हर कोई यह क्यों सोचता है कि एक डिप्रेशन का शिकार व्यक्ति पागल या मानसिक रूप से बीमार है?...


play
user

Dr.Nisha Joshi

Psychologist

1:48

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका प्रश्न है हर कोई यह क्या सोचता है कि एक डिप्रेशन का शिकार व्यक्ति पागल या मानसिक रूप से बीमार है और डिप्रेशन का शिकार व्यक्ति मानसिक रूप से पागल तो नहीं मार सकते हैं लेकिन जैसे बुखार आ रहा है आप को फीवर हुआ है तेरा को जुखाम हुआ है बीपी डायबिटिस बीमार होते ना इसमें भी ऐसे बीमार है फिर वह धीरे धीरे ठीक हो जाते लेकिन उनका भी सपोर्ट चाहिए और जिनके मन में यह गलत सोच ग्रंथि बंद गई है कि डिप्रेशन का पति पागल है मानसिक रूप से बीमार है पागल है तू पागल नहीं होते बस छोटा सा प्रॉब्लम होता है कि डिप्रेशन टेंशन की वजह से बढ़ गया है जिसको वह कॉलेज के पास जाकर काउंसलिंग फिर आप इसे या जो भी ठीक लगे उस हिसाब से देखते हैं जो उनको ठीक लगता है उस हिसाब से आपके ट्रीटमेंट करते हैं पर वार करते हैं और फिर डिप्रेशन और एनसीटीसी सब बीमारी से बाहर निकाल दें और कुछ नहीं और जहां दवाई की जरूरत लगती है तो वह आगे सजेस्ट करता है दवाई के लिए और दवाई की जरूरत नहीं लगती तो नहीं करते हैं जिन लोगों के दिमाग में यह है कि यह पागल और मानसिक बीमारी के नाते ऐसा नहीं है उन लोगों की सोच बदलनी है हमें तो हो सके तो आप भी मदद करिए सबको और उनकी सोच बदलिए की ऐसी चीजें गलत इंफॉर्मेशन मत खिलाओ मत खिलाओ अच्छी इंफॉर्मेशन चलाओ ताकि समाज में सब को फायदा हो नुकसान ना हो कोई सा कलर के पास जाएं तो अच्छे से जाए जाने से स्टार्ट ना हो जाए बस यही अच्छा संदेश नहीं चलाइए सबको आपका दिन शुभ हो धन्यवाद गुड लक फॉर लाइफ इंजॉय

aapka prashna hai har koi yah kya sochta hai ki ek depression ka shikaar vyakti Pagal ya mansik roop se bimar hai aur depression ka shikaar vyakti mansik roop se Pagal toh nahi maar sakte hain lekin jaise bukhar aa raha hai aap ko fever hua hai tera ko jukham hua hai BP daybitis bimar hote na isme bhi aise bimar hai phir vaah dhire dhire theek ho jaate lekin unka bhi support chahiye aur jinke man mein yah galat soch granthi band gayi hai ki depression ka pati Pagal hai mansik roop se bimar hai Pagal hai tu Pagal nahi hote bus chota sa problem hota hai ki depression tension ki wajah se badh gaya hai jisko vaah college ke paas jaakar kaunsaling phir aap ise ya jo bhi theek lage us hisab se dekhte hain jo unko theek lagta hai us hisab se aapke treatment karte hain par war karte hain aur phir depression aur NCTC sab bimari se bahar nikaal de aur kuch nahi aur jaha dawai ki zarurat lagti hai toh vaah aage suggest karta hai dawai ke liye aur dawai ki zarurat nahi lagti toh nahi karte hain jin logo ke dimag mein yah hai ki yah Pagal aur mansik bimari ke naate aisa nahi hai un logo ki soch badalni hai hamein toh ho sake toh aap bhi madad kariye sabko aur unki soch badaliye ki aisi cheezen galat information mat khilao mat khilao achi information chalao taki samaj mein sab ko fayda ho nuksan na ho koi sa color ke paas jayen toh acche se jaaye jaane se start na ho jaaye bus yahi accha sandesh nahi chalaiye sabko aapka din shubha ho dhanyavad good luck for life enjoy

आपका प्रश्न है हर कोई यह क्या सोचता है कि एक डिप्रेशन का शिकार व्यक्ति पागल या मानसिक रूप

Romanized Version
Likes  239  Dislikes    views  4281
KooApp_icon
WhatsApp_icon
3 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!