प्यार का क्या-क्या मतलब हो सकता है?...


user

Yogi Prashant Nath

Business Consultant / M D

2:00
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार सर प्रथम सराहनीय है आपके द्वारा पूछा गया यह प्रश्न जो प्रेम से संबंधित है उसके उपरांत में अपना परिचय आपके समक्ष रखना चाहूंगा मेरा नाम है योगी प्रशांत नाथ चले बढ़ते आपके प्रश्न के तरफ आपसे प्रश्न किया है प्यार का क्या क्या मतलब हो सकता है यह प्यार का मतलब तो एक ही होता है बस प्यार के स्वरूप चेंज हो जाते हैं हम अपने परिवार के साथ जो मां-बाप हमारे बच्चों के साथ प्यार करते हैं बच्चे अपने मां बाप के साथ प्यार करते हैं रिलेशनशिप में भी प्यार होता है अपने जीवन साथी के साथ भी हम प्यार करते हैं तो हर एक कहते हैं हर एक रिश्ते के अलग-अलग पहलू होते हैं उसी प्रकार से लेकिन प्यार की जो परिभाषा होती एक दूसरे का जो ख्याल रखना होता है वह तो एक ही होता है एक दूसरे के सुख दुख में हाथ बटाना एक दूसरे की मदद करना और हर एक अपने सदस्य को या हम इसे प्यार करते हैं उसको हर एक परेशानी से दूर रखना ही प्यार का मतलब है प्यार की परिभाषा है हम चाहे अपने जीवनसाथी से प्यार करें अपने बच्चों से मिला हम अपने मां बाप से हम हर एक सूरत में यही चाहेंगे कि हम जिससे प्यार करते हैं जो हमारी फैमिली है जो हमारे रिलेटिव को किसी भी प्रकार की कोई दुखिया तकलीफ ना पहुंचे हमारी वजह से और ना ही किसी और की वजह से हमेशा खुश रहे अपने जीवन में हर एक गम हर एक दुख कष्ट से दूर रहें हमारी यही कोशिश रहती है उन्हें खुश रखने की तो यही तो प्यार की परिभाषा है आयोग चौधरी पोस्ट आपके लिए काफी है फूलों और मैं आप सभी श्रोताओं का आभार व्यक्त करता हूं कि आपने अपना अमूल्य समय दिया इस पोस्ट को सुनने के लिए धन्यवाद आप सभी का

namaskar sir pratham sarahniya hai aapke dwara poocha gaya yah prashna jo prem se sambandhit hai uske uprant me apna parichay aapke samaksh rakhna chahunga mera naam hai yogi prashant nath chale badhte aapke prashna ke taraf aapse prashna kiya hai pyar ka kya kya matlab ho sakta hai yah pyar ka matlab toh ek hi hota hai bus pyar ke swaroop change ho jaate hain hum apne parivar ke saath jo maa baap hamare baccho ke saath pyar karte hain bacche apne maa baap ke saath pyar karte hain Relationship me bhi pyar hota hai apne jeevan sathi ke saath bhi hum pyar karte hain toh har ek kehte hain har ek rishte ke alag alag pahaloo hote hain usi prakar se lekin pyar ki jo paribhasha hoti ek dusre ka jo khayal rakhna hota hai vaah toh ek hi hota hai ek dusre ke sukh dukh me hath batana ek dusre ki madad karna aur har ek apne sadasya ko ya hum ise pyar karte hain usko har ek pareshani se dur rakhna hi pyar ka matlab hai pyar ki paribhasha hai hum chahen apne jeevansathi se pyar kare apne baccho se mila hum apne maa baap se hum har ek surat me yahi chahenge ki hum jisse pyar karte hain jo hamari family hai jo hamare relative ko kisi bhi prakar ki koi dukhiya takleef na pahuche hamari wajah se aur na hi kisi aur ki wajah se hamesha khush rahe apne jeevan me har ek gum har ek dukh kasht se dur rahein hamari yahi koshish rehti hai unhe khush rakhne ki toh yahi toh pyar ki paribhasha hai aayog choudhary post aapke liye kaafi hai fulo aur main aap sabhi shrotaon ka abhar vyakt karta hoon ki aapne apna amuly samay diya is post ko sunne ke liye dhanyavad aap sabhi ka

नमस्कार सर प्रथम सराहनीय है आपके द्वारा पूछा गया यह प्रश्न जो प्रेम से संबंधित है उसके उपर

Romanized Version
Likes  150  Dislikes    views  1205
KooApp_icon
WhatsApp_icon
6 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!