श्री कृष्ण ने अपनी प्रतिज्ञा महाभारत के युद्ध में कब तोड़ी ?...


play
user

Dr. Sanjeev

Homeopath

2:06

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार हमारे श्री कृष्ण ने अपनी प्रतिज्ञा महाभारत के युद्ध में तब थोड़ी तो आपकी जानकारी के लिए आपके प्रश्न का उत्तर मैं आपको बता रहा हूं कृपया बहुत ही ध्यान पूर्वक सुनिए गा जैसा कि आप जानते हैं कि महाभारत का युद्ध कुरुक्षेत्र के मैदान में 18 दिन तक कौरवों और पांडवों के बीच चला जिनमें अंतर जिसमें अंत में पांडवों की विजय हुई परंतु भगवान कृष्ण ने प्रतिज्ञा कब तोड़ी एरिया प्रतिज्ञा कब की इसके बारे में मैं थोड़ा पहले बताऊंगा यह घटना महाभारत का युद्ध आरंभ होने से पहले की है जब युद्ध निश्चित हो गया तब कौरव और पांडव दोनों ही भगवान कृष्ण के पास सहायता मांगने गए वहां पर कहा कि मैं एक तरफ अकेला हूं लूंगा और एक और मेरी नारायणी सेना होगी लेकिन मैं शस्त्र नहीं उठाऊंगा या उन्होंने प्रतिज्ञा कर ली तूने भवन का साथ देना भगवान कृष्ण की भीषण प्रतिज्ञा का पता चला तो उन्होंने भी प्रतिज्ञा की कि मैं इस युद्ध में भगवान कृष्ण से संसद अथवा कर ही रहूंगा युद्ध आरंभ हुआ 1 दिन 2 दिन 3 दिन बीत गए जब भगवान कृष्ण की प्रतिज्ञा नहीं टूटे तो 8 दिन जाकर पितामह भीष्म ने बहुत ही भीषण युद्ध किया और उन्हें उन्होंने पांडवों को बहुत बुरी तरह क्षत-विक्षत किया अर्जुन के रथ को पूरी तरह ढक दिया भगवान कृष्ण को भी उन्होंने बहुत तीरों से घायल किया अब क्योंकि अर्जुन के प्राण संकट में आ चुके थे लेकिन भगवान कृष्ण अपनी प्रतिज्ञा के कारण शासक नहीं उठा नहीं उठा पा रहे लेकिन पितामह भीष्म की इतनी भीषण बाढ़ वर्षा के चलते भगवान कृष्ण को अंततः अर्जुन की रक्षा के लिए धर्म की रक्षा के लिए अपनी प्रतिज्ञा तोड़नी पड़ी तब उन्होंने आठ में 9 में दिन उन्होंने अपनी प्रतिज्ञा तोड़ी और रथ का पहिया उठाकर वह पितामह भीष्म पर की ओर दौड़े धन्यवाद

namaskar hamare shri krishna ne apni pratigya mahabharat ke yudh me tab thodi toh aapki jaankari ke liye aapke prashna ka uttar main aapko bata raha hoon kripya bahut hi dhyan purvak suniye jaayega jaisa ki aap jante hain ki mahabharat ka yudh kurukshetra ke maidan me 18 din tak kauravon aur pandavon ke beech chala jinmein antar jisme ant me pandavon ki vijay hui parantu bhagwan krishna ne pratigya kab todi area pratigya kab ki iske bare me main thoda pehle bataunga yah ghatna mahabharat ka yudh aarambh hone se pehle ki hai jab yudh nishchit ho gaya tab kaurav aur pandav dono hi bhagwan krishna ke paas sahayta mangne gaye wahan par kaha ki main ek taraf akela hoon lunga aur ek aur meri narayani sena hogi lekin main shastra nahi uthaunga ya unhone pratigya kar li tune bhawan ka saath dena bhagwan krishna ki bhishan pratigya ka pata chala toh unhone bhi pratigya ki ki main is yudh me bhagwan krishna se sansad athva kar hi rahunga yudh aarambh hua 1 din 2 din 3 din beet gaye jab bhagwan krishna ki pratigya nahi tute toh 8 din jaakar pitamah bhishma ne bahut hi bhishan yudh kiya aur unhe unhone pandavon ko bahut buri tarah kshat vikshat kiya arjun ke rath ko puri tarah dhak diya bhagwan krishna ko bhi unhone bahut tiron se ghayal kiya ab kyonki arjun ke praan sankat me aa chuke the lekin bhagwan krishna apni pratigya ke karan shasak nahi utha nahi utha paa rahe lekin pitamah bhishma ki itni bhishan baadh varsha ke chalte bhagwan krishna ko antatah arjun ki raksha ke liye dharm ki raksha ke liye apni pratigya todni padi tab unhone aath me 9 me din unhone apni pratigya todi aur rath ka pahiya uthaakar vaah pitamah bhishma par ki aur daude dhanyavad

नमस्कार हमारे श्री कृष्ण ने अपनी प्रतिज्ञा महाभारत के युद्ध में तब थोड़ी तो आपकी जानकारी क

Romanized Version
Likes  37  Dislikes    views  763
WhatsApp_icon
1 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
Likes    Dislikes    views  
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!