अकेलेपन में कैसा लगता है?...


user

Trainer Yogi Yogendra

Motivational Speaker || Career Coach || Business Coach || Marketing & Management Expert's

0:49
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हेलो फ्रेंड्स में योगेंद्र शर्मा मोटिवेशनल स्पीकर के घर को चोर कॉरपोरेट ट्रेनर आज हम किसके बारे में बात करने वाले हैं माय डियर फ्रेंड सर्कल में कैसा लगता है वैसे अगर बात करूं तो अकेले पल में इंसान थोड़ा सा निराशावादी हो जाता है लेकिन कुछ लोग ऐसे होते हैं जो अकेले बहुत ज्यादा फायदा उठाते हैं और वह यह है कि कुछ लोग अकेले रहना पसंद करते हैं उसका कारण है माई डिअर फ्रेंड की फोटो है अपने आप में डूबना पसंद करते हैं अपने आप से बातें करना पसंद करते हैं और अपने ही अपने ही अंदर जाने की कोशिश करते हैं इसलिए उनको अकेलापन पसंद होता है और कुछ लोग आपके पास में है और जिसको आप करना चाहे वह ज्यादा अच्छा होगा मैं तो यही कहूंगा कि अगर आप अकेले कुछ

hello friends me yogendra sharma Motivational speaker ke ghar ko chor corporate trainer aaj hum kiske bare me baat karne waale hain my dear friend circle me kaisa lagta hai waise agar baat karu toh akele pal me insaan thoda sa nirashavaadi ho jata hai lekin kuch log aise hote hain jo akele bahut zyada fayda uthate hain aur vaah yah hai ki kuch log akele rehna pasand karte hain uska karan hai my dear friend ki photo hai apne aap me doobna pasand karte hain apne aap se batein karna pasand karte hain aur apne hi apne hi andar jaane ki koshish karte hain isliye unko akelapan pasand hota hai aur kuch log aapke paas me hai aur jisko aap karna chahen vaah zyada accha hoga main toh yahi kahunga ki agar aap akele kuch

हेलो फ्रेंड्स में योगेंद्र शर्मा मोटिवेशनल स्पीकर के घर को चोर कॉरपोरेट ट्रेनर आज हम किसके

Romanized Version
Likes  548  Dislikes    views  4645
WhatsApp_icon
4 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
play
user

Dr.Nisha Joshi

Psychologist

0:37

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका प्रश्न है अकेलेपन में कैसा लगता है अकेलेपन में हर व्यक्ति का नेचर अलग-अलग है मतलब के स्वभाव अलग-अलग है इसी को अकेलापन अच्छा लगता है किसी को अकेलापन अच्छा नहीं लगता है जिसको अकेलापन अच्छा लगता है वह खुश रहता है जिसको कलापत अच्छा नहीं लगता है वह खुश नहीं रहता है और जिसको कल आप अच्छा नहीं लगता है खुश नहीं रह पाता है तुमको हर रोज सुबह मेडिटेशन करना चाहिए जागने के बाद और सोने से पहले भी मेडिटेशन करना चाहिए ताकि फायदा हो और कोई दिक्कत ना हो आपका दिन शुभ हो धन्यवाद गुड लक टेक केयर

aapka prashna hai akelepan mein kaisa lagta hai akelepan mein har vyakti ka nature alag alag hai matlab ke swabhav alag alag hai isi ko akelapan accha lagta hai kisi ko akelapan accha nahi lagta hai jisko akelapan accha lagta hai vaah khush rehta hai jisko kalapat accha nahi lagta hai vaah khush nahi rehta hai aur jisko kal aap accha nahi lagta hai khush nahi reh pata hai tumko har roj subah meditation karna chahiye jagne ke BA ad aur sone se pehle bhi meditation karna chahiye taki fayda ho aur koi dikkat na ho aapka din shubha ho dhanyavad good luck take care

आपका प्रश्न है अकेलेपन में कैसा लगता है अकेलेपन में हर व्यक्ति का नेचर अलग-अलग है मतलब के

Romanized Version
Likes  259  Dislikes    views  4280
WhatsApp_icon
user

Naren khatri

Student And Social Worker

0:31
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका सवाल है अकेलेपन में कैसा लगता है अकेलेपन दो तरह के होते हैं एक तो आप अकेलेपन में आनंद लेते हैं और एक अकेलेपन में आप निराश रहते हैं तो निराशा में अकेलेपन में आपको बहुत बुरा लगता है अकेलापन कोई नहीं होता है आपके साथ में और जब आप इंजॉय के लिए अकेलेपन में रहते हैं तो आप अपने खुद के बारे में सोच पाते हैं कि हमें भविष्य में क्या करना चाहिए अपना करियर कैसा बनाना चाहिए क्या डिसीजन लेने चाहिए क्या नहीं लेने चाहिए आधी धन्यवाद

aapka sawaal hai akelepan mein kaisa lagta hai akelepan do tarah ke hote hai ek toh aap akelepan mein anand lete hai aur ek akelepan mein aap nirash rehte hai toh nirasha mein akelepan mein aapko BA hut bura lagta hai akelapan koi nahi hota hai aapke saath mein aur jab aap enjoy ke liye akelepan mein rehte hai toh aap apne khud ke BA re mein soch paate hai ki hamein bhavishya mein kya karna chahiye apna career kaisa BA nana chahiye kya decision lene chahiye kya nahi lene chahiye aadhi dhanyavad

आपका सवाल है अकेलेपन में कैसा लगता है अकेलेपन दो तरह के होते हैं एक तो आप अकेलेपन में आनंद

Romanized Version
Likes  8  Dislikes    views  157
WhatsApp_icon
user

Geet Awadhiya

Aspiring Software Developer

0:21
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अकेलेपन में हम काफी ज्यादा बुरा फील करते हैं हमेशा लगता है कि इस दुनिया में कोई हमें नहीं जानता है कोई हमारे को पसंद नहीं करता है कोई हमारी केयर नहीं करना चाहता है हमारे अंदर का कि गलत गलत ख्याल आते हैं गंदे थॉट्स आते हैं हम काफी निराश रहते हैं जब हमें अकेलापन महसूस होता है

akelepan mein hum kaafi zyada bura feel karte hai hamesha lagta hai ki is duniya mein koi hamein nahi jaanta hai koi hamare ko pasand nahi karta hai koi hamari care nahi karna chahta hai hamare andar ka ki galat galat khayal aate hai gande thoughts aate hai hum kaafi nirash rehte hai jab hamein akelapan mehsus hota hai

अकेलेपन में हम काफी ज्यादा बुरा फील करते हैं हमेशा लगता है कि इस दुनिया में कोई हमें नहीं

Romanized Version
Likes  9  Dislikes    views  316
WhatsApp_icon
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!