यदि आप एक कंपनी के सीईओ होते, तो आप अपने कर्मचारियों को कैसे प्रेरित करते?...


user

Anil Bajpai

Writer | Publisher | Investor | Hotelier | Devloper

1:07
Play

Likes  157  Dislikes    views  3139
WhatsApp_icon
30 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Faridul Haque

Industrial Consultant

1:38
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

यदि आप एक कंपनी के सीईओ होते तो आप अपने कर्मचारियों को कैसे प्रेरित करते हैं किस चीज के लिए मैं एक चीज बताना चाहूंगा प्रेरित करना या मोटिवेशन बहुत सारे लोग ऐसा लगता है कि किसी एंप्लॉय की तनखा बढ़ा दी जाए तो वह मोटिवेशन से काम करेगा यह एक बहुत ही गलत धारणाएं लोकेंद्र मोटिवेशन सिर्फ और सिर्फ तभी आता है जब एम्पलाई उस काम को अपना या अपने घर का काम समझकर करें उसके लिए जरूरी क्या है उसके लिए जरूरी यह है कि यदि मैं उस सिम अप्लाई को यह सील कराओ क्यों इस कंपनी का नौकर ना होकर के इस कंपनी का एक अंश है वह ऐसा अंश है जिसके बिना इस कंपनी के चलना मुश्किल है उसके बिना यह कंपनी एक्ससवी कंपनी नहीं बन सकती उसको इस बात का एहसास दिलाना ही उसे ज्यादा मोटिवेट करेगा हो सके तो उसे कंपनी की कुछ भागीदारी भी जीती जा सकती है इस टॉप मॉडल के द्वारा या फिर भी संतरा के कुछ विचार मॉडल्स होते हैं जिसके शुरू एंप्लाइज को यह अहसास दिलाया जाता है कि वह उस कंपनी का एक अभिन्न अंग है यह कंपनी उनसे है ना कि उनकी कंपनी से वह लोग हैं जिस दिन आपने एम्पलाई को यह सिला दिया ओ सता मोटिवेट हो जाएगा और अपने काम को अच्छी तरीके से पूरी श्रद्धा से पूरी निष्ठा से करेगा

yadi aap ek company ke ceo hote toh aap apne karmachariyon ko kaise prerit karte hain kis cheez ke liye main ek cheez batana chahunga prerit karna ya motivation bahut saare log aisa lagta hai ki kisi employee ki tankha badha di jaaye toh vaah motivation se kaam karega yah ek bahut hi galat dharnae lokendra motivation sirf aur sirf tabhi aata hai jab employee us kaam ko apna ya apne ghar ka kaam samajhkar kare uske liye zaroori kya hai uske liye zaroori yah hai ki yadi main us sim apply ko yah seal karao kyon is company ka naukar na hokar ke is company ka ek ansh hai vaah aisa ansh hai jiske bina is company ke chalna mushkil hai uske bina yah company eksasavi company nahi ban sakti usko is baat ka ehsaas dilana hi use zyada motivate karega ho sake toh use company ki kuch bhagidari bhi jeeti ja sakti hai is top model ke dwara ya phir bhi santara ke kuch vichar models hote hain jiske shuru emplaij ko yah ehsaas dilaya jata hai ki vaah us company ka ek abhinn ang hai yah company unse hai na ki unki company se vaah log hain jis din aapne employee ko yah sila diya O sata motivate ho jaega aur apne kaam ko achi tarike se puri shraddha se puri nishtha se karega

यदि आप एक कंपनी के सीईओ होते तो आप अपने कर्मचारियों को कैसे प्रेरित करते हैं किस चीज के लि

Romanized Version
Likes  17  Dislikes    views  285
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखे कर्मचारियों को प्रेरित करने के लिए सबसे पहले सिद्दीकी को उनको परेशानी किस बात की जब हम कर्मचारियों के मन की व्यथा को समझेंगे उनके समस्याओं को समझेंगे अगर हम उसे ₹100 का काम लेते हैं और उनको ₹10 देते तो उनकी व्यथा निश्चित है कि घर परिवार चलाने लायक नहीं होगी अधिक टाइम भी नहीं देने में कचरा एंगे कहीं साइड बिजनेस खोलने की सोचे कंपनी छोड़ने का प्रयास करें और आपको अच्छे सेवा कच्चे कर्मचारी रखने हैं तो आपको उनकी समस्याओं पर पहले विचार करना होगा नीचे कम को क्या परेशानी है और आप कंपनी में अगर किसी कर्मचारी से ₹100 का काम पेंडिंग लेते हैं प्रतिदिन कम से कम उनको ₹40 तो दीजिए ताकि अपने परिवार का भरण पोषण तथा उनके समस्याओं को दी थी उनकी समस्याओं को आप देखेंगे और उनसे भागवत बर्ताव करेंगे उन्होंने ऐसा बर्ताव नहीं करेंगे तो वह आपके साथ उनका लगाव बना रहेगा कंपनी के उत्पादन भी बढ़ेगा कंपनी के साथ बिल्कुल तन्मयता से अवैध रूप से जुड़े रहेंगे और कहां पर है यदि अगर आपके अंदर आत्मा के बाद उन्होंने एक नौकर समझेंगे तो नौकर किस तरह से कार्यकर्ता यदि आप समझते हैं कंपनी का भट्ठा बढ़ जाएगा इसलिए हर डीलर बैंडिट कंपनी के कर्मचारी हैं उनका ध्यान दीजिए उनको गधा ना बनाइए कितना वजन वाला आदमी से सारा काम 10 आदमी का काम 10 आदमियों को दीजिए उनके समस्याओं को समझ गए एक अच्छे co-ceo में यह गुण होने चाहिए और उनको प्राप्त कीजिए

dekhe karmachariyon ko prerit karne ke liye sabse pehle siddiki ko unko pareshani kis baat ki jab hum karmachariyon ke man ki vyatha ko samjhenge unke samasyaon ko samjhenge agar hum use Rs ka kaam lete hain aur unko Rs dete toh unki vyatha nishchit hai ki ghar parivar chalane layak nahi hogi adhik time bhi nahi dene me kachra enge kahin side business kholne ki soche company chodne ka prayas kare aur aapko acche seva kacche karmchari rakhne hain toh aapko unki samasyaon par pehle vichar karna hoga niche kam ko kya pareshani hai aur aap company me agar kisi karmchari se Rs ka kaam pending lete hain pratidin kam se kam unko Rs toh dijiye taki apne parivar ka bharan poshan tatha unke samasyaon ko di thi unki samasyaon ko aap dekhenge aur unse bhagwat bartaav karenge unhone aisa bartaav nahi karenge toh vaah aapke saath unka lagav bana rahega company ke utpadan bhi badhega company ke saath bilkul tanmayata se awaidh roop se jude rahenge aur kaha par hai yadi agar aapke andar aatma ke baad unhone ek naukar samjhenge toh naukar kis tarah se karyakarta yadi aap samajhte hain company ka bhattha badh jaega isliye har dealer bandit company ke karmchari hain unka dhyan dijiye unko gadha na banaiye kitna wajan vala aadmi se saara kaam 10 aadmi ka kaam 10 adamiyo ko dijiye unke samasyaon ko samajh gaye ek acche co ceo me yah gun hone chahiye aur unko prapt kijiye

देखे कर्मचारियों को प्रेरित करने के लिए सबसे पहले सिद्दीकी को उनको परेशानी किस बात की जब ह

Romanized Version
Likes  253  Dislikes    views  2402
WhatsApp_icon
user

Tabinda Arif

Psychologist, Trainer and Clinical Hypnotherapist

0:39
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आप अपनी कंपनी किस जगह होते तो आप अपने कर्मचारियों को कैसे प्रेरित करते किसी को प्यार करने के लिए सबसे अच्छा तरीका कि आप खुद एक अच्छे रोल मॉडल खुद अपने काम भी करें उनके साथ अगर आप एक्सटीयू हैं तो अपने इंप्लाइज हैं उनके साथ अच्छा बर्ताव करें उन्हें मोटिवेट करें टाइम टू टाइम ही नहीं होता मन की भी बहुत जरूरी होता है तो सीएम है तो एक प्लीज एक भी जरूर अपने कर्मचारी अपने आप ही

aap apni company kis jagah hote toh aap apne karmachariyon ko kaise prerit karte kisi ko pyar karne ke liye sabse accha tarika ki aap khud ek acche roll model khud apne kaam bhi kare unke saath agar aap XTU hain toh apne implaij hain unke saath accha bartaav kare unhe motivate kare time to time hi nahi hota man ki bhi bahut zaroori hota hai toh cm hai toh ek please ek bhi zaroor apne karmchari apne aap hi

आप अपनी कंपनी किस जगह होते तो आप अपने कर्मचारियों को कैसे प्रेरित करते किसी को प्यार करने

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  944
WhatsApp_icon
user

Dr. Suman Aggarwal

Personal Development Coach

0:31
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अगर मैं किसी कंपनी में सीईओ हूं तो मैं अपने कर्मचारियों के साथ सबसे पहले तो बहुत गहरी दोस्ती करूंगी और जब वह सब मेरे दोस्त होंगे हम एक दूसरे के साथ बहुत सारा समय बिताते हैं कि अपने काम में तो एक दूसरे की इच्छाओं को मैं समझूं गी उन लोगों की क्या चाहत है जिसको मैं पूरा कर सकूं इस तरीके से जब मैं उनके साथ एक अच्छा रिलेशन मेंटेन करूंगी तो जब मैं फिर भी दूंगी तो ऑटोमेटिक वह मुझे देखकर अपने आप प्रेरित हो जाएंगे

agar main kisi company mein ceo hoon to main apne karmachariyon ke saath sabse pehle to bahut gehri dosti karungi aur jab wah sab mere dost honge hum ek dusre ke saath bahut saara samay Bitate hain ki apne kaam mein to ek dusre ki ikchao ko main samjhu gi un logo ki kya chahat hai jisko main pura kar sakun is tarike se jab main unke saath ek accha relation maintain karungi to jab main phir bhi dungi to Automatic wah mujhe dekhkar apne aap prerit ho jaenge

अगर मैं किसी कंपनी में सीईओ हूं तो मैं अपने कर्मचारियों के साथ सबसे पहले तो बहुत गहरी दोस्

Romanized Version
Likes  16  Dislikes    views  556
WhatsApp_icon
user

Kavita Panyam

Certified Award Winning Counseling Psychologist

1:55
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए लोग कुछ लोग कहते हैं कि सीईओ अगर आप अपनी मेहनत से बनते हैं तो अलग रहते हैं या फिर अपने पिताजी की कंपनी के सीईओ बनते हैं तो आपको उतना अधिकार नहीं है उस पद को प्राप्त करने का लेकिन मेरे हिसाब से ऐसा नहीं है अगर आपने आपके पिताजी की कंपनी में प्रदर्शन संभाली है या फिर अपनी मेहनत से आप इस मुकाम पर पहुंचे हैं दोनों एक समान है क्योंकि एक कंपनी को चलाना कोई मजाक नहीं है तो जाहिर है अगर आप कहां पर है तो आप को देखना चाहिए कि आप हर तरह से अपने एम्पलाइज का ख्याल रख सकें कंपनी का भी ख्याल रख सके ताकि दोनों मिलकर तरक्की देखें ऐसा नहीं होना चाहिए कि तरक्की आप सिर्फ कंपनी की देखें और अपने कर्मचारियों की नहीं कर्मचारी भी कुछ ऐसे होते हैं जो दंगा फसाद करवाते हैं मैनेजमेंट और यूनियन के बीच में और यह सब तो चलता रहता है लेकिन प्रेरणा हम कैसे दे सकते अपने कर्मचारियों को हमें जो चाहिए शिव को चाहिए कि टाइम टो टाइम वह उनकी काउंसलिंग करें दूसरे की पर साइकॉलजिस्ट साइकॉलजिस्ट से उनके भक्ति में एक बार जो जो कर्मचारी प्रॉब्लम में डिप्रेशन में है या फिर अब्सेंटरिज्म कर रहे हैं काम पर नहीं आ रहा है घर के प्रॉब्लम से उनको काउंसलिंग करवाना चाहिए बोनस देना चाहिए अगर कोई नया सर्च करना चाहता है पढ़ना चाहता है तो उसके लिए उनको थोड़ी लोड फंक्शन करना चाहिए बच्चों की पढ़ाई के लिए उनकी मदद करनी चाहिए घर खरीदने की रोड की मदद करनी चाहिए और ओवरटाइम के लिए फोर्स नहीं करना चाहिए और अगर अगर कर्मचारी खुश रहेगा तो अपना बस दे पाएगा अपने कंपनी के लिए तो मिनिमम कॉस्ट अगर यह सब कर सके सीईओ तो कर्मचारी और उस कंपनी के लिए बहुत अच्छा होगा यह सारे सर्फ प्वाइंटर से करने के लिए तो बहुत कुछ कर सकते हैं लास्ट में देखना है कि दोनों एक डायरेक्शन में देखें दोनों का एक ही सपना बार होना चाहिए कि कंपनी तरक्की करें

dekhie log kuch log kehte hain ki ceo agar aap apni mehnat se bante hain to alag rehte hain ya phir apne pitaji ki company ke ceo bante hain to aapko utana adhikaar nahi hai us pad ko prapt karne ka lekin mere hisab se aisa nahi hai agar aapne aapke pitaji ki company mein pradarshan sambhali hai ya phir apni mehnat se aap is mukam par pahuche hain dono ek saman hai kyonki ek company ko chalana koi mazak nahi hai to jaahir hai agar aap kahaan par hai to aap ko dekhna chahiye ki aap har tarah se apne empalaij ka khayal rakh saken company ka bhi khayal rakh sake taki dono milkar tarakki dekhen aisa nahi hona chahiye ki tarakki aap sirf company ki dekhen aur apne karmachariyon ki nahi karmchari bhi kuch aise hote hain jo danga fasad karwaate hain management aur union ke bich mein aur yeh sab to chalta rehta hai lekin prerna hum kaise de sakte apne karmachariyon ko hume jo chahiye shiv ko chahiye ki time to time wah unki Counseling kare dusre ki par saikaljist saikaljist se unke bhakti mein ek baar jo jo karmchari problem mein depression mein hai ya phir absentarijm kar rahe hain kaam par nahi aa raha hai ghar ke problem se unko Counseling karwana chahiye bonus dena chahiye agar koi naya search karna chahta hai padhna chahta hai to uske liye unko thodi load function karna chahiye baccho ki padhai ke liye unki madad karni chahiye ghar kharidne ki road ki madad karni chahiye aur overtime ke liye force nahi karna chahiye aur agar agar karmchari khush rahega to apna bus de payega apne company ke liye to minimum cost agar yeh sab kar sake ceo to karmchari aur us company ke liye bahut accha hoga yeh sare surf pwaintar se karne ke liye to bahut kuch kar sakte hain last mein dekhna hai ki dono ek direction mein dekhen dono ka ek hi sapna baar hona chahiye ki company tarakki kare

देखिए लोग कुछ लोग कहते हैं कि सीईओ अगर आप अपनी मेहनत से बनते हैं तो अलग रहते हैं या फिर अप

Romanized Version
Likes  7  Dislikes    views  146
WhatsApp_icon
play
user

Delete

Delete

1:46

Likes  129  Dislikes    views  2141
WhatsApp_icon
user
1:46
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सरदार एगो आपके साथ अजय सोनाक्षी और यह भी अच्छा प्रश्न कि यदि मैं एक कंपनी के सीईओ विशाल को किस रूप में खुश मन से आपके काम करें इसके लिए आपको हमेशा के लिए खुला दरबार होता है कि अगर कभी भी कोई भी कोई किसी भी तकलीफ है तो वह आपके पास आते आपसे बात करके चाहे उसका बॉस हूं चाहे वह कोई भी हो कभी भी आपके पास कोटा कर सके और अगर कोई प्रॉब्लम है तो उस चीज पर जल्द से जल्द आ जाए मैं सबसे पहले एक कोशिश करूंगी की जितनी भी प्रॉब्लम से मेरे वॉइस को पहली बार तो कभी प्रॉब्लम होना और अगर हो तो मैं उन्हें जल्द से जल्द खुद से कॉल कर पाऊंगा कि दूसरों को प्रेरित करने के लिए अभी बहुत ज्यादा मराठी में 20 साल में दो बार को लेकर जा सके

sardar diego aapke saath ajay sonakshi aur yeh bhi accha prashna ki yadi main ek company ke ceo vishal ko kis roop mein khush man se aapke kaam karein iske liye aapko hamesha ke liye khula darbaar hota hai ki agar kabhi bhi koi bhi koi kisi bhi takleef hai toh wah aapke paas aate aapse baat karke chahe uska boss hoon chahe wah koi bhi ho kabhi bhi aapke paas quota kar sake aur agar koi problem hai toh us cheez par jald se jald aa jaye main sabse pehle ek koshish karungi ki jitni bhi problem se mere voice ko pehli baar toh kabhi problem hona aur agar ho toh main unhein jald se jald khud se call kar paunga ki dusro ko prerit karne ke liye abhi bahut zyada marathi mein 20 saal mein do baar ko lekar ja sake

सरदार एगो आपके साथ अजय सोनाक्षी और यह भी अच्छा प्रश्न कि यदि मैं एक कंपनी के सीईओ विशाल को

Romanized Version
Likes  163  Dislikes    views  2016
WhatsApp_icon
user

Monika Sharma

Psychologist

1:20
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

लेकिन मोटिवेट करने के लिए जरूरी है कि हम पहले अपने काम को अच्छी तरीके से करें हम उनके सामने एक उदाहरण बनेंगे टेंपल देखो हम खुद काम करेंगे तो वह भी काम करने के लिए प्रेरित होंगे और दूसरी बात कि उनको हमेशा सिखाने के लिए उनका साथ देने के लिए हमेशा कर उपस्थित रहेंगे तो हमारी बात के जो भी कर्मचारी हैं लोग हैं वह हमेशा ही आगे बढ़ेंगे प्रोत्साहित होंगे अगर हम सिर्फ यह दिखाइए कि हम सिर्फ काम करवाते हैं साथ में काम की फीलिंग को उनकी प्रॉब्लम को समझने की कोशिश करें जो भी काम करेगा उसको अपनी कंपनी के एंप्लाइज को हमेशा बेहतर रिजल्ट मिलेगा इस लिंक को इमोशंस को अंडरस्टैंड करें उनको काम को सिखाने के लिए हमेशा तैयार रहे और लोगों में यह भावना भाई की खान से डरने की जरूरत नहीं है डर बहुत आगे लोगों ने मारा तुमको फ्री हो कि रिप्लाई करेंगे बिना उनको जज करें तो आपकी एम्पलाई अच्छा काम करेंगे और कंपनी के टॉप बहुत अच्छे होंगे

lekin motivate karne ke liye zaroori hai ki hum pehle apne kaam ko acchi tarike se kare hum unke samane ek udaharan banenge temple dekho hum khud kaam karenge to wah bhi kaam karne ke liye prerit honge aur dusri baat ki unko hamesha sikhane ke liye unka saath dene ke liye hamesha kar upasthit rahenge to hamari baat ke jo bhi karmchari hain log hain wah hamesha hi aage badhenge protsahit honge agar hum sirf yeh dikhaaiye ki hum sirf kaam karwaate hain saath mein kaam ki feeling ko unki problem ko samjhne ki koshish kare jo bhi kaam karega usko apni company ke emplaij ko hamesha behtar result milega is link ko emotional ko understand kare unko kaam ko sikhane ke liye hamesha taiyaar rahe aur logo mein yeh bhavna bhai ki khan se darane ki zarurat nahi hai dar bahut aage logo ne mara tumko free ho ki reply karenge bina unko judge kare to aapki empalai accha kaam karenge aur company ke top bahut acche honge

लेकिन मोटिवेट करने के लिए जरूरी है कि हम पहले अपने काम को अच्छी तरीके से करें हम उनके सामन

Romanized Version
Likes  18  Dislikes    views  408
WhatsApp_icon
user

DR OM PRAKASH SHARMA

Principal, Education Counselor, Best Experience in Professional and Vocational Education cum Training Skills and 25 years experience of Competitive Exams. 9212159179. dsopsharma@gmail.com

5:48
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपने कहा यदि आप एक कंपनी के सीईओ चुपचाप अपने कर्मचारियों को कैसे प्रेरित करते हैं भाई हम डायरेक्ट टू सिवनी बने चलो आपने बना दिया बड़ी खुशी की बात हमने मान लिया कि उसने बड़े प्रभावशाली है कि आपने हमें अपनी कंपनी का सीईओ बना दिया और हमारा जीवन धन्य हो गया बहुत-बहुत धन्यवाद कि आपने इतना ऊंचा हमें मान सम्मान के दिया लेकिन एक बात जरूर कहेंगे सुन डायरेक्ट क्यों नहीं बनी हम एक कर्मचारी की है सच्चे कंपनी में आए अरे अपनी कर्मचारी की होते हुए हमने अपने सहकर्मियों और अपने अधिकारियों के बीच में रहकर कार्य किया अरुण अधिकारियों से सीखा कि मैनेजमेंट क्या होती है प्रबंध व्यवस्था क्या होती है कर्मचारियों से काम कैसे लिया जाता है कर्मचारियों को सहयोग कैसे दिया जाता है कर्मचारियों की हर इच्छा की पूर्ति को उनकी हर समस्या को कैसे समझा जाता है हमारी प्रबंधक महोदय से हमने उसी का तो हमने अपने कर्मचारियों के साथ सहयोग करना शुरू किया कि आज हमें कोई परेशानी और आपने हमारा साथ दिया तो कल आपकी परेशानी में हमें भी आपका साथ देना चाहिए क्योंकि हर अधिकारी पैनिक कर्मचारी होता है अब कर्मचारी से पहले भी वो इंसान होता है जिसमे इंसानियत है उस सब को अपना जैसा समझता है अधिकारी एवं उच्च अधिकारी बने और उच्च अधिकारी के रूप में मैं देखा कि एक अधिकारी को किस दौर से गुजरना पड़ता है उचित कर्मचारियों की जरूरतों को भी ध्यान रखना है उच्च अधिकारियों के आदेशों का भी पालन करना है और उन दोनों के आदेशों के पालन करने में संघर्ष करता है और लक्ष्य की प्राप्ति करने के लिए और रात दिन तक निकलता है और नीचे भी हम मैनेजर जनरल मैनेजर असिस्टेंट जनरल मैनेजर जीएमजे चिपट पर पहुंचे और वहां ने क्या देखा कि हम जो बटन का वाचन टॉप लेवल पर आ गए तो हमें आगे बढ़ते रहने में बड़ी खुशी हुई लेकिन अहंकार हमें छू भी नहीं गया हर क्षण के देखा कि हमारी पहली सीढ़ी एक कर्मचारी की थी दूसरी सीढ़ी एक अधिकारी की थी जिसे चिड़ी एक उच्च अधिकारी की थी और चौकी सीडी आज हम जिस एजीएम या जीएम के पद पर बैठे हैं तो इन सब चीजों को देखते हुए इंट्रीनियो को पार करते हुए हमने अपने कर्मचारियों के साथ वही सलूक किया जो हम अपने साथ चाहते हमने उन्हें कभी महसूस नहीं होने दिया यह हमने कभी यह समझने की जरूरत नहीं समझी कि हम केवल एक उच्च चुकानी है हम नहीं माना कि हम भी कभी कर्मचारी थे और यही सोचते हुए आज हमें आपने किस कंपनी का सीईओ बता दिया है बना दिया तो जैसे हम भी प्रेरणा ग्रहण की उसी तरह हम अपने कर्मचारियों को आगे बढ़ने के लिए प्रेरित करेंगे कि आप निरंतर कार्य करो क्योंकि आपके कार्य करने से एक कंपनी आज टॉप लेवल पर पहुंची है इस कंपनी में जितना कंट्रीब्यूशन हमारे मैनेजमेंट का है उससे भी कहीं अधिक कंट्रीब्यूशन हमारे कर्मचारियों की अथक प्रयास करें इस लिस्ट कंपनी के हर लाभ-हानि में आप हिस्सेदार हैं यह कंपनी जो खड़ी वह आपके पैरों पर खड़ी है और आकर मजबूत पैरों के कारण आज इस कंपनी ने पूरे विश्व में पूरे देश में अपना झंडा फहराया इस कंपनी के वास्तविक मालिक हैं अपने आपको कर्मचारी मान लेने से सिर्फ वेतन के अधिकारी बनते हैं लेकिन जब आप कंपनी के मालिक हैं चर्चे हैं तो आपको कंपनी पर हर तरह का अधिकार प्राप्त है इसे अपना समझकर आप चलाओ और कंपनी के मालिक की हैसियत से आप कंपनी की प्रगति के लिए कार्य करें

aapne kaha yadi aap ek company ke ceo chupchap apne karmachariyon ko kaise prerit karte hai bhai hum direct to sivani bane chalo aapne bana diya baadi khushi ki baat humne maan liya ki usne bade prabhavshali hai ki aapne hamein apni company ka ceo bana diya aur hamara jeevan dhanya ho gaya bahut bahut dhanyavad ki aapne itna uncha hamein maan sammaan ke diya lekin ek baat zaroor kahenge sun direct kyon nahi bani hum ek karmchari ki hai sacche company mein aaye are apni karmchari ki hote hue humne apne sahakarmiyon aur apne adhikaariyo ke beech mein rahkar karya kiya arun adhikaariyo se seekha ki management kya hoti hai prabandh vyavastha kya hoti hai karmachariyon se kaam kaise liya jata hai karmachariyon ko sahyog kaise diya jata hai karmachariyon ki har iccha ki purti ko unki har samasya ko kaise samjha jata hai hamari prabandhak mahoday se humne usi ka toh humne apne karmachariyon ke saath sahyog karna shuru kiya ki aaj hamein koi pareshani aur aapne hamara saath diya toh kal aapki pareshani mein hamein bhi aapka saath dena chahiye kyonki har adhikari panic karmchari hota hai ab karmchari se pehle bhi vo insaan hota hai jisme insaniyat hai us sab ko apna jaisa samajhata hai adhikari evam ucch adhikari bane aur ucch adhikari ke roop mein main dekha ki ek adhikari ko kis daur se gujarana padta hai uchit karmachariyon ki jaruraton ko bhi dhyan rakhna hai ucch adhikaariyo ke aadesho ka bhi palan karna hai aur un dono ke aadesho ke palan karne mein sangharsh karta hai aur lakshya ki prapti karne ke liye aur raat din tak nikalta hai aur niche bhi hum manager general manager assistant general manager GMJ chipat par pahuche aur wahan ne kya dekha ki hum jo button ka vachan top level par aa gaye toh hamein aage badhte rehne mein baadi khushi hui lekin ahankar hamein chu bhi nahi gaya har kshan ke dekha ki hamari pehli sidhi ek karmchari ki thi dusri sidhi ek adhikari ki thi jise chidi ek ucch adhikari ki thi aur chowki CD aaj hum jis AGM ya GM ke pad par baithe hai toh in sab chijon ko dekhte hue intriniyo ko par karte hue humne apne karmachariyon ke saath wahi saluk kiya jo hum apne saath chahte humne unhe kabhi mehsus nahi hone diya yah humne kabhi yah samjhne ki zarurat nahi samjhi ki hum keval ek ucch chukani hai hum nahi mana ki hum bhi kabhi karmchari the aur yahi sochte hue aaj hamein aapne kis company ka ceo bata diya hai bana diya toh jaise hum bhi prerna grahan ki usi tarah hum apne karmachariyon ko aage badhne ke liye prerit karenge ki aap nirantar karya karo kyonki aapke karya karne se ek company aaj top level par pahuchi hai is company mein jitna kantribyushan hamare management ka hai usse bhi kahin adhik kantribyushan hamare karmachariyon ki athak prayas kare is list company ke har labh hani mein aap hissedar hai yah company jo khadi vaah aapke pairon par khadi hai aur aakar majboot pairon ke karan aaj is company ne poore vishwa mein poore desh mein apna jhanda fahraya is company ke vastavik malik hai apne aapko karmchari maan lene se sirf vetan ke adhikari bante hai lekin jab aap company ke malik hai charche hai toh aapko company par har tarah ka adhikaar prapt hai ise apna samajhkar aap chalao aur company ke malik ki haisiyat se aap company ki pragati ke liye karya karen

आपने कहा यदि आप एक कंपनी के सीईओ चुपचाप अपने कर्मचारियों को कैसे प्रेरित करते हैं भाई हम ड

Romanized Version
Likes  70  Dislikes    views  1389
WhatsApp_icon
user

Umesh Upaadyay

Life Coach | Motivational Speaker

2:00
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

गीता फ्री में जिओ की प्रदर्शन बहुत इंपॉर्टेंट होती है बहुत खुशी होती है अगर मैं सीएम होता तो सबसे पहले यह देखना चाहिए और करना चाहिए कि क्या मैं रोल मॉडल बनता हूं पूरी कंपनी के लिए कि नहीं अगर कहां पर है यह वाली है यह प्रिंसिपल से यह वर्क एथिक से ही तरीका है काम करने का तो मुझे वह कर तरीका एडिट करना चाहिए ना ही कंपनी का बल्कि मुझे यह देखना चाहिए कि सही तरीका क्या है इस कंपनी को आगे ले जाने के लिए कंपनी को आगे क्यों ले जाने कंपनी को आगे ले जाना क्योंकि कंपनी के साथ इतने सारे लोग जुड़े होते हैं वह लोग खाली अकेले जुड़े नहीं होते उनका परिवार भी होता है तो अगर एक कंपनी में मालिश 10 लोग हैं तो खाली 10 लोग नहीं जुड़े हुए 10 लोग en24 कर लीजिए एवरेज एक आदमी का परिवार चार मदद 40 लोग जुड़े हुए हैं हो सकता है किसी की सैलरी से किसी का पूरा कर चल रहा हो तो जब यह सीईओ की बात आती बहुत जिम्मेदारी वाली बृजेश ने आप को रोल मॉडल बनना पड़ेगा आपको वह सारी चीजें करनी पड़ेगी जो कंपनी के लिए आपके लिए और सारी एम्पलाइज के लिए सही है हम बात करते हैं कि हमें कस्टमर सेटिस्फेक्शन देखना जी कास्ट के प्रति अच्छा व्यवहार रखना चाहिए अच्छी बात है लेकिन उससे पहले क्या हम अपने अपलाइन प्राइस को अच्छी तरह कैसे ट्रीट करते हैं या नहीं करते आज की तरीके से ठीक करने वाली बात करना नहीं होता अच्छी तरीके से वेतन आयोग को यह होता है कि क्या मेरी पॉलिसीज मेरी गाइडलाइंस मेरी रूल्स रिस्पांसिबिलिटीज जो हर एक एम्पलाई को दी गई है क्या वह सही है या नहीं है क्या मेरे सारे डिपार्टमेंट अपनी तरह जैसे हमको काम करना चाहिए काम करते हैं या नहीं करते फॉर एग्जांपल राइट सोम एचआर एचआर क्या करता है टैलेंट को अंदर लाता है और फिर उनके साथ काम करते हैं और आगे ले जाता है इसी तरह जिस किसी भी डिपार्टमेंट पर हैं वहां पर उनका इंटरेक्शन कैसी है आपने सुपरवाइजर साथ उनके साथ कैसे बीएफ करते हैं क्या कंपनी का कल्चर है क्या वह सारे ठीक-ठाक है अलाइनमेंट है जो कंपनी का भजन है वह सारा चीज उसके बाद क्या हमारी पॉलिसीज गाइड लाइन एम्पलाई फेवरेट के पेपर में है या नहीं है तो बहुत सारी चीज देखनी पड़ती है उनको ठीक-ठाक करना पड़ता है और आगे जान पड़ता है एम्पलाई ट्रांसफॉस्ट

geeta free mein jio ki pradarshan bahut important hoti hai bahut khushi hoti hai agar main cm hota to sabse pehle yeh dekhna chahiye aur karna chahiye ki kya main roll model banta hoon puri company ke liye ki nahi agar kahaan par hai yeh wali hai yeh principal se yeh work ethik se hi tarika hai kaam karne ka to mujhe wah kar tarika edit karna chahiye na hi company ka balki mujhe yeh dekhna chahiye ki sahi tarika kya hai is company ko aage le jaane ke liye company ko aage kyon le jaane company ko aage le jana kyonki company ke saath itne sare log jude hote hain wah log khaali akele jude nahi hote unka parivar bhi hota hai to agar ek company mein maalish 10 log hain to khaali 10 log nahi jude huye 10 log en24 kar lijiye average ek aadmi ka parivar char madad 40 log jude huye hain ho sakta hai kisi ki salary se kisi ka pura kar chal raha ho to jab yeh ceo ki baat aati bahut jimmedari wali brijesh ne aap ko roll model banana padega aapko wah saree cheezen karni padegi jo company ke liye aapke liye aur saree empalaij ke liye sahi hai hum baat karte hain ki hume customer setisfekshan dekhna G caste ke prati accha vyavhar rakhna chahiye acchi baat hai lekin usse pehle kya hum apne apalain price ko acchi tarah kaise treat karte hain ya nahi karte aaj ki tarike se theek karne wali baat karna nahi hota acchi tarike se vetan aayog ko yeh hota hai ki kya meri policies meri guidelines meri rules rispansibilitij jo har ek empalai ko di gayi hai kya wah sahi hai ya nahi hai kya mere sare department apni tarah jaise hamko kaam karna chahiye kaam karte hain ya nahi karte for example right Som hr hr kya karta hai talent ko andar lata hai aur phir unke saath kaam karte hain aur aage le jata hai isi tarah jis kisi bhi department par hain wahan par unka interaction kaisi hai aapne supervisor saath unke saath kaise bf karte kya company ka culture hai kya wah sare theek thak hai allinment hai jo company ka bhajan hai wah saara cheez uske baad kya hamari policies guide line empalai favourite ke paper mein hai ya nahi hai to bahut saree cheez dekhani padhti hai unko theek thak karna padata hai aur aage jaan padata hai empalai transafast

गीता फ्री में जिओ की प्रदर्शन बहुत इंपॉर्टेंट होती है बहुत खुशी होती है अगर मैं सीएम होता

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  104
WhatsApp_icon
user

Abhishek Tripathi

Founder & Director - AK TRIPATHI Home Tutorial

1:21
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सबसे पहले तो मैं कल्पना करता हूं कि काश मेरी एक कंपनी होती और मैं उसका वह सच बताऊं तो मैं अपने सभी कर्मचारियों में ऐसा जुनून भर देता उनको काम के प्रति उनके कार्य के प्रति इस प्रकार से उनमें आग पैदा कर देता कि उन्हें कभी यह अहसास ही नहीं होता कि वह मेरी कंपनी में काम करें उन्हें ऐसा लगता है वह कंपनी की है अपने लिए काम कर रहे हैं उन्हें में हमेशा हंसते रहना सीखा था यह नहीं कि वह मेरे सामने मेरी बड़ाई कर रहे हैं और अंदर से मुझे पूछ रहे हैं नहीं नहीं बिल्कुल सच सुनना चाहता और उन्हें बिल्कुल स्वतंत्र सकता भी पहचाने किसी भी प्रकार का प्रभाव बिना बनाता क्योंकि देखिए यदि सामने कुछ और और पीठ पीछे कुछ और दो तरीके की बातें होंगी तो उन्नति में कहीं न कहीं इस बाधा होती है तो और बाकी उनकी भी सुविधाएं उनको क्या जरूरतें हैं उनका भी में पूरा ध्यान रखता उनके हर छोटे-बड़े अनुभव हर छोटी-बड़ी सलाह को मैं सुनता बारीक सुष्मिता और यदि अम्ल करने लायक होती यदि उससे कुछ आगे एक्शन देने लायक वेन्यू उनकी सलाह होती तो उसका भी मैं अमल करता कंपनी का धन्यवाद

sabse pehle toh main kalpana karta hoon ki kash meri ek company hoti aur main uska vaah sach bataun toh main apne sabhi karmachariyon mein aisa junun bhar deta unko kaam ke prati unke karya ke prati is prakar se unmen aag paida kar deta ki unhe kabhi yah ehsaas hi nahi hota ki vaah meri company mein kaam kare unhe aisa lagta hai vaah company ki hai apne liye kaam kar rahe hain unhe mein hamesha hansate rehna seekha tha yah nahi ki vaah mere saamne meri badaai kar rahe hain aur andar se mujhe puch rahe hain nahi nahi bilkul sach sunana chahta aur unhe bilkul swatantra sakta bhi pehchane kisi bhi prakar ka prabhav bina banata kyonki dekhiye yadi saamne kuch aur aur peeth peeche kuch aur do tarike ki batein hongi toh unnati mein kahin na kahin is badha hoti hai toh aur baki unki bhi suvidhaen unko kya jaruratein hain unka bhi mein pura dhyan rakhta unke har chote bade anubhav har choti badi salah ko main sunta baarik sushmita aur yadi amal karne layak hoti yadi usse kuch aage action dene layak VENU unki salah hoti toh uska bhi main amal karta company ka dhanyavad

सबसे पहले तो मैं कल्पना करता हूं कि काश मेरी एक कंपनी होती और मैं उसका वह सच बताऊं तो मैं

Romanized Version
Likes  46  Dislikes    views  540
WhatsApp_icon
user

J.P. Y👌g i

Psychologist

0:23
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अगर मैं कंपनी का सीईओ होता तो उनको ऐसे जीवन दान पुन का रास्ता दिखा तार फुल कमाने का उपदेश देता है जैसे जीवन करते कर्मचारी को इस दुनिया को भेदभाव का रास्ता खत्म

agar main company ka ceo hota toh unko aise jeevan daan pun ka rasta dikha taar full kamane ka updesh deta hai jaise jeevan karte karmchari ko is duniya ko bhedbhav ka rasta khatam

अगर मैं कंपनी का सीईओ होता तो उनको ऐसे जीवन दान पुन का रास्ता दिखा तार फुल कमाने का उपदेश

Romanized Version
Likes  57  Dislikes    views  1129
WhatsApp_icon
user

Sachin Bhardwaj

उद्यमी

2:59
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जब मैं बहुत अच्छा सवाल पूछा कि यदि आप कंपनी ऐसी होते तो आप निगम कर्मचारियों को कैसे प्रेरित करते अब इसमें मेरा जवाब यह है कि पहली बात तो यह हाइपोथेटिकल नहीं है मेरे लिए कि मुझे सोचना पड़े कि अगर मैं सीएम होता तो मैं कैसे करता क्योंकि मेरे पास बिजनेस है ऐसे जो मैंने खुद क्रिएट किया अपनी बनाए हैं तो उनका co-chairman जो हूं मैं हूं तो फिर मेरे को यह आइवर्गल सोचने की जरूरत नहीं है मैं आपको बताता हूं कि मैं इस चीज को कैसे करता हूं पहली चीज में क्लियर करता हूं विश्वास यानी कि मैं एंप्लोई पर विश्वास जताता हूं कि हां मैं तुम पर यकीन है मगर तुम्हारी याद में काम सौंपा है तो तुम उसे पूरी ईमानदारी के साथ लगन के साथ तरीके से पूरा करके दोगे उसके बाद में उसको लगाता हूं मोटिवेशन एक्टर है सबसे बड़ा पैसा कोई भी आदमी अगर जॉब करने के लिए घर से निकलते हैं तो अपने बीवी के लिए बच्चों के लिए अच्छी सुविधाएं कमाना चाहते हैं उनके लिए ब्रेड एंड बटर ऑन करना चाहते हैं तो इसके लिए वह घर से निकल कर आया अपने माता छोड़ कर आता है और शहर में रहकर और इतनी दूर जाकर जॉब करता है वह सब इसीलिए उसको पैसा देते हैं उसको पैसा देते हैं कि कंपनियों पर कितना दुखी आदमी जिंदा रहे मतलब भूखा मरे नहीं और तरक्की खड़े नहीं यानी कि बस इतना तो वहां वह छोड़कर ना जाए ऐसा नहीं है कई कंपनियां बहुत उदार होती है पैसा देने के मामले में गुजरात में भी सुना होगा 1 साल की करते हैं जिन्होंने अपनी दिवाली बोनस एम्पलॉइस क्या चलो ठीक है तुम थोड़ा सादा ले लो लेकिन मेरा यह फार्मूला नहीं है मैं दादा थोड़ा देने में यकीन रखता हूं उनको यहां ठीक है वह ज्यादा पा जाएंगे तो कोई बात नहीं मेरी उदारता है थोड़ा हमारी कंपनी थोड़ा ज्यादा काम कर लेंगे अच्छा रिजल्ट मिलते हैं तो दूसरा फैक्टर हो गया पैसा तीसरा फैक्टर जिम्मेदारी उन्हें पूरी जिम्मेदारी हां ठीक है तुम्हारी जिम्मेदारी है तुम जैसे करना चाहो करो लेकिन यह अलग बात है हां मैं उन पर बहुत खड़ी एक पैनी निगाह रखता हूं उनके पास सेकंड थर्ड प्रोजेक्ट मैसेज के लिए यहां यह कैसा काम कर रहे हैं कि मुझे पूर्ण विश्वास हो जाता है तो फिर इंटीमेटली मना करने भी देता हूं लेकिन पहले से ही मैं उन्हें एक भ्रम जाल उनके चारों तरफ भजन पटाखे तो वहां तुम पर पूरा विश्वास किया है तुम अपने हिसाब से लेकिन हम शुरुआत में पहले उसको बहुत अच्छे से एडिट करते हैं देखते हैं उसके काम को कि वह क्या किस तरह का काम करके दे रहे हैं ट्रैक्टर्स में लागू करता और जिम्मेदारी और यह करने के बाद मेरे अंदर जो है उनका जो उत्साह है बिल्कुल हंड्रेड परसेंट आता है वह कंपनी को अपना पूरा प्रयास करके देते हैं कि हां और सदा मेरी तारीख से भी करते हैं कि हां बहुत अच्छे बहुत हैं से वापस नहीं मिले आप से पहले मत ले सब कहते हैं मुझे लगता भी एजेंडे को इस बात को कहने में क्योंकि हम भी जानवर लिए उनके साथ उदाता उदारता पूर्वक व्यवहार कर रहे हैं तो कुल मिलाकर इस तरह से अच्छा काम चलता है

jab main bahut accha sawaal poocha ki yadi aap company aisi hote toh aap nigam karmachariyon ko kaise prerit karte ab isme mera jawab yah hai ki pehli baat toh yah haipothetikal nahi hai mere liye ki mujhe sochna pade ki agar main cm hota toh main kaise karta kyonki mere paas business hai aise jo maine khud create kiya apni banaye hain toh unka co chairman jo hoon main hoon toh phir mere ko yah aivargal sochne ki zarurat nahi hai aapko batata hoon ki main is cheez ko kaise karta hoon pehli cheez mein clear karta hoon vishwas yani ki main employee par vishwas jataata hoon ki haan main tum par yakin hai magar tumhari yaad mein kaam saupaan hai toh tum use puri imaandaari ke saath lagan ke saath tarike se pura karke doge uske baad mein usko lagaata hoon motivation actor hai sabse bada paisa koi bhi aadmi agar job karne ke liye ghar se nikalte hain toh apne biwi ke liye baccho ke liye achi suvidhaen kamana chahte hain unke liye bread and butter on karna chahte hain toh iske liye vaah ghar se nikal kar aaya apne mata chod kar aata hai aur shehar mein rahkar aur itni dur jaakar job karta hai vaah sab isliye usko paisa dete hain usko paisa dete hain ki companion par kitna dukhi aadmi zinda rahe matlab bhukha mare nahi aur tarakki khade nahi yani ki bus itna toh wahan vaah chhodkar na jaaye aisa nahi hai kai companiya bahut udaar hoti hai paisa dene ke mamle mein gujarat mein bhi suna hoga 1 saal ki karte hain jinhone apni diwali bonus empalais kya chalo theek hai tum thoda saada le lo lekin mera yah formula nahi hai dada thoda dene mein yakin rakhta hoon unko yahan theek hai vaah zyada paa jaenge toh koi baat nahi meri udarata hai thoda hamari company thoda zyada kaam kar lenge accha result milte hain toh doosra factor ho gaya paisa teesra factor jimmedari unhe puri jimmedari haan theek hai tumhari jimmedari hai tum jaise karna chaho karo lekin yah alag baat hai haan main un par bahut khadi ek paini nigah rakhta hoon unke paas second third project massage ke liye yahan yah kaisa kaam kar rahe hain ki mujhe purn vishwas ho jata hai toh phir intimetli mana karne bhi deta hoon lekin pehle se hi main unhe ek bharam jaal unke charo taraf bhajan patakhe toh wahan tum par pura vishwas kiya hai tum apne hisab se lekin hum shuruat mein pehle usko bahut acche se edit karte hain dekhte hain uske kaam ko ki vaah kya kis tarah ka kaam karke de rahe hain tractors mein laagu karta aur jimmedari aur yah karne ke baad mere andar jo hai unka jo utsaah hai bilkul hundred percent aata hai vaah company ko apna pura prayas karke dete hain ki haan aur sada meri tarikh se bhi karte hain ki haan bahut acche bahut hain se wapas nahi mile aap se pehle mat le sab kehte hain mujhe lagta bhi agent ko is baat ko kehne mein kyonki hum bhi janwar liye unke saath udata udarata purvak vyavhar kar rahe hain toh kul milakar is tarah se accha kaam chalta hai

जब मैं बहुत अच्छा सवाल पूछा कि यदि आप कंपनी ऐसी होते तो आप निगम कर्मचारियों को कैसे प्रेरि

Romanized Version
Likes  5  Dislikes    views  148
WhatsApp_icon
user

M S Aditya Pandit

Entrepreneur | Politician

1:02
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

कोई भी व्यक्ति किसी भी कंपनी के सीईओ हो वह अपनी क्षमता के अनुसार होता है और रहेगा क्यों अपने किसी भी कर्मचारी को सही लोगों को लिखित कैसे आगे बढ़ सकता है उसके लिए जरूरी है कि कहां अपने कर्मचारियों को मूलभूत सुविधाएं जरूर देनी चाहिए बल्कि मानसिक रूप से फ्री होकर आपके प्रति समर्पित दूसरा आप और उनके बीच में भरोसा होना चाहिए ऐसा नहीं कि आप कर्मचारी काम करें और आपन के ऊपर भरोसा है मिलकर ऐसे में आप कितने ही बढ़िया सी ओ क्यों ना हो और इंसान के पास अनशन की नजर में कोई शख्स सफल नहीं हो सकती इस समय दोनों तरफ से जरूरी है कि सरकार अपने पहले होना चाहिए गाने छोटी बड़ी गलती है तो उसे नजरअंदाज करके उन्हें खाना चाहिए खुद कोई कार्डियक रूप में प्रदान करना चाहिए सब अच्छा होगा

koi bhi vyakti kisi bhi company ke ceo ho wah apni kshamta ke anusaar hota hai aur rahega kyon apne kisi bhi karmchari ko sahi logo ko likhit kaise aage badh sakta hai uske liye zaroori hai ki kahaan apne karmachariyon ko mulbhut suvidhayen zaroor deni chahiye balki mansik roop se free hokar aapke prati samarpit doosra aap aur unke beech mein bharosa hona chahiye aisa nahi ki aap karmchari kaam karein aur apna ke upar bharosa hai milkar aise mein aap kitne hi badhiya si o kyon na ho aur insaan ke paas anshan ki nazar mein koi sakhs safal nahi ho sakti is samay dono taraf se zaroori hai ki sarkar apne pehle hona chahiye gaane choti badi galti hai toh use najarandaj karke unhein khana chahiye khud koi cardiac roop mein pradan karna chahiye sab accha hoga

कोई भी व्यक्ति किसी भी कंपनी के सीईओ हो वह अपनी क्षमता के अनुसार होता है और रहेगा क्यों अप

Romanized Version
Likes  132  Dislikes    views  1876
WhatsApp_icon
user

Nikhil Ranjan

HoD - NIELIT

1:54
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखे बहुत ही अच्छा प्रश्न पूछा है आपने कि यदि आप एक कंपनी के सीईओ होते तो आप अपने कर्मचारियों को कैसे प्रेरित करते तो यहां पर एक सिम अगर आ जाऊंगा कि जो टॉप लेवल मैनेजमेंट होते हैं उनको एक चीज पर फोकस करना चाहिए कि क्वांटिटी की बजाय क्वालिटी ऑफ वर्क पर उनको फोकस करना चाहिए उनको मानना चाहिए कि जो रिसोर्सेज उनको मिले वहां पर हम ही मत सोच की बात करना है जो कार में कौन को मिले हुए हैं और कैंप मोहित हैं उनको इसलिए नहीं रखा गया है कि उनको 100 काम करने हैं या 50 काम करने हैं क्वांटिटी से उनको मैसेज नहीं करना चाहिए वहां पर उनको क्वालिटी से मुझे करना चाहिए कि ठीक है अगर आप सिर्फ यह दो काम कर रहे हैं लेकिन इस दो काम को इतने परफेक्शन से कर रहे हैं कि कोई और इंडस्ट्री का प्रशन उतना अच्छा काम नहीं कर रहा है तो वहां पर दोनों की ही ग्रोथ को रही है आपकी कंपनी तो हो ही रही है क्योंकि आपको बेस्ट काम आपका जा रहा है वहां से चोदो का मुंह करके दे रहा है कोई मुझ सबसे बेस्ट काम है और साथ ही साथ एमपी की ग्रोथ भी हो रही है कि उसको पता है कि वह जो काम कर रहा है और कोई उसके लेवल का काम कर ही नहीं रहा है क्योंकि वही पेस्ट है तो यहां पर दोनों की ग्रोथ ऑटोमेटिकली हो रही है तो अगर आप टॉप लेवल मैनेजमेंट है तो उनको या एंटी फाई करना पड़ेगा कि कौन-कौन सी टास्क है और कौन सी ट्रांस में कौन सा बंदा ज्यादा परफेक्ट है जिसके लिए उसको का चयन करें और उस को आगे बढ़ाएं प्रमोट करें इससे अगर तू प्रसन्न प्रमोट होंगे आगे बढ़ेंगे तो आपकी कंपनी ऑटोमेटिक लिए ही तो मौत हो गई और और आगे जाएगी और बिजनेस करेगी इस तरह की सोच के साथ जवाब आगे बढ़ेंगे तो उसमें सर्वांगीण विकास ही होगा मेरी शुभकामनाएं आपके साथ हैं धन्यवाद

dekhe bahut hi accha prashna puchha hai aapne ki yadi aap ek company ke ceo hote toh aap apne karmachariyon ko kaise prerit karte toh yahan par ek sim agar aa jaunga ki jo top level management hote hai unko ek cheez par focus karna chahiye ki quantity ki bajay quality of work par unko focus karna chahiye unko manana chahiye ki jo resources unko mile wahan par hum hi mat soch ki baat karna hai jo car mein kaun ko mile hue hai aur camp mohit hai unko isliye nahi rakha gaya hai ki unko 100 kaam karne hai ya 50 kaam karne hai quantity se unko massage nahi karna chahiye wahan par unko quality se mujhe karna chahiye ki theek hai agar aap sirf yeh do kaam kar rahe hai lekin is do kaam ko itne parafekshan se kar rahe hai ki koi aur industry ka prashn utana accha kaam nahi kar raha hai toh wahan par dono ki hi growth ko rahi hai aapki company toh ho hi rahi hai kyonki aapko best kaam aapka ja raha hai wahan se chodo ka mooh karke de raha hai koi mujh sabse best kaam hai aur saath hi saath mp ki growth bhi ho rahi hai ki usko pata hai ki wah jo kaam kar raha hai aur koi uske level ka kaam kar hi nahi raha hai kyonki wahi paste hai toh yahan par dono ki growth automatically ho rahi hai toh agar aap top level management hai toh unko ya anti fai karna padega ki kaun kaun si task hai aur kaun si trans mein kaun sa banda zyada perfect hai jiske liye usko ka chayan karein aur us ko aage badhaye promote karein isse agar tu prasann promote honge aage badhenge toh aapki company Automatic liye hi toh maut ho gayi aur aur aage jayegi aur business karegi is tarah ki soch ke saath jawab aage badhenge toh usme Sarvangiṇa vikas hi hoga meri subhkamnaayain aapke saath hai dhanyavad

देखे बहुत ही अच्छा प्रश्न पूछा है आपने कि यदि आप एक कंपनी के सीईओ होते तो आप अपने कर्मचारि

Romanized Version
Likes  173  Dislikes    views  5746
WhatsApp_icon
user

Daulat Ram Sharma Shastri

Psychologist | Ex-Senior Teacher

5:01
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखो किसी भी कंपनी के आपसी योग हैं यह किसी भी संस्था के प्रधान हैं आप तो आप की नैतिक जिम्मेदारी है बहुत अधिक बढ़ जाती है नंबर 1 आप राइट समय आएंगे तो आप भी कर्मचारी राइट समय आएंगे आप भागेंगे नहीं वहां से तो आप के कर्मचारी भी आप आप के रहते हुए वहां से भागने की मत ले कर सकेंगे नंबर 2 नंबर 3 आपको खुद रीडिंग करना चाहिए किसी काम के लिए आपको खुद करके दिखाना चाहिए जिससे कि आप के पार कर उन कामों के लिए भक्तों के कार्य कर सकें जब आप दूसरों पर डिपेंड हो जाएंगे छोटे से छोटे काम के लिए आप या सतरंगी क्या आपके सपोर्टनेट आपकी हेल्प करते रहे तो निश्चित रूप से मान कर चलिए आपने आरक्ष को बढ़ावा दे दिया है कर्मचारियों के लिए एक रास्ता बना दिया इसलिए यही है क्या बिल्डिंग करें आप बैठ ना करें जिससे कि उनके कर्म आप के कर्मचारियों से बात नहीं हो जाए कि यह एडमिनिस्ट्रेशन का मास्टर की चौथी बात आपको सभी के साथ कोऑपरेटिव नेचर भी होना चाहिए आपके स्वभाव में किसी समस्या से परेशान हैं और उस आपकी थोड़ी सी हेल्प उसके लिए इतना मॉडिफाई कर सकती है कि वह आजीवन आपके लिए विनम्र होकर के और नतमस्तक होकर प्यापीली हेल्प कि थोड़ी सी है तो आपको कोऑपरेटिव नीचे खुद को भी होना चाहिए चौथा आपको उनके साथ में सब व्यवहार रखना चाहिए अब अभिमान पूर्ण व्यवहार नहीं रखे आप यदि आप एक छोटे कर्मचारी से भी आप मिलते हैं उसका हालचाल पूछते हैं तो उन कर्मचारियों में ही होता है कि हमारा दोस्त हमारे हितों का आकांक्षी है हमारी सुख अब हमारे सुखों को भी ध्यान रखता है हमारे दुखों में हमारा साथी है और जब उनको यह भी हो जाएगा क्या हमारे बहुत खूब हमारे दुखों से कोई मतलब नहीं है हमारी प्रॉब्लम से कोई मतलब नहीं है तो निश्चित रूप से बाप के साथ में कोऑपरेटिव व्यवहार नहीं करेंगे तो शिव को इन बातों में अधिक पढ़कर क्यों ना चाहिए मेरे संस्था के प्रत्येक पल पल थे जिनकी यह विशेषता थी कि वो यह कहते थे संस्था में आने के बाद आपको वर्क करना है वह व्यक्ति 7:00 बजे के टाइम थे तो 650 पर अपनी सीट पर बैठ जाते थे और उधर 12 हम सब लोग 12:00 बजे विद्यालय छोड़ देते थे और बेल सभा 12 12:30 पर विद्यालय छोड़ दो नंबर 1 नंबर 2 कभी क्लास उसे खुद नहीं भागे कभी यदि क्लास खाली देख ली किसी टीचर की और कोई टीचर बातों में लगा हुआ है क्लास को खुद पर आने लग जाते परिणाम स्वरूप टीचर को एहसास होता प्यार में गलती पर हूं मेरी क्लास को मेरा बहुत पढ़ा रहा है तो वह खुद शर्मिंदा होकर कि उसके सामने क्षमा मांगता और अंजलि कभी ऐसी गलती नहीं करता तो मेरे को चाहती है कि संस्था प्रधान को यह शिवपुर रीडिंग करनी चाहिए उनके साथ में कॉपरेटिव भी मांगी तथा व्यवहार करो और यदि आपकी पूरी कृपा मात्र से या किसी दया मात्र से या कोई सहायता मात्र से किसी का भी काम चल जाता है किसी को लोन अप्लाई किया उसने और आपके थोड़ा कॉर्पोरेट करने से स्कूल लोन मिल जाता है तो उसकी आर्थिक स्थिति सवाल जाएगी और यदि आपने उस में रुकावट कर दी थी ओके अभिमान में रुकावट पैदा कर दिया कोई समस्या पैदा कर दी तो निश्चित रूप से उसके मन में यह बन जाएगा कि हमारा बहुत जो है इमीग्रेट और जो है हमारा हितकारी नहीं तो ऐसी हालातों में आपके लिए बहुत दिल से काम नहीं करेगा जबकि आप उसको थोड़ा कॉर्पोरेट कर देते हैं क्योंकि गुडमॉर्न का हकदार है उसका पैसा है उस पैसे को मांग रहा है थोड़ी सी ए लोन किस कंपनी जो दे रही है उसके पैसे कोई दे रही है तो उसकी देखी थी आपने थोड़ी सी हेल्प कर दी इसके लिए तो आजीवन आप करनी हो जाएगा तो आपके लिए वक्त भाग वाक्य करेगा और इसका प्रभाव उसके साथियों पर भी पड़ेगा बेबी आपकी ओर झुकेंगे इसलिए अभिमान पूर्ण व्यवहार संस्था प्रधान का जातियों का कदापि उचित नहीं है यदि आपको स्टेज में रह गए अभिमान में रह गए अपने साथी सपोर्ट ने टोका दिल कभी नहीं कि सकोगे और जब तक उनका दिल नहीं सकोगे आप उनसे बात नहीं ले सकते हैं

dekho kisi bhi company ke aapasi yog hai yah kisi bhi sanstha ke pradhan hai aap toh aap ki naitik jimmedari hai bahut adhik badh jaati hai number 1 aap right samay aayenge toh aap bhi karmchari right samay aayenge aap bhagenge nahi wahan se toh aap ke karmchari bhi aap aap ke rehte hue wahan se bhagne ki mat le kar sakenge number 2 number 3 aapko khud reading karna chahiye kisi kaam ke liye aapko khud karke dikhana chahiye jisse ki aap ke par kar un kaamo ke liye bhakton ke karya kar sake jab aap dusro par depend ho jaenge chote se chote kaam ke liye aap ya satrangi kya aapke saportanet aapki help karte rahe toh nishchit roop se maan kar chaliye aapne araksh ko badhawa de diya hai karmachariyon ke liye ek rasta bana diya isliye yahi hai kya building kare aap baith na kare jisse ki unke karm aap ke karmachariyon se baat nahi ho jaaye ki yah administration ka master ki chauthi baat aapko sabhi ke saath cooperative nature bhi hona chahiye aapke swabhav mein kisi samasya se pareshan hai aur us aapki thodi si help uske liye itna madifai kar sakti hai ki vaah aajivan aapke liye vinamra hokar ke aur natamastak hokar pyapili help ki thodi si hai toh aapko cooperative niche khud ko bhi hona chahiye chautha aapko unke saath mein sab vyavhar rakhna chahiye ab abhimaan purn vyavhar nahi rakhe aap yadi aap ek chote karmchari se bhi aap milte hai uska hulchul poochhte hai toh un karmachariyon mein hi hota hai ki hamara dost hamare hiton ka akankshi hai hamari sukh ab hamare sukho ko bhi dhyan rakhta hai hamare dukhon mein hamara sathi hai aur jab unko yah bhi ho jaega kya hamare bahut khoob hamare dukhon se koi matlab nahi hai hamari problem se koi matlab nahi hai toh nishchit roop se baap ke saath mein cooperative vyavhar nahi karenge toh shiv ko in baaton mein adhik padhakar kyon na chahiye mere sanstha ke pratyek pal pal the jinki yah visheshata thi ki vo yah kehte the sanstha mein aane ke baad aapko work karna hai vaah vyakti 7 00 baje ke time the toh 650 par apni seat par baith jaate the aur udhar 12 hum sab log 12 00 baje vidyalaya chod dete the aur bell sabha 12 12 30 par vidyalaya chod do number 1 number 2 kabhi class use khud nahi bhaage kabhi yadi class khaali dekh li kisi teacher ki aur koi teacher baaton mein laga hua hai class ko khud par aane lag jaate parinam swaroop teacher ko ehsaas hota pyar mein galti par hoon meri class ko mera bahut padha raha hai toh vaah khud sharminda hokar ki uske saamne kshama mangta aur anjali kabhi aisi galti nahi karta toh mere ko chahti hai ki sanstha pradhan ko yah shivpur reading karni chahiye unke saath mein kapretiv bhi maangi tatha vyavhar karo aur yadi aapki puri kripa matra se ya kisi daya matra se ya koi sahayta matra se kisi ka bhi kaam chal jata hai kisi ko loan apply kiya usne aur aapke thoda corporate karne se school loan mil jata hai toh uski aarthik sthiti sawaal jayegi aur yadi aapne us mein rukavat kar di thi ok abhimaan mein rukavat paida kar diya koi samasya paida kar di toh nishchit roop se uske man mein yah ban jaega ki hamara bahut jo hai immigrate aur jo hai hamara hitkari nahi toh aisi halaton mein aapke liye bahut dil se kaam nahi karega jabki aap usko thoda corporate kar dete hai kyonki gudmarn ka haqdaar hai uska paisa hai us paise ko maang raha hai thodi si a loan kis company jo de rahi hai uske paise koi de rahi hai toh uski dekhi thi aapne thodi si help kar di iske liye toh aajivan aap karni ho jaega toh aapke liye waqt bhag vakya karega aur iska prabhav uske sathiyo par bhi padega baby aapki aur jhukenge isliye abhimaan purn vyavhar sanstha pradhan ka jaatiyo ka kadapi uchit nahi hai yadi aapko stage mein reh gaye abhimaan mein reh gaye apne sathi support ne toka dil kabhi nahi ki sakoge aur jab tak unka dil nahi sakoge aap unse baat nahi le sakte hain

देखो किसी भी कंपनी के आपसी योग हैं यह किसी भी संस्था के प्रधान हैं आप तो आप की नैतिक जिम्म

Romanized Version
Likes  35  Dislikes    views  842
WhatsApp_icon
user

Vivek Shukla

Life coach

1:44
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

ठीक है आपने पूछा कि यदि आप कंपनी के सीईओ तो आप अपनी कंपनी के कर्मचारियों कोई चीज ब्रेड देंगे सबसे पहले बात आपको बोलना चाहिए क्योंकि किसी को प्रेरित करने के लिए उसके शाबाशी या फिर उत्साह की जरूरत होती है वेस्ट होगा कि इस साल हम बेस्ट माने जो भी बढ़कर होंगे लेकिन जिस वर्कर का सबसे बढ़िया बेहतरीन काम होगा उसको माने कंपनी द्वारा उसकी बोनस बढ़ा दी जाएगी क्योंकि आज के इंसान में यह दौर में आप की बढ़ाई लोग 2 दिन या 3 दिन तक याद रखते हैं मित्र आप कितना भी उसके लिए कुछ भी बोले कोई भी फर्क रखें दो या तीन दिन तक वह बहुत ज्यादा आपकी इस बातों को याद करके उत्साहित रहेंगे उसके बाद उनके निजी मामला फिर उनके निजी काम में की टेंशन की वजह से वह आपके बहुत भाषण बाजी से कोई फर्क नहीं पड़ता लेकिन यार आप उन्हें थोड़ा सा लालच देकर कि आपका बेस्ट जो भी होगा उसकी तनख्वाह बढ़ाई जाएगी जयपुर से किसी पोस्ट पर अधिक वाणिज्य पोस्ट भी जाएगा इस लालच दिया जाए बेहतर काम करेंगे और बहुत ही अच्छा करेंगे या फिर उनका अर्जुन रानी परी या फिर उनको बेस्ट मनी जॉब के लिए फिर या फिर प्रमोशन करके इस तरह के अलावा देने पर ही कोई वर्कर बहुत ही अच्छी कंपनी के लिए अभी बहुत ज्यादा हर वर्कर पूरी तरह सच में जुड़ जाएगा ताकि उसको अच्छी सच्ची कंपनी में उसका बढ़ोतरी इस वजह से हर कोई वर्कर बहुत ही अच्छे से काम करेगा और हर साल या फिर 2 साल में एक बार ऐसा जरूर करना चाहिए ताकि वर्कर लोकमान्य वैसे भी निकलते रहते जाते रहते हैं ऐसे में ज्यादा प्रॉब्लम नहीं होगी और की बढ़ोतरी को लेकर यह तनख्वा बढ़ाने के नाम पर एक दो तीन हजार बढ़ाने से कोई फर्क नहीं पड़ता कंपनी क्योंकि उनके सबके वाडकर काम करेंगे आपका देते कोई विशेष फर्क नहीं पड़ता इससे आपका अच्छा खासा प्रॉफिटियर पर कंपनी का बहुत ही ज्यादा आगे प्रॉफिट हो सकती हो कि वह फ्रेंड

theek hai aapne puchha ki yadi aap company ke ceo toh aap apni company ke karmachariyon koi cheez bread denge sabse pehle baat aapko bolna chahiye kyonki kisi ko prerit karne ke liye uske shabashi ya phir utsaah ki zarurat hoti hai west hoga ki is saal hum best maane jo bhi badhkar honge lekin jis worker ka sabse badhiya behtareen kaam hoga usko maane company dwara uski bonus badha di jayegi kyonki aaj ke insaan mein yeh daur mein aap ki badhai log 2 din ya 3 din tak yaad rakhte hain mitra aap kitna bhi uske liye kuch bhi bole koi bhi fark rakhen do ya teen din tak wah bahut zyada aapki is baaton ko yaad karke utsaahit rahenge uske baad unke niji maamla phir unke niji kaam mein ki tension ki wajah se wah aapke bahut bhashan busy se koi fark nahi padta lekin yaar aap unhein thoda sa lalach dekar ki aapka best jo bhi hoga uski tankhvaah badhai jayegi jaipur se kisi post par adhik wanijya post bhi jayega is lalach diya jaye behtar kaam karenge aur bahut hi accha karenge ya phir unka arjun rani pari ya phir unko best money job ke liye phir ya phir promotion karke is tarah ke alava dene par hi koi worker bahut hi acchi company ke liye abhi bahut zyada har worker puri tarah sach mein jud jayega taki usko acchi sachi company mein uska badhotari is wajah se har koi worker bahut hi acche se kaam karega aur har saal ya phir 2 saal mein ek baar aisa zaroor karna chahiye taki worker lokamanya waise bhi nikalte rehte jaate rehte hain aise mein zyada problem nahi hogi aur ki badhotari ko lekar yeh tankhva badhane ke naam par ek do teen hazaar badhane se koi fark nahi padta company kyonki unke sabke wadkar kaam karenge aapka dete koi vishesh fark nahi padta isse aapka accha khasa prafitiyar par company ka bahut hi zyada aage profit ho sakti ho ki wah friend

ठीक है आपने पूछा कि यदि आप कंपनी के सीईओ तो आप अपनी कंपनी के कर्मचारियों कोई चीज ब्रेड दें

Romanized Version
Likes  18  Dislikes    views  458
WhatsApp_icon
user

Rakesh Tiwari

Life Coach, Management Trainer

1:48
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका प्रश्न है यदि आप एक कंपनी के सीईओ होते तो आप अपने कर्मचारियों को कैसे प्रभावित करते हैं ए लीडर शोल्ड ऑलवेज लीड बाय एग्जांपल अगर कोई नेतृत्व करता है किसी कंपनी का यह किसी ग्रुप का किसी समूह का तो उसे खुद उदाहरण प्रस्तुत करके अगवाई करके लोगों का नेतृत्व करना चाहिए और उन्हें प्रेरित करना चाहिए जब भी कंपनी में काम अच्छा हो तो कंपनी के कर्मचारियों को अपने मातहत कर्मचारियों को है आगे करना चाहिए और जब भी कंपनी में कोई जोखिम कोई चुनौती होती हो कभी कुछ गलत हुआ हो तो रेस्पॉन्सिविटी शिकार करके अपने कर्मचारियों की रक्षा करना चाहिए अपना उत्तरदायित्व मानते हुए उसे आपको स्वयं स्वीकार करना चाहिए मैं ऐसा करके अपने कंपनियों को प्रेरित कर सकता था अपने लोगों को प्रेरित कर सकता था दूसरा जब आप कंपनी के लक्ष्य को पार ऑब्जेक्टिव को जवाब stop-motion से जोड़ देते हैं एक विशेष प्रकार की आत्मीयता और अपनेपन की भावना थी तो मैं सारे आपको अपने कंपनी के कर्मचारियों को भावनात्मक रूप से जोड़ता और उनके जिंदगी के हर सुख दुख में मैं स्वयं भी व्यक्तिगत रूप से साथ देता और लोगों से भी यही अपेक्षा करता इन तीन तरीकों से अपने कंपनी की बुराइयों को प्रेरित करता है क्यों

aapka prashna hai yadi aap ek company ke ceo hote toh aap apne karmachariyon ko kaise prabhavit karte hain a leader sold always lead bye example agar koi netritva karta hai kisi company ka yah kisi group ka kisi samuh ka toh use khud udaharan prastut karke agavai karke logo ka netritva karna chahiye aur unhe prerit karna chahiye jab bhi company mein kaam accha ho toh company ke karmachariyon ko apne matahat karmachariyon ko hai aage karna chahiye aur jab bhi company mein koi jokhim koi chunauti hoti ho kabhi kuch galat hua ho toh respansiviti shikaar karke apne karmachariyon ki raksha karna chahiye apna uttardayitva maante hue use aapko swayam sweekar karna chahiye main aisa karke apne companion ko prerit kar sakta tha apne logo ko prerit kar sakta tha doosra jab aap company ke lakshya ko par objective ko jawab stop motion se jod dete hain ek vishesh prakar ki atmiyata aur apanepan ki bhavna thi toh main saare aapko apne company ke karmachariyon ko bhavnatmak roop se Jodta aur unke zindagi ke har sukh dukh mein main swayam bhi vyaktigat roop se saath deta aur logo se bhi yahi apeksha karta in teen trikon se apne company ki buraiyon ko prerit karta hai kyon

आपका प्रश्न है यदि आप एक कंपनी के सीईओ होते तो आप अपने कर्मचारियों को कैसे प्रभावित करते

Romanized Version
Likes  212  Dislikes    views  1603
WhatsApp_icon
user

Pankaj Kr(youtube -AJ PANKAJ MATHS GURU)

Motivational Speaker/YouTube-AJ PANKAJ MATHS GURU

1:17
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

किसी कंपनी कैसी हो तो सबसे पहले मैंने कल शाम को मीटिंग करके भाईचारा का व्यवस्था सद्भावना जगाता सबवे वारदातों से सबको आदर करता सब को सम्मान देता और कंपनी का जरूर लेकर उसने उसके हिसाब से कंपनी का कैसे विकास में जोड़ देता हूं देख देख सोना कंपनी के लिए मेहबूबा रिमिक्स कंपनी के कार्यकर्ता और कर्मचारियों को कि निर्माण पद बना सका काम करते-करते कर्मचारियों की परेशानी को दूर करने का प्रयास करता हूं किसी कंपनी की सफलता उसके कर्मचारियों पर व्यक्तिगत जानकारी कनेक्ट रेशमिया के सामने दूर हो जाएगी तो कर्मचारी सच्चे मन से सौ पर्सेंट शिकार करेंगे हम सभी कर्मचारी एक जगह जाएंगे मन से काम करेंगे तो कंपनी बिल अमला पाउडर दिखाओ और कंपनी का ही तोड़ने के लिए सभी को समर्पण की भावना को दूर करना पड़ेगा समर्पित मन से हम सभी लोग या कंपनी के सभी लोग सभी कर्मी पवन सिंह का

kisi company kaisi ho toh sabse pehle maine kal shaam ko meeting karke bhaichara ka vyavastha sadbhavana jagata subway vardaton se sabko aadar karta sab ko sammaan deta aur company ka zaroor lekar usne uske hisab se company ka kaise vikas mein jod deta hoon dekh dekh sona company ke liye mehbuba remix company ke karyakarta aur karmachariyon ko ki nirmaan pad bana saka kaam karte karte karmachariyon ki pareshani ko dur karne ka prayas karta hoon kisi company ki safalta uske karmachariyon par vyaktigat jaankari connect reshmiya ke saamne dur ho jayegi toh karmchari sacche man se sau percent shikaar karenge hum sabhi karmchari ek jagah jaenge man se kaam karenge toh company bill amla powder dikhaao aur company ka hi todne ke liye sabhi ko samarpan ki bhavna ko dur karna padega samarpit man se hum sabhi log ya company ke sabhi log sabhi karmi pawan Singh ka

किसी कंपनी कैसी हो तो सबसे पहले मैंने कल शाम को मीटिंग करके भाईचारा का व्यवस्था सद्भावना ज

Romanized Version
Likes  94  Dislikes    views  819
WhatsApp_icon
user

ganesh pazi

Motivator

1:19
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आग इस कंपनी के सीईओ हैं उसी कंपनी के और भी कर्मचारी है आप दोनों के बीच में कार्य का आतंक एक अंतर है जाहिर है कि आप एक दूसरे के सहयोगी तो वह सर यह रहेगा क्यों अपने कर्मचारियों से ऐसे बात करें जैसे हमारे सहयोगी उनके व्यवहार मित्रों को उनको नसीब ना समझे उनको अपनी तरह समझा और उन से काम लेने के समय बका का वहां पर उनके साथ हैं ताकि उनको एहसास हो कि वो काम अकेले नहीं कर रहा है मित्र भाव सहयोग भाव से आप अपने कर्मचारियों को बहुत अच्छे लग सकते हैं कर सकते हैं और बहुत अच्छे ढंग से आप कामले इसलिए बेहतर है कि कर्मचारियों को कर्मचारी ना सुने अपनी कंपनी का मुलाजिम समझें और उनके साथ वही व्यवहार करें जो आपके साथ में होगी विल गेट

aag is company ke ceo hai usi company ke aur bhi karmchari hai aap dono ke beech mein karya ka aatank ek antar hai jaahir hai ki aap ek dusre ke sahyogi toh wah sar yeh rahega kyon apne karmachariyon se aise baat karein jaise hamare sahyogi unke vyavahar mitron ko unko nasib na samjhe unko apni tarah samjha aur un se kaam lene ke samay baka ka wahan par unke saath hai taki unko ehsaas ho ki vo kaam akele nahi kar raha hai mitra bhav sahyog bhav se aap apne karmachariyon ko bahut acche lag sakte hai kar sakte hai aur bahut acche dhang se aap kamle isliye behtar hai ki karmachariyon ko karmchari na sune apni company ka mulajim samajhe aur unke saath wahi vyavahar karein jo aapke saath mein hogi will gate

आग इस कंपनी के सीईओ हैं उसी कंपनी के और भी कर्मचारी है आप दोनों के बीच में कार्य का आतंक

Romanized Version
Likes  15  Dislikes    views  361
WhatsApp_icon
user

Vimla Bidawatka

Spiritual Thinker

3:23
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अगर मैं कंपनी की सीईओ होती तो अपने कर्मचारियों को अपने शब्दों से प्रेरित करती मतलब अगर उनसे कोई गलत काम हो गया और सपोर्ट कोई गलत काम हो गया कर्मचारियों से तो उनको डिसकैरेज नहीं करती और उनको डांट भी नहीं किया आपने क्या किया उनको जरा ठीक से समझ आती कि यह थोड़ा सा गलत हो गया और अगर इसकी जगह दूसरी तरह से करते तो ज्यादा अच्छा होता या हमारा ज्यादा फायदा होता तब डांटने से क्या है आदमी डर जाता है जो भी कर्मचारी वह डर जाते हैं वह आप से डर रही आपकी इज्जत नहीं करेंगे तो यह एक तरह का यह मैं काम नहीं करते या उनसे कोई काम करवाना है मुझे या जैसे ऑफिसर्स के बाद में काम कराना है तो मतलब इस तरह से कि अगर आज यह हम काम करेंगे तो हमारी कंपनी के लिए बहुत अच्छा रहेगा इस तरह से कर्मचारियों को प्रेरित करते उत्साह से यह के हम चले जाएं मतलब एक सीईओ है वह तो चला जाए और ठीक है ठीक है तुम यह काम कर लेना एक काम कर लेना तो फिर उनको प्रेरणा नहीं मिलती है कोई काम करने के लिए किन अगर कोई काम है और हम भी वहीं बैठे रहे और हम भी उनके साथ बराबर मेहनत करें तब जाकर वह काम करने कि उनको मेहनत करने की प्रेरणा मिलती है अगर उन्होंने कुछ अच्छा काम किया है तो एकदम मन मन से दिल से उनकी तारीफ करना चाहिए यह काम बहुत अच्छा किया किसी एक कर्मचारी ने किया तो उसकी अगर जॉइंट काम है किसी का ग्रुप में है तो उस ग्रुप की तारीफ करना चाहिए इन फैक्ट कभी-कभी ऐसे कुछ छोटे-मोटे गिफ्ट देकर उनको प्रेरित किया जा सकता है शब्दों से गिफ्ट देकर गिफ्ट बहुत कम कोई बहुत बड़ी चीज नहीं है लेकिन उनको एक इनकरेजमेंट मिलती है इन सब चीजों से तो मैं इस तरह से उन को प्रेरित करती जिससे कि वह और अच्छा काम करते लेकिन मैं कभी उनको डांटते नहीं मतलब अगर जातला भी है तो थोड़ा सा जरा जोर से बोल दिया कि मैं यह गलती हो गई है लेकिन उसके बाद वह ऐसे नहीं है उसको कैरी फॉरवर्ड नहीं है कि कई दिन तक मुंह फुला कर घूमते रहो नहीं अपना चेहरा हमेशा हंसमुख रखना चाहिए हमारी हंसी ही उनको काम करेंगे करने की प्रेरणा देती है एक शब्द है गुड मॉर्निंग गुड इवनिंग आप कैसे हैं बहुत दिन से दिखाई नहीं दिए कि ऐसे छोटे-छोटे शब्द है जो एक इंसान को मतलब कर्मचारियों को प्रेरित करते हैं और अच्छा काम करने के लिए तो इन सब चीजों का मैं बहुत ध्यान देती है फिर एक प्रेम प्रेरित करती हूं उनको अच्छा काम करने के लिए कि किसी का बर्थडे है यह तो उनका बर्थडे ऑफिस में सेलिब्रेट करना इस तरह से यह एक कप उनको अच्छा लगता है कि ऑफिस वाले कर्म सबको याद है या सीईओ को याद है हमारा बर्थडे इस तरह से छोटी-छोटी उनकी खुशी में खुश होना उनकी दुख में थोड़ी सी दुख प्रकट करना जब करना किसी कुछ अच्छा है तो यह सब चीजें उसे अपने कर्मचारियों को प्रेरित करते हैं

agar main company ki ceo hoti toh apne karmachariyon ko apne shabdon se prerit karti matlab agar unse koi galat kaam ho gaya aur support koi galat kaam ho gaya karmachariyon se toh unko diskairej nahi karti aur unko dant bhi nahi kiya aapne kya kiya unko zara theek se samajh aati ki yah thoda sa galat ho gaya aur agar iski jagah dusri tarah se karte toh zyada accha hota ya hamara zyada fayda hota tab dantane se kya hai aadmi dar jata hai jo bhi karmchari vaah dar jaate hai vaah aap se dar rahi aapki izzat nahi karenge toh yah ek tarah ka yah main kaam nahi karte ya unse koi kaam karwana hai mujhe ya jaise officers ke baad mein kaam krana hai toh matlab is tarah se ki agar aaj yah hum kaam karenge toh hamari company ke liye bahut accha rahega is tarah se karmachariyon ko prerit karte utsaah se yah ke hum chale jayen matlab ek ceo hai vaah toh chala jaaye aur theek hai theek hai tum yah kaam kar lena ek kaam kar lena toh phir unko prerna nahi milti hai koi kaam karne ke liye kin agar koi kaam hai aur hum bhi wahi baithe rahe aur hum bhi unke saath barabar mehnat kare tab jaakar vaah kaam karne ki unko mehnat karne ki prerna milti hai agar unhone kuch accha kaam kiya hai toh ekdam man man se dil se unki tareef karna chahiye yah kaam bahut accha kiya kisi ek karmchari ne kiya toh uski agar joint kaam hai kisi ka group mein hai toh us group ki tareef karna chahiye in fact kabhi kabhi aise kuch chhote mote gift dekar unko prerit kiya ja sakta hai shabdon se gift dekar gift bahut kam koi bahut baadi cheez nahi hai lekin unko ek inakarejment milti hai in sab chijon se toh main is tarah se un ko prerit karti jisse ki vaah aur accha kaam karte lekin main kabhi unko dantate nahi matlab agar jatla bhi hai toh thoda sa zara jor se bol diya ki main yah galti ho gayi hai lekin uske baad vaah aise nahi hai usko carry forward nahi hai ki kai din tak mooh phula kar ghumte raho nahi apna chehra hamesha hansamukh rakhna chahiye hamari hansi hi unko kaam karenge karne ki prerna deti hai ek shabd hai good morning good evening aap kaise hai bahut din se dikhai nahi diye ki aise chhote chhote shabd hai jo ek insaan ko matlab karmachariyon ko prerit karte hai aur accha kaam karne ke liye toh in sab chijon ka main bahut dhyan deti hai phir ek prem prerit karti hoon unko accha kaam karne ke liye ki kisi ka birthday hai yah toh unka birthday office mein celebrate karna is tarah se yah ek cup unko accha lagta hai ki office waale karm sabko yaad hai ya ceo ko yaad hai hamara birthday is tarah se choti choti unki khushi mein khush hona unki dukh mein thodi si dukh prakat karna jab karna kisi kuch accha hai toh yah sab cheezen use apne karmachariyon ko prerit karte hain

अगर मैं कंपनी की सीईओ होती तो अपने कर्मचारियों को अपने शब्दों से प्रेरित करती मतलब अगर उनस

Romanized Version
Likes  31  Dislikes    views  442
WhatsApp_icon
user

Rinku Kumar Meena

managing director (MD)life expert hindi writer tourist guides writing self employed मैं चाहता हूं हर व्यक्ति को अपने जीवन में खुश रहने का पूरा अधिकार है चाहे वह लड़का या लड़की और वह जो चाहे कर सकती अपनी लाइफ से उसका भी अधिकार होना चाहिए और मैं चाहता हूं लड़कियां भी अपना जीवन पूरी तरीके से खुश हो कर दिया चाहे वह अपने परिवार में हो या ससुराल में विश्वास करता हूं

5:47
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

पहली बात तो मैं बताना चाहूंगा कंपनी के सीईओ के बारे में ठीक है कि ट्यूब सर एक तरीके से कंपनी का मालिक होता है और ज्यादातर कंपनियां है जो बनाता है कंपनी वही उसका सही होता है क्योंकि वह से उतनी बाबा सोती है कोई भी फैसला ले सकता है दूसरी बात जगर बांध लेते हम किसी कंपनी के सीईओ हैं तो अपने कर्मचारियों को कैसे प्रेरित करेंगे इसमें दो बातें मुक्ता पर देखने को मिलेंगे फर्स्ट तो हम कर्मचारी हैं उनको महसूस कर आएंगे क्या उनको एकजुट करके एक जगह और उनको समझा देंगे क्या आपके काम यह काम करने से इतनी विरोध करें क्योंकि जब व्यक्ति को लगता है कि उनके बात करने से कुछ फर्क पड़ रहा है या उसे महसूस कराया जाए कि आप अच्छा बात कर रहे हो क्या आपके करने से इतना तरीके से उसे महसूस कराना क्या आपकी वहां कुछ अहमियत व्यक्ति और भी अच्छा कार्य करता है यह देखा क्या है सभी कंपनी श्री बार अपने कर्मचारियों को प्रेत कर सकते हैं रिकॉर्ड फंक्शंस आफ थे छोटे-छोटे थे वार्ड के में नहीं करना चाहता ज्यादा बड़े रिवर ट्रक छोटे-छोटे भी शॉट टारगेट थे उनको जिससे कि वह आशीर्वाद के तौर पर आशीर्वाद के लिए कार्य करेंगे और अपने-अपने दे रहे आप उनको प्रेरित करता हूं कार्य के लिए सही कार्य करने के लिए और ज्यादा कार्यक्रम के लिए औरतों से बात एक पल कैसे जब आप को एक तरीके से कंपनी को मैसेज कर आओ क्या आप कंपनी के वर्कर नहीं हो आप तो उस कंपनी में इतने हिस्सेदार हो जितने की बाकी सब लोग हैं उन की ग्रोथ में कंपनी की ग्रोथ में एक कंपनी के कहने में व्यक्ति जब लगेगा कि उसके नेगेटिव बिटिया कम करने से कंपनी कुछ फर्क पड़ेगा तो वह अपने स्तर को सुधार सकता है यही कुछ पॉइंट से जो आप कर सकते हो दूसरा मैंने काफी पर देखा है क्या बिगेस्ट कंपनी के होते हैं वह अगर कोई व्यक्ति उनको लगता है कि कम कम कार्य कर रहा है तो उसे अलग से बुलाकर भी समझा जा सकता है और मुझे उस समय पहले की बात याद है जो मैंने सुना था कि यह कंपनी में एक जो वर्कर था वह कितना भी जो कैप्सिटी थी कार्य करने की कह रही थी वह कम कारी करने लग गया था तीर्थ यह बात कंपनी के सीईओ को पता चले उन्हें 1 दिनों से अपने ऑफिस में बुलाया और बता रहा हूं कि जो ग्रीन लाइट है मैप में दिखाते हुए जो मैं अपने अपन को ग्रीन लाइट दिख रही है वह स्थान है यह मैं अपना प्रोडक्ट जा रहा है प्लस जो रेगिस्तान है उनमें अपन को अपना जो प्रोडक्ट है वह पहुंचाना है तुम अगर क्या चाहती हूं कि जो अपने ग्रीन स्तान बढ़ने चाहिए अगर तुम्हारे नेगेटिविटी या खराब प्रदर्शन की वजह से जो कंपनी की जो मैंने स्थान है इन पर अभी भी अपना कार्य है वह भी यह प्रोडक्ट जाता है मगर प्रोडक्ट खराब है कैसे पैक करोगे तो वह भी कर सकते हैं तो मुक्त तौर पर कहने का मतलब यह था कि व्यक्ति को मैसेज करवाया कि उसकी वजह से कंपनी वह भी कंपनी में बहुत ज्यादा मायने रखता है और जो व्यक्ति को यह महसूस हो जाता है कि उसके भी काफी हद तक कंपनी में अहमियत है उसके कुछ ना करने से बहुत ज्यादा फर्क पड़ता है कार्यकर्ता और आप इस तरह अपने कर्मचारियों को प्रेरित कर सकते हैं धन्यवाद

pehli baat toh main batana chahunga company ke ceo ke bare mein theek hai ki tube sar ek tarike se company ka malik hota hai aur jyadatar companiya hai jo banata hai company wahi uska sahi hota hai kyonki wah se utani baba soti hai koi bhi faisla le sakta hai dusri baat jagar bandh lete hum kisi company ke ceo hain toh apne karmachariyon ko kaise prerit karenge ismein do batein mukta par dekhne ko milenge first toh hum karmchari hain unko mehsus kar aayenge kya unko ekjoot karke ek jagah aur unko samjha denge kya aapke kaam yeh kaam karne se itni virodh karein kyonki jab vyakti ko lagta hai ki unke baat karne se kuch fark pad raha hai ya use mehsus karaya jaye ki aap accha baat kar rahe ho kya aapke karne se itna tarike se use mehsus karana kya aapki wahan kuch ahamiyat vyakti aur bhi accha karya karta hai yeh dekha kya hai sabhi company shri baar apne karmachariyon ko pret kar sakte hain record functions of the chote chhote the ward ke mein nahi karna chahta zyada bade river truck chote chhote bhi shot target the unko jisse ki wah ashirvaad ke taur par ashirvaad ke liye karya karenge aur apne apne de rahe aap unko prerit karta hoon karya ke liye sahi karya karne ke liye aur zyada karyakram ke liye auraton se baat ek pal kaise jab aap ko ek tarike se company ko massage kar aao kya aap company ke worker nahi ho aap toh us company mein itne Hissedaar ho jitne ki baki sab log hain un ki growth mein company ki growth mein ek company ke kehne mein vyakti jab lagega ki uske Negative bitiya kam karne se company kuch fark padega toh wah apne sthar ko sudhaar sakta hai yahi kuch point se jo aap kar sakte ho doosra maine kaafi par dekha hai kya biggest company ke hote hain wah agar koi vyakti unko lagta hai ki kam kam karya kar raha hai toh use alag se bulakar bhi samjha ja sakta hai aur mujhe us samay pehle ki baat yaad hai jo maine suna tha ki yeh company mein ek jo worker tha wah kitna bhi jo kaipsiti thi karya karne ki keh rahi thi wah kam kaari karne lag gaya tha tirth yeh baat company ke ceo ko pata chale unhein 1 dinon se apne office mein bulaya aur bata raha hoon ki jo green light hai map mein dikhate hue jo main apne apan ko green light dikh rahi hai wah sthan hai yeh main apna product ja raha hai plus jo registan hai unmen apan ko apna jo product hai wah pahunchana hai tum agar kya chahti hoon ki jo apne green stan badhne chahiye agar tumhare negativity ya kharab pradarshan ki wajah se jo company ki jo maine sthan hai in par abhi bhi apna karya hai wah bhi yeh product jata hai magar product kharab hai kaise pack karoge toh wah bhi kar sakte hain toh mukt taur par kehne ka matlab yeh tha ki vyakti ko massage karvaya ki uski wajah se company wah bhi company mein bahut zyada maayne rakhta hai aur jo vyakti ko yeh mehsus ho jata hai ki uske bhi kaafi had tak company mein ahamiyat hai uske kuch na karne se bahut zyada fark padta hai karyakarta aur aap is tarah apne karmachariyon ko prerit kar sakte hain dhanyavad

पहली बात तो मैं बताना चाहूंगा कंपनी के सीईओ के बारे में ठीक है कि ट्यूब सर एक तरीके से कंप

Romanized Version
Likes  10  Dislikes    views  216
WhatsApp_icon
user
Play

Likes  56  Dislikes    views  1114
WhatsApp_icon
user

Purushottam Choudhary

ब्राह्मण Next IAS institute गार्ड

0:50
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मैं जिस कंपनी में काम करता हूं उस कंपनी के सीईओ साहब हर तरह से सभी के पास मैसेज भेज रहे हैं कि आप सुरक्षित रहे घर में रहे आप हमारे परिवार के सदस्य किसी की भी एक पैसे तनखा नहीं कटेगी कंपनी सभी को तनख्वा देगी इसी तरह के सीईओ वरना किया इसी तरह के मालिक होनी चाहिए एकदम क्लियर कर रहे हैं या नहीं कर रहे हैं आप सुरक्षित है आप किसी की भी तनख्वाह नहीं कटेगी आप सब ठीक है तो कल मैं पैसे कमा लूंगा धन्यवाद एसएससी ओक थैंक यू

main jis company me kaam karta hoon us company ke ceo saheb har tarah se sabhi ke paas massage bhej rahe hain ki aap surakshit rahe ghar me rahe aap hamare parivar ke sadasya kisi ki bhi ek paise tankha nahi kategi company sabhi ko tanakhwa degi isi tarah ke ceo varna kiya isi tarah ke malik honi chahiye ekdam clear kar rahe hain ya nahi kar rahe hain aap surakshit hai aap kisi ki bhi tankhvaah nahi kategi aap sab theek hai toh kal main paise kama lunga dhanyavad ssc oak thank you

मैं जिस कंपनी में काम करता हूं उस कंपनी के सीईओ साहब हर तरह से सभी के पास मैसेज भेज रहे है

Romanized Version
Likes  19  Dislikes    views  166
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मैं किसी कंपनी की सीईओ होती तो मैं कंपनी के ऑफिस में ग्रुपिंग कर देते और किसी अच्छे ग्रुप का जो रिजल्ट होता काम के बाद वह रिजल्ट में जो मूलतः वर्ष होते हैं उन्हें दिखाती और इस तरह से मैं वर्कर्स को फेल कर

main kisi company ki ceo hoti toh main company ke office me grouping kar dete aur kisi acche group ka jo result hota kaam ke baad vaah result me jo moolat varsh hote hain unhe dikhati aur is tarah se main workers ko fail kar

मैं किसी कंपनी की सीईओ होती तो मैं कंपनी के ऑफिस में ग्रुपिंग कर देते और किसी अच्छे ग्रुप

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  51
WhatsApp_icon
user

Lokesh kesharwani

Psychologist & Philosopher (Life Coach), Counsellor Of Everything.

1:09
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अगर मैं किसी कंपनी का स्कोर होता तो मैं अपने कर्मचारियों को मोटिवेट काम करने के तरीके से काम करते होने वाले काम करते समय जो काम करते समय जो मजा आता है काम कर कह रहा है और दूसरे यही तो लाइफ होती है काम करता है वही काम करते अगर यह चीजें घर में अभी कर्मचारी को समझाऊं के तरीके से और कर्मचारी समझें तो कर्मचारी काम के प्रति लगाव देखिए कंपनी ग्रुप कर्मचारियों का

agar main kisi company ka score hota toh main apne karmachariyon ko motivate kaam karne ke tarike se kaam karte hone wale kaam karte samay jo kaam karte samay jo maza aata hai kaam kar keh raha hai aur dusre yahi toh life hoti hai kaam karta hai wahi kaam karte agar yeh cheezen ghar mein abhi karmchari ko samjhau ke tarike se aur karmchari samajhe toh karmchari kaam ke prati lagav dekhie company group karmachariyon ka

अगर मैं किसी कंपनी का स्कोर होता तो मैं अपने कर्मचारियों को मोटिवेट काम करने के तरीके से क

Romanized Version
Likes  20  Dislikes    views  527
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सबसे पहली बात सीईओ हो तो थोड़ा सा खड़ा करना जरूरी है लड़के साथ में थोड़ा सा प्यार से कितना दूर इटारसी की दूरी कितना दूर होगी और उनसे कर्मचारी हो अपने कर्मचारियों को प्रेरित काम के लिए प्रेरित करने के लिए उचित

sabse pehli baat ceo ho toh thoda sa khada karna zaroori hai ladke saath mein thoda sa pyar se kitna dur itarsi ki doori kitna dur hogi aur unse karmchari ho apne karmachariyon ko prerit kaam ke liye prerit karne ke liye uchit

सबसे पहली बात सीईओ हो तो थोड़ा सा खड़ा करना जरूरी है लड़के साथ में थोड़ा सा प्यार से कितन

Romanized Version
Likes  11  Dislikes    views  193
WhatsApp_icon
user

दिनेश कुमार

Social Activist/ Electronic And Domestic Appliances Maintenance And Repair

0:25
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मैं उनको मोटिवेशनल स्पीच सुना था और मोटिवेशनल किससे सुना था जिससे कि वह मोटिवेट है उसके और उनको अध्यात्म में उनका रुचि लगाता है उसे योग योग वगैरह करने के लिए प्रतिदिन करवाता था कि उनका मन एकाग्र रहे और काम में चित्र काम कर सके

main unko Motivational speech suna tha aur Motivational kisse suna tha jisse ki vaah motivate hai uske aur unko adhyaatm mein unka ruchi lagaata hai use yog yog vagera karne ke liye pratidin karwata tha ki unka man ekagra rahe aur kaam mein chitra kaam kar sake

मैं उनको मोटिवेशनल स्पीच सुना था और मोटिवेशनल किससे सुना था जिससे कि वह मोटिवेट है उसके और

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  
WhatsApp_icon
user

Mujahid

Expert Advisor

0:41
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भाई वैसे तो प्रेरित करना है तो हमारा काम है और एमरा शुरू किया दूसरे का मोटिवेशन नंबर मोटिवेट करना और भाई मैं अभी मैं कंपनी का सीईओ होता तो कर्मचारियों से अच्छे से पेश आता और उनसे ना जैसे कि अपने मां के बच्चों को संभालती है उसी तरह मानता है संभालता जैसे कि कुछ गलती तो समझ कर लेता फिर कुछ गलती होती तो सुधारने उनको सुधारने के लिए कहता बच्चा गुस्सा होने से अच्छा तो यही करना था करता फिर भी वह फिर भी गलती करते तो मैं कुछ आगे के बारे में सोचता पगली मैं उनको अच्छी से अच्छी है समझाने की कोशिश करता और उनकी परेशानियां तकलीफें कुछ नजर दूर करने की कोशिश

bhai waise toh prerit karna hai toh hamara kaam hai aur emara shuru kiya dusre ka motivation number motivate karna aur bhai main abhi main company ka ceo hota toh karmachariyon se acche se pesh aata aur unse na jaise ki apne maa ke baccho ko sambhaalati hai usi tarah manata hai sambhalata jaise ki kuch galti toh samajh kar leta phir kuch galti hoti toh sudhaarne unko sudhaarne ke liye kahata baccha gussa hone se accha toh yahi karna tha karta phir bhi wah phir bhi galti karte toh main kuch aage ke bare mein sochta pagli main unko acchi se acchi hai samjhane ki koshish karta aur unki pareshaniya taklifen kuch nazar dur karne ki koshish

भाई वैसे तो प्रेरित करना है तो हमारा काम है और एमरा शुरू किया दूसरे का मोटिवेशन नंबर मोटिव

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  32
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!