विद्यार्थी के जीवन में परिश्रम का महत्व पर निबंध कैसे लिखें?...


user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

विद्यार्थी के जीवन में परिश्रम का उतना ही महत्व है जितना भोजन में नमक का जिस प्रकार अगर भोजन जितना भी स्वादिष्ट है पर उसमें नमक की कमी है तो उसका स्वाद बेकार है उसी तरह अगर विद्यार्थी परिषद ना करें तो उसका जीवन व्यर्थ है एक तो आपने कहावत सुनी होगी करत करत अभ्यास के जड़मति होत सुजान रसरी आवत जात ते सिल पर परत निशान अर्थात जिस प्रकार एक कोमल से रस्सी कूद जैसे सख्त चट्टान को भी दाग लगा सकती है उसी प्रकार निरंतर अभ्यास करने से पढ़ाई में कमजोर बच्चा भी तेज बढ़ सकता है तो परिश्रम करें बहुत ज्यादा परेशान करें या आगे चलकर अभी आपको अपने परेशान की कार कीमत मालूम नहीं होगी पर जब आप आगे जाओगे आपको जीवन में सफलता ही सफलता मिलेगी पर परेशान नहीं करोगे तो आप असफल ही बने रहोगे और बाद में जो आपके सहपाठी थे वह जब आप से बहुत आगे निकल जाएंगे तब आपको पछतावा होगा कि एक साथ पढ़ते थे एक ही सुविधा हमें मिली फिर भी हमने परिश्रम नहीं किया इसलिए हम इतने पीछे रह गए और हमारे दोस्त हमारे सहपाठी हमसे कितना आगे निकल गए

vidyarthi ke jeevan me parishram ka utana hi mahatva hai jitna bhojan me namak ka jis prakar agar bhojan jitna bhi swaadisht hai par usme namak ki kami hai toh uska swaad bekar hai usi tarah agar vidyarthi parishad na kare toh uska jeevan vyarth hai ek toh aapne kahaavat suni hogi karat karat abhyas ke jadmati hot sujaan rasari avat jaat te sill par parat nishaan arthat jis prakar ek komal se rassi kud jaise sakht chattan ko bhi daag laga sakti hai usi prakar nirantar abhyas karne se padhai me kamjor baccha bhi tez badh sakta hai toh parishram kare bahut zyada pareshan kare ya aage chalkar abhi aapko apne pareshan ki car kimat maloom nahi hogi par jab aap aage jaoge aapko jeevan me safalta hi safalta milegi par pareshan nahi karoge toh aap asafal hi bane rahoge aur baad me jo aapke sahpathi the vaah jab aap se bahut aage nikal jaenge tab aapko pachtava hoga ki ek saath padhte the ek hi suvidha hamein mili phir bhi humne parishram nahi kiya isliye hum itne peeche reh gaye aur hamare dost hamare sahpathi humse kitna aage nikal gaye

विद्यार्थी के जीवन में परिश्रम का उतना ही महत्व है जितना भोजन में नमक का जिस प्रकार अगर भो

Romanized Version
Likes  5  Dislikes    views  160
KooApp_icon
WhatsApp_icon
2 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

Related Searches:
vidyarthi jeevan mein parishram ka mahatva par nibandh ; vidyarthi jeevan mein parishram ka mahatva ; विद्यार्थी जीवन में परिश्रम का महत्व ; विद्यार्थी जीवन में परिश्रम का महत्व पर निबंध ;

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!