मुझे ऐसा लगता है की मैं हर एक इंसान से नफ़रत करता हूँ। मैं इस भावना को उभरने से कैसे रोक सकता हूँ?...


user

Kavita

Writer

1:40
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

पीके पहले तो मैं आपको बताना चाहूंगी की फीलिंग सबको नहीं आती आप अगर ऐसा सोचकर चलेंगे कि मैं हर इंसान से नफरत करता हूं तो फिर तो बहुत ज्यादा मुश्किल हो जाएगी आपके लिए आप तो है बड़ी लाइफ के बड़े लोपेज में है बड़े डिप्रेसिव फेज में है और आप जो है अब कम्युनिकेट करिए अपने जज्बात को किसी के साथ भी आपका दोस्त हो या माता-पिता हो किसी के साथ भी ऐसा ऐसा एटीट्यूड कर आप लाइफ में लेकर चलेंगे तो फिर तो आप हर जगह है आपको जो है निराशा मिलेगी और नफरत जो है अगर आप नफरत की बात करते हैं तो नफरत अपने आप में बहुत बड़ी शब्द है किसी के लिए नफरत की भावना रखना अजीत को आप पहचानते नहीं है तो यह तो उनके लिए भी हम फेल हो जाएगा है ना तो आप ऐसी भावना से मुक्त रहने के लिए मेडिटेशन जो करें मेरिटेशन ऑफ करेंगे तो आपको इन रूपीस इन रूपीस जो है आपको मिलेगा और आप समझ नहीं कोशिश करेंगे क्यों जो है आपको ऐसी भावना हीन भावना आपके अंदर आ रही है और आप अपने अंदर झांक एंगे कि आपकी लाइफ में क्या डिफिकल्टीज है वह उसको अगर जानेंगे तो जी आपके लिए चीजें जो है बेहतर हो सकती हैं आपने अगर अपनी प्रॉब्लम कोई व्हाट्सएप कर लिया दी मेरी लाइफ में जो भी प्रॉब्लम आ रही है मगर उससे उसको अगर मैं जानता हूं सही से उसको अगर सोनू जी आपको अब मुझे लगता है आपको यह नफरत की भावना से मुक्ति जरूर जरूर मिलेगी लेकिन कम्युनिकेट करना बहुत जरूरी बात करेंगे क्या आप की तकलीफ क्यों आप ऐसे सोच रहे हैं तो आपको जो हेल्प मिल सकती है

pk pehle toh main aapko bataana chahungi ki feeling sabko nahi aati aap agar aisa sochkar chalenge ki main har insaan se nafrat karta hoon toh phir toh bahut zyada mushkil ho jayegi aapke liye aap toh hai badi life ke bade lopez mein hai bade depressive phase mein hai aur aap jo hai ab kamyuniket kariye apne jazbaat ko kisi ke saath bhi aapka dost ho ya mata pita ho kisi ke saath bhi aisa aisa attitude kar aap life mein lekar chalenge toh phir toh aap har jagah hai aapko jo hai nirasha milegi aur nafrat jo hai agar aap nafrat ki baat karte hain toh nafrat apne aap mein bahut badi shabd hai kisi ke liye nafrat ki bhavna rakhna ajit ko aap pehchante nahi hai toh yah toh unke liye bhi hum fail ho jaega hai na toh aap aisi bhavna se mukt rehne ke liye meditation jo kare meriteshan of karenge toh aapko in Rupees in Rupees jo hai aapko milega aur aap samajh nahi koshish karenge kyon jo hai aapko aisi bhavna heen bhavna aapke andar aa rahi hai aur aap apne andar jhank enge ki aapki life mein kya difficulties hai vaah usko agar jaanege toh ji aapke liye cheezen jo hai behtar ho sakti hain aapne agar apni problem koi whatsapp kar liya di meri life mein jo bhi problem aa rahi hai magar usse usko agar main jaanta hoon sahi se usko agar sonu ji aapko ab mujhe lagta hai aapko yah nafrat ki bhavna se mukti zaroor zaroor milegi lekin kamyuniket karna bahut zaroori baat karenge kya aap ki takleef kyon aap aise soch rahe hain toh aapko jo help mil sakti hai

पीके पहले तो मैं आपको बताना चाहूंगी की फीलिंग सबको नहीं आती आप अगर ऐसा सोचकर चलेंगे कि मैं

Romanized Version
Likes  5  Dislikes    views  92
KooApp_icon
WhatsApp_icon
7 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!