अंधभक्ति किसे कहते हैं?...


user

प्रशान्त मिश्र

लेखक, सामाजिक विश्लेषक, चिंतक, विचारक,

2:22
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आजकल शब्द बहुत याद सुनने को मिल रहा है वह शब्द है अंधभक्ति वैसे तो यह शब्द राजनीतिक परिवेश में प्रयोग किया जाता है परंतु हमें इसके पीछे के कारण और प्रभाव को समझना होगा अंधी अंधा मतलब क्या होता है कोई भी व्यक्ति जिसके अंदर देखने और समझने की शक्ति समाप्त हो जाए और भक्ति और वह किसी एक ही दिशा में चलता चला जाए जब कभी भी हम अंधभक्ति की बात करते हैं तो हम बात करते हैं कि आंख मुंह करके किसी भी व्यक्ति का अनुसरण करते जाना व्यक्ति के अंदर कुछ अच्छी आदतें होती हैं कुछ खराब आदतें होती हैं हमारा काम यह है कि उसकी अच्छी आदतों को अपना लें उसकी अच्छी आदतों का अनुसरण करें और बुरी आदतें उसके साथ ही छोड़ दें परंतु जब कभी भी हम किसी भी व्यक्ति की गलत आदतें और सरल आदतें यानी से गलत कार्य और अच्छे कार्य दोनों को देखकर भी उसका अनुसरण करते हैं हम की बुराइयां देखने के बाद भी उसकी बुराई को बुराई नहीं कहते जब हम अपने विवेक का इस्तेमाल नहीं करते तब या शब्द उत्पन्न होता है जिसे बोला जाता है अंधभक्ति तो सर्वप्रथम हमारा कार्य है यह है कि अपने विवेक का इस्तेमाल करें हमारे अंदर सही और गलत की पहचान कैसे करते हैं यह जानना और समझने की शक्ति होनी चाहिए जब हमारे अंदर यहां आ जाएगी तो निश्चय ही हम सही और गलत की पहचान कर सकेंगे और अंधभक्ति से बच सकेंगे यदि अभी भी आपके मन में कोई भी प्रश्न उत्पन्न होता है तो आप मुझे कमेंट बॉक्स में लिख सकते हैं धन्यवाद

aajkal shabd bahut yaad sunne ko mil raha hai vaah shabd hai andhbhakti waise toh yah shabd raajnitik parivesh me prayog kiya jata hai parantu hamein iske peeche ke karan aur prabhav ko samajhna hoga andhi andha matlab kya hota hai koi bhi vyakti jiske andar dekhne aur samjhne ki shakti samapt ho jaaye aur bhakti aur vaah kisi ek hi disha me chalta chala jaaye jab kabhi bhi hum andhbhakti ki baat karte hain toh hum baat karte hain ki aankh mooh karke kisi bhi vyakti ka anusaran karte jana vyakti ke andar kuch achi aadatein hoti hain kuch kharab aadatein hoti hain hamara kaam yah hai ki uski achi aadaton ko apna le uski achi aadaton ka anusaran kare aur buri aadatein uske saath hi chhod de parantu jab kabhi bhi hum kisi bhi vyakti ki galat aadatein aur saral aadatein yani se galat karya aur acche karya dono ko dekhkar bhi uska anusaran karte hain hum ki buraiyan dekhne ke baad bhi uski burayi ko burayi nahi kehte jab hum apne vivek ka istemal nahi karte tab ya shabd utpann hota hai jise bola jata hai andhbhakti toh sarvapratham hamara karya hai yah hai ki apne vivek ka istemal kare hamare andar sahi aur galat ki pehchaan kaise karte hain yah janana aur samjhne ki shakti honi chahiye jab hamare andar yahan aa jayegi toh nishchay hi hum sahi aur galat ki pehchaan kar sakenge aur andhbhakti se bach sakenge yadi abhi bhi aapke man me koi bhi prashna utpann hota hai toh aap mujhe comment box me likh sakte hain dhanyavad

आजकल शब्द बहुत याद सुनने को मिल रहा है वह शब्द है अंधभक्ति वैसे तो यह शब्द राजनीतिक परिवेश

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  60
KooApp_icon
WhatsApp_icon
3 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!