हिंदू मुस्लिम में फर्क क्यों?...


user

Ajay Sinh Pawar

Founder & M.D. Of Radiant Group Of Industries

1:45
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हिंदू मुस्लिम में पक्षी लोगों का सोचने का नजरिया अलग अलग होता है और साफ करते हैं महेश देता है वह मुस्लिमों को अपनी वोट बैंक समझते और मुस्लिम तुष्टिकरण की राजनीति करते हैं उसने के मुस्लिमों में बहुत ज्यादा समझ नहीं होती ऐसी बात नहीं है मुस्लिम भी जाकर सो गए जैसे जैसे उसने लोगों में शिक्षा का प्रसार हो रहा है वैसे वह अपने हफ्ते प्रति जागृत होते हैं बाकी तो हिंदी और मुकीम जो भी वह इंसान है और भारत में कितने मुस्लिम है उसमें अधिकतर पहले वह हिंदू एकता के बाद में मुस्लिम बने लेकिन हमारे देश में सब धर्म के लोगों को रहने की आजादी है अपना घर में पालने की आजादी अगर हम देखें तो खून करव तो सभी का एक ऐसा होता है और जूते भी एक जैसी होती लेकिन सिर्फ राजनेताओं की सोच की वजह से उन्हें बटवारा धर्म के नाम पर किया जाता है बाकी मेरे हिसाब से तो इंसानियत से बड़ा कोई धर्म नहीं होता और सबका मालिक एक ही होता है नाम अलग-अलग पहले धार्मिक पुस्तकें भले ही अलग हो और धर्म के आधार पर यह सब बंटवारा नहीं होना चाहिए ऐसा मेरा मानना है धन्यवाद

hindu muslim me pakshi logo ka sochne ka najariya alag alag hota hai aur saaf karte hain mahesh deta hai vaah muslimo ko apni vote bank samajhte aur muslim Tustikaran ki raajneeti karte hain usne ke muslimo me bahut zyada samajh nahi hoti aisi baat nahi hai muslim bhi jaakar so gaye jaise jaise usne logo me shiksha ka prasaar ho raha hai waise vaah apne hafte prati jagrit hote hain baki toh hindi aur mukim jo bhi vaah insaan hai aur bharat me kitne muslim hai usme adhiktar pehle vaah hindu ekta ke baad me muslim bane lekin hamare desh me sab dharm ke logo ko rehne ki azadi hai apna ghar me palne ki azadi agar hum dekhen toh khoon karav toh sabhi ka ek aisa hota hai aur joote bhi ek jaisi hoti lekin sirf rajnetao ki soch ki wajah se unhe batwara dharm ke naam par kiya jata hai baki mere hisab se toh insaniyat se bada koi dharm nahi hota aur sabka malik ek hi hota hai naam alag alag pehle dharmik pustakein bhale hi alag ho aur dharm ke aadhar par yah sab batwara nahi hona chahiye aisa mera manana hai dhanyavad

हिंदू मुस्लिम में पक्षी लोगों का सोचने का नजरिया अलग अलग होता है और साफ करते हैं महेश देता

Romanized Version
Likes  311  Dislikes    views  4914
KooApp_icon
WhatsApp_icon
12 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!