मानव व्यवहार के बारे में सबसे दिलचस्प तथ्य कौन से हैं?...


user

Dr. Suman Aggarwal

Personal Development Coach

0:31
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मेरे हिसाब से मानव परिवार में सबसे दिलचस्प दो ही बातें हैं पहली कि वह एक मानव ही अपना स्वयं का सबसे अच्छा दोस्त हो सकता है और एक मां ने भी अपना स्वयं का सबसे बड़ा दुश्मन भी होता है और यह दोनों चीजें डिपेंड करती है उनकी खुद के विचारों के ऊपर जैसे विचार इंसान के जीवन में आते हैं और उसी हिसाब से हम ना चाहते भी ना जान तेरे उन विचारों के ऊपर काम करते जाते हैं

mere hisab se manav parivar mein sabse dilchasp do hi batein hain pehli ki vaah ek manav hi apna swayam ka sabse accha dost ho sakta hai aur ek maa ne bhi apna swayam ka sabse bada dushman bhi hota hai aur yah dono cheezen depend karti hai unki khud ke vicharon ke upar jaise vichar insaan ke jeevan mein aate hain aur usi hisab se hum na chahte bhi na jaan tere un vicharon ke upar kaam karte jaate hain

मेरे हिसाब से मानव परिवार में सबसे दिलचस्प दो ही बातें हैं पहली कि वह एक मानव ही अपना स्वय

Romanized Version
Likes  7  Dislikes    views  357
WhatsApp_icon
8 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Medha Gupta

Clinical Psychologist

1:34
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

इंडिया के बारे में जो सबसे ज्यादा इंटरेस्टिंग फैक्ट लगा है आज तक कोई ऐसा नहीं है कि हमें अपने बारे में पता नहीं होता यह बता सकती हूं मेरे पास जितने लोग आते हैं उनको अपनी प्रॉब्लम खुद पूरी तरह से मालिश भी होती है लेकिन यह अपने डर की वजह से कुछ खोने के डर से उसने कैसे थक जाते हैं उसके आगे नहीं निकल पाते यह बात बहुत ही किसी के लिए भी होगा कि बहुत ही पब्लिक संकट मोचन दूसरी बात है आपको जो चीज बना की जाए आपका मन हमेशा उसी की तरफ भागे गा और यहां तक सरिया बहुत सारे रिलेशनशिप्स में देखेंगे संकेत के पीछे भागे लेकिन फिर भी क्योंकि वह चीज हमसे दूर है या हमें लगता है कि आप आ नहीं पाएंगे यहां उसको चेंज कर देंगे उसी के पीछे भागते चले जाते हैं पूरी तरीके से जानते हुए कि एंड में नुकसान हमारा ही है

india ke bare mein jo sabse zyada interesting fact laga hai aaj tak koi aisa nahi hai ki humein apne bare mein pata nahi hota yeh bata sakti hoon mere paas jitne log aate hain unko apni problem khud puri tarah se maalish bhi hoti hai lekin yeh apne dar ki wajah se kuch khone ke dar se usne kaise thak jaate hain uske aage nahi nikal paate yeh baat bahut hi kisi ke liye bhi hoga ki bahut hi public sankat mochan dusri baat hai aapko jo cheez bana ki jaye aapka man hamesha usi ki taraf bhaage ga aur yahan tak sariya bahut saare relationships mein dekhenge sanket ke peeche bhaage lekin phir bhi kyonki wah cheez humse dur hai ya humein lagta hai ki aap aa nahi payenge yahan usko change kar denge usi ke peeche bhagte chale jaate hain puri tarike se jante hue ki end mein nuksan hamara hi hai

इंडिया के बारे में जो सबसे ज्यादा इंटरेस्टिंग फैक्ट लगा है आज तक कोई ऐसा नहीं है कि हमें अ

Romanized Version
Likes  22  Dislikes    views  388
WhatsApp_icon
user

Loveleena Singh

Rehabilitation Psychologist

0:49
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

तथ्यात्मक तरीके से देखें तो इंसान ही जवाब है वह बहुत फ्लैक्सिबल बहुत ही लकी ना हो सकता है और हर स्थिति में अपने आपको एडजस्ट करने वाला और अगर हम लगते देंगे देखे न प्रार्थना किया जाए जो इंसान से बड़ा क्यों और भी कोई नहीं करता क्योंकि वह अपनी सोच को एक ही चीज लटका के रख सकते हैं कि महाविद्या बाहर जाके एग्जैक्ट एग्जैक्ट जी गलत है

tathyatmak tarike se dekhen toh insaan hi jawab hai vaah bahut flaiksibal bahut hi lucky na ho sakta hai aur har sthiti mein apne aapko adjust karne vala aur agar hum lagte denge dekhe na prarthna kiya jaaye jo insaan se bada kyon aur bhi koi nahi karta kyonki vaah apni soch ko ek hi cheez Latka ke rakh sakte hain ki mahavidya bahar jake exact exact ji galat hai

तथ्यात्मक तरीके से देखें तो इंसान ही जवाब है वह बहुत फ्लैक्सिबल बहुत ही लकी ना हो सकता है

Romanized Version
Likes  41  Dislikes    views  455
WhatsApp_icon
play
user

Mohini

Voice Artist

1:37

Likes  14  Dislikes    views  308
WhatsApp_icon
user

Rishi Mishra

Rehabilitation Psychologist

1:35
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

लेकिन मानव व्यवहार की हिम्मत भी व्यक्ति एक बहुत ही खुशी होती है कि 7 साल की उम्र तक जो है उसको सोसाइटी में जब वह आता है सोसायटी के रूबरू होता है क्या करता है तब उसके सामने होते हैं और यह करने वाली बात है कि वह सारे के सारे रूप तक उसको बताएं नहीं जाता लेकिन उसी की होती है जो भी इंफॉर्मेशन दिमाग में डाली जाती है उसके बाद इंफॉर्मेशन है वह या तो कितनों से होती है या फिर से होती है इसीलिए हम कहते हैं कि जब आपको अगर खुश रहना है तो आपको अपने आप से रिपीट करना होता है कि मैं खुश हूं क्योंकि यह सब कॉन्शियस माइंड जो है आप प्रतिवेदन वह सिर्फ मोदी की तारीफ वाकई एक बहुत बड़ा सांप और चींटी की तरह ले जा सकता

lekin manav vyavahar ki himmat bhi vyakti ek bahut hi khushi hoti hai ki 7 saal ki umar tak jo hai usko society mein jab wah aata hai sociaty ke roobaroo hota hai kya karta hai tab uske saamne hote hain aur yeh karne wali baat hai ki wah saare ke saare roop tak usko bataye nahi jata lekin usi ki hoti hai jo bhi information dimag mein dali jati hai uske baad information hai wah ya toh kitanon se hoti hai ya phir se hoti hai isliye hum kehte hain ki jab aapko agar khush rehna hai toh aapko apne aap se repeat karna hota hai ki main khush hoon kyonki yeh sab सबकॉन्शियस माइंड क्या होता है ? mind jo hai aap prativedan wah sirf modi ki tareef vaakai ek bahut bada saap aur chinti ki tarah le ja sakta

लेकिन मानव व्यवहार की हिम्मत भी व्यक्ति एक बहुत ही खुशी होती है कि 7 साल की उम्र तक जो है

Romanized Version
Likes  77  Dislikes    views  1642
WhatsApp_icon
user

TS Bhanot

Teacher

1:07
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

एक आम व्यवहारिक उन जो हर मानव में होता है वह है कामना और इच्छा की भावना व्यस्क मनुष्य की इच्छा पूरी होती है वैसे ही उसकी दूसरी इच्छा कोई ना कोई तैयार हो जाती है यह अच्छा है कभी हमारी जरूरत को लेकर होती है तो कभी हमारे शौक को पूरा करने के लिए भी हो सकती है पर कभी भी हमारी दिमाग क्यों है पूरी नहीं होती और एक मनुष्य का बिहेवियर नेचुरल ही ऐसा होता है कि वह कभी कुछ सेटिस्फाई नहीं होता अपने ग्रंथ सीता से अपनी क्रांति लाइव से टू स्टेबिलिटी जो चीज से ज्यादा इंपोर्टेंट है मनुष्य के लिए वह होने मानव में बहुत जरूरी है और जब एक इंसान सेटिस्फाई होना सीख जाता है अपनी फ्रेंड सिचुएशन से जितना के हालात है उसमें एडजस्ट करना सीख लेता है इस तरह का मनुष्य की आगे चलकर सफल पापा है और अच्छा इंसान बन सकता है सोसाइटी में

ek aam vyavaharik un jo har manav mein hota hai vaah hai kamna aur iccha ki bhavna vyasak manushya ki iccha puri hoti hai waise hi uski dusri iccha koi na koi taiyar ho jaati hai yah accha hai kabhi hamari zarurat ko lekar hoti hai toh kabhi hamare shauk ko pura karne ke liye bhi ho sakti hai par kabhi bhi hamari dimag kyon hai puri nahi hoti aur ek manushya ka behaviour natural hi aisa hota hai ki vaah kabhi kuch satisfy nahi hota apne granth sita se apni kranti live se to stability jo cheez se zyada important hai manushya ke liye vaah hone manav mein bahut zaroori hai aur jab ek insaan satisfy hona seekh jata hai apni friend situation se jitna ke haalaat hai usme adjust karna seekh leta hai is tarah ka manushya ki aage chalkar safal papa hai aur accha insaan ban sakta hai society mein

एक आम व्यवहारिक उन जो हर मानव में होता है वह है कामना और इच्छा की भावना व्यस्क मनुष्य की इ

Romanized Version
Likes  6  Dislikes    views  175
WhatsApp_icon
play
user

Akshansh Tripathy

Bachelor's of Mass Media

0:00

Likes  13  Dislikes    views  329
WhatsApp_icon
user

Kavita

Writer

1:53
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देख इसमें सब काज ओपिनियन है वह अलग अलग हो सकता है सबकी फॉर इंटरव्यूज अलग है क्योंकि सब में मानव की एक विचित्र चीज होती है जो सब कुछ करती है तुम मुझे जो सबसे अलग लगती है इसमें से एक ही मानव में कौन सी ऐसी चीज है जो सबसे दिलचस्प दिलचस्प है वह यह है कि मानव कितनी जल्दी से सिचुएशन के हिसाब से अपने आप को एडिट एडिट कर रही थी जो है क्षमता अपने अंदर आते हैं जैसे मैंने जब कोलकाता से मुंबई मुंह किया तो मुझे याद है मुझे बड़ी मुश्किल हो रही थी पहले की कोलकाता में जैसे लाइफ़स्टाइल है तो उस पैसे अडॉप्ट करना मुंबई की जो स्पेस है उससे अटैक करना यह दोनों चीजें जो बिल्कुल अलग है कोलकाता में लोग बहुत सुस्त होते हैं आलसी होते हैं बाद में करेंगे यह वाला एटीट्यूड होता है लेकिन मुंबई में चीजें अलग एग्जांपल मैप बिटवीन आंसर मेरा यही है कि मेरे को मानक में सबसे ज्यादा इंट्रस्टिंग चीज नहीं लगती कि वह कितनी जल्दी सिचुएशन के हिसाब से जो अपने आप को चेंज कर लेते हैं बात कर लेते हैं जिससे कि क्यों की थी कि आप गलत नहीं होंगे तो मुश्किल है आपके ऊपर ही आएंगे तो इसलिए आपको जो इस सिचुएशन के हिसाब से अपने आप को परखना है और अपने आपके अंदर ऐसी चीज लाने हैं ताकि आप इन 12 मिनट में अच्छे से घुल मिल सको तो यह यह जो है बड़ी दिलचस्प दिलचस्प चीज लगती है उनका शारीरिक भी चेंज जैसे किसी ने शहर में गए तो उसका सीजन वगैरह भी एडजस्ट हो जाता है तो हमारा शारीरिक क्षमता है और हमारे इमोशनल क्षमता है कि हम अपने मन से कैसे जुड़े चीजों को अपने लिए चेंज कर सकते हैं बड़ा बड़ा पावर है मन के अंदर अगर पूछे तो बड़ा पावर है

dekh isme sab kaaj opinion hai vaah alag alag ho sakta hai sabki for interviewers alag hai kyonki sab mein manav ki ek vichitra cheez hoti hai jo sab kuch karti hai tum mujhe jo sabse alag lagti hai isme se ek hi manav mein kaun si aisi cheez hai jo sabse dilchasp dilchasp hai vaah yah hai ki manav kitni jaldi se situation ke hisab se apne aap ko edit edit kar rahi thi jo hai kshamta apne andar aate hai jaise maine jab kolkata se mumbai mooh kiya toh mujhe yaad hai mujhe baadi mushkil ho rahi thi pehle ki kolkata mein jaise lifestyle hai toh us paise adopt karna mumbai ki jo space hai usse attack karna yah dono cheezen jo bilkul alag hai kolkata mein log bahut sust hote hai aalsi hote hai baad mein karenge yah vala attitude hota hai lekin mumbai mein cheezen alag example map between answer mera yahi hai ki mere ko maanak mein sabse zyada interesting cheez nahi lagti ki vaah kitni jaldi situation ke hisab se jo apne aap ko change kar lete hai baat kar lete hai jisse ki kyon ki thi ki aap galat nahi honge toh mushkil hai aapke upar hi aayenge toh isliye aapko jo is situation ke hisab se apne aap ko parakhana hai aur apne aapke andar aisi cheez lane hai taki aap in 12 minute mein acche se ghul mil Sako toh yah yah jo hai baadi dilchasp dilchasp cheez lagti hai unka sharirik bhi change jaise kisi ne shehar mein gaye toh uska season vagera bhi adjust ho jata hai toh hamara sharirik kshamta hai aur hamare emotional kshamta hai ki hum apne man se kaise jude chijon ko apne liye change kar sakte hai bada bada power hai man ke andar agar pooche toh bada power hai

देख इसमें सब काज ओपिनियन है वह अलग अलग हो सकता है सबकी फॉर इंटरव्यूज अलग है क्योंकि सब में

Romanized Version
Likes  10  Dislikes    views  195
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!