था और उसी इतनी सभी 55th मिलती बताओ जो प्रयोग और उसका आनंद उठाना चाहता है इसी वजह से ज्यादा संस्कृति का जो है मनुष्य होने के कारण और ज्यादा संता और उसके कारण की कमजोरियों का फायदा उठाने का बटन वाला मोबाइल फोन का फायदा उठाना चाहता है और उसका जो है कितना मिलती है उसका फायदा उठाता है डीजे में कानून से पालन करने हरियाणवी आगे कुदरत का कानून द्वारा दी आता है

manushya kisi baat ko jo hai ab apni dil kisi ka nahi kar pata bolte nahi hoti hai sabhi ko nahi maanta tha aur usi itni sabhi 55th milti batao jo prayog aur uska anand uthana chahta hai isi wajah se zyada sanskriti ka jo hai manushya hone ke karan aur zyada santa aur uske karan ki kamzoriyo ka fayda uthane ka button vala mobile phone ka fayda uthana chahta hai aur uska jo hai kitna milti hai uska fayda uthaata hai DJ me kanoon se palan karne hariyanvi aage kudrat ka kanoon dwara di aata hai

मनुष्य किसी बात को जो है अब अपनी दिल किसी का नहीं कर पाता बोलते नहीं होती है सभी को नहीं म

Romanized Version
Likes  39  Dislikes    views  556
WhatsApp_icon
user

BOB

Teacher

0:53
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका सवाल पानी को लोग क्यों नहीं मानते हैं ऐसा नहीं है कि लोग कानून को नहीं मानते ज्यादातर लोग अरुण को मानते हैं इसी वजह से सारी चीजें चल रही है अगर सारे लोग कानून को मानना छोड़ देंगे तो देश की हालत क्या होगी आप समझ सकते हैं सारे लोग मानते हैं लेकिन कुछ चंद लोग सरफिरे बिगड़े हुए ऐसे लोग जो कानून को नहीं मानते कानून की परवाह नहीं करते और वह क्राइम करते हैं लेकिन उसका अंजाम भी हो वो करते हैं तो यह गुरु जाने की जो इंसान का नहीं मानेगा उसको फोन नहीं करेगा वह तकलीफ जरूर आएगा आज नहीं तो कल उसको कानून के दायरे में कानून के पंजे में फसना ही होगा तो बेहतर है कि आप कानून माने और हमेशा सही रहा चले

aapka sawaal paani ko log kyon nahi maante hain aisa nahi hai ki log kanoon ko nahi maante jyadatar log arun ko maante hain isi wajah se saari cheezen chal rahi hai agar saare log kanoon ko manana chhod denge toh desh ki halat kya hogi aap samajh sakte hain saare log maante hain lekin kuch chand log sarfire bigade hue aise log jo kanoon ko nahi maante kanoon ki parvaah nahi karte aur vaah crime karte hain lekin uska anjaam bhi ho vo karte hain toh yah guru jaane ki jo insaan ka nahi manega usko phone nahi karega vaah takleef zaroor aayega aaj nahi toh kal usko kanoon ke daayre me kanoon ke panje me fasana hi hoga toh behtar hai ki aap kanoon maane aur hamesha sahi raha chale

आपका सवाल पानी को लोग क्यों नहीं मानते हैं ऐसा नहीं है कि लोग कानून को नहीं मानते ज्यादातर

Romanized Version
Likes  5  Dislikes    views  182
WhatsApp_icon
user

विकास सिंह

दिल से भारतीय

0:54
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हमारे देश में देखा जाए तो कानून और लोगों के बीच में काफी दूरियां बनी रहती है हमारे देश में लोग चुने कानून को मानने से ज्यादा कानून को तोड़ने में विश्वास रखते हैं क्योंकि उन्हें पता है क्या कानून टूटे हुए पकड़ी जाती तो हम पैसे देकर बच जाते हैं दूसरे की जनता की रक्षा ठीक तरीके से नहीं कर पा रही है याद करते रहता है कानून हमारे देश में खराब हो रहा है

hamare desh mein dekha jaaye toh kanoon aur logo ke beech mein kaafi duriyan bani rehti hai hamare desh mein log chune kanoon ko manne se zyada kanoon ko todne mein vishwas rakhte hain kyonki unhe pata hai kya kanoon tute hue pakadi jaati toh hum paise dekar bach jaate hain dusre ki janta ki raksha theek tarike se nahi kar paa rahi hai yaad karte rehta hai kanoon hamare desh mein kharab ho raha hai

हमारे देश में देखा जाए तो कानून और लोगों के बीच में काफी दूरियां बनी रहती है हमारे देश में

Romanized Version
Likes  9  Dislikes    views  226
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भ्रष्टाचार के कारण मेरा यह मानना है कि अधिकांश लोगों का विश्वास कानून से उठ गया है क्योंकि लोगों को न्याय नहीं मिलता है

bhrashtachar ke karan mera yah manana hai ki adhikaansh logo ka vishwas kanoon se uth gaya hai kyonki logo ko nyay nahi milta hai

भ्रष्टाचार के कारण मेरा यह मानना है कि अधिकांश लोगों का विश्वास कानून से उठ गया है क्योंकि

Romanized Version
Likes  10  Dislikes    views  195
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!