अगर हम अपनी गलतियों से सीखते हैं तो हम इंसान ग़लतियाँ करने से इतना डरते क्यों हैं?...


user

Ridhaan Panwar

Entrepreneur

2:02
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हेलो फ्रेंड्स क्वेश्चन है अगर हम अपनी गलतियों से सीखते हैं तो हम इंसान गलतियां करने से इतना डरते क्यों बिल्कुल सही क्वेश्चन है मैं आपको बता दूंगा कि हमारे मन की हमारे माइंड की फंक्शनिंग किस तरह से हुई है कुछ सालों से नहीं काफी सालों से काफी सालों से हमारे मन की फंक्शन इस तरह से हुई है कि हमें हर चीज जल्दी चाहिए हम इस भागदौड़ के दौर से गुजर रहे हैं डिजिटल दुनिया में जहां पर एक क्लिक में हमें सारी इनफार्मेशन समीर आती है तो हमारा पेशंस लेवल उतरा कम होता जा रहा है धीरे-धीरे जैसे मानव जाति डिवेलप हो रही है उसी उसी स्पीड से उनका पेशेंस का जो इसलिए जब हम गलतियां कर गलतियां करते हैं तो हम बहुत दुखी हो जाते हैं बहुत परेशान हो जाते हैं कि हमें इसका कोई रिजल्ट नहीं मिला है हमारे दिमाग दिल के कई एक कोने में हमें यह भी लगता है कि चलो कोई बात नहीं अभी रिजल्ट नहीं मिला तो कोई बात नहीं फ्यूचर में उसका कुछ फायदा मिलेगा एक सीख में नहीं से सीखी है कहीं ना कहीं मैं अपने दिल में हम यह चीज जरूर सोचते हैं लेकिन हम मन से बहुत परेशान होते हैं कि हमें इसका कुछ फल नहीं मिला है तो इसलिए दोस्तों इसमें जरूरत है पेशंस कि अगर आपके अंदर पेशेंट से किसी चीज को शहंशाह ने की इस दुख को सहने की और आपके अगर सकारात्मकता के अंदर है आप डेफिनेटली इस चीज को एग्रीमेंट कर सकते हो और आप देखना आप अगर के क्वेश्चन कर रहे हो तो बहुत सक्सेस सक्सेस थैंक यू

hello friends question hai agar hum apni galatiyon se sikhate hain toh hum insaan galtiya karne se itna darte kyon bilkul sahi question hai main aapko bata dunga ki hamare man ki hamare mind ki functioning kis tarah se hui hai kuch salon se nahi kaafi salon se kaafi salon se hamare man ki function is tarah se hui hai ki hamein har cheez jaldi chahiye hum is bhagdaud ke daur se gujar rahe hain digital duniya me jaha par ek click me hamein saari information sameer aati hai toh hamara Patience level utara kam hota ja raha hai dhire dhire jaise manav jati develop ho rahi hai usi usi speed se unka patience ka jo isliye jab hum galtiya kar galtiya karte hain toh hum bahut dukhi ho jaate hain bahut pareshan ho jaate hain ki hamein iska koi result nahi mila hai hamare dimag dil ke kai ek kone me hamein yah bhi lagta hai ki chalo koi baat nahi abhi result nahi mila toh koi baat nahi future me uska kuch fayda milega ek seekh me nahi se sikhi hai kahin na kahin main apne dil me hum yah cheez zaroor sochte hain lekin hum man se bahut pareshan hote hain ki hamein iska kuch fal nahi mila hai toh isliye doston isme zarurat hai Patience ki agar aapke andar patient se kisi cheez ko shahanshah ne ki is dukh ko sahane ki aur aapke agar sakaraatmakata ke andar hai aap definetli is cheez ko Agreement kar sakte ho aur aap dekhna aap agar ke question kar rahe ho toh bahut success success thank you

हेलो फ्रेंड्स क्वेश्चन है अगर हम अपनी गलतियों से सीखते हैं तो हम इंसान गलतियां करने से इतन

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  116
WhatsApp_icon
25 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user
Play

Likes  133  Dislikes    views  3437
WhatsApp_icon
user

Ramesh Bait

Astrologer & Spiritual Healer

1:05
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हम गलतियों से डरते हैं इसलिए डरते हैं क्योंकि गलतियां जब करते हैं तो हम लोग अनसक्सेसफुल हो जाते हैं हमें लगता है कि लोग हम पर हंसते हैं तो हमारी इज्जत जाती है ऐसे में लगता है इसके लिए हम गलती करते लोग देखेंगे लोग आएंगे क्लियर होगा बस मगर हमको देखना नहीं कौन हंसना है कौन क्या कर रहा हमें अपना काम करना है देखो गलतियां तो होनी है ना गलतियां तो स्टेप है ना आप सक्सेस किधर जाते हो तो अब उसने कैलेंडर सब्सिडी खेलोगे तो कभी-कभी सांप आपको नीचे नीचे आ जाओगे ना तो निकल लेगा तो इसका मतलब आप पढ़ाई छोड़ कर भाग जाओगे और डाल दे दो तो कभी सीडी भी मिलेगी कभी साथ भी मिलेगा एक दिन आप उधर पहुंच जाओगे गलतियां आप बोलो यार आपने निकाल लिया तो मैं खेलूंगा ऐसे थोड़ी होता है

hum galatiyon se darte hain isliye darte hain kyonki galtiya jab karte hain toh hum log unsuccessful ho jaate hain hamein lagta hai ki log hum par hansate hain toh hamari izzat jaati hai aise me lagta hai iske liye hum galti karte log dekhenge log aayenge clear hoga bus magar hamko dekhna nahi kaun hansana hai kaun kya kar raha hamein apna kaam karna hai dekho galtiya toh honi hai na galtiya toh step hai na aap success kidhar jaate ho toh ab usne calendar subsidy kheloge toh kabhi kabhi saap aapko niche niche aa jaoge na toh nikal lega toh iska matlab aap padhai chhod kar bhag jaoge aur daal de do toh kabhi CD bhi milegi kabhi saath bhi milega ek din aap udhar pohch jaoge galtiya aap bolo yaar aapne nikaal liya toh main khelunga aise thodi hota hai

हम गलतियों से डरते हैं इसलिए डरते हैं क्योंकि गलतियां जब करते हैं तो हम लोग अनसक्सेसफुल ह

Romanized Version
Likes  10  Dislikes    views  335
WhatsApp_icon
user

Virendra Pratap Singh Chundawat

Philanthropist & a Politician

0:32
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

गलती करने पर सदैव नुकसान होता है मनुष्य बड़ा ही लाश स्वभाव का होता है मानव जाति जो है उसका सा भी लालच लालच बुरी होगा तो हम कभी कोई काम कर ही नहीं सकते यहां तक कि अध्यात्म की प्राप्ति करना भी लालच में अपने मुक्त के लिए तो लालच के कारण हम डरते हैं कि कुछ गलती होगी तो नुकसान होगा यह सत्य है कि गलती करने से हम सीखते हैं एक गलती करते तो पता लगता है कि यह गलती करने से यह नुकसान हुआ है अगली बार हम का ध्यान रखते हैं

galti karne par sadaiv nuksan hota hai manushya bada hi laash swabhav ka hota hai manav jati jo hai uska sa bhi lalach lalach buri hoga toh hum kabhi koi kaam kar hi nahi sakte yahan tak ki adhyaatm ki prapti karna bhi lalach me apne mukt ke liye toh lalach ke karan hum darte hain ki kuch galti hogi toh nuksan hoga yah satya hai ki galti karne se hum sikhate hain ek galti karte toh pata lagta hai ki yah galti karne se yah nuksan hua hai agli baar hum ka dhyan rakhte hain

गलती करने पर सदैव नुकसान होता है मनुष्य बड़ा ही लाश स्वभाव का होता है मानव जाति जो है उसका

Romanized Version
Likes  7  Dislikes    views  136
WhatsApp_icon
user

UMESH KUMAR YADAV

Business Owner

1:02
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

राम अपनी गलतियों से सीखते हैं तो हम इंसान गलतियों करने से क्यों इतना डरते हैं अगर हम अपनी गलतियों से सीखते हैं तो शायद हमारे लिए अच्छा है और गलतियां से इतना डरते क्यों डरने का मतलब है कि हमारी मानसिकता गलती सभी से होती है गलती तो भगवान से भी हो जाती है जरूरी नहीं कि गलती हमसे हो रही गलतियों से हमेशा सीखा जा सकता है यह है कि हम अपनी गलतियों में सुधार करना तो यह सब चीजें हमें नहीं देखनी चाहिए जो है कि हम अपनी गलतियों से सीख रहे हैं तो हम इंसान की गलतियों से इतना डरते नहीं डरना नहीं चाहिए गलतियां होती है बस यह है कि हमें उस टाइम देखकर कदम उठाने चाहिए थे उनसे गलती हो जाती है ताकि आगे हमसे फिर से गलती है सीना हो और गलतियां होती इसलिए कि नेक्स्ट टाइम ना हो

ram apni galatiyon se sikhate hain toh hum insaan galatiyon karne se kyon itna darte hain agar hum apni galatiyon se sikhate hain toh shayad hamare liye accha hai aur galtiya se itna darte kyon darane ka matlab hai ki hamari mansikta galti sabhi se hoti hai galti toh bhagwan se bhi ho jaati hai zaroori nahi ki galti humse ho rahi galatiyon se hamesha seekha ja sakta hai yah hai ki hum apni galatiyon me sudhaar karna toh yah sab cheezen hamein nahi dekhni chahiye jo hai ki hum apni galatiyon se seekh rahe hain toh hum insaan ki galatiyon se itna darte nahi darna nahi chahiye galtiya hoti hai bus yah hai ki hamein us time dekhkar kadam uthane chahiye the unse galti ho jaati hai taki aage humse phir se galti hai seena ho aur galtiya hoti isliye ki next time na ho

राम अपनी गलतियों से सीखते हैं तो हम इंसान गलतियों करने से क्यों इतना डरते हैं अगर हम अपनी

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  80
WhatsApp_icon
user
3:19
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सर नमस्कार मैं बेदी दिनेश पटेल आपके साथ प्रस्तुत हूं प्रश्न है अगर हम अपनी गलतियों से सीखते हैं तो हम इंसान गलतियां करने में इतना डरती क्यों मित्रों मनोज गलती का पुतला है अक्सर हो ही जाती है जो कर ले ठीक है गलती को उसे इंसान कहते मंच जीवन पाकर के आदमी को गलतियां अक्सर हो जाया करती कहीं जरा सा दिमाग चल गया थैंक यू फॉर ग्रेट गलती हो जाती लेकिन जब जानबूझ के गलती की जाती है तो मनुष्य को बर्बादी को ले जाते हैं अनजाने में गलती होती है तो उस से मनुष्य सीख लेता है तो गलती हमें सिखाती तो है कि हमने गलती कितने बजे छुपा के जियो में नहीं करेंगे इस संकल्प प्रसाद अगर आदमी बढ़ता जाता है निश्चित रूप से गलतियों से हमेशा मिलती है उसको दोबारा हम न करें निश्चित रूप से हम इंसान बन सकते हैं और इंसान हैं तो गलतियां होंगे जरूर क्योंकि हर समय दिमाग स्थिर रहता हर समय जो है अपने को बिल्कुल पंप कॉल नहीं कर सकते हैं कभी न कोई लापरवाही आ ही जाती है तो लापरवाही को थोड़ा ठीक कर ले अपने को जागृत बनाएं अपने को मजबूत बनाएं धनवान बनाएं अपना आत्म संपन्न बनाएं ईश्वर पर विश्वास करें अपने ऊपर विश्वास करें अपने बड़े बुजुर्गों की सलाह लें निश्चित उसे गलतियों से बचाव होगा पूर्णता नहीं कर सकता कि कोई गलती हो ही नहीं सकती जीवन में कभी कभी आत्मविश्वास पर ही क्यों खो जाती है कि जिस मनुष्य को हम चाहते हैं कि वह उस पर विश्वास करें उसका चेहरा दिखाई पड़ता है उसके कसरत करने में दिखाई पड़ते हैं लेकिन बाद में धोखा देता है तो मालूम पड़ता है कि इस को पहचानने में चूक हो गई गलती हो गई तो यह सब चीजों को लेकर के बाद निष्कर्ष पर यह बोलते हैं कि मनुष्य स्वभाव है गलती करना इन जो गलती ठीक कर लेता है वही इंसान बन जाता है और वही सम्मानित व्यक्ति समाज में सब कुछ है तेरी हो जाता है धन्यवाद

sir namaskar main bedi dinesh patel aapke saath prastut hoon prashna hai agar hum apni galatiyon se sikhate hain toh hum insaan galtiya karne me itna darti kyon mitron manoj galti ka putalaa hai aksar ho hi jaati hai jo kar le theek hai galti ko use insaan kehte manch jeevan pakar ke aadmi ko galtiya aksar ho jaya karti kahin zara sa dimag chal gaya thank you for great galti ho jaati lekin jab janbujh ke galti ki jaati hai toh manushya ko barbadi ko le jaate hain anjaane me galti hoti hai toh us se manushya seekh leta hai toh galti hamein sikhati toh hai ki humne galti kitne baje chupa ke jio me nahi karenge is sankalp prasad agar aadmi badhta jata hai nishchit roop se galatiyon se hamesha milti hai usko dobara hum na kare nishchit roop se hum insaan ban sakte hain aur insaan hain toh galtiya honge zaroor kyonki har samay dimag sthir rehta har samay jo hai apne ko bilkul pump call nahi kar sakte hain kabhi na koi laparwahi aa hi jaati hai toh laparwahi ko thoda theek kar le apne ko jagrit banaye apne ko majboot banaye dhanwan banaye apna aatm sampann banaye ishwar par vishwas kare apne upar vishwas kare apne bade bujurgon ki salah le nishchit use galatiyon se bachav hoga purnata nahi kar sakta ki koi galti ho hi nahi sakti jeevan me kabhi kabhi aatmvishvaas par hi kyon kho jaati hai ki jis manushya ko hum chahte hain ki vaah us par vishwas kare uska chehra dikhai padta hai uske kasrat karne me dikhai padate hain lekin baad me dhokha deta hai toh maloom padta hai ki is ko pahachanne me chuk ho gayi galti ho gayi toh yah sab chijon ko lekar ke baad nishkarsh par yah bolte hain ki manushya swabhav hai galti karna in jo galti theek kar leta hai wahi insaan ban jata hai aur wahi sammanit vyakti samaj me sab kuch hai teri ho jata hai dhanyavad

सर नमस्कार मैं बेदी दिनेश पटेल आपके साथ प्रस्तुत हूं प्रश्न है अगर हम अपनी गलतियों से सीख

Romanized Version
Likes  5  Dislikes    views  104
WhatsApp_icon
user

shreekaant gautam

CLINICAL Psychologist Life Coach ,wellness Guide

1:58
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हेलो हां मैं आज आपको बताऊंगा गलतियों से सीखना गलतियां होने से रोक सकते हैं फिर भी गलती करने से डरते क्यों हैं एक्चुअली यह बात सही है और तू हुआ है आज के वैज्ञानिकों ने प्रूफ किया है कि दुनिया में दो ही चीज होती है चाहे तो इंसान परिस्थितियों से सीखता है या जिंदा है वह हारने वाली कोई बात नहीं होती है गलती वाली कोई बात नहीं लेकिन फिर भी इंसान गलती से करने से डरता है इसलिए है कि वह इस लेवल उसकी मेंटल स्टेटस इस लेवल का नहीं होता वह गलतियां उसको यह नहीं लगता तुम गलतियों से सीख रहे हैं उन्हें यह लगता है कि सारी गलतियां आने वाले उसके माल को बंद कर रहा है और उसे परेशान कर रहा है उनको यह लगता है कि आज मैंने यह गलती कि मेरा यह मार्ग बंद हो गया और मैं आगे क्या करूंगा बस इसके वजह से वो डरता है अगर वह गलतियां से सीखता है तू अब कभी नहीं डरेगा जिंदगी में नहीं दे देगा और आइटम टो अटम करेगा और एक दिन वक्त भी हो जाता है माइकल फराडे इसके बहुत अच्छे एग्जांपल रहे हैं उन्हें किसी ने पत्रकार से कहा भी था कि भाई सर मुझे बताइए कि आपको पता चला कि बल्ब कैसे बनाया जाता है उन्होंने कहा कि मुझे बल्ब 9999 बार ऐसा तरीका बताया गया जिससे बल्ब नहीं होती है बल्कि कुछ नहीं होती बल्कि 10000 में बाढ़ से यह पता चला के बल्ब कैसे बनता है आप सोच सकते हैं कि अटेम्प्ट ओं अटम करते के बावजूद भी वह इंसान सीखता गया जितना वो टाइम क्यों सीखा अगर यह पता होता है कि वह गलती करने से उसके आगे का रास्ता बंद हो रहा है वह आगे कर नहीं सकता आगे बढ़ नहीं सकता कि नहीं खुद को जारी नहीं लगते तो आगे काम नहीं करते डरता हूं वही इंसान हैं जिनको यही समझ नहीं आता कि मैं गलतियों से सीख रहा हूं इसलिए मैं उन लोगों से मैं से कहूं कि जिन लोगों से जरूर करता हूं गलती करने वाला हमेशा सीखता है डरता है वही है जिन्हें समझ नहीं है क्यों सही कर रही है कल कर रहा है थैंक यू वेरी मच

hello haan main aaj aapko bataunga galatiyon se sikhna galtiya hone se rok sakte hain phir bhi galti karne se darte kyon hain actually yah baat sahi hai aur tu hua hai aaj ke vaigyaniko ne proof kiya hai ki duniya me do hi cheez hoti hai chahen toh insaan paristhitiyon se sikhata hai ya zinda hai vaah haarne wali koi baat nahi hoti hai galti wali koi baat nahi lekin phir bhi insaan galti se karne se darta hai isliye hai ki vaah is level uski mental status is level ka nahi hota vaah galtiya usko yah nahi lagta tum galatiyon se seekh rahe hain unhe yah lagta hai ki saari galtiya aane waale uske maal ko band kar raha hai aur use pareshan kar raha hai unko yah lagta hai ki aaj maine yah galti ki mera yah marg band ho gaya aur main aage kya karunga bus iske wajah se vo darta hai agar vaah galtiya se sikhata hai tu ab kabhi nahi darega zindagi me nahi de dega aur item toe atam karega aur ek din waqt bhi ho jata hai michael faraday iske bahut acche example rahe hain unhe kisi ne patrakar se kaha bhi tha ki bhai sir mujhe bataiye ki aapko pata chala ki bulb kaise banaya jata hai unhone kaha ki mujhe bulb 9999 baar aisa tarika bataya gaya jisse bulb nahi hoti hai balki kuch nahi hoti balki 10000 me baadh se yah pata chala ke bulb kaise banta hai aap soch sakte hain ki attempt on atam karte ke bawajud bhi vaah insaan sikhata gaya jitna vo time kyon seekha agar yah pata hota hai ki vaah galti karne se uske aage ka rasta band ho raha hai vaah aage kar nahi sakta aage badh nahi sakta ki nahi khud ko jaari nahi lagte toh aage kaam nahi karte darta hoon wahi insaan hain jinako yahi samajh nahi aata ki main galatiyon se seekh raha hoon isliye main un logo se main se kahun ki jin logo se zaroor karta hoon galti karne vala hamesha sikhata hai darta hai wahi hai jinhen samajh nahi hai kyon sahi kar rahi hai kal kar raha hai thank you very match

हेलो हां मैं आज आपको बताऊंगा गलतियों से सीखना गलतियां होने से रोक सकते हैं फिर भी गलती करन

Romanized Version
Likes  5  Dislikes    views  160
WhatsApp_icon
user

Madan Nanda Haral patil

Soft Skill Trainer

2:47
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

और बस कार मैं मिश्र मदरहा नमस्कार मैं मिस्टर मदन पाटील आनंदनगर से बोल रहा हूं अंतरराष्ट्रीय स्पीकर फॉर सक्सेसफुल पेरेंटिंग पर में प्रोग्राम करता हूं तो अगर हम अपनी गलतियों से सीखते हैं तो हम इंसान गलतियों को करने से इतना डरते क्यों हैं देखो इसका मतलब ऐसा नहीं है कि हम गलतियों से सीखते हैं तो हम इंसान गलतियां करने से इतना डरते क्यों है विकी भाई गलतियां होती है जानबूझकर होती है कोई अगर किसी को ऐसा नहीं लगता कि गलती करा करना चाहिए गलती से कोई आनंद नहीं मिलता दुख ही मिलता है तो जो भी गलतियां होती है वह जानबूझकर नहीं होती गलतियां तो गलती होती है जैसे कि रोड पर एक एक्सीडेंट होता है उसको कोई एक्सीडेंट का कोई जानबूझकर एक्सीडेंट होना करता है वैसा ही गलतियां होती है तो जानबूझकर नहीं होती हो जाती है गलतियां तो इसका मतलब यह नहीं है कि कल क्या करो गलतियां करने का अधिकार मिला है या गलतियां से कोई कुछ नहीं होता तो जिंदगी भर गलतियां करते रहेंगे तो आपके जीवन में हाईवे कब आ जाएगा एक अच्छा रास्ता कब आ जाएगा गलती से आपका जीवन पूरा जीवन बीत जाएगा तो गलतियां कम करो अभी कितना गलतियां करेंगे क्या करने की खूबसूरती आने के बाद गलतियां इंसान नहीं करता है तो सुख शांति समाधान आपको चाहिए तो गलतियां कम करो और आगे जाने का प्रयास करो क्योंकि ऐसी गलतियां करेंगे तो समय की बर्बादी हो जाएगी लोग आगे चले जाएंगे और आप पीछे रहेंगे तो गलतियां कम करो और ज्यादा से ज्यादा प्रो कोई अच्छा प्लानिंग करो अच्छा प्यार करो अच्छे एग्जाम की तैयारी करो कम कर लो या कोई बिजनेस कर लो लेकिन गलतियां मत करो हमेशा गलतियां करेंगे तो कभी खुश नहीं हो सकते हैं शिवाजी महाराज का इतिहास का चरित्र का दिन करेंगे तो आपको पता चलेगा महाराजगंज गलतियां कब की है महाराज जिंदगी भर गलतियां करते रहते हैं तो कोई स्वराज्य निर्माण नहीं कर पाते महाराज का पूरा इतिहास आप पढ़ लो महाराज ने बहुत ही गलती एक बार गलती हो गई तो जिंदगी में वह दोबारा गलती नहीं करती तो इतनी सावधान करते थे तो धन्यवाद

aur bus car main mishra madraha namaskar main mister madan patil anandnagar se bol raha hoon antararashtriya speaker for successful perenting par me program karta hoon toh agar hum apni galatiyon se sikhate hain toh hum insaan galatiyon ko karne se itna darte kyon hain dekho iska matlab aisa nahi hai ki hum galatiyon se sikhate hain toh hum insaan galtiya karne se itna darte kyon hai vicky bhai galtiya hoti hai janbujhkar hoti hai koi agar kisi ko aisa nahi lagta ki galti kara karna chahiye galti se koi anand nahi milta dukh hi milta hai toh jo bhi galtiya hoti hai vaah janbujhkar nahi hoti galtiya toh galti hoti hai jaise ki road par ek accident hota hai usko koi accident ka koi janbujhkar accident hona karta hai waisa hi galtiya hoti hai toh janbujhkar nahi hoti ho jaati hai galtiya toh iska matlab yah nahi hai ki kal kya karo galtiya karne ka adhikaar mila hai ya galtiya se koi kuch nahi hota toh zindagi bhar galtiya karte rahenge toh aapke jeevan me highway kab aa jaega ek accha rasta kab aa jaega galti se aapka jeevan pura jeevan beet jaega toh galtiya kam karo abhi kitna galtiya karenge kya karne ki khoobsoorti aane ke baad galtiya insaan nahi karta hai toh sukh shanti samadhan aapko chahiye toh galtiya kam karo aur aage jaane ka prayas karo kyonki aisi galtiya karenge toh samay ki barbadi ho jayegi log aage chale jaenge aur aap peeche rahenge toh galtiya kam karo aur zyada se zyada pro koi accha planning karo accha pyar karo acche exam ki taiyari karo kam kar lo ya koi business kar lo lekin galtiya mat karo hamesha galtiya karenge toh kabhi khush nahi ho sakte hain shivaji maharaj ka itihas ka charitra ka din karenge toh aapko pata chalega maharajganj galtiya kab ki hai maharaj zindagi bhar galtiya karte rehte hain toh koi swarajya nirmaan nahi kar paate maharaj ka pura itihas aap padh lo maharaj ne bahut hi galti ek baar galti ho gayi toh zindagi me vaah dobara galti nahi karti toh itni savdhaan karte the toh dhanyavad

और बस कार मैं मिश्र मदरहा नमस्कार मैं मिस्टर मदन पाटील आनंदनगर से बोल रहा हूं अंतरराष्ट्री

Romanized Version
Likes  8  Dislikes    views  60
WhatsApp_icon
user

Dr. Swapnil Patel

Ayurvedic Doctor

1:11
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार जैसा कि आपने बोला कि इंसान अपनी गलतियों से ही सीखता है तो फिर गलतियां करने से इतना डरता क्यों तो मैं एक उदाहरण के माध्यम से बताना चाहूंगा कि कोई व्यक्ति या छोटा बच्चा दिया महिला कोई भी बीमार हो तो दवा दवा तो नहीं इंजेक्शन बेसिकली उन्हीं इंजेक्शन से वह ठीक होता है और उन्हीं इंजेक्शन से जो है कि वह डरता है इंजेक्शन लगवाने में उसे पता है कि इंजेक्शन से ठीक हो जाएगा और उन्हें इंजेक्शन से वह डरता भी क्यों क्योंकि वह इंजेक्शन जो है क्षण मात्र के लिए पीड़ादायक होते हैं उसी प्रकार से गलतियां जो है वह क्षण मात्र के लिए कष्टकारी होती है उसी कष्ट के लिए इंसान जो है वह डरता है जैसे ही वह कष्ट बीत जाता है उसके बाद उससे एक सबक लेकर उज्जवल भविष्य की निर्माण करता है जोकि अत्यंत सुखदाई होता है और उनके द्वारा सभी सकल मंगल कार्य पूर्ण होते हैं नमस्कार

namaskar jaisa ki aapne bola ki insaan apni galatiyon se hi sikhata hai toh phir galtiya karne se itna darta kyon toh main ek udaharan ke madhyam se batana chahunga ki koi vyakti ya chota baccha diya mahila koi bhi bimar ho toh dawa dawa toh nahi injection basically unhi injection se vaah theek hota hai aur unhi injection se jo hai ki vaah darta hai injection lagwane me use pata hai ki injection se theek ho jaega aur unhe injection se vaah darta bhi kyon kyonki vaah injection jo hai kshan matra ke liye pidadayak hote hain usi prakar se galtiya jo hai vaah kshan matra ke liye kashtakari hoti hai usi kasht ke liye insaan jo hai vaah darta hai jaise hi vaah kasht beet jata hai uske baad usse ek sabak lekar ujjawal bhavishya ki nirmaan karta hai joki atyant sukhdayi hota hai aur unke dwara sabhi sakal mangal karya purn hote hain namaskar

नमस्कार जैसा कि आपने बोला कि इंसान अपनी गलतियों से ही सीखता है तो फिर गलतियां करने से इतना

Romanized Version
Likes  6  Dislikes    views  75
WhatsApp_icon
user

bhaand's Theatre and Acting Classes

Acting And drama Coach Casting director Drama Director

1:18
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए अगर हमारे जीवन में गलतियां हो चुकी है और हम सीख चुके हैं तो गलतियां करने की गुंजाइश ही नहीं है और अगर कोई आपके सामने गलतियां कर रहा है तो उसे रोक लीजिए और गलतियां करने से डरते क्यों हैं तो उसका एक रीजन है कि आपके पास उसके बाद कितने चांस है वह गलती करने के कि कि आज जब एक पासवर्ड गलत लगा देते हैं तो आपको दूसरा चांस दिया जाता है फिर तीसरा चांस दिया जाता है और उसके बाद आपको 24 घंटे के लिए रोक दिया जाता है कि अब आप आपके पास चांस नहीं है तो आप इसलिए डरते हैं लेकिन गलती से ही सीखा जाता है गलती करोगे तो ही आपका दिमाग चल पाएगा तो इसलिए गलती करने से मेरे हिसाब से कोई डरता नहीं है और गलती के लिए तो डर होता ही नहीं है क्योंकि बिंदास करते हो गलती तो क्योंकि आपको पता ही नहीं होता कि यह गलती कर रहा हूं करने के बाद पता चलता है इसलिए कोई डरता नहीं है

dekhiye agar hamare jeevan me galtiya ho chuki hai aur hum seekh chuke hain toh galtiya karne ki gunjaiesh hi nahi hai aur agar koi aapke saamne galtiya kar raha hai toh use rok lijiye aur galtiya karne se darte kyon hain toh uska ek reason hai ki aapke paas uske baad kitne chance hai vaah galti karne ke ki ki aaj jab ek password galat laga dete hain toh aapko doosra chance diya jata hai phir teesra chance diya jata hai aur uske baad aapko 24 ghante ke liye rok diya jata hai ki ab aap aapke paas chance nahi hai toh aap isliye darte hain lekin galti se hi seekha jata hai galti karoge toh hi aapka dimag chal payega toh isliye galti karne se mere hisab se koi darta nahi hai aur galti ke liye toh dar hota hi nahi hai kyonki bindas karte ho galti toh kyonki aapko pata hi nahi hota ki yah galti kar raha hoon karne ke baad pata chalta hai isliye koi darta nahi hai

देखिए अगर हमारे जीवन में गलतियां हो चुकी है और हम सीख चुके हैं तो गलतियां करने की गुंजाइश

Romanized Version
Likes  8  Dislikes    views  77
WhatsApp_icon
user

Agrim Gupta - Motivational Speaker

Motivational Speaker | Business Coach

2:00
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार दोस्तों मेरा नाम है गरम गुप्ता अगर हम अपनी गलतियों से सीखते हैं तो हम इंसान गलतियां करने से डरते क्यों देखें दोस्तों एक चीज मैं आपको बताना चाहूंगा अच्छे से अच्छे से भलीभांति अपने दिल में अच्छे से जानते हैं कि इंसान ना को छोड़कर ना पहन के ना कुछ सीख कर आता है वह जो भी जानता है पहचानता है समझता है समझाता है वह सब इस दुनिया में आने के बाद सीखता है सिखाता है तो किसी इंसान से गलती ना हो हमेशा मान ही नहीं सकते इसी के लिए कुछ सही है और किसी के लिए कुछ गलत किसी के देखने से कुछ और नजरिया है और किसी का देखने का कोई और नजरिया है आपने अगर कोई कर्म किसी के भले के लिए किया वह किसी के लिए अच्छा हो सकता है और किसी और के लिए बुरा भी हो सकता है कि नर्सरी की बात है कि हम क्या गलत और क्या सही कर रहे हैं आपके अपने नजरिए में वह चीज सही होनी चाहिए तो आप इंसान सही है कभी भी कर्म करने से डरिए मत अगर आप जानते हैं कि आप अच्छा कर्म कर रहे हैं आपकी नियत साथी है तो वह कर्म कभी भी आपको गलत फल नहीं रहेगा मैं मानता हूं इंसान गलतियां करने से डरता है क्योंकि उसे अंजाम की फिक्र होती है वह इंसान स्वार्थी है हमें निस्वार्थ कर्म करना है निस्वार्थ कर्म कर्म हम जब करते हैं तो हमें फल की चिंता नहीं रहती और निस्वार्थ कर्म हमेशा अच्छा ही होता है किसी भी चीज का स्वार्थ लोभी पन हमें बहुत समय तक खुश नहीं रख सकता धन्यवाद मेरे दोस्तों मेरा नाम है प्रेम गुप्ता

namaskar doston mera naam hai garam gupta agar hum apni galatiyon se sikhate hain toh hum insaan galtiya karne se darte kyon dekhen doston ek cheez main aapko batana chahunga acche se acche se bhalibhanti apne dil me acche se jante hain ki insaan na ko chhodkar na pahan ke na kuch seekh kar aata hai vaah jo bhi jaanta hai pahachanta hai samajhata hai samajhaata hai vaah sab is duniya me aane ke baad sikhata hai sikhata hai toh kisi insaan se galti na ho hamesha maan hi nahi sakte isi ke liye kuch sahi hai aur kisi ke liye kuch galat kisi ke dekhne se kuch aur najariya hai aur kisi ka dekhne ka koi aur najariya hai aapne agar koi karm kisi ke bhale ke liye kiya vaah kisi ke liye accha ho sakta hai aur kisi aur ke liye bura bhi ho sakta hai ki nursery ki baat hai ki hum kya galat aur kya sahi kar rahe hain aapke apne nazariye me vaah cheez sahi honi chahiye toh aap insaan sahi hai kabhi bhi karm karne se dariye mat agar aap jante hain ki aap accha karm kar rahe hain aapki niyat sathi hai toh vaah karm kabhi bhi aapko galat fal nahi rahega main maanta hoon insaan galtiya karne se darta hai kyonki use anjaam ki fikra hoti hai vaah insaan swaarthi hai hamein niswarth karm karna hai niswarth karm karm hum jab karte hain toh hamein fal ki chinta nahi rehti aur niswarth karm hamesha accha hi hota hai kisi bhi cheez ka swarth lobhi pan hamein bahut samay tak khush nahi rakh sakta dhanyavad mere doston mera naam hai prem gupta

नमस्कार दोस्तों मेरा नाम है गरम गुप्ता अगर हम अपनी गलतियों से सीखते हैं तो हम इंसान गलतिया

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  92
WhatsApp_icon
user

Manoj Kumar

Spiritual Knowdge / working as a Social Worker

0:54
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जी बिल्कुल इंसान अपनी गलतियों से सीखते हैं लेकिन ध्यान रहे गलतियों से अगर गलती आप जानबूझकर कर रहे हैं तो वह गलती गलती नहीं मानी जाती उसे अपराध कहा जाता है वह अपराध की श्रेणी में आएगी और अगर आपसे अनजाने में गलती हुई है तो उससे इंसान को सीख लेनी चाहिए कि मैं यह गलती दोबारा नहीं करूंगा और मैंने यह जानबूझकर भी नहीं की है इसलिए मेरे भाई इसका आप गलत अर्थ लेकर आप कह रहे हैं कि इंसान गलतियां करने से इतना डरता क्यों है डरना चाहिए गलतियां करने से और अनजाने में ही भूल से भी सीख लेनी चाहिए कि इस तरह की फुल मुझसे दोबारा ना हो धन्यवाद

ji bilkul insaan apni galatiyon se sikhate hain lekin dhyan rahe galatiyon se agar galti aap janbujhkar kar rahe hain toh vaah galti galti nahi maani jaati use apradh kaha jata hai vaah apradh ki shreni me aayegi aur agar aapse anjaane me galti hui hai toh usse insaan ko seekh leni chahiye ki main yah galti dobara nahi karunga aur maine yah janbujhkar bhi nahi ki hai isliye mere bhai iska aap galat arth lekar aap keh rahe hain ki insaan galtiya karne se itna darta kyon hai darna chahiye galtiya karne se aur anjaane me hi bhool se bhi seekh leni chahiye ki is tarah ki full mujhse dobara na ho dhanyavad

जी बिल्कुल इंसान अपनी गलतियों से सीखते हैं लेकिन ध्यान रहे गलतियों से अगर गलती आप जानबूझकर

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  132
WhatsApp_icon
user

Pankaj Vasuja

Cinematographer

1:10
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हम अपनी गलतियों से सीखते इंसान गलती करने से इतना डरता था लेकिन इंसान गलती करने से डरता नहीं किसी इंसान को पता ही नहीं होता वह गलती करने वाला है मैं दिमाग की समझ के हिसाब से वह कार्य करता है और गलतियां हो जाती है एक बार दो बार की गई गलती गलती होती है बार बार की गलती गलती आदत और गुनाह मिल जाता है इसलिए गलतियों से सीखे और डरे ना डरता इसलिए इंसान क्योंकि जगह सही से डरता है हर इंसान सामने वाला मेरे बारे में क्या सोचेगा वह क्या सोचेगा मुझसे एक गलती हो गई अक्सर क्राइम को बढ़ावा इसीलिए मिलता है कि लोग अपनी गलतियों को उजागर नहीं कर सकते डरते हैं वह समाज में मेरी बेटी ऐसे बहुत से कारण होते हैं फर्ज कीजिए किसी की लड़की भाग गई तो वह बेचारा क्या करेगा आप सच में गलती उसकी भी नहीं है और वह लड़की भी क्या करेगी तू जगह सही से डरते हैं लोग इसलिए गलतियों से डरते गलती करने से डरते नहीं है गलती तो हो जाती है मेरे पास राम-राम

hum apni galatiyon se sikhate insaan galti karne se itna darta tha lekin insaan galti karne se darta nahi kisi insaan ko pata hi nahi hota vaah galti karne vala hai main dimag ki samajh ke hisab se vaah karya karta hai aur galtiya ho jaati hai ek baar do baar ki gayi galti galti hoti hai baar baar ki galti galti aadat aur gunah mil jata hai isliye galatiyon se sikhe aur dare na darta isliye insaan kyonki jagah sahi se darta hai har insaan saamne vala mere bare me kya sochega vaah kya sochega mujhse ek galti ho gayi aksar crime ko badhawa isliye milta hai ki log apni galatiyon ko ujagar nahi kar sakte darte hain vaah samaj me meri beti aise bahut se karan hote hain farz kijiye kisi ki ladki bhag gayi toh vaah bechaara kya karega aap sach me galti uski bhi nahi hai aur vaah ladki bhi kya karegi tu jagah sahi se darte hain log isliye galatiyon se darte galti karne se darte nahi hai galti toh ho jaati hai mere paas ram ram

हम अपनी गलतियों से सीखते इंसान गलती करने से इतना डरता था लेकिन इंसान गलती करने से डरता नही

Romanized Version
Likes  188  Dislikes    views  1111
WhatsApp_icon
user

Sri Dhiru G

Spiritual Guru, Engineer

4:10
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अपने एक चीज बिल्कुल ही सही कहा अगर हम अपनी गलतियों से सीखते हैं तो हम इंसान गलतियां करने से इतना डरते क्यों हैं गलतियां बेशक ही हमें सीख देती है लेकिन इंसानों की यह प्रवृत्ति होती है क्यों गलती क्या करते हैं और सीख लेते हैं उनको गलतियां कर लेते हैं फिर कहते इस बार कुछ नहीं सीख फिर से मिल गई पूना फिर गलतियां करते हैं फिर कहते नहीं सीख मिल गई यह सही नहीं है और गलतियां करके सीखने से ज्यादा जरूरी है कि हम पहले ही उन चीजों पर विचार करें कि वह गलतियां ना हो क्योंकि गलतियां होने से हमें नुकसान भी तो होती है परेशानियां भी तो आती है परेशानियों को निमंत्रण देना इस बात से तो डर लगेगा ही ना परेशानियों को हम निमंत्रण दे देते हैं फिर सीख लेते हैं यह कौन सी सीखने की कला है यह जीवन सीमित दिया गया है इस सीमित समय में ही हमें बहुत सारे गानों को अर्जित करना है और संसार का मार्गदर्शन भी करना है तो हमें करना यह चाहिए गलतियां ना हो इसके लिए दूसरे ने जो गलतियां की है उनका उनके द्वारा की गई गलतियों से हम सीख ले क्योंकि अगर हम गलतियां करके सीखते रहेंगे तो सीखने को 88j हैं अनंत ज्ञान है सारे घरबार हम गलतियां करें और सीखें गलतियां करें और सीखें तो यह जीवन कम पड़ जाएगा सीखने के लिए तो बेहतर साला यही है गलतियां कम करें गलतियां करने से डरे भी कि जो हम अपने ऊपर अप्लाई करें बेहतर है कि दूसरों के साथ हुई समस्याएं उन समस्याओं और उनके द्वारा की गई गलतियों से हम सीख गए आपने एक कोटेशन कभी सुना होगा सिर्फ बीते युगो से करने युगों का निर्माण अर्थात हम इतिहास या कोई कहानियां क्यों पड़ते हैं उनमें हुई समस्याएं गलतियों से हम सीख ले और हम वैसे गलतियां ना दोहराए जिससे हमारा जीवन सुगम हो जाएगा कभी-कभी तो हम सीख गलतियों के चक्कर में बहुत बड़ी मुश्किल में पड़ जाते हैं और उस मुश्किल से निकलने में हमारा कितना समय बर्बाद होता है हमारी मानसिकता है कितनी विकृत हो जाती है अब खुद ही गौर करेंगे इसीलिए हम गलतियां करने से डरते हैं करना भी चाहिए हमें सीखना है हम कहानियों से सीखे समाज के अन्य लोगों ने जो गलतियां की है उनके द्वारा सीखने का कोशिश करें फिर भी थोड़ी मोरी छोटी मोटी गलतियां तो होती ही रहेगी हमारे साथ लेकिन इससे हम बड़ी गलतियां करने से बच जाएंगे और जीवन हमारा सरल हो जाएगा तो हम यही कहेंगे कोई बात नहीं है गलतियां होती है छोटी मोटी हो जाए तो हो जाए लेकिन इसने 9 गलतियां ना हो जिससे मानव जीवन का मूल ही बदल जाए इसके लिए हमें दूसरों ने जो गलतियां की है उससे सीख ले कहानियों से सीख ले किताबों से सीख ले और गलतियां करके कम से कम सीखे यह आपके लिए बेस्ट रहेगा और हमारे समाज के लिए भी बहुत ही बढ़िया रहेगा जीवन को सुगम सरल और सही तरीके से जीने का ही एक कला है औरों की गलतियों से सीख कर अपने जीवन में गलतियां कम करें धन्यवाद शुक्रिया

apne ek cheez bilkul hi sahi kaha agar hum apni galatiyon se sikhate hain toh hum insaan galtiya karne se itna darte kyon hain galtiya beshak hi hamein seekh deti hai lekin insano ki yah pravritti hoti hai kyon galti kya karte hain aur seekh lete hain unko galtiya kar lete hain phir kehte is baar kuch nahi seekh phir se mil gayi puna phir galtiya karte hain phir kehte nahi seekh mil gayi yah sahi nahi hai aur galtiya karke sikhne se zyada zaroori hai ki hum pehle hi un chijon par vichar kare ki vaah galtiya na ho kyonki galtiya hone se hamein nuksan bhi toh hoti hai pareshaniya bhi toh aati hai pareshaniyo ko nimantran dena is baat se toh dar lagega hi na pareshaniyo ko hum nimantran de dete hain phir seekh lete hain yah kaun si sikhne ki kala hai yah jeevan simit diya gaya hai is simit samay me hi hamein bahut saare gaano ko arjit karna hai aur sansar ka margdarshan bhi karna hai toh hamein karna yah chahiye galtiya na ho iske liye dusre ne jo galtiya ki hai unka unke dwara ki gayi galatiyon se hum seekh le kyonki agar hum galtiya karke sikhate rahenge toh sikhne ko 88j hain anant gyaan hai saare gharabar hum galtiya kare aur sikhe galtiya kare aur sikhe toh yah jeevan kam pad jaega sikhne ke liye toh behtar sala yahi hai galtiya kam kare galtiya karne se dare bhi ki jo hum apne upar apply kare behtar hai ki dusro ke saath hui samasyaen un samasyaon aur unke dwara ki gayi galatiyon se hum seekh gaye aapne ek quotation kabhi suna hoga sirf bite yugo se karne yugon ka nirmaan arthat hum itihas ya koi kahaniya kyon padate hain unmen hui samasyaen galatiyon se hum seekh le aur hum waise galtiya na dohraye jisse hamara jeevan sugam ho jaega kabhi kabhi toh hum seekh galatiyon ke chakkar me bahut badi mushkil me pad jaate hain aur us mushkil se nikalne me hamara kitna samay barbad hota hai hamari mansikta hai kitni vikrit ho jaati hai ab khud hi gaur karenge isliye hum galtiya karne se darte hain karna bhi chahiye hamein sikhna hai hum kahaniyan se sikhe samaj ke anya logo ne jo galtiya ki hai unke dwara sikhne ka koshish kare phir bhi thodi mori choti moti galtiya toh hoti hi rahegi hamare saath lekin isse hum badi galtiya karne se bach jaenge aur jeevan hamara saral ho jaega toh hum yahi kahenge koi baat nahi hai galtiya hoti hai choti moti ho jaaye toh ho jaaye lekin isne 9 galtiya na ho jisse manav jeevan ka mul hi badal jaaye iske liye hamein dusro ne jo galtiya ki hai usse seekh le kahaniyan se seekh le kitabon se seekh le aur galtiya karke kam se kam sikhe yah aapke liye best rahega aur hamare samaj ke liye bhi bahut hi badhiya rahega jeevan ko sugam saral aur sahi tarike se jeene ka hi ek kala hai auron ki galatiyon se seekh kar apne jeevan me galtiya kam kare dhanyavad shukriya

अपने एक चीज बिल्कुल ही सही कहा अगर हम अपनी गलतियों से सीखते हैं तो हम इंसान गलतियां करने स

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  89
WhatsApp_icon
user

Dr. J.Singh

Financial Expert || Ayurvedic Doctor

0:41
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

यह सत्य है कि इंसान गलतियों से ही सीखता है लेकिन हमेशा गलतियों से ही सीखता दूसरी गलती होती एक अनजाने में की ही गलती और एक जानती हो कि अगर आप इस कुत्ते की जानबूझकर की गलती से हम सीखेंगे तो गलती नहीं है वह अपराध होता है अनजाने में गलती हो गलती अब सच-सच गलती होती है जिससे आप अपने जीवन में सीखते हैं और गलती करने से इससे इसी दवाई आता है ताकि हमें यह हमारे द्वारा जुड़े हुए लोगों को यश समाज को कोई नुकसान हमारे द्वारा ना हो जाए दोनों ही अपने आप में सकते हैं धन्यवाद

yah satya hai ki insaan galatiyon se hi sikhata hai lekin hamesha galatiyon se hi sikhata dusri galti hoti ek anjaane me ki hi galti aur ek jaanti ho ki agar aap is kutte ki janbujhkar ki galti se hum sikhenge toh galti nahi hai vaah apradh hota hai anjaane me galti ho galti ab sach sach galti hoti hai jisse aap apne jeevan me sikhate hain aur galti karne se isse isi dawai aata hai taki hamein yah hamare dwara jude hue logo ko yash samaj ko koi nuksan hamare dwara na ho jaaye dono hi apne aap me sakte hain dhanyavad

यह सत्य है कि इंसान गलतियों से ही सीखता है लेकिन हमेशा गलतियों से ही सीखता दूसरी गलती होती

Romanized Version
Likes  6  Dislikes    views  101
WhatsApp_icon
user

अनमोल मणी

योग शिक्षक

0:27
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

गलतियों से सीखने का अभिप्राय होता है कि दूसरे किसी ने अगर कोई गलती जीवन में की है तो उसको देखकर हम आगे हम हम हम खुद गलती ना करें गलतियों से मतलब यह नहीं है कि हम गलती करने से डरते क्यों हैं गलती करने से ही चाहिए क्योंकि गलतियां करने से हमारे जीवन में शुरू होती है

galatiyon se sikhne ka abhipray hota hai ki dusre kisi ne agar koi galti jeevan me ki hai toh usko dekhkar hum aage hum hum hum khud galti na kare galatiyon se matlab yah nahi hai ki hum galti karne se darte kyon hain galti karne se hi chahiye kyonki galtiya karne se hamare jeevan me shuru hoti hai

गलतियों से सीखने का अभिप्राय होता है कि दूसरे किसी ने अगर कोई गलती जीवन में की है तो उसको

Romanized Version
Likes  101  Dislikes    views  1181
WhatsApp_icon
user

Dr.Paramjit Singh

Health and Fitness Expert/ Lecturer In Physical Education/

1:17
Play

Likes  125  Dislikes    views  1279
WhatsApp_icon
user
1:01
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अगर हम अपनी गलतियों से सीखते हैं तो हम इंसान गलतियों करने से इतना डरते क्यों हो तो एक्चुअली मैं बताना चाहता हूं कि ठीक है हम भी हो या कोई भी इंसान हो गलती करता है उस गलती करने के बाद हमें एक अच्छा सीख मिलता है तो हम एक अच्छा इंसान क्यों ना बने क्योंकि क्या उस गलती को पराजय करने की अनुशंसा मिलता है ताकि आगे चलके हम गलती ना कर सके और बार-बार गलतियां करते रहे तो उसको सही नहीं माना जाएगा ठीक है हम गलतियां की है लेकिन गलतियां करने के बाद भी तो हम सुधर गए तो सुधार जाने के बाद जो इंसान अच्छा होता है उसको इंसान कहते हैं जो अपनी गलतियों के एक्सेप्ट करते हुए आगे बढ़ता नहीं करते ठीक है नादानी में जैसे भी गलती हो गई हो गई उसके लिए कोई और नहीं होता है लेकिन जो गलती करते हुए न सुधरे उसको गलतियां करते हैं

agar hum apni galatiyon se sikhate hain toh hum insaan galatiyon karne se itna darte kyon ho toh actually main batana chahta hoon ki theek hai hum bhi ho ya koi bhi insaan ho galti karta hai us galti karne ke baad hamein ek accha seekh milta hai toh hum ek accha insaan kyon na bane kyonki kya us galti ko parajay karne ki anushansha milta hai taki aage chal ke hum galti na kar sake aur baar baar galtiya karte rahe toh usko sahi nahi mana jaega theek hai hum galtiya ki hai lekin galtiya karne ke baad bhi toh hum sudhar gaye toh sudhaar jaane ke baad jo insaan accha hota hai usko insaan kehte hain jo apni galatiyon ke except karte hue aage badhta nahi karte theek hai naadaani me jaise bhi galti ho gayi ho gayi uske liye koi aur nahi hota hai lekin jo galti karte hue na sudhre usko galtiya karte hain

अगर हम अपनी गलतियों से सीखते हैं तो हम इंसान गलतियों करने से इतना डरते क्यों हो तो एक्चुअल

Romanized Version
Likes  61  Dislikes    views  689
WhatsApp_icon
user

Rajneesh kumar

Soft Skill Trainer, Life Coach & English Trainer And You Tuber

2:41
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका सवाल यह है कि अगर हम अपनी गलतियों से सीखते हैं तो हम इंसान गलतियां करने से इतना डरता क्यों है देखे इंसान गलतियां करने से डरता इसलिए है क्योंकि उसको पता तो है कि इंसान गलतियां करने से सीखता है लेकिन उस चीज पर वह भरोसा नहीं करता बात भरोसे की है जिस इंसान को पता होता है कि एक इंसान गलतियां करके सीखता है वह कभी नहीं डरता है और ढेर सारे लोगों के पास एक्चुली एग्जांपल क्या होते हैं एक सफल इंसान और इंसान में सबसे बड़ा अंतर यही होता है कि सफल लोगों के पास अपन लोगों के उदाहरण होते हैं एक सफल लोगों से पूछो कि क्या आप यह काम कर सकते हो तो वह यही कहेगा हम इस काम को कर सकते हैं उसे पूछो कि आप यह काम क्यों कर सकते हो तो यह बताएगा इन्होंने किया इन्होंने किया इन्होंने किया हम भी कर सकते हैं अगर आप पहुंचे काम आप कर सकते हो तो यही कहेगा नहीं हम यह नहीं कर सकते क्यों नहीं कर सकते हो जवाब देगा यह नहीं कर पाए यह नहीं कर पाए यह नहीं कर पाए तो हम तो एक इंसान गलतियां करने से डरता है इसलिए है क्योंकि उसके पास 55 लोगों के उदाहरण होते हैं और एक सफल इंसान गलतियां करने से नहीं डरता है क्योंकि उसके पास सफल लोगों के एग्जाम है तो जिंदगी में भी सफल होने के लिए आपको सफल लोगों के बारे में पढ़िए और आप गलती करने से कभी मत डरिए कह देना कि एक इंसान कभी एक को एक इंसान था वह इंसान कभी घोड़े से गिरा ही नहीं एक इंसान घोड़े से गिरा ही नहीं है कि इंसान आप समुद्र के किनारे या तालाब के किनारे खड़े रहकर आप तैरना नहीं सीख सकते आपको तालावर सीखना है पानी के बाहर खड़े होकर अपना नहीं सीख सकते उसी तरीके से जिंदगी में भी अगर आपको सफल हो गलतियां करनी पड़ेगी और एक समझदार इंसान गलतियां करता है और उनसे सीखता है लेकिन यह जो उसके बड़ा समझदार होता है वह दूसरों की गलतियों से सीखता है तो अगर जिंदगी में सफल होना चाहते हो गलती उसे कभी मत घबराइए गलतियां करते रहिए और सीखते रहें क्योंकि गलतियां सिद्ध करती है कि आप जीवन में कुछ कर रहे हो अगर आप गलतियां नहीं कर रहे हैं तो इसका सीधा मतलब है कि आप जीवन में कुछ नया नहीं कर रहे हो थैंक यू सो मच

aapka sawaal yah hai ki agar hum apni galatiyon se sikhate hain toh hum insaan galtiya karne se itna darta kyon hai dekhe insaan galtiya karne se darta isliye hai kyonki usko pata toh hai ki insaan galtiya karne se sikhata hai lekin us cheez par vaah bharosa nahi karta baat bharose ki hai jis insaan ko pata hota hai ki ek insaan galtiya karke sikhata hai vaah kabhi nahi darta hai aur dher saare logo ke paas ekchuli example kya hote hain ek safal insaan aur insaan me sabse bada antar yahi hota hai ki safal logo ke paas apan logo ke udaharan hote hain ek safal logo se pucho ki kya aap yah kaam kar sakte ho toh vaah yahi kahega hum is kaam ko kar sakte hain use pucho ki aap yah kaam kyon kar sakte ho toh yah batayega inhone kiya inhone kiya inhone kiya hum bhi kar sakte hain agar aap pahuche kaam aap kar sakte ho toh yahi kahega nahi hum yah nahi kar sakte kyon nahi kar sakte ho jawab dega yah nahi kar paye yah nahi kar paye yah nahi kar paye toh hum toh ek insaan galtiya karne se darta hai isliye hai kyonki uske paas 55 logo ke udaharan hote hain aur ek safal insaan galtiya karne se nahi darta hai kyonki uske paas safal logo ke exam hai toh zindagi me bhi safal hone ke liye aapko safal logo ke bare me padhiye aur aap galti karne se kabhi mat dariye keh dena ki ek insaan kabhi ek ko ek insaan tha vaah insaan kabhi ghode se gira hi nahi ek insaan ghode se gira hi nahi hai ki insaan aap samudra ke kinare ya taalab ke kinare khade rahkar aap tairna nahi seekh sakte aapko talavar sikhna hai paani ke bahar khade hokar apna nahi seekh sakte usi tarike se zindagi me bhi agar aapko safal ho galtiya karni padegi aur ek samajhdar insaan galtiya karta hai aur unse sikhata hai lekin yah jo uske bada samajhdar hota hai vaah dusro ki galatiyon se sikhata hai toh agar zindagi me safal hona chahte ho galti use kabhi mat ghabaraiye galtiya karte rahiye aur sikhate rahein kyonki galtiya siddh karti hai ki aap jeevan me kuch kar rahe ho agar aap galtiya nahi kar rahe hain toh iska seedha matlab hai ki aap jeevan me kuch naya nahi kar rahe ho thank you so match

आपका सवाल यह है कि अगर हम अपनी गलतियों से सीखते हैं तो हम इंसान गलतियां करने से इतना डरता

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  92
WhatsApp_icon
user

Manish Dev

Motivational Speaker, Yoga-Meditation Guide, Spiritualist, Psycho-analyst, Astrologer, Spiritual Healer, Life Coach

2:37
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मित्र गलती उसे नहीं की जाती है जो कि जाती हो गलती उसे नहीं कहते हैं जो की जाती है जिसे आपने स्वयं से किया है वह गलती थोड़ी ना है वह तो अपराध है वह तो पाप है वह तो धृष्टता है गलती उसे कहते हैं मिस्टेक्स वह होती है जो हम करते नहीं है लेकिन कुछ अपरिपक्व आके और परिपक्वता के कम होने के कारण क्या ज्ञान में कमी होने के कारण ट्रेंड ना होने के कारण यह हमारे कंसंट्रेशन में थोड़ी कमी होने के कारण हम अपने कार्यों में गलती हमसे हो जाया करती है जो हो जाया करती है उसे गलती कहते लेकिन जो तुम्हें जानबूझ कर कर रहे हो वह गलती थोड़ी ना है और जो व्यक्ति सीख गया है वह गलती करेगा क्यों तुम यह कह रहे हो कि गलतियों से सीखते हैं तो इस इंसान को गलती करने से इतना डरते क्यों हैं कुछ जानबूझ कर गलती करके थोड़ी ना सीख सकता है जब उससे स्वभाविक रूप से गलतियां होंगी तभी सीख सकता है जो जानबूझ कर गलती करेगा तो सीखेगा सर था तो पहले से सीखा हुआ है और जानबूझ कर गलती कर रहा कई बार शिक्षक जो है सिखाने वाला जो है वह थोड़ी सी गलती जानबूझकर अपने शिष्यों को सिखाने के लिए अपने छात्रों को सिखाने के लिए करता है लेकिन हम उन गलतियों से सीखते हैं जो स्वभाविक हो जाया करती अगर तुम्हें जान बूझकर कोई गलती करोगे तो वह गलती की श्रेणी में नहीं आता वह तो अपराध की श्रेणी में आएगा इसलिए यह क्वेश्चन की गलतियां करने से इतना हम डरते क्यों हैं हम गलतियां करने से क्यों डर डर ना ही चाहिए कि हम से गलती ना हो तभी तो हम सीख पाएंगे अगर हम गलती करने से डरेंगे नहीं तो हम सीखेंगे कैसे भाई हम डरते हैं इसीलिए तो सीख गलती कर कर हम सीखते क्यों है कि हम गलती कर रहे से डरते हैं ताकि दोबारा गलती हमसे ना हो और दोबारा गलती हम अगर जानू पुष्कर करते हैं तो उससे हमें कोई सीखने मिलने वाली जो गलती जानबूझकर की गई उससे हमें कोई सीख मिलने वाली नहीं है इसलिए इस प्रकार से विचार कीजिए गलतियां कहते किसको हैं गलतियां कहते हैं उसी को है जो हम नहीं करना था और वह हो गई गलती से उसे हम गलती कहा करते हैं इस प्रकार से उसको समझे विचार करें

mitra galti use nahi ki jaati hai jo ki jaati ho galti use nahi kehte hain jo ki jaati hai jise aapne swayam se kiya hai vaah galti thodi na hai vaah toh apradh hai vaah toh paap hai vaah toh dhrishtata hai galti use kehte hain mistakes vaah hoti hai jo hum karte nahi hai lekin kuch aparipakwa aake aur paripakvata ke kam hone ke karan kya gyaan me kami hone ke karan trend na hone ke karan yah hamare kansantreshan me thodi kami hone ke karan hum apne karyo me galti humse ho jaya karti hai jo ho jaya karti hai use galti kehte lekin jo tumhe janbujh kar kar rahe ho vaah galti thodi na hai aur jo vyakti seekh gaya hai vaah galti karega kyon tum yah keh rahe ho ki galatiyon se sikhate hain toh is insaan ko galti karne se itna darte kyon hain kuch janbujh kar galti karke thodi na seekh sakta hai jab usse swabhavik roop se galtiya hongi tabhi seekh sakta hai jo janbujh kar galti karega toh sikhega sir tha toh pehle se seekha hua hai aur janbujh kar galti kar raha kai baar shikshak jo hai sikhane vala jo hai vaah thodi si galti janbujhkar apne shishyon ko sikhane ke liye apne chhatro ko sikhane ke liye karta hai lekin hum un galatiyon se sikhate hain jo swabhavik ho jaya karti agar tumhe jaan bujhkar koi galti karoge toh vaah galti ki shreni me nahi aata vaah toh apradh ki shreni me aayega isliye yah question ki galtiya karne se itna hum darte kyon hain hum galtiya karne se kyon dar dar na hi chahiye ki hum se galti na ho tabhi toh hum seekh payenge agar hum galti karne se darenge nahi toh hum sikhenge kaise bhai hum darte hain isliye toh seekh galti kar kar hum sikhate kyon hai ki hum galti kar rahe se darte hain taki dobara galti humse na ho aur dobara galti hum agar janu pushkar karte hain toh usse hamein koi sikhne milne wali jo galti janbujhkar ki gayi usse hamein koi seekh milne wali nahi hai isliye is prakar se vichar kijiye galtiya kehte kisko hain galtiya kehte hain usi ko hai jo hum nahi karna tha aur vaah ho gayi galti se use hum galti kaha karte hain is prakar se usko samjhe vichar kare

मित्र गलती उसे नहीं की जाती है जो कि जाती हो गलती उसे नहीं कहते हैं जो की जाती है जिसे आपन

Romanized Version
Likes  8  Dislikes    views  113
WhatsApp_icon
user

Dr. Shakeel Akhtar

Homeopathy Doctor

0:39
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए गलती है करने गलतियां करने से नुकसान होता है और जिन लड़कियों के बारे में आपने कहा है कि इंसान गलती करने से क्यों डरता है तो दिखे जानबूझ के गलती करेंगे नुकसान होगा अनजाने में कोई गलती होती है तो उसके नुकसान होता है तो इंसान सीखता है वह उन गलतियों से सीखता है जो उसे अनजाने में होती है और उन अनजाने में गलतियां करने से जो नुकसान होता है उससे इंसान एक राधा दिल करता है सबक हासिल करता है जानबूझकर गलतियां करने से इसलिए डरता है कि गलतियां करी जाती है तो उसे नुकसान होता ही है थैंक यू

dekhiye galti hai karne galtiya karne se nuksan hota hai aur jin ladkiyon ke bare me aapne kaha hai ki insaan galti karne se kyon darta hai toh dikhe janbujh ke galti karenge nuksan hoga anjaane me koi galti hoti hai toh uske nuksan hota hai toh insaan sikhata hai vaah un galatiyon se sikhata hai jo use anjaane me hoti hai aur un anjaane me galtiya karne se jo nuksan hota hai usse insaan ek radha dil karta hai sabak hasil karta hai janbujhkar galtiya karne se isliye darta hai ki galtiya kari jaati hai toh use nuksan hota hi hai thank you

देखिए गलती है करने गलतियां करने से नुकसान होता है और जिन लड़कियों के बारे में आपने कहा है

Romanized Version
Likes  194  Dislikes    views  1643
WhatsApp_icon
user

Mehnaz Amjad

Certified Life Coach

1:19
Play

Likes  622  Dislikes    views  7011
WhatsApp_icon
user

Kr Wahid Ali

Journalist

1:38
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

यह सही है कि इंसान गलतियां करने से सीखता है लेकिन हर किसी के साथ एक सजेशन होती है कि वह इस कंडीशन में है कि या नहीं है कि वह गलती जानकी करना चाहे यार इसके लिए गलती करने कि तू अलग अलग सोच है चाहे वह बिजनेस में हो चाहे पढ़ाई में हो तो हर व्यक्ति या छात्र किसी भी क्षेत्र में बात करें तो रिस्क लेने कंडीशन में है या नहीं है क्यों नुकसान को झेल पाएगा या नहीं यह उसको उसके ऊपर डिपेंड करता है और जिस जिस की बैक मजबूत होती है हर क्षेत्र में वरिष्ठ नेता है गलती उसे पता है कि गलती करेगा लेकिन उस गलती से उसको बेनिफिट मिलेगा उससे कुछ सीखने को मिलेगा तो कहीं ना कहीं दो अलग-अलग कारण है कि कंडीशन पर डिपेंड करता है कि वह गलती होगी तो उसको सीखेगा लेकिन कुछ लोगों के पास उस गलती करने का भी टाइम नहीं होता कि कहीं ना कहीं वह गलती उनकी जिंदगी बर्बाद ना कर दे तो ऐसे लोग डरते हैं जिससे कि वह जिनकी आर्थिक स्थिति कमजोर है बिजनेस के लिए आज से मैं कुछ छात्र है वह किसी इस कंडीशन में नहीं है कि उसका हिसाब खराब हो गया तो उसकी लाइफ खराब हो जाएगी तो वह कोई साथ नहीं देता किसी चीज में तू कहीं ना कहीं कोई लेता है जिसकी बैग मजबूत है और जिसको जिस के पेरेंट्स या परिवार उसके साथ है तू गलती करने से डरता नहीं हो सकता है तो कहीं ना कहीं कंडीशन के ऊपर डिपेंड करता है कि वह एक्सप्रेस लेगा फिर आगे बढ़ेगा लेकिन रिस्क लेना चाहिए जिंदगी में और इसके लेंगे गलती करेंगे कुछ सीखेंगे तो या के बढ़ेंगे

yah sahi hai ki insaan galtiya karne se sikhata hai lekin har kisi ke saath ek suggestion hoti hai ki vaah is condition me hai ki ya nahi hai ki vaah galti janki karna chahen yaar iske liye galti karne ki tu alag alag soch hai chahen vaah business me ho chahen padhai me ho toh har vyakti ya chatra kisi bhi kshetra me baat kare toh risk lene condition me hai ya nahi hai kyon nuksan ko jhel payega ya nahi yah usko uske upar depend karta hai aur jis jis ki back majboot hoti hai har kshetra me varishtha neta hai galti use pata hai ki galti karega lekin us galti se usko benefit milega usse kuch sikhne ko milega toh kahin na kahin do alag alag karan hai ki condition par depend karta hai ki vaah galti hogi toh usko sikhega lekin kuch logo ke paas us galti karne ka bhi time nahi hota ki kahin na kahin vaah galti unki zindagi barbad na kar de toh aise log darte hain jisse ki vaah jinki aarthik sthiti kamjor hai business ke liye aaj se main kuch chatra hai vaah kisi is condition me nahi hai ki uska hisab kharab ho gaya toh uski life kharab ho jayegi toh vaah koi saath nahi deta kisi cheez me tu kahin na kahin koi leta hai jiski bag majboot hai aur jisko jis ke parents ya parivar uske saath hai tu galti karne se darta nahi ho sakta hai toh kahin na kahin condition ke upar depend karta hai ki vaah express lega phir aage badhega lekin risk lena chahiye zindagi me aur iske lenge galti karenge kuch sikhenge toh ya ke badhenge

यह सही है कि इंसान गलतियां करने से सीखता है लेकिन हर किसी के साथ एक सजेशन होती है कि वह इस

Romanized Version
Likes  72  Dislikes    views  872
WhatsApp_icon
user

Best Astrologer Anju Sharma

Astrologer Consultant

1:02
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सर हर इंसान अपनी गलती से सीखता है इससे कोई इसमें कोई दो राय नहीं है डरते सिर्फ हम तब है जब हमारी कंडीशनिंग हमारी रोमिंग हमारी परवरिश इस तरह से हुई होती है क्यों मनाया जाता है इंसान डरता है नहीं उसे डराया जाता है और डरता भी अगर है तो उसके लिए डरता है कि अगर इस गलती का पश्चाताप ना हो सके यह में सुधार ना सकूंगा मेरे लिए इतना नुकसान दे मुझे कि इसमें कुछ सुधार हो ना सके तो सिर्फ उस चीज का एक का उस भावना से हमें डर लगता है लेकिन अगर हम प्रभु का सिमरन करते हैं हम मेडिटेशन करते हैं और मेडिटेशन में हूं परमात्मा की शक्तियों को अपने कण-कण में महसूस करके आप स्वयं को भावनात्मक मानसिकता और शारीरिक रूप से हम अपने आपको शक्ति अगर देते हैं परमात्मा की शक्ति को अपने अंदर महसूस करते हैं तो हम उस घर से बड़ी आसानी से निकल सकते हो तो आप ट्राई करके देखें गॉड ब्लेस थैंक यू

sir har insaan apni galti se sikhata hai isse koi isme koi do rai nahi hai darte sirf hum tab hai jab hamari Conditioning hamari Roaming hamari parvarish is tarah se hui hoti hai kyon manaya jata hai insaan darta hai nahi use daraya jata hai aur darta bhi agar hai toh uske liye darta hai ki agar is galti ka pashchaataap na ho sake yah me sudhaar na sakunga mere liye itna nuksan de mujhe ki isme kuch sudhaar ho na sake toh sirf us cheez ka ek ka us bhavna se hamein dar lagta hai lekin agar hum prabhu ka simran karte hain hum meditation karte hain aur meditation me hoon paramatma ki shaktiyon ko apne kan kan me mehsus karke aap swayam ko bhavnatmak mansikta aur sharirik roop se hum apne aapko shakti agar dete hain paramatma ki shakti ko apne andar mehsus karte hain toh hum us ghar se badi aasani se nikal sakte ho toh aap try karke dekhen god bless thank you

सर हर इंसान अपनी गलती से सीखता है इससे कोई इसमें कोई दो राय नहीं है डरते सिर्फ हम तब है जब

Romanized Version
Likes  5  Dislikes    views  138
WhatsApp_icon
user

Peyush Bhatia

Lifecoach | Relationship Coach

0:32
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हम गलतियों से इतना डरते इसलिए क्योंकि हमें यह डर हमारे बचपन से शुरू होता है बचपन में जब हम गलती करते थे ना तो हमें लताड़ा जाता था और हमारी गलतियों को बार-बार प्वाइंट क्या जाता था तीन चीज है जिंदगी का दूसरा सक्षम माने जाने का डर तीसरा मजाक बनने का डर पर सफलता तभी मिलती है जब गलतियों से गलतियां करते हैं और सिक्सी कर आगे बढ़ते रहते हैं तो डरे मत बढ़ते चले

hum galatiyon se itna darte isliye kyonki hamein yah dar hamare bachpan se shuru hota hai bachpan mein jab hum galti karte the na toh hamein latada jata tha aur hamari galatiyon ko baar baar point kya jata tha teen cheez hai zindagi ka doosra saksham maane jaane ka dar teesra mazak banne ka dar par safalta tabhi milti hai jab galatiyon se galtiya karte hain aur siksi kar aage badhte rehte hain toh dare mat badhte chale

हम गलतियों से इतना डरते इसलिए क्योंकि हमें यह डर हमारे बचपन से शुरू होता है बचपन में जब हम

Romanized Version
Likes  15  Dislikes    views  457
WhatsApp_icon
qIcon
ask

Related Searches:
galti har insaan se hoti hai ; कंसीक्वेंसेस ;

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!