क्या कारण है कि मैं खुश नहीं रह सकता?...


user

आचार्य प्रशांत

IIT-IIM Alumnus, Ex Civil Services Officer, Mystic

0:20
Play

Likes  129  Dislikes    views  4822
WhatsApp_icon
30 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Suraj Shaw

Entrepreneur, Career Counsellor

1:07
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हेलो फ्रेंड क्या आप के खुश ना रहने का कारण सिर्फ और सिर्फ आप हैं सिर्फ आप पर डिपेंड करता है कि आप खुश रहिए नारे ना हो सकता है आपकी लाइफ में बहुत सारी प्रॉब्लम था लेकिन उसके बाद भी अब कुछ रह सकता इस सिर्फ आप पर डिपेंड करता है और सिंगिंग करना बंद कीजिए ज्यादा सोचना बंद कीजिए सब चले प्रॉब्लम होती है सब उसको पेश करते हैं उनसे निपटने और सारी प्रॉब्लम है एक न एक दिन खत्म हो जाती है तू खुश रखने के लिए आपको सिर्फ क्या करना है प्रॉब्लम्स के बारे में ज्यादा सोचना नहीं है उसे फाइट करते जाना है उस वक्त अगर आपको पैसे की प्रॉब्लम है तो वह लोग भी तो खुश है ना चौसला मेरी आज बहुत गरीब है हम और एक और प्रॉब्लम हो सकती है आपके एक्सपेक्टशंस अगर आपने बहुत ज्यादा एक्सपेक्टेशन रख रखे आप उम्मीद नहीं कर पा रहे हैं तो भी आप उदास रहेंगे खुश नहीं रहता है जो आप अगर डिलीट में ध्यान देंगे तो आप खुश रह सकता पर डिपेंड करता है कोई आपको खुश रख पाएगा अगर आपका कंट्रोल खुद पर ही नहीं है तो

hello friend kya aap ke khush na rehne ka karan sirf aur sirf aap hain sirf aap par depend karta hai ki aap khush rahiye nare na ho sakta hai aapki life mein bahut saree problem tha lekin uske baad bhi ab kuch reh sakta is sirf aap par depend karta hai aur singing karna band kijiye zyada sochna band kijiye sab chale problem hoti hai sab usko pesh karte hain unse nipatane aur saree problem hai ek na ek din khatam ho jaati hai tu khush rakhne ke liye aapko sirf kya karna hai problems ke bare mein zyada sochna nahi hai use fight karte jana hai us waqt agar aapko paise ki problem hai toh vaah log bhi toh khush hai na chausla meri aaj bahut garib hai hum aur ek aur problem ho sakti hai aapke eksapektashans agar aapne bahut zyada expectation rakh rakhe aap ummid nahi kar paa rahe hain toh bhi aap udaas rahenge khush nahi rehta hai jo aap agar delete mein dhyan denge toh aap khush reh sakta par depend karta hai koi aapko khush rakh payega agar aapka control khud par hi nahi hai toh

हेलो फ्रेंड क्या आप के खुश ना रहने का कारण सिर्फ और सिर्फ आप हैं सिर्फ आप पर डिपेंड करता ह

Romanized Version
Likes  73  Dislikes    views  834
WhatsApp_icon
user

Surendra Sharma

अध्यापन

0:10
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

दशनाम चिंता का उचित कारण समझे और उसे बाहर निकालने की कोशिश करें तो आप खुश रहने लगे हैं

dashnam chinta ka uchit karan samjhe aur use bahar nikalne ki koshish karen toh aap khush rehne lage hain

दशनाम चिंता का उचित कारण समझे और उसे बाहर निकालने की कोशिश करें तो आप खुश रहने लगे हैं

Romanized Version
Likes  5  Dislikes    views  162
WhatsApp_icon
user

Shipra Ranjan

Life Coach

1:19
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका सवाल है कि क्या कारण है कि मैं खुश नहीं रह सकता ऐसा नहीं है कि आप खुश रह नहीं सकते और खुशियां ढूंढ ही रहे हैं अपने आसपास की चीजों में परिस्थितियों में लोगों में अपनी खुशियों को ढूंढने छोटी-छोटी बातों में छोटी-छोटी खुशियों में शुरू करें आपका मन प्रसन्न रहना शुरू हो जाएगा जरूरत क्या है आपको सकारात्मक सोच रखने की हमारे आस पास बहुत सारी परिस्थितियों और लोग ऐसे होते हैं जो मैं नेगेटिव सोच लिए मजबूर कर देते हैं लेकिन उसमें भी आपको पोस्ट सिटीजन को ढूंढना है आपको सीखना है क्योंकि अगर आपको खुश रहना है आपको यह सब करना ही होगा और जब आप खुद खुश रहेंगे तभी आप दूसरों को खुशियां बांट पाएंगे ज्यादा जरूरी है खुद को सेटिस्फाइड रखने की आप संतुष्ट रहेंगे तभी आप खुश हो पाएंगे और को संतुष्ट कैसे रखें क्योंकि इंसान की तो प्रवृत्ति है हमेशा जो भी हमारे पास है उसको कम आंकने की और दूसरे के पास जो भी है उससे उसको पाने की तो इस चीज में आप क्या करें अपने सल्लू लेबल के लोगों को देखें जिनके पास में उतनी चीजे भी नहीं है जो आपके पास में है सुविधाएं भी नहीं है जो आपके पास में ऑलरेडी हैं सुशील यू आर ऑलरेडी ब्लेस्ड आपको पहले से ही इतना कुछ मिला हुआ है आप उसको सोच कर के उसको समझ कर के खुश रहना सीखें अजय दिन आपने छोटी-छोटी चीज़ों में खुशियां ढूंढने सीख लिया आप भी खुश रहना सीख लेंगे आपका दिन शुभ रहे धन्यवाद

aapka sawaal hai ki kya karan hai ki main khush nahi reh sakta aisa nahi hai ki aap khush reh nahi sakte aur khushiyan dhundh hi rahe hain apne aaspass ki chijon mein paristhitiyon mein logon mein apni khushiyon ko dhundhne choti choti baaton mein choti choti khushiyon mein shuru karen aapka man prasann rehna shuru ho jaega zaroorat kya hai aapko sakaratmak soch rakhne ki hamare aas paas bahut saree paristhitiyon aur log aise hote hain jo main Negative soch liye majboor kar dete hain lekin usmein bhi aapko post citizen ko dhundhana hai aapko sikhna hai kyonki agar aapko khush rehna hai aapko yah sab karna hi hoga aur jab aap khud khush rahenge tabhi aap dusron ko khushiyan baant payenge zyada zaroori hai khud ko setisfaid rakhne ki aap santusht rahenge tabhi aap khush ho payenge aur ko santusht kaise rakhen kyonki insaan ki toh pravritti hai hamesha jo bhi hamare paas hai usko kam ankane ki aur dusre ke paas jo bhi hai usse usko paane ki toh is cheez mein aap kya karen apne sallu lebal ke logon ko dekhen jinke paas mein utani chije bhi nahi hai jo aapke paas mein hai suvidhaen bhi nahi hai jo aapke paas mein already hain sushil you rss already blessed aapko pehle se hi itna kuch mila hua hai aap usko soch kar ke usko samajh kar ke khush rehna sikhe ajay din aapne choti choti cheezon mein khushiyan dhundhne seekh liya aap bhi khush rehna seekh lenge aapka din shubha rahe dhanyavad

आपका सवाल है कि क्या कारण है कि मैं खुश नहीं रह सकता ऐसा नहीं है कि आप खुश रह नहीं सकते और

Romanized Version
Likes  240  Dislikes    views  3435
WhatsApp_icon
user

Peyush Bhatia

Lifecoach | Relationship Coach

1:00
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

छोटी-छोटी बातों को दिल से लगा लेते हैं और घंटों उनके बारे में सोचते हैं तो हम कड़वाहट से भर जाते हैं और अंदर ही अंदर घुटने हैं जिससे हमारे स्वास्थ्य पर असर होता है कहीं मन नहीं लगता प्रॉब्लम कितनी भी बड़ी हो दुखी होने के बजाय सबक लेकर आगे बढ़ो और दुख को छोड़कर खुशी को एंजॉय करो कहते हैं ना जैसा तन वैसा मन तो स्वास्थ्य का ध्यान रखो नियमित व्यायाम करो अच्छा आहार लो ऐसा करने से भी मन खुश रहता है यह भी देखें कि आप के खुश ना रहने का कारण टाइम मैनेजमेंट भी हो सकता है अगर टाइम मैनेजमेंट सही ना हो तो भी इंसान खुश नहीं रहता तो इस बात पर भी ध्यान दें दूसरा अपने मित्रों के साथ आप टाइम कितना भी खाते हैं मित्र हमारे हम अपने आप चुनते हैं और दोस्त हर हाल में हमारा साथ देते हैं वह तो रातों को भी हंसा देते हैं इन सब को ट्राई करें आप खुश रह पाएंगे

choti choti baaton ko dil se laga lete hain aur ghanto unke bare mein sochte hain toh hum kadawahat se bhar jaate hain aur andar hi andar ghutne hain jisse hamare swasthya par asar hota hai kahin man nahi lagta problem kitni bhi badi ho dukhi hone ke bajay sabak lekar aage badho aur dukh ko chhodkar khushi ko enjoy karo kehte hain na jaisa tan waisa man toh swasthya ka dhyan rakho niyamit vyayam karo accha aahaar lo aisa karne se bhi man khush rehta hai yeh bhi dekhen ki aap ke khush na rehne ka kaaran time management bhi ho sakta hai agar time management sahi na ho toh bhi insaan khush nahi rehta toh is baat par bhi dhyan dein doosra apne mitron ke saath aap time kitna bhi khate hain mitra hamare hum apne aap chunate hain aur dost har haal mein hamara saath dete hain wah toh raatoon ko bhi hansa dete hain in sab ko try karein aap khush reh payenge

छोटी-छोटी बातों को दिल से लगा लेते हैं और घंटों उनके बारे में सोचते हैं तो हम कड़वाहट से भ

Romanized Version
Likes  10  Dislikes    views  344
WhatsApp_icon
user

Dr. Suman Aggarwal

Personal Development Coach

0:46
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हमारे जीवन में क्वेश्चंस का बहुत बड़ा स्थान होता है अपने आप को किसी भी काम में सफल या असफल बनाने के लिए जैसे आप अपने ही फैशन को अगर थोड़ा सा चेंज कर देंगे आपने पूछा क्या कारण है कि मैं खुश नहीं रह सकता अगर आप खुश नहीं रह सकते हो तो उसकी उसकी कारणों को ढूंढ कर अब क्या करोगी आप अपने सवाल को बदल कर देखो तुरंत आपका ही दिमाग आपको कुछ ना कुछ सही जवाब जरूर देगा आप अपने आप से गिफ्ट पूछो कि मैं कैसे खुश रह सकता हूं आज के दिन में खुश रहने के लिए मुझे क्या करना चाहिए तो देखो आपकी खुशी जिस चीज से आपको मिलती है उसके लिए आपका दिमाग अपने आप जवाब दूं कि आपके पास लड़का तो मैं आपसे विनती करती हूं कि आप हमेशा सही अपने आप से सवाल पूछे

hamare jeevan mein questions ka bahut bada sthan hota hai apne aap ko kisi bhi kaam mein safal ya asafal banane ke liye jaise aap apne hi fashion ko agar thoda sa change kar denge aapne puchha kya kaaran hai ki main khush nahi reh sakta agar aap khush nahi reh sakte ho toh uski uski karanon ko dhundh kar ab kya karogi aap apne sawal ko badal kar dekho turant aapka hi dimag aapko kuch na kuch sahi jawab zaroor dega aap apne aap se gift pucho ki main kaise khush reh sakta hoon aaj ke din mein khush rehne ke liye mujhe kya karna chahiye toh dekho aapki khushi jis cheez se aapko milti hai uske liye aapka dimag apne aap jawab doon ki aapke paas ladka toh main aapse vinati karti hoon ki aap hamesha sahi apne aap se sawal poochhe

हमारे जीवन में क्वेश्चंस का बहुत बड़ा स्थान होता है अपने आप को किसी भी काम में सफल या असफल

Romanized Version
Likes  9  Dislikes    views  318
WhatsApp_icon
user

Vipin Giri

Journalist

1:52
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

खुश रहने का कोई कारण नहीं है आपको खुद यह समझना होगा कि आप खुश कैसे रह सकते हैं क्योंकि आप अभी यह केवल कारण ढूंढने में लगे हुए हैं कि मैं कैसे खुश रह सकता हूं जब कोई व्यक्ति किसी परेशानी में भी होता है और वह व्यक्ति चाहता है कि मैं खुश रहूं देखिए जीवन में उतार-चढ़ाव आते रहते हैं सुख और दुख जो हैं यह भी आते रहते हैं सुख के बाद दुख आता है और दुख के बाद सुख आता है लेकिन कभी भी आदमी को ना कुछ नहीं रहना चाहिए हमेशा खुश रहना चाहिए एक उदाहरण के तौर पर आपको बताता हूं जहां भी आप रहते होंगे उसके आसपास में अगर आप रोजाना तो लोगों से मिलते हैं तो उसमें नब्बे पर्सेंट लोग जो है वह आपसे जुड़ना करते होंगे वह आपसे जलते होंगे और केवल 10% लोग ऐसे मिलेंगे आपको जो आपकी वास्तव में मदद करना चाहते हैं वास्तव में आप अगर आप दुखी हैं तो उनको लगता है तो आपकी हेल्प करेंगे आपको खुश रखने की कोशिश करेंगे योगदान आप कभी भी देखना नब्बे पर्सेंट लोग ऐसे मिलेंगे जो आपसे ने बताया पूछ लिया आपसे भाई क्यों उदास हो या क्या परेशानी है आपने बता दिया कि यह परेशानी आप से पूछ लेंगे और उस बात को अपने दोस्तों में और जगह-जगह उसको बता देंगे तो 10% ऐसे उनमें लोग हैं जो आप किसी को बात करेंगे बताएंगे तो वह आपके साथ रहेंगे चाहे सुख हो या दुख हो आपकी मदद करेंगे लेकिन नब्बे पर्सेंट लोग नहीं है यह उदाहरण है बहुत आप इसको आजमा कर देखिए गा

khush rehne ka koi karan nahi hai aapko khud yah samajhna hoga ki aap khush kaise reh sakte hain kyonki aap abhi yah keval karan dhundhne mein lage hue hain ki main kaise khush reh sakta hoon jab koi vyakti kisi pareshani mein bhi hota hai aur vaah vyakti chahta hai ki main khush rahun dekhiye jeevan mein utar chadhav aate rehte hain sukh aur dukh jo hain yah bhi aate rehte hain sukh ke baad dukh aata hai aur dukh ke baad sukh aata hai lekin kabhi bhi aadmi ko na kuch nahi rehna chahiye hamesha khush rehna chahiye ek udaharan ke taur par aapko batata hoon jahan bhi aap rehte honge uske aaspass mein agar aap rojana toh logon se milte hain toh usmein nabbe percent log jo hai vaah aapse judna karte honge vaah aapse jalate honge aur keval 10 log aise milenge aapko jo aapki vaastav mein madad karna chahte hain vaastav mein aap agar aap dukhi hain toh unko lagta hai toh aapki help karenge aapko khush rakhne ki koshish karenge yogdan aap kabhi bhi dekhna nabbe percent log aise milenge jo aapse ne bataya poochh liya aapse bhai kyon udaas ho ya kya pareshani hai aapne bata diya ki yah pareshani aap se poochh lenge aur us baat ko apne doston mein aur jagah jagah usko bata denge toh 10 aise unmen log hain jo aap kisi ko baat karenge batayenge toh vaah aapke saath rahenge chahen sukh ho ya dukh ho aapki madad karenge lekin nabbe percent log nahi hai yah udaharan hai bahut aap isko ajama kar dekhiye jaayega

खुश रहने का कोई कारण नहीं है आपको खुद यह समझना होगा कि आप खुश कैसे रह सकते हैं क्योंकि आप

Romanized Version
Likes  2  Dislikes    views  25
WhatsApp_icon
user

Anju Dube

Motivational Speaker

4:23
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

क्या कारण है कि मैं खुश नहीं रह सकता इसका जो एक मेन रीजन है क्या कोई भी इंसान खुश नहीं रह सकता है यह तो पॉसिबल नहीं कभी भी खुश नहीं रह सकता फिर भी दुखी आने का कारण होता है कि हम दूसरों से आशा लगाकर रखते हैं हमें खुद से ज्यादा दूसरों पर भरोसा होता है तब दुख होता है हमें दूसरों से आशा रहती है कि यह मेरी मां है यह मेरे पिता है मेरी पत्नी है मेरे बच्चा है यह मेरे साथ गलत नहीं कर सकते तब हमें दुख होता है तब हमें खुश रहने में दिक्कत आती अब हमने क्या किया ऐसे में ही अपनी खुशी को दूसरों पर निर्भर करती है पूरी तरीके से कि अगर वह मुझे अच्छा बोलेगा तो मैं खुश रहूंगा अच्छा नहीं बनेगा तो मैं तो फिर आऊंगा वह मेरे सब अच्छा करता है तो मैं खुश रहूंगा नहीं तो मैं नहीं रहूंगा मैं तो पूरी अपनी खुशियों के जवाब दो रहे हो किसी और के हाथ में थमा दी है किसी और को अपना सर्वे सर्वा आप ने मान लिया किसी को भी यह हक मत दीजिए कि वह जब चाहे आपको खुद कर सके और जब चाहे आपको दुखी कर सकें यह आजम खुशी है यह आपकी अपनी है इस पर आपका हक होना चाहिए अगर आपके जैसे आशा नहीं रखते हैं किसी और से कोई उम्मीद नहीं रखते हैं तो आपकी ज्यादातर जो दुख का कारण है वो खत्म हो जाएगा दूसरी बात कि आप खुश रहना चाहते हैं तो आपको खुश होने से किसने रोका है जो भी दुख है वह आपके मेमोरी में भेज देता है आपके पास में कुछ घटा होगा जिसको आप याद करते हैं और ज्ञात करके ही दुखी होते हैं बस करिए कि किसी ने आपको अभी गाली बकाया आपके साथ बुरा बर्ताव किया उसके बाद वह चला गया चला गया वह सारी स्थितियां फास्ट हो गई अगर हम अपने आपको इतने मजबूत कर लेते और इस तरीके से प्रोग्राम कर लेते हैं कि जो भी हुआ है वह अभी चुका है अब मैं कल उसके लिए रोता हूं थाने के पास आजा करके अपने मेमोरी को खंगाल रहा हूं और दुख होने का कारण खोज रहा हूं मुझे छोड़ दीजिए अभी प्रेजेंट टाइम क्या है प्रेजेंट टाइम में आपको मैं या कोई भी अगर प्रेजेंट टाइम में जीना सीख जाए तो आपके दुख का हंड्रेड परसेंट कारण खत्म हो जाएगा जो थोड़ा बहुत दुख लगता है वह फिर यह बचेगा क्या अगर आपको कोई फिजिकल कष्ट होता है तो वह दुख दर्द के रूप में आपको रह सकता है लेकिन मानसिक मानसिक दुख तभी होगा जब आप दुखी होना चाहेंगे जब चीजों को मिस करेंगे पुरानी बातों को याद करेंगे सिर्फ और सिर्फ एक मैसेज करें कि मैं अपने घर में अपने रूम में बैठी हूं मैं अभी अगर मुझे किसी ने याद दिला दे कर दी पास में जो कुछ बुरी घटना घटी हूं अभी मेरी आंखों से आंसू छलक जाएंगे लेकिन अगर अगर मैं बुद्धिमानी से सोचो तो मैं क्या कर रही हूं अपने कमरे में आराम से बैठी हूं सुख सुविधा के साथ कोई भी दिक्कत मुझे अभी कोई दुख नहीं मिल रहा है सिर्फ मेरे याददाश्त में दुखी तो अगर आप अपनी आदत से काम करें कोई भी ऐसी चीजें याद मत करें जिससे आपको दुख होता है और यह मैं अपने एक्सपीरियंस से कह रही हूं मैंने भी मैंने खुद ऐसी लाइन जी है जब मेरी 14 खुश होना एक नामुमकिन सी चीज हो चुकी थी लेकिन मैंने अपने ऊपर काम किया और यह मेरा एक्सपीरियंस इसलिए मैं आपको बता रही हूं कि यह बिल्कुल पॉसिबल है आप अभी प्रेजेंट लाइफ में अपने जिए और अपनी लाइफ को जितना हो सके उसे बेस्ट करने की कोशिश करिए गुनगुनाए गाना गाइए अकेले तो नाचे भी क्या दिक्कत है थोड़ा घूमने फिरने चाहिए कोशिश करिए कि बिजी रहे पास के बातों को याद ही ना करें बाहर जाए पास में हूं मैं दोस्तों से बात करें दोस्त नहीं है तो भी कोई दिक्कत नहीं है तो कुल मिलाकर के दुख या तो मेमोरी में होता है या दो आशा और उम्मीद में होता है दूसरों से आशा उम्मीद ना दूसरों के लिए जो अच्छा करना है आपको अच्छा लगता है तो बिल्कुल करिए अच्छा करियर दूसरों के साथ लेकिन उम्मीद के बिना अगर आप सच में अपना माता-पिता अपने परिवार को अपने बीवी बच्चों को प्यार करते हैं तो उनके लिए आप अब अच्छा करना चाहते तो बिल्कुल आपके ही आपका भेजा है लेकिन बिना मुझे चैन आता है

kya karan hai ki main khush nahi reh sakta iska jo ek main reason hai kya koi bhi insaan khush nahi reh sakta hai yah toh possible nahi kabhi bhi khush nahi reh sakta phir bhi dukhi aane ka karan hota hai ki hum dusron se asha lagakar rakhte hain hamein khud se zyada dusron par bharosa hota hai tab dukh hota hai hamein dusron se asha rehti hai ki yah meri maa hai yah mere pita hai meri patni hai mere baccha hai yah mere saath galat nahi kar sakte tab hamein dukh hota hai tab hamein khush rehne mein dikkat aati ab humne kya kiya aise mein hi apni khushi ko dusron par nirbhar karti hai puri tarike se ki agar vaah mujhe accha bolega toh main khush rahunga accha nahi banega toh main toh phir aaunga vaah mere sab accha karta hai toh main khush rahunga nahi toh main nahi rahunga main toh puri apni khushiyon ke jawab do rahe ho kisi aur ke hath mein thama di hai kisi aur ko apna survey sarva aap ne maan liya kisi ko bhi yah haq mat dijiye ki vaah jab chahen aapko khud kar sake aur jab chahen aapko dukhi kar sakein yah azam khushi hai yah aapki apni hai is par aapka haq hona chahiye agar aapke jaise asha nahi rakhte hain kisi aur se koi ummid nahi rakhte hain toh aapki jyadatar jo dukh ka karan hai vo khatam ho jaega dusri baat ki aap khush rehna chahte hain toh aapko khush hone se kisne roka hai jo bhi dukh hai vaah aapke memory mein bhej deta hai aapke paas mein kuch ghata hoga jisko aap yaad karte hain aur gyaat karke hi dukhi hote hain bus kariye ki kisi ne aapko abhi gaali bakaya aapke saath bura bartaav kiya uske baad vaah chala gaya chala gaya vaah saree sthitiyan fast ho gayi agar hum apne aapko itne mazboot kar lete aur is tarike se program kar lete hain ki jo bhi hua hai vaah abhi chuka hai ab main kal uske liye rota hoon thane ke paas aajad karke apne memory ko khangal raha hoon aur dukh hone ka karan khoj raha hoon mujhe chhod dijiye abhi present time kya hai present time mein aapko main ya koi bhi agar present time mein jeena seekh jaaye toh aapke dukh ka hundred percent karan khatam ho jaega jo thoda bahut dukh lagta hai vaah phir yah bachega kya agar aapko koi physical kasht hota hai toh vaah dukh dard ke roop mein aapko reh sakta hai lekin mansik mansik dukh tabhi hoga jab aap dukhi hona chahenge jab chijon ko miss karenge purani baaton ko yaad karenge sirf aur sirf ek massage karen ki main apne ghar mein apne room mein baithi hoon main abhi agar mujhe kisi ne yaad dila de kar di paas mein jo kuch buri ghatna ghati hoon abhi meri aakhon se aansu chhalak jaenge lekin agar agar main budhhimani se socho toh main kya kar rahi hoon apne kamre mein aaram se baithi hoon sukh suvidha ke saath koi bhi dikkat mujhe abhi koi dukh nahi mil raha hai sirf mere yadadasht mein dukhi toh agar aap apni aadat se kaam karen koi bhi aisi cheezen yaad mat karen jisse aapko dukh hota hai aur yah main apne experience se keh rahi hoon maine bhi maine khud aisi line ji hai jab meri 14 khush hona ek namumkin si cheez ho chuki thi lekin maine apne upar kaam kiya aur yah mera experience isliye main aapko bata rahi hoon ki yah bilkul possible hai aap abhi present life mein apne jiye aur apni life ko jitna ho sake use best karne ki koshish kariye gungunaye gaana gaiye akele toh nache bhi kya dikkat hai thoda ghoomne phirne chahiye koshish kariye ki busy rahe paas ke baaton ko yaad hi na karen bahar jaaye paas mein hoon main doston se baat karen dost nahi hai toh bhi koi dikkat nahi hai toh kul milakar ke dukh ya toh memory mein hota hai ya do asha aur ummid mein hota hai dusron se asha ummid na dusron ke liye jo accha karna hai aapko accha lagta hai toh bilkul kariye accha career dusron ke saath lekin ummid ke bina agar aap sach mein apna mata pita apne parivar ko apne biwi bacchon ko pyar karte hain toh unke liye aap ab accha karna chahte toh bilkul aapke hi aapka bheja hai lekin bina mujhe chain aata hai

क्या कारण है कि मैं खुश नहीं रह सकता इसका जो एक मेन रीजन है क्या कोई भी इंसान खुश नहीं रह

Romanized Version
Likes  18  Dislikes    views  1374
WhatsApp_icon
user

S. K. Bhardwaj

Mental Health Professional (Psychologist & Psychotherapist)

5:56
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

दोस्त तुम्हारा प्रश्न है क्या कारण है कि मैं खुश नहीं रह सकता प्रश्न है तुम्हारा मैच में थोड़े से बदलाव चाहूंगा खुश नहीं रह सकता भविष्य की बात कर रहे हो शायद तुम क्या जो भी है हम अपनी सोच के वजह से अपना भविष्य बदल सकते हैं अगर तुम जैसे कहना चाह रहे हो कि मैं खुश नहीं रह पा रहा हूं तो अपनी प्रॉब्लम का सलूशन के पार का एक बार चला दोबारा देखना कहीं ऐसा तो नहीं है कि तुम दुखी हो दर्शन तुमको कोई प्रॉब्लम है जैसे वह प्रॉब्लम जाएगी हो सकता है तुम खुश रहने लग जाओ मान लो तुम - 4 पर हो मैक्स बेटा दोस्तों में भी पढ़ी होगी मैक्स का एक रूल है कि कोई अगर - 4 पर है तो बैलेमाइनस 3:00 पर आएगा फिर - 2 पर आएगा पर - बंद पर आएगा फिर जीरो पर आएगा एक टाइम पीरियड में है ना बोलो पर आएगा उसके बाद कहीं जाकर प्लस 1 प्लस 2 प्लस 3 प्लस 4 आएगा मैथ का सैंपल रूनेलाइट पर भी लागू होता है सुख-दुख पर भी लागू होता है अगर खुशियां पानी है तो पहले दुखी हो ना छोड़ना पड़ेगा कहीं ऐसा तो नहीं है कि तुम दुखी हो तुम प्रॉब्लम में हो इस वजह से तुम खुश नहीं रह पा रहे हो अगर वह प्रॉब्लम खत्म कर दी जाए तुम कम से कम सुनने पर नहीं तो प्लस वन पर तो आ जाओगे खुश है तो कोई भी खुश रह सकता है 90% से ज्यादा दिक्कत है तो सिर्फ हमारी सोच की वजह से अगर कहीं पर तुम्हारी सोच में तुमको लगता है परिवर्तन की जरूरत है सोच बहुत मायने रखती है दोस्त सोच के लिए पानी भी सुनाता हूं मैं तुम्हें एक पांचवी क्लास के बच्चों का रेस का प्रोग्राम था तो ध्यान से सुनना और मैं उम्मीद करता हूं तो मैं इसमें सलूशन जरूर मिलेगा पांचवी क्लास के बच्चों की ड्रेस जब हो रही थी सीटी बजी 50 बच्चे थे सिटी बस ते 50 के 50 में दौड़ना शुरू कर दिया क्योंकि एनुअल फंक्शन था वहां पर उनके मदर फादर में बैठे हुए थे बहुत सारे बच्चों के पेरेंट्स लेटे हुए थे सब ने उन बच्चों को चेहरा करना भी शुरू कर दिया सब कुछ अच्छा चल रहा था शुरुआत के और सबको पता था कि फर्स्ट सेकंड थर्ड कोई ना मिलना है बाकी पड़ी सावन को कुछ नहीं मिलने वाला सबको दिमाग में पहले से ही पता था सबने दौड़ना शुरू किया पहले दूसरे तीसरे नंबर पर जो बच्चे थे वह खुश है उनके मदर फादर बहुत अच्छे तरीके तरीके से चेक कर रहे थे उनको लास्ट के जो 5950 थे उन बच्चों ने तो मान ही लिया था आदि देश के बाद अब मैं जीत ही नहीं सकता उन्हें दिख गया था उन्हें पता लग गया था उन्होंने मान लिया था उनके पैरेंट्स उनका बिचारा उतर चुका था पांचवें नंबर पर आई हुई बच्ची जिस को पता ही नाम नहीं मिलना है तो गुस्से में तो आ ही गई थी क्योंकि प्रेक्टिस अच्छी की थी गुस्से में थी पर पटक तू भी अपने पापा के पास आए और कि मैं तो हार गई पवन विचारों का परिवर्तन करना अच्छा समझा और उन्होंने कहा वे अरे तुम तो जीते हुए बेटी बड़ी परेशान करीब आता ऐसे कैसे मैं जीती मैं हारी तुम फादर ने कहा कि अच्छा यह बताओ आपका कौन सा नंबर था तो उसने कहा फिर तो पूछा गया तुम्हारे पीछे कितने लोग थे तो कैलकुलेट कर दे उसको पांचवी क्लास की बच्ची ने बड़े प्यार से बताया कि अगर पांचवा नंबर मेरा था तो पार्टी पास मेरे पीछे थे तो फादर ने उसको बताया बेटा आप उन सर्टिफाइड में फर्स्ट आई हो आपकी तो एक पार्टी बनती है आपको तो टॉफी चॉकलेट है आप को आइसक्रीम बनती है बेटी को थोड़ा-थोड़ा समझ में आया पर थोड़ा-थोड़ा नहीं आया फिर भी उसने पूछा पापा पर मेरे आगे भी तो 4 लोग थे मेरे आगे भी तो 4 लोग थे वह तो जीते हैं तो फादर ने का नहीं बेटा आज हमारा कंपटीशन हमसे नहीं था पर आज मुझे यह पता है कि जब आप पार्टी पाइप पर आ चुके हो ना अब आप और ज्यादा प्रैक्टिस करोगे और ज्यादा अच्छी तरह से कोशिश करोगे अगली बार ना आप पार्टी पाइप से पट्टी अपना थर्ड नंबर पर आओगे फिर एक दिन आप सेकंड नंबर पर आओगे फिर लोडिंग देना फर्स्ट नंबर पर आओगे आतंकी पापा तो समझदार थे कि उन्होंने कहा बिल्कुल बेटा ऐसा ही होता है कभी भी कोई अचानक पसका से ट्वेल्थ क्लास में गया है क्या बिल्कुल नहीं पसंद ठाट पुट्स शिक्षा में 10 - 4 - 3 - 2 - 1 12345 खुशियों को ना पानी का एक तरीका है कुछ देना पड़ता है जब भी आप किसी को कुछ दोगी ना तो इंटरनल हैप्पीनेस आपको पि लोगी सच्चिदानंद जिसको कहते हैं सब बिल्कुल प्योर एक इमोशन है एक खास तरह की चीज है खास तरह का एहसास है जिसको जितना दिमाग में बसारी केमिकल चेंजेज भी होता है आप किसी की हेल्प करना शुरू करो आप लोगों को खुशियां देना शुरू करो खुशियां 10 गुना मायने में आपके पास दौड़ दौड़ के आएंगे पक्की गारंटी मेरी तरफ से ऐसा मत कहो ऐसा बिल्कुल मत सोचना कि तुम खुश नहीं रह सकते हो कोई भी खुश रह सकता है थोड़ी सोच बदल कर थोड़े काम बदल के करो हेल्प लोगों की बातों खुशियां वापस मैं तुम्हारे पास ही आएंगे वह ढूंढ लेंगे तुमको बिंदास ढूंढ लेंगे तुमको तुम्हारे घर का ही दरवाजा खटखटा एंगे पर हां पहले बात की तो आओ खुशियां तुम्हारे पास है इस उम्मीद के साथ यूनिवर्सल दोस्त का सलाम

dost tumhara prashna hai kya kaaran hai ki main khush nahi reh sakta prashna hai tumhara match mein thode se badlav chahunga khush nahi reh sakta bhavishya ki baat kar rahe ho shayad tum kya jo bhi hai hum apni soch ke wajah se apna bhavishya badal sakte hain agar tum jaise kehna chah rahe ho ki main khush nahi reh pa raha hoon toh apni problem ka salution ke par ka ek baar chala dobara dekhna kahin aisa toh nahi hai ki tum dukhi ho darshan tumko koi problem hai jaise wah problem jayegi ho sakta hai tum khush rehne lag jao maan lo tum - 4 par ho max beta doston mein bhi padhi hogi max ka ek rule hai ki koi agar - 4 par hai toh bailemainas 3:00 par aaega phir - 2 par aaega par - band par aaega phir zero par aaega ek time period mein hai na bolo par aaega uske baad kahin jaakar plus 1 plus 2 plus 3 plus 4 aaega math ka sample runelait par bhi laagu hota hai sukh dukh par bhi laagu hota hai agar khushiyan pani hai toh pehle dukhi ho na chhodna padega kahin aisa toh nahi hai ki tum dukhi ho tum problem mein ho is wajah se tum khush nahi reh pa rahe ho agar wah problem khatam kar di jaye tum kam se kam sunane par nahi toh plus van par toh aa jaoge khush hai toh koi bhi khush reh sakta hai 90% se zyada dikkat hai toh sirf hamari soch ki wajah se agar kahin par tumhari soch mein tumko lagta hai parivartan ki zaroorat hai soch bahut maayne rakhti hai dost soch ke liye pani bhi sunata hoon main tumhe ek paanchvi class ke bacchon ka race ka program tha toh dhyan se sunana aur main ummid karta hoon toh main ismein salution zaroor milega paanchvi class ke bacchon ki dress jab ho rahi thi city baji 50 bacche the city bus te 50 ke 50 mein daudana shuru kar diya kyonki annual function tha wahan par unke mother father mein baithe hue the bahut saare bacchon ke parents lete hue the sab ne un bacchon ko chehra karna bhi shuru kar diya sab kuch accha chal raha tha shuruaat ke aur sabko pata tha ki first second third koi na milna hai baki padi sawan ko kuch nahi milne vala sabko dimag mein pehle se hi pata tha sabane daudana shuru kiya pehle dusre teesre number par jo bacche the wah khush hai unke mother father bahut acche tarike tarike se check kar rahe the unko last ke jo 5950 the un bacchon ne toh maan hi liya tha aadi desh ke baad ab main jeet hi nahi sakta unhein dikh gaya tha unhein pata lag gaya tha unhone maan liya tha unke parents unka bichara utar chuka tha panchwe number par I hui bacchi jis ko pata hi naam nahi milna hai toh gusse mein toh aa hi gayi thi kyonki practice acchi ki thi gusse mein thi par patak tu bhi apne papa ke paas aaye aur ki main toh haar gayi pawan vicharon ka parivartan karna accha samjha aur unhone kaha ve arre tum toh jeete hue beti badi pareshan kareeb aata aise kaise main jeeti main haari tum father ne kaha ki accha yeh batao aapka kaun sa number tha toh usne kaha phir toh puchha gaya tumhare peeche kitne log the toh calculate kar de usko paanchvi class ki bacchi ne bade pyar se bataya ki agar panchava number mera tha toh party paas mere peeche the toh father ne usko bataya beta aap un Certified mein first I ho aapki toh ek party banti hai aapko toh toffee chocolate hai aap ko icecream banti hai beti ko thoda thoda samajh mein aaya par thoda thoda nahi aaya phir bhi usne puchha papa par mere aage bhi toh 4 log the mere aage bhi toh 4 log the wah toh jeete hain toh father ne ka nahi beta aaj hamara competition humse nahi tha par aaj mujhe yeh pata hai ki jab aap party pipe par aa chuke ho na ab aap aur zyada practice karoge aur zyada acchi tarah se koshish karoge agli baar na aap party pipe se patti apna third number par aaoge phir ek din aap second number par aaoge phir loading dena first number par aaoge aatanki papa toh samajhdar the ki unhone kaha bilkul beta aisa hi hota hai kabhi bhi koi achanak pasaka se twelfth class mein gaya hai kya bilkul nahi pasand thaat puts shiksha mein 10 - 4 - 3 - 2 - 1 12345 khushiyon ko na pani ka ek tarika hai kuch dena padta hai jab bhi aap kisi ko kuch dogi na toh internal Happiness aapko pi logi sacchidanand jisko kehte hain sab bilkul pure ek emotion hai ek khas tarah ki cheez hai khas tarah ka ehsaas hai jisko jitna dimag mein basari chemical changes bhi hota hai aap kisi ki help karna shuru karo aap logon ko khushiyan dena shuru karo khushiyan 10 guna maayne mein aapke paas daudh daudh ke aayenge pakki guarantee meri taraf se aisa mat kaho aisa bilkul mat sochna ki tum khush nahi reh sakte ho koi bhi khush reh sakta hai thodi soch badal kar thode kaam badal ke karo help logon ki baaton khushiyan wapas main tumhare paas hi aayenge wah dhundh lenge tumko bindas dhundh lenge tumko tumhare ghar ka hi darwaja khatkhata enge par haan pehle baat ki toh aao khushiyan tumhare paas hai is ummid ke saath universal dost ka salaam

दोस्त तुम्हारा प्रश्न है क्या कारण है कि मैं खुश नहीं रह सकता प्रश्न है तुम्हारा मैच में

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  79
WhatsApp_icon
user

Medha Gupta

Clinical Psychologist

1:36
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

इसके बहुत सारे लोग हो सकते हैं जैसे कि कई लोगों के जीवन में जैसे हो सकता है कि आपके काम में या कि वो क्या इसमें हो सकता है कुछ ऐसी समस्या चल रही हो जिनके बारे में आपको ही उसका निष्कर्ष निकाल पा रहे हैं कोई रसीद नहीं निकाल पा रहे हैं ऐसी स्थिति में हम अक्सर एक दुआ करते हैं कि अब हम क्या करें कि जो सलूशन हमारा मन हमको देता है हम अक्सर उसको फॉलो नहीं कर पाते क्योंकि हम या तो डर महसूस करते हैं झिझक महसूस करते हैं हमारा पहले का जो एक्सपीरियंस रहा होता है वह कहता है कि यह शायद मेरे बस की बात नहीं होगी तो रीजन जो भी है अगर खुश रहने का वह हर व्यक्ति व्यक्ति पर निर्भर करती दो व्यक्ति दिखाएं खुश रहने का एक बहुत ही कम क्रिएटिव होता है जैसे कि हो सकता है आपकी फैमिली हिस्ट्री में डिप्रेशन जी आप किसी तरीके की कोई मानसिक समस्या चल रही है वातावरण कैसा पैदा हो जाता है जिसको समस्या के पीछे जा सकते हैं अब जाकर किसी प्रोफेशनल सकते हैं या बात कर सकते हैं आप अपने परिवार से बात कर सकते हैं हो सकता है आपको इस बारे में कुछ जानकारी

iske bahut saare log ho sakte hain jaise ki kai logon ke jeevan mein jaise ho sakta hai ki aapke kaam mein ya ki vo kya ismein ho sakta hai kuch aisi samasya chal rahi ho jinke bare mein aapko hi uska nishkarsh nikaal pa rahe hain koi rasid nahi nikaal pa rahe hain aisi sthiti mein hum aksar ek dua karte hain ki ab hum kya karein ki jo salution hamara man hamko deta hai hum aksar usko follow nahi kar paate kyonki hum ya toh dar mahsus karte hain jhijhak mahsus karte hain hamara pehle ka jo experience raha hota hai wah kahata hai ki yeh shayad mere bus ki baat nahi hogi toh reason jo bhi hai agar khush rehne ka wah har vyakti vyakti par nirbhar karti do vyakti dikhaen khush rehne ka ek bahut hi kam creative hota hai jaise ki ho sakta hai aapki family history mein depression ji aap kisi tarike ki koi mansik samasya chal rahi hai vatavaran kaisa paida ho jata hai jisko samasya ke peeche ja sakte hain ab jaakar kisi professional sakte hain ya baat kar sakte hain aap apne parivar se baat kar sakte hain ho sakta hai aapko is bare mein kuch jankari

इसके बहुत सारे लोग हो सकते हैं जैसे कि कई लोगों के जीवन में जैसे हो सकता है कि आपके काम मे

Romanized Version
Likes  23  Dislikes    views  399
WhatsApp_icon
user

Akash Kustwar

National Karate Instructor

1:06
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

विकी व्यक्ति खुद कारण होता है ना कि वह कुछ नहीं है क्यों मैं कुछ काम बिगड़ जाता घबरा गया कुछ किसी ने गलत बोल दिया तो घबरा गया शाम नगर बड़ी प्रॉब्लम आ गई तो व्यक्ति खबर आ गया काम बिगड़ता तो घबरा गया किसी को मार दिया गलती से तो घबरा गया कुछ भी छोटी-मोटी बात हो जाती है तो व्यक्ति खबर है तो व्यक्ति सोचता ज्यादा है अच्छी बातों को कम गलत बात हो ज्यादा नेगेटिविटी मन में ज्यादा लाता है व्यक्ति दूसरों के बारे में ना सोचो कोई आपके बारे में क्या सोच रहा है ना सोच है ना आप अपने आप में खुश रहें कोई कैसी भी सिचुएशन आ जाए आपको इस्माइल लेने का जो है 2 सेकंड 3 सेकंड खर्च करना होगा बस उस समय ऐसी भी सिचुएशन आ जाए बस एक बार भेज दीजिए उसे ट्यूशन पर डेफिनेटली आप खुश रहोगे ज्यादा मत सोचो आप धन्यवाद

vicky vyakti khud karan hota hai na ki vaah kuch nahi hai kyon main kuch kaam bigad jata ghabara gaya kuch kisi ne galat bol diya toh ghabara gaya shaam nagar badi problem aa gayi toh vyakti khabar aa gaya kaam bigadta toh ghabara gaya kisi ko maar diya galti se toh ghabara gaya kuch bhi choti moti baat ho jaati hai toh vyakti khabar hai toh vyakti sochta zyada hai achi baaton ko kam galat baat ho zyada negativity man mein zyada lata hai vyakti dusron ke bare mein na socho koi aapke bare mein kya soch raha hai na soch hai na aap apne aap mein khush rahein koi kaisi bhi situation aa jaaye aapko ismail lene ka jo hai 2 second 3 second kharch karna hoga bus us samay aisi bhi situation aa jaaye bus ek baar bhej dijiye use tuition par definetli aap khush rahoge zyada mat socho aap dhanyavad

विकी व्यक्ति खुद कारण होता है ना कि वह कुछ नहीं है क्यों मैं कुछ काम बिगड़ जाता घबरा गया क

Romanized Version
Likes  75  Dislikes    views  1494
WhatsApp_icon
user

Daulat Ram Sharma Shastri

Psychologist | Ex-Senior Teacher

2:30
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

खुश होना और दुखी रहना यह दोनों मंकी भाग है जैसा आप सोचेंगे जैसे आप भी रखेंगे उसी प्रकार से आप उस खुशी और दुख दोनों अनुभव होंगे यदि आप नेगेटिव फ्यूक इंसान हैं तो हर वक्त दूसरों से झुलसी रखेंगे विचार रखेंगे मीणा के भाव रखेंगे सुपरहिट कांप्लेक्स पा लेंगे परिणाम स्वरुप आप जीवन भर दुखी रहेंगे और दूसरों की खुशी में भी आप खुश रहती हैं इसका मतलब पॉजिटिव में सहायता के बहाव में सकारात्मक सोच रखते हैं आप दूसरों के गुणों से देखकर प्रसन्न होते हैं दूसरों की उनकी देकर प्रसन्न होते हैं इस खुशी सुख और दुख के मन के बाद आपका खुद का व्यवहार डिपेंड करता है कि आप ऐसा व्यवहार रखते हैं आप अपने व्यवहार से सभी को मित्र बना सकते हैं मिलनसार ता के व्यवहार से सब व्यवहार से शिवा के भाग से सहायता के भाग से तो आपको हर खेल खुशी महसूस होगी और यदि दूसरों के हिसाब से देखोगे ना के बाप से देखोगी उनसे जलन रखोगे रखोगे तो पूरे जीवन भर दुखी दुख है इसलिए ना कोई किसी का स्थाई रूप से मित्रता ना कोई किसी का स्थाई रूप से दुश्मन होता है आपका अपना व्यवहार ही लोगों को आपका मित्र बना देता है अलवर बनाता है अन्य ही बना देता है और आपका अपना व्यवहार ही दूसरों लोगों को दुश्मन बना देता है और आपकी मन की खुशी छीन लेता है आपकी परेशानियों का कारण बनता है हमेशा प्रसन्न रहो गॉड इज मेकिंग ऑल बिस्कुट इस बात को हमेशा ध्यान रखो ईश्वर जो कुछ भी करता है उसमें हमेशा तुम्हारा ही तोता है तुम्हारा सुख नहीं होता है उसकी रजा में ही हमारी रजा है और चाय पीच राखे राम ताहि विधि रहिए का सिद्धांत डालोगे तो जीवन भर खुशी खुश रहना है

khush hona aur dukhi rehna yeh dono monkey bhag hai jaisa aap sochenge jaise aap bhi rakhenge usi prakar se aap us khushi aur dukh dono anubhav honge yadi aap Negative fyuk insaan hain toh har waqt dusron se jhulsi rakhenge vichar rakhenge meena ke bhav rakhenge superhit complex pa lenge parinam swarup aap jeevan bhar dukhi rahenge aur dusron ki khushi mein bhi aap khush rehti hain iska matlab positive mein sahaayata ke bahav mein sakaratmak soch rakhte hain aap dusron ke gunon se dekhkar prasann hote hain dusron ki unki dekar prasann hote hain is khushi sukh aur dukh ke man ke baad aapka khud ka vyavahar depend karta hai ki aap aisa vyavahar rakhte hain aap apne vyavahar se sabhi ko mitra bana sakte hain milansaar ta ke vyavahar se sab vyavahar se shiva ke bhag se sahaayata ke bhag se toh aapko har khel khushi mahsus hogi aur yadi dusron ke hisab se dekhoge na ke baap se dekhogi unse jalan rakhoge rakhoge toh poore jeevan bhar dukhi dukh hai isliye na koi kisi ka sthai roop se mitrata na koi kisi ka sthai roop se dushman hota hai aapka apna vyavahar hi logon ko aapka mitra bana deta hai alwar banata hai anya hi bana deta hai aur aapka apna vyavahar hi dusron logon ko dushman bana deta hai aur aapki man ki khushi chin leta hai aapki pareshaaniyon ka kaaran banta hai hamesha prasann raho god is making all biscuit is baat ko hamesha dhyan rakho ishwar jo kuch bhi karta hai usmein hamesha tumhara hi tota hai tumhara sukh nahi hota hai uski raza mein hi hamari raza hai aur chai peach rakhe ram Tahi vidhi rahiye ka siddhant daloge toh jeevan bhar khushi khush rehna hai

खुश होना और दुखी रहना यह दोनों मंकी भाग है जैसा आप सोचेंगे जैसे आप भी रखेंगे उसी प्रकार से

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  26
WhatsApp_icon
user

Porshia Chawla Ban

Psychologist

3:04
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

क्या कारण है कि मैं खुश नहीं रह सकता देखे आपको जगह डिक्लेयर कर रहे हैं क्या आप खुश नहीं रह सकते हैं तो फिर वजह भी आप ही के पास होगी क्योंकि खुशी जो है वह बहुत ही व्यक्तिगत आपका एक्सप्रेशन है कैसे कि कितना खुश क्या खुश वह आप खुद डिसाइड करते हैं जैसे हर इंसान के लिए खुशी की डेफिनेशन अलग होती है उसका पैरामीटर डिफरेंट होता है तो आपको यह चेक करना चाहिए कि आपने कौन से पैरामीटर सेट किए हैं या आपके हिसाब से खुशी की जो डेफिनेशन है वह क्या है क्योंकि बहुत बार प्रॉब्लम तो है वह हमारी डेफिनेशन में परिभाषा में ही होती है दूसरे मान लीजिए किसी ने यह सोचा कि अगर मेरे साथ यही प्लान आफ लाना चीज हो जाएगी मुझे यह चीज मिल जाएगी तो ही मैं खुश रहूंगा तो जब तक वह नहीं मिलेगी उसको तब तक वह दुखी रह गया नहीं क्या परेशान रहेगा या इस आस में रहेगा कि किसी दिन तो वह चीज मिलेगी मुझे यह मोह मोह लोगों में तब पूछूंगा तो इससे व्यक्तिगत अनुभव है उसके पास ऐसे ही आप देखें कि इस केस में भी जो खुशी है उसको जोड़ा गया बाहर की चीजों से जो हमारे अंदर से नहीं है कनेक्टेड बाहर से ज्ञानी मटेरियल चीजों से कनेक्टेड है और हमारे आसपास की चीजों से लोगों से कनेक्टेड है इस केस में क्या हुआ कि खुशी जो है वह दूसरे पर निर्भर हो गई यानी जब वह मेरे मन मुताबिक चीजें वैसे जो मैंने पैरामीटर सेट किया है जो मैंने यहां पर डेफिनेशन डेफिनेशन बनाई है वह डेफिनेशन के कोडिंग में जो चीजें होंगी तो फिर मुझे खुशी मिलेगी या तब मैं खुश होऊंगा तो अब इसके ठीक उलट हम देखें तो असल में खुशी क्या है असल में खुशी है कि आप व्यक्तिगत अनुभव कैसा कर रहे हैं और वह व्यक्तिगत अनुभव आएगा कहां से आएगा आपके विचारों से या फिर आप हर चीज को देखकर सासरे खुशी कई बार एक बहते हुए झरने से भी मिल सकती है और फूलों की खुशबू से मिल सकती है किसी के साथ हंसने मुस्कुराने से समय बिताने से भी मिल सकती है तो खुशी के पैरामीटर्स आपने कहीं गलत सेट तो नहीं किए हैं कहीं आप गलत जगह तो खुशी नहीं ढूंढ रहे हैं तो आपको यह कुछ चेक करना है कि जो अंदर से आने वाला अनुभव है अंदर से आने वाली चीज है वह किस तरह से और कब मैंने बाहर के लोगों और बाहर की घटनाओं के ऊपर पूरी तरह से उनका संस्थापन कर दिया है तो आपने यह चेक करना चाहिए और फिर आप जान पाएंगे कि कारण कहीं ना कहीं आपके जो थिंकिंग हॉटस्पॉट के पाटन में ही तो नहीं है कहीं कारण छुपा हुआ अगर ऐसा है उसको फिर खोजिए निकालिए और उसके ऊपर आप कंटेंप्लेट कीजिए कि कौन कौन से ऐसे आपके विचार हैं मुल्ले हैं जिनको बदलाव की जरूरत है तो उन्हें बस लाकर खुशी का अनुभव कर सकते हैं धन्यवाद

kya karan hai ki main khush nahi reh sakta dekhe aapko jagah declare kar rahe hain kya aap khush nahi reh sakte hain toh phir wajah bhi aap hi ke paas hogi kyonki khushi jo hai vaah bahut hi vyaktigat aapka expression hai kaise ki kitna khush kya khush vaah aap khud decide karte hain jaise har insaan ke liye khushi ki definition alag hoti hai uska parameter different hota hai toh aapko yah check karna chahiye ki aapne kaun se parameter set kiye hain ya aapke hisab se khushi ki jo definition hai vaah kya hai kyonki bahut baar problem toh hai vaah hamari definition mein paribhasha mein hi hoti hai dusre maan lijiye kisi ne yah socha ki agar mere saath yahi plan of lana cheez ho jayegi mujhe yah cheez mil jayegi toh hi main khush rahunga toh jab tak vaah nahi milegi usko tab tak vaah dukhi reh gaya nahi kya pareshan rahega ya is aas mein rahega ki kisi din toh vaah cheez milegi mujhe yah moh moh logon mein tab poochhoonga toh isse vyaktigat anubhav hai uske paas aise hi aap dekhen ki is case mein bhi jo khushi hai usko joda gaya bahar ki chijon se jo hamare andar se nahi hai connected bahar se gyani material chijon se connected hai aur hamare aaspass ki chijon se logon se connected hai is case mein kya hua ki khushi jo hai vaah dusre par nirbhar ho gayi yani jab vaah mere man mutabik cheezen waise jo maine parameter set kiya hai jo maine yahan par definition definition banai hai vaah definition ke coding mein jo cheezen hongi toh phir mujhe khushi milegi ya tab main khush hounga toh ab iske theek ulat hum dekhen toh asal mein khushi kya hai asal mein khushi hai ki aap vyaktigat anubhav kaisa kar rahe hain aur vaah vyaktigat anubhav aayega kahaan se aayega aapke vicharon se ya phir aap har cheez ko dekhkar sasre khushi kai baar ek bahte hue jharane se bhi mil sakti hai aur fulo ki khushboo se mil sakti hai kisi ke saath hansane muskurane se samay bitane se bhi mil sakti hai toh khushi ke parameters aapne kahin galat set toh nahi kiye hain kahin aap galat jagah toh khushi nahi dhundh rahe hain toh aapko yah kuch check karna hai ki jo andar se aane vala anubhav hai andar se aane waali cheez hai vaah kis tarah se aur kab maine bahar ke logon aur bahar ki ghatnaon ke upar puri tarah se unka sansthapan kar diya hai toh aapne yah check karna chahiye aur phir aap jaan payenge ki karan kahin na kahin aapke jo thinking hotspot ke patan mein hi toh nahi hai kahin karan chhupa hua agar aisa hai usko phir khojiye nikaliye aur uske upar aap contemplate kijiye ki kaun kaun se aise aapke vichar hain mulle hain jinako badlav ki zaroorat hai toh unhe bus lakar khushi ka anubhav kar sakte hain dhanyavad

क्या कारण है कि मैं खुश नहीं रह सकता देखे आपको जगह डिक्लेयर कर रहे हैं क्या आप खुश नहीं रह

Romanized Version
Likes  43  Dislikes    views  2818
WhatsApp_icon
user

महेश दुबे

कवि साहित्यकार

0:31
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

खुश रहने के लिए आत्मिक प्रसन्नता की आवश्यकता है हम सोचते हैं कि भौतिक पदार्थों से हमें खुशी मिल जाएगी यह बात बिल्कुल गलत है जब तक कोई चीज हमें नहीं मिलती हम उसी के सपने देखते हैं लेकिन जैसे ही वह वस्तु हमें प्राप्त हो जाती है हमारा मन उसकी तरफ से उचट कर किसी दूसरी वस्तु की कल्पना करने लगता है इसीलिए आप जैसे हैं जहां हैं अगर उसी परिस्थिति में खुश रहना सीख लें तो खुशी हमेशा आपके पास रहेगा

khush rehne ke liye atmik prasannata ki avashyakta hai hum sochte hain ki bhautik padarthon se hamein khushi mil jayegi yah baat bilkul galat hai jab tak koi cheez hamein nahi milti hum usi ke sapne dekhte hain lekin jaise hi vaah vastu hamein prapt ho jaati hai hamara man uski taraf se uchat kar kisi dusri vastu ki kalpana karne lagta hai isliye aap jaise hain jahan hain agar usi paristhiti mein khush rehna seekh lein toh khushi hamesha aapke paas rahega

खुश रहने के लिए आत्मिक प्रसन्नता की आवश्यकता है हम सोचते हैं कि भौतिक पदार्थों से हमें खुश

Romanized Version
Likes  12  Dislikes    views  1248
WhatsApp_icon
user

Dr. Bushra Rais

Child Psychologist

0:32
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

खुश ना होने के पीछे बहुत सारे कॉलेज होते हैं अगर आपको पता है तो 4 घंटे बाद

khush na hone ke peeche bahut saare college hote hain agar aapko pata hai toh 4 ghante baad

खुश ना होने के पीछे बहुत सारे कॉलेज होते हैं अगर आपको पता है तो 4 घंटे बाद

Romanized Version
Likes  20  Dislikes    views  243
WhatsApp_icon
user

Dr. Alpana Rastogi

Psychologist

0:29
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हम लोग खुश इसलिए नहीं है क्योंकि हमने अपने जीवन को बहुत जटिल बना लिया है और हम उस जटिलता में करें कभी-कभी लोगों की देखा देखी उलझ जाते हैं या कभी-कभी अपनी इच्छाओं की वजह से उलझ जाते हैं और साधारण रूप से रहने का प्रयास नहीं करते इसलिए हम प्रसन्न नहीं

hum log khush isliye nahi hai kyonki humne apne jeevan ko bahut jatil bana liya hai aur hum us jatilata mein karen kabhi kabhi logon ki dekha dekhi ulajh jaate hain ya kabhi kabhi apni ikchao ki wajah se ulajh jaate hain aur sadhaaran roop se rehne ka prayas nahi karte isliye hum prasann nahi

हम लोग खुश इसलिए नहीं है क्योंकि हमने अपने जीवन को बहुत जटिल बना लिया है और हम उस जटिलता म

Romanized Version
Likes  15  Dislikes    views  224
WhatsApp_icon
user

Umesh Upaadyay

Life Coach | Motivational Speaker

3:54
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए आप खुशी जब तक हम अपने से बाहर ढूंढ लेंगे अपने से बाहर लोगों से ढूंढ लेंगे वस्तुओं से ढूंढ लेंगे तब तक हमें हमेशा खुशी नहीं मिलेगी हमें हमेशा दुख ही मिलेगा जब तक हम एक्सपेक्टेशन बनाते रहेंगे और ऐसे बनाएंगे कि वह अगर फुलफिल ना हो वह मीत ना हो तो हमें दुख ही मिलेगा अगर हमारा मानसिक का व्यवस्था जो हमारी अंदरूनी स्थिति है वह इस तरीके से हमने बना रखी है और जहां पर सुख की जगह नहीं है वापस हमेशा निराशा रहती है दुखी रहता है तो वहां पर सुख कैसे प्रवेश कर सकता है सुख के लिए हमें अपने से बाहर नहीं ढूंढने की जरूरत नहीं है सुख तो हमारे भीतर ही हम अगर कुछ और चीज की कामना ना करें हम अगर कुछ एक्सपेक्टेशन से ऐसी ना रखें हम अगर कुछ पाना चाहे और वह हमको ना मिले तू हमारे अंदर क्या होता है हम अपने आप को कैसे मैनेज करते हैं अगर यह हमें आ जाए तो सुख ही सुख है अगर हम अपने आप पर काबू करना सीख जाए आगे हमें हमारी इंद्रियों पर काबू करना आ जाए अगर हमारे हमें हमारे छत पर इमोशन पर थोड़ा भी कंट्रोल करना आ जाए तो हम हमेशा खुश रह सकते हैं हमें खुशी मिल सकती हैं और यह बाहर नहीं मिलती बाहर से नहीं मिलेगी बाहर से हमेशा आपको निराशा ही मिलेगी आप जहां पर है जैसे हैं अगर आप अपने आप को मैनेज कर लेते हैं इंटरनली तो जहां पर भी हैं आप जिस किसी भी अवस्था में है आप दुख का एहसास नहीं करेंगे अगर आपको बहुत खुशी नहीं हो रही तो कम से कम आप को ग्राम भी नहीं होगा इट इज ऑल अबाउट हाउ डू यू मैनेज योर सेल्फ मोबाइल विद हो जाते हैं जब हम अपने आप को कंपेयर करते हैं किसी और बेटी से अपनी पोजिशन गोदान प्यार करते हैं किसी और इंसान से अपनी सोसाइटी से समाज से ऑफिस में स्कूल में कॉलेज में इधर उधर तो हम देखते हैं कि उसमें क्या बात है और उसके आप के कारण आम दुखी हो जाते हैं औरों के पास यह है मेरे पास यह नहीं है उसको देखकर हम दुखी हो जाते हैं परेशान हो जाते हैं मेरी लाइफ ऐसी नहीं चली या मैं ज्यादा कुछ नहीं कर पाया और आज मैं यहां पर हूं उसको देख कर हम दुखी हो जाते हैं उसके पास यह है वह है मेरे पास कुछ भी नहीं है हम दुखी हो जाते हैं तो बहुत सारे कारण होते हैं अलग-अलग लोगों के अलग-अलग कारण होते हैं और वह दुखी हो जाते हैं कई बार ऐसा भी होता है कि वह 1:15 ₹20000 महीने कमाने वाला इंसान अपने दो बच्चों के परिवार के साथ बहुत खुश रहता है उसके बाद भले ही सारी चीजें ना हो तो सुविधा के साधन ना हो लेकिन वह खुश रहता है सुखी रहता है वहीं पर एक इंसान जो महीने के पास लाख 1000000 कमा रहा है दुखी है वह बड़ी सी गाड़ी में तो जा रहा है लेकिन हमेशा चिंता में है हमेशा तनाव में परिवार के साथ समय नहीं उतार पा रहा तो क्या वह वह वह अच्छी बात है वह बिल्कुल अच्छी बात नहीं है भाई सोचने की बात है हम हमेशा हमेशा सोचते हैं कि वह घर वह गाड़ी वह बंगला आई नो वह जगह वह खाना वह कपड़ा हमें सुख से देगा लेकिन कपड़ा और खाना और घर मकान गाड़ी इस समय में सुख नहीं देती वह सारी सहायक होती हमें और अच्छा जीवन जीने में लेकिन सुख तो हम कैसा अनुभूति करते हैं अपने अंदर उस से मिलता है हमको सोच कर देखिए भले ही मेरे बाहर की परिस्थिति जो भी हो मैं अपने अंदर की स्थिति को कैसे बनाता हूं वह मुझे सुख प्रदान करता है वह मुझे संतोषजनक अवस्था में रखता है तो मुझे अच्छा लगता है मुझे आनंद आता है तेरे से

dekhiye aap khushi jab tak hum apne se bahar dhundh lenge apne se bahar logon se dhundh lenge vastuon se dhundh lenge tab tak hamein hamesha khushi nahi milegi hamein hamesha dukh hi milega jab tak hum expectation banate rahenge aur aise banayenge ki vaah agar fulfil na ho vaah meet na ho toh hamein dukh hi milega agar hamara mansik ka vyavastha jo hamari andaruni sthiti hai vaah is tarike se humne bana rakhi hai aur jahan par sukh ki jagah nahi hai wapas hamesha nirasha rehti hai dukhi rehta hai toh wahan par sukh kaise pravesh kar sakta hai sukh ke liye hamein apne se bahar nahi dhundhne ki zaroorat nahi hai sukh toh hamare bheetar hi hum agar kuch aur cheez ki kaamna na karen hum agar kuch expectation se aisi na rakhen hum agar kuch paana chahen aur vaah hamko na mile tu hamare andar kya hota hai hum apne aap ko kaise manage karte hain agar yah hamein aa jaaye toh sukh hi sukh hai agar hum apne aap par kabu karna seekh jaaye aage hamein hamari indriyon par kabu karna aa jaaye agar hamare hamein hamare chhat par emotion par thoda bhi control karna aa jaaye toh hum hamesha khush reh sakte hain hamein khushi mil sakti hain aur yah bahar nahi milti bahar se nahi milegi bahar se hamesha aapko nirasha hi milegi aap jahan par hai jaise hain agar aap apne aap ko manage kar lete hain intaranali toh jahan par bhi hain aap jis kisi bhi avastha mein hai aap dukh ka ehsaas nahi karenge agar aapko bahut khushi nahi ho rahi toh kam se kam aap ko gram bhi nahi hoga it is all about how do you manage your self mobile with ho jaate hain jab hum apne aap ko compare karte hain kisi aur beti se apni position Godan pyar karte hain kisi aur insaan se apni society se samaaj se office mein school mein college mein idhar udhar toh hum dekhte hain ki usmein kya baat hai aur uske aap ke karan aam dukhi ho jaate hain auron ke paas yah hai mere paas yah nahi hai usko dekhkar hum dukhi ho jaate hain pareshan ho jaate hain meri life aisi nahi chali ya main zyada kuch nahi kar paya aur aaj main yahan par hoon usko dekh kar hum dukhi ho jaate hain uske paas yah hai vaah hai mere paas kuch bhi nahi hai hum dukhi ho jaate hain toh bahut saare karan hote hain alag alag logon ke alag alag karan hote hain aur vaah dukhi ho jaate hain kai baar aisa bhi hota hai ki vaah 1 15 Rs mahine kamane vala insaan apne do bacchon ke parivar ke saath bahut khush rehta hai uske baad bhale hi saree cheezen na ho toh suvidha ke sadhan na ho lekin vaah khush rehta hai sukhi rehta hai wahin par ek insaan jo mahine ke paas lakh 1000000 kama raha hai dukhi hai vaah badi si gaadi mein toh ja raha hai lekin hamesha chinta mein hai hamesha tanaav mein parivar ke saath samay nahi utar paa raha toh kya vaah vaah vaah achi baat hai vaah bilkul achi baat nahi hai bhai sochne ki baat hai hum hamesha hamesha sochte hain ki vaah ghar vaah gaadi vaah bangala I no vaah jagah vaah khana vaah kapda hamein sukh se dega lekin kapda aur khana aur ghar makan gaadi is samay mein sukh nahi deti vaah saree sahaayak hoti hamein aur accha jeevan jeene mein lekin sukh toh hum kaisa anubhuti karte hain apne andar us se milta hai hamko soch kar dekhiye bhale hi mere bahar ki paristhiti jo bhi ho main apne andar ki sthiti ko kaise banata hoon vaah mujhe sukh pradan karta hai vaah mujhe santoshjanak avastha mein rakhta hai toh mujhe accha lagta hai mujhe anand aata hai tere se

देखिए आप खुशी जब तक हम अपने से बाहर ढूंढ लेंगे अपने से बाहर लोगों से ढूंढ लेंगे वस्तुओं से

Romanized Version
Likes  553  Dislikes    views  7283
WhatsApp_icon
user

Yogesh Verma

Psychotherapist

0:42
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

यह दलित का पार्ट है हमारा और हमारी प्रेम को ऐसी कंडीशन किया गया है जो बचपन से ही देख कर आए हमें लगता है कि आप आर्ट डेको तू बचपन से हमारी सोसाइटी हमारे माता-पिता या हमारा सिस्टम हमको फीयर एंकल फिट करता है उसके बारे में बताते हैं वह प्रिज्म के बारे में बताते बताते हैं बाद में जाकर आती बिलीव्स और प्रोग्राम बनाते हैं और वह लौट चुकी हो आपके आने की लाइफ में आता था यह दशा है लोग धरना धरना का मतलब नहीं है वह

yah dalit ka part hai hamara aur hamari prem ko aisi condition kiya gaya hai jo bachpan se hi dekh kar aaye hamein lagta hai ki aap art deco tu bachpan se hamari society hamare mata pita ya hamara system hamko fear enkal fit karta hai uske bare mein batatey hain vaah prism ke bare mein batatey batatey hain baad mein jaakar aati believes aur program banate hain aur vaah lot chuki ho aapke aane ki life mein aata tha yah dasha hai log dharna dharna ka matlab nahi hai vaah

यह दलित का पार्ट है हमारा और हमारी प्रेम को ऐसी कंडीशन किया गया है जो बचपन से ही देख कर आए

Romanized Version
Likes  15  Dislikes    views  386
WhatsApp_icon
user

Purba

Ex Army officer Psychological Counsellor

2:30
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

एक बूढ़ा आदमी के हटने के अलग-अलग एक क्वेश्चन है अलग-अलग पोषण और उसकी क्या आप ने सबसे पहले हमें यह समझना चाहिए क्या क्या हमने अपनी खुशी दूसरे के हाथ में दे दी है लेकिन अभी तक मैं आपको जानती हूं मुझे आपसे कुछ उम्मीदें बन जाती है कि ठीक है और आप मेरे बारे में कुछ आते-आते रखो हम क्या क्या क्वेश्चन से बड़ी उम्र में हमसे कम पर किन-किन के होते हैं हम उसे चाहते हमारी जाती है पान में खाते हैं छोटा बच्चा को 1 घंटे बाद शाम सुल्तान के कुछ ना होने का कारण अलग अलग है लेकिन इसका एक ही सदन में आपको पक्का यह बता सकती मैं भी इंसान हूं लेकिन मैंने यह सीखा जिंदगी से मैंने उम्मीद ए करनी छोड़ दी नगर कर्नाटक एग्जाम को लेकर चले या किसी भी मारती सिद्धांत एग्जाम पर लेकर 14 फीट चौड़ी थी अगर मेरी बात में अगर मुझे पता है कि मैं कितना किस इंसान से उम्मीद करती है अगर हम हरदा के कि मैंने किया था यह भी करे तो हमें वहां से ज्यादा गहरे आघात पहुंचते हमें छोटे पहुंचे इसलिए आप कर ही नहीं करते मैंने देख लिया तो वह तो आपसे मुझे एक तब जाकर वह केमिकल इक्वेशन बराबर उधर पर एक जिंदगी है एक बराबर नहीं होता कभी किसी को मुकम्मल जहां नहीं मिलता कभी जमीं तो कभी आसमां ने जो मिला है उसे खुश रहिए और उसी में ही देखे कि मेरे पास है मैं संतुष्ट हूं बताइए कि उसके पास मेरे से ज्यादा है तो मैं क्यों खुश ना रहूं तुम से तुलना करने लग जाते हैं कंपनी की सबसे ज्यादा आघाट होता है अनहैप्पी होता है पर आप अपने आपको अपने आपको बना ले कि मेरे पास जो है मैं तुमसे बहुत याद आती है तो आप करोड़ों मिनट

ek budha aadmi ke hatane ke alag alag ek question hai alag alag poshan aur uski kya aap ne sabse pehle hamein yah samajhna chahiye kya kya humne apni khushi dusre ke hath mein de di hai lekin abhi tak main aapko jaanti hoon mujhe aapse kuch ummeeden ban jaati hai ki theek hai aur aap mere bare mein kuch aate aate rakho hum kya kya question se badi umr mein humse kam par kin kin ke hote hain hum use chahte hamari jaati hai pan mein khate hain chota baccha ko 1 ghante baad shaam sultan ke kuch na hone ka karan alag alag hai lekin iska ek hi sadan mein aapko pakka yah bata sakti main bhi insaan hoon lekin maine yah seekha zindagi se maine ummid a karni chhod di nagar karnataka exam ko lekar chale ya kisi bhi marti siddhant exam par lekar 14 feet chaudi thi agar meri baat mein agar mujhe pata hai ki main kitna kis insaan se ummid karti hai agar hum harda ke ki maine kiya tha yah bhi kare toh hamein wahan se zyada gehre aaghat pahunchate hamein chhote pahuche isliye aap kar hi nahi karte maine dekh liya toh vaah toh aapse mujhe ek tab jaakar vaah chemical equation barabar udhar par ek zindagi hai ek barabar nahi hota kabhi kisi ko mukammal jahan nahi milta kabhi jamin toh kabhi asaman ne jo mila hai use khush rahiye aur usi mein hi dekhe ki mere paas hai main santusht hoon bataiye ki uske paas mere se zyada hai toh main kyon khush na rahun tum se tulna karne lag jaate hain company ki sabse zyada aghat hota hai anahaippi hota hai par aap apne aapko apne aapko bana le ki mere paas jo hai main tumse bahut yaad aati hai toh aap karodo minute

एक बूढ़ा आदमी के हटने के अलग-अलग एक क्वेश्चन है अलग-अलग पोषण और उसकी क्या आप ने सबसे पहले

Romanized Version
Likes  18  Dislikes    views  288
WhatsApp_icon
user

Vedachary Pathak Singrauli

सनातन सुरक्षा परिषद् संस्थापक

1:48
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हेलो दोस्त नमस्कार देखी आपने पूछा है क्या कारण है कि मैं खुश नहीं रह सकता मतलब आप खुश नहीं रह पाते खुश ना रहने का मतलब यही है कि आपके अंदर बहुत सारी जग जाता है बहुत सारी आशाएं और बहुत सारे डिमांड होंगे जो कि आपके लाइफ में आपके समस्त बहुत इंपॉर्टेंट होंगे और वह डिमांड पूरी नहीं हो पा रहे हैं और आप उसको पाने के लिए प्रयास कर रहे हैं और आप सफल नहीं हो पा रहे हैं विक्की जब ऐसा सिचुएशन होता है तो पराया ऐसा कुछ करना चाहिए कि हमें समझदारी से काम लेना चाहिए और कई चीजों को इग्नोर करके जो लाइफ में ज्यादा से ज्यादा इंपॉर्टेंट हो उन चीजों को महत्व देना चाहिए और सारी चीजों को इतना ज्यादा महत्व नहीं देना चाहिए बल्कि कम करना चाहिए दूसरी चीज हो सकती हैं आप कहीं कर्ज में डूबे हो हो सकता है कि कोई व्याधियों हो सकता है कोई बीमारी हो सकता है कोई पारिवारिक कला हो हो सकता है आपका कुछ मानसिक कमजोरी कहीं न कहीं आपके अंदर होगी इन चीजों को आप श्रम सर्वे करेंगे कि आपको यह कमी आकाश रही है कुछ ना रहने का कारण क्या है बजा आपको ढूंढना है और उन वजह पर मन का प्रयोग करके समझदारी का प्रयोग करके आप स्वयं उस को हल करना चाहेंगे वह हल हो जाएगा धन्यवाद

hello dost namaskar dekhi aapne poocha hai kya karan hai ki main khush nahi reh sakta matlab aap khush nahi reh paate khush na rehne ka matlab yahi hai ki aapke andar bahut saree jag jata hai bahut saree ashaen aur bahut saare demand honge jo ki aapke life mein aapke samast bahut important honge aur vaah demand puri nahi ho paa rahe hain aur aap usko paane ke liye prayas kar rahe hain aur aap safal nahi ho paa rahe hain vicky jab aisa situation hota hai toh paraaya aisa kuch karna chahiye ki hamein samajhdari se kaam lena chahiye aur kai chijon ko ignore karke jo life mein zyada se zyada important ho un chijon ko mahatva dena chahiye aur saree chijon ko itna zyada mahatva nahi dena chahiye balki kam karna chahiye dusri cheez ho sakti hain aap kahin karj mein doobe ho ho sakta hai ki koi vyadhiyon ho sakta hai koi bimari ho sakta hai koi parivarik kala ho ho sakta hai aapka kuch mansik kamzori kahin na kahin aapke andar hogi in chijon ko aap shram survey karenge ki aapko yah kami akash rahi hai kuch na rehne ka karan kya hai baja aapko dhundhana hai aur un wajah par man ka prayog karke samajhdari ka prayog karke aap swayam us ko hal karna chahenge vaah hal ho jaega dhanyavad

हेलो दोस्त नमस्कार देखी आपने पूछा है क्या कारण है कि मैं खुश नहीं रह सकता मतलब आप खुश नहीं

Romanized Version
Likes  28  Dislikes    views  547
WhatsApp_icon
user
1:28
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका सवाल है क्या कारण है कि मैं खुश नहीं रह सकता कोई भी कारण नहीं है आप अगर चाहे तो जरूर खुश रह सकते हो सिर्फ आप कोई काम करना है हर छोटी बड़ी चीज में खुशियां तलाक नहीं है चाहे किसी भी तरीके की कंडीशन क्यों ना हो कोई ना कोई उस कंडीशन में खुशी शॉपिंग होते हैं खुशी हम खुद चला सकते हैं तो जरूर में खुशी मिलेगी सबसे बड़ी बात होती है कि हमें दूसरे से अपनी खुशी के लिए उम्मीद नहीं करनी चाहिए कि वह ऐसा कर देता तो मैं खुश होता है वह ऐसा कर देती तो मैं खुश हो जाता या उन्होंने ऐसा नहीं किया इसलिए मैं खुश नहीं हूं तो सबसे बड़ी बात मैं आपको बता दूं कि आप खुशी किसी दूसरे के अंदर ढूंढने की कोशिश ना करें खुशी इंटरनल होती है और वह खुद अपने आप से आती है सामने वाला व्यक्ति कभी आप को खुश नहीं कर सकता वक्त आप भी बिल्कुल किसी भी व्यक्ति से अपने आप को खुश करने की उम्मीद न रखें खुद से ही खुशियां तलाश करने की कोशिश करें खुशियां जरूर मिलेंगे धन्यवाद इसके अलावा भी अगर आपको कुछ पूछना है तो आप डायरेक्ट मैसेज कर सकते हैं धन्यवाद

aapka sawaal hai kya karan hai ki main khush nahi reh sakta koi bhi karan nahi hai aap agar chahen toh zaroor khush reh sakte ho sirf aap koi kaam karna hai har choti badi cheez mein khushiyan talak nahi hai chahen kisi bhi tarike ki condition kyon na ho koi na koi us condition mein khushi shopping hote hain khushi hum khud chala sakte hain toh zaroor mein khushi milegi sabse badi baat hoti hai ki hamein dusre se apni khushi ke liye ummid nahi karni chahiye ki vaah aisa kar deta toh main khush hota hai vaah aisa kar deti toh main khush ho jata ya unhone aisa nahi kiya isliye main khush nahi hoon toh sabse badi baat main aapko bata doon ki aap khushi kisi dusre ke andar dhundhne ki koshish na karen khushi internal hoti hai aur vaah khud apne aap se aati hai saamne vala vyakti kabhi aap ko khush nahi kar sakta waqt aap bhi bilkul kisi bhi vyakti se apne aap ko khush karne ki ummid na rakhen khud se hi khushiyan talash karne ki koshish karen khushiyan zaroor milenge dhanyavad iske alava bhi agar aapko kuch poochna hai toh aap direct massage kar sakte hain dhanyavad

आपका सवाल है क्या कारण है कि मैं खुश नहीं रह सकता कोई भी कारण नहीं है आप अगर चाहे तो जरूर

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  144
WhatsApp_icon
user

Dr.Nisha Joshi

Psychologist

0:45
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

क्या कारण है कि मैं खुश नहीं रह सकता बहुत सिचुएशन हो सकती है आप जिम्मेदार इंसान हो चुके हो या तो फिर आप जिम्मेदारी नहीं निभा सकते हो इसलिए बात सही सोचते होंगे ओके आप हार चुके हो गए क्या कुछ नहीं कर सकता ऐसा कमाना नहीं चाहिए तो फिर आंसर मिल रहा है क्या करें

kya karan hai ki main khush nahi reh sakta bahut situation ho sakti hai aap zimmedar insaan ho chuke ho ya toh phir aap zimmedari nahi nibha sakte ho isliye baat sahi sochte honge ok aap haar chuke ho gaye kya kuch nahi kar sakta aisa kamana nahi chahiye toh phir answer mil raha hai kya karen

क्या कारण है कि मैं खुश नहीं रह सकता बहुत सिचुएशन हो सकती है आप जिम्मेदार इंसान हो चुके हो

Romanized Version
Likes  371  Dislikes    views  4316
WhatsApp_icon
user
0:10
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

तकलीफ और चिंताओं को छोड़ें और दूसरों की भलाई में जुटे आप हमेशा प्रसन्न रहेंगे

takleef aur chintaon ko choodey aur dusron ki bhalai mein jute aap hamesha prasann rahenge

तकलीफ और चिंताओं को छोड़ें और दूसरों की भलाई में जुटे आप हमेशा प्रसन्न रहेंगे

Romanized Version
Likes  66  Dislikes    views  1005
WhatsApp_icon
user

Vikas Singh

Political Analyst

2:49
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आप का सवाल है कि क्या कारण है कि मैं खुश नहीं रह सकता अरे भैया क्या हो गया क्या खुश नहीं रह सकते मनुष्य का जीवन दोबारा मिलेगा आपको खुश रहने के लिए अरे यार एक ही बार मिलता है मनुष्य का जीवन और मनुष्य होना बड़े सौभाग्य की बात है तो इसको आप खुशी से जीने की कोशिश करिए क्यों पुरानी बातों में उलझे पड़े हैं आप उलझे रहेंगे तो वही दुख दर्द देगा पुरानी बातें तो खुश रहने की कोशिश करिए जब आप खुश रहेंगे तो हो सकता है कि आपके माता-पिता भी खुश रहे हैं आपका समाज खुश रहे सभी लोग खुश रहें जब आप दुखी रहेंगे 75 कलर का ग्राफ चेहरा बनाएंगे दुख दुख से दुखी होने का अगर आप स्वभाव प्रस्तुत करेंगे तो ऑटोमेटिक आपके अंदर दुख आ जाएगा आज नाग पंचमी पंचमी है आज आप फोन करिए कि हमको आज से दुखी नहीं रहना है किसी भी स्थिति में किसी भी परिस्थिति में हम को खुश रखना है जब आप खुश रहेंगे तो हो सकता है कि आप बहुत सारे लोगों को खुश रह सके रख सकते तो खुश रहना पड़ेगा यार जो देखे जो होनी है वह होना होना ही है उसे कोई रोक नहीं सकता है आज क्या होने वाला है 1 घंटे बाद मुझे भी नहीं पता है आपको भी नहीं पता है तो जो होना है वह होगा जो अच्छा होना है अच्छा होगा जो बुरा होना है बुरा होगा लेकिन हम लोगों को अपने दायरे को मेंटेन करके रखना चाहिए कभी भी किसी भी स्थिति में किसी भी परिस्थिति में आप खुश रहने की कोशिश करिए जब आप खुश रहेंगे तो बड़ी बड़ी चुनौतियों का सामना आसानी से कर लेंगे तो अगर आप दुखी ही रहेंगे पहले से और थोड़ा सा और दुख आ गया तो क्या उसका सामना कर पाएंगे आपकी आपकी समस्या और बढ़ जाएगी तो समझ क्या को बढ़ाइए मत मैं आपसे निवेदन करता हूं आप यह कसम खा लीजिए प्राण कर लीजिए कि मैं खुश रहूंगा और पूरे समाज को खुश रखूंगा और हमेशा अच्छी बातें करूंगा गलत बात का हमेशा विरोध करूंगा और हमेशा मेरे फेस पर स्माइल होगी अंदर से भी मैं हमेशा खुश रहूंगा पसंद में रहूंगा तो आप ऐसा संकल्प करी आपकी पूरी समस्या का हल हो जाएगा और आप खुश रह सकते हैं आप खुश क्यों नहीं रह सकते हैं यही दिमाग में हमारे क्वेश्चन आ जाता है कि क्या मैं कभी खुश नहीं रह सकता आपके दिमाग में पहले से ही बहुत सारी समस्याओं का भंडार पड़ा हुआ तो उसको आप निकालिए आप अपने पूरे दिमाग को आज खाली कर दीजिए पूरा निकाल कर फेंक दीजिए पुरानी बातें और नए सिरे से अपने जीवन को जीने का जीना स्टार्ट करिए जब आप ऐसा करेंगे तभी आप खुश रह सकते हैं और समाज को भी खुश धन्यवाद

aap ka sawaal hai ki kya karan hai ki main khush nahi reh sakta arre bhaiya kya ho gaya kya khush nahi reh sakte manushya ka jeevan dobara milega aapko khush rehne ke liye arre yaar ek hi baar milta hai manushya ka jeevan aur manushya hona bade saubhagya ki baat hai toh isko aap khushi se jeene ki koshish kariye kyon purani baaton mein ulajhe pade hain aap ulajhe rahenge toh wahi dukh dard dega purani batein toh khush rehne ki koshish kariye jab aap khush rahenge toh ho sakta hai ki aapke mata pita bhi khush rahe hain aapka samaaj khush rahe sabhi log khush rahein jab aap dukhi rahenge 75 color ka graph chehra banayenge dukh dukh se dukhi hone ka agar aap swabhav prastut karenge toh Automatic aapke andar dukh aa jaega aaj nag panchami panchami hai aaj aap phone kariye ki hamko aaj se dukhi nahi rehna hai kisi bhi sthiti mein kisi bhi paristhiti mein hum ko khush rakhna hai jab aap khush rahenge toh ho sakta hai ki aap bahut saare logon ko khush reh sake rakh sakte toh khush rehna padega yaar jo dekhe jo honi hai vaah hona hona hi hai use koi rok nahi sakta hai aaj kya hone vala hai 1 ghante baad mujhe bhi nahi pata hai aapko bhi nahi pata hai toh jo hona hai vaah hoga jo accha hona hai accha hoga jo bura hona hai bura hoga lekin hum logon ko apne daayre ko maintain karke rakhna chahiye kabhi bhi kisi bhi sthiti mein kisi bhi paristhiti mein aap khush rehne ki koshish kariye jab aap khush rahenge toh badi badi chunautiyon ka samana aasani se kar lenge toh agar aap dukhi hi rahenge pehle se aur thoda sa aur dukh aa gaya toh kya uska samana kar payenge aapki aapki samasya aur badh jayegi toh samajh kya ko badhaiye mat main aapse nivedan karta hoon aap yah kasam kha lijiye praan kar lijiye ki main khush rahunga aur poore samaaj ko khush rakhunga aur hamesha achi batein karunga galat baat ka hamesha virodh karunga aur hamesha mere face par smile hogi andar se bhi main hamesha khush rahunga pasand mein rahunga toh aap aisa sankalp kari aapki puri samasya ka hal ho jaega aur aap khush reh sakte hain aap khush kyon nahi reh sakte hain yahi dimag mein hamare question aa jata hai ki kya main kabhi khush nahi reh sakta aapke dimag mein pehle se hi bahut saree samasyaon ka bhandar pada hua toh usko aap nikaliye aap apne poore dimag ko aaj khaali kar dijiye pura nikaal kar fenk dijiye purani batein aur naye sire se apne jeevan ko jeene ka jeena start kariye jab aap aisa karenge tabhi aap khush reh sakte hain aur samaaj ko bhi khush dhanyavad

आप का सवाल है कि क्या कारण है कि मैं खुश नहीं रह सकता अरे भैया क्या हो गया क्या खुश नहीं र

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  
WhatsApp_icon
user

Dr Tarun Nigam

Psycratist

1:33
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हमारी लाइफ में आते हैं हम लोग भी होते हैं जो हमारे लाइफ में जो हमारे को हेल्प करने के लिए लोग होते वह हम कम कर लेते हैं और आजकल के जमाने में जो है उसके पास कनेक्ट नहीं करता लोगों से अपने मोबाइल से गया जिसमें ज्यादा कनेक्टेड अटेस्टेशन फॉर्म लाइट में हादसे से आती है तो रिलेशनशिप्स नहीं मिलते उसमें सिर्फ एक को फास्ट पेट में पानी का पाठ नहीं कर सकते स्वामी का प्लीज जल्दी बन जाएगा चलती हो जाता है

hamari life mein aate hain hum log bhi hote hain jo hamare life mein jo hamare ko help karne ke liye log hote vaah hum kam kar lete hain aur aajkal ke jamaane mein jo hai uske paas connect nahi karta logon se apne mobile se gaya jisme zyada connected attestation form light mein haadse se aati hai toh relationships nahi milte usmein sirf ek ko fast pet mein paani ka path nahi kar sakte swami ka please jaldi ban jaega chalti ho jata hai

हमारी लाइफ में आते हैं हम लोग भी होते हैं जो हमारे लाइफ में जो हमारे को हेल्प करने के लिए

Romanized Version
Likes  21  Dislikes    views  325
WhatsApp_icon
user

Dr. Guddy Kumari

UPSC Coach / Ph.d

1:43
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

क्या कारण है कि मैं खुश नहीं रह सकता यह आप ने प्रश्न किया कि क्या कारण है कि आप खुश नहीं रख सकते तो ऐसी के प्रश्न से ऐसा लग रहा है कि आप खुद ही उलझे हुए आपको खुद पता नहीं है कि आप क्या कर सकते क्या खुश रहे तो मैं ही कहूंगी अब खुद पर विश्वास करें आप जो भी काम करते हैं पूरे विश्वास के साथ कीजिए यह मत सोचिए कि क्या पता आप यह करेंगे तो गलत होगा या सही होगा इस तरह के ख्याल तो हटा अरे गलती भी कीजिए तो जम के कीजिए और सही भी कीजिए तो कुछ भी करने की काबिलियत और तो है और कुछ भी करके आप खुश तो है ना तभी आप उसे करने की कोशिश करते हैं क्या पता ही होगा कि नहीं तो मुझे पता है ना आपको काम कंप्लीट कर पाएंगे और ना ही इस चिंता से मुक्त हो पाएंगे कि मैं क्या करूं और यह बेचैनी आपको खुश रहने नहीं देंगे और चिंतन सिंह रहेंगे तो क्या होगा आपके चतुराई घटे की काबिलियत चिंता से चतुराई घटे घटे शरीर आपसे धनलक्ष्मी घंटे का गए दास कबीर इसीलिए ऐसा बिल्कुल ना करें जो भी काम करें दिल खोलकर करें सही हो या गलत उसके बाद आपके दिल को सुकून मिल जाएगा और बस आपके जीवन में खुशियां भी आ रही है

kya kaaran hai ki main khush nahi reh sakta yeh aap ne prashna kiya ki kya kaaran hai ki aap khush nahi rakh sakte toh aisi ke prashna se aisa lag raha hai ki aap khud hi ulajhe hue aapko khud pata nahi hai ki aap kya kar sakte kya khush rahe toh main hi kahungi ab khud par vishwas karein aap jo bhi kaam karte hain poore vishwas ke saath kijiye yeh mat sochie ki kya pata aap yeh karenge toh galat hoga ya sahi hoga is tarah ke khayal toh hata arre galti bhi kijiye toh jam ke kijiye aur sahi bhi kijiye toh kuch bhi karne ki kabiliyat aur toh hai aur kuch bhi karke aap khush toh hai na tabhi aap use karne ki koshish karte hain kya pata hi hoga ki nahi toh mujhe pata hai na aapko kaam complete kar payenge aur na hi is chinta se mukt ho payenge ki main kya karu aur yeh bechaini aapko khush rehne nahi denge aur chintan Singh rahenge toh kya hoga aapke chaturaai ghate ki kabiliyat chinta se chaturaai ghate ghate sharir aapse dhanlakshmi ghante ka gaye das kabir isliye aisa bilkul na karein jo bhi kaam karein dil kholakar karein sahi ho ya galat uske baad aapke dil ko sukoon mil jayega aur bus aapke jeevan mein khushiyan bhi aa rahi hai

क्या कारण है कि मैं खुश नहीं रह सकता यह आप ने प्रश्न किया कि क्या कारण है कि आप खुश नहीं र

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  38
WhatsApp_icon
user

Piyush Goel

Mech Engg, Motivator.

4:38
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

स्मॉल गर्ल फिर आपके साथ क्या कारण है कि मैं खुश नहीं रह सकता ऐसा बिल्कुल भी नहीं है आप खुश रह सकते हैं जितने भी कर रहा हूं इसलिए कर रहा हूं कि मेरे शब्द से किसी को खुशी मिली आप क्यों खुश नहीं रहते दोस्त नहीं जगह बैठा हुआ था क्योंकि जो चीज सीखने की होती है उस एक लेने के लिए क्वेश्चन आंसर थे क्वेश्चन आंसर चिन्ना कि इंसान और जानवर में क्या अंतर है इंसान और जानवर में क्या अंतर है किसी का कोई जवाब नहीं बना बहुत थोड़ी देर में गुरुजी नहीं हो सकती है उन्होंने कहा कि मनुष्य अपनी योनि बनाने आया है और जानवर अपनी योनि भुगतने आया तो दोस्त ऊपर वाले ने भेजा है जिंदगी में सुख दुख दोनों से अक्षर क्या देख रहे हैं ना सुख के दुख में सुख और दुख दोनों में अक्सर खैबू देखो जो सुख मिलता है और दुख में भी अधिक तक हम क्यों नहीं ओके गूगल लाइट करो रब रब्बे नहीं है लेकिन थोड़ा लाइज कर लो पूछ लो तोड़ने के लिए दोस्त खुश क्यों नहीं रह सकते अपनी सोच बदलो बिल्कुल ले सकते हैं क्यों नहीं रह सकते आपकी अपनी सोच आपको कुछ नहीं रहने देती है परिस्थितियां हैं मानता हूं कि आप की परिस्थितियों ने आपको ऐसा किया हुआ है लेकिन बाद में मिलते हैं पिछले आपके प्रारब्ध है इसमें आपको करनी है दिल नहीं हो अच्छे अच्छे मिलेंगे भगवान दयालु है कि आपके जो कर्म है दुख वाले कर्मियों को बांट दिया पूजा करते हैं पूजा पाठ करते हैं आप तो उसको उसने टुकड़ों में बांट दिया दुख पूरे जीवन के एक साथ दो तो अब शायद सर्वाधिक ना कर पाए तो खुश रह सकते हैं और कुछ सुख खुश के आप पहले आ गया तो खुश से मिला ले तू सुख ठीक है ना दोस्त खुश रखे अपने मन में खुश रहने की इच्छा प्रबल करें और इस वर्ष आपका साथ जरूर दे बात नहीं ठीक है ना अब खुश जरूर आएंगे खुश रहने के लिए अपनी करें समस्याओं से परिस्थितियों से बाहर निकलने की कोशिश करें पॉजिटिव मुझे अपने दोस्त और मैं भगवान से प्रार्थना करता हूं कि आप खुश रहें सुखी रहें धन्यवाद

small girl phir aapke saath kya kaaran hai ki main khush nahi reh sakta aisa bilkul bhi nahi hai aap khush reh sakte hain jitne bhi kar raha hoon isliye kar raha hoon ki mere shabd se kisi ko khushi mili aap kyon khush nahi rehte dost nahi jagah baitha hua tha kyonki jo cheez seekhne ki hoti hai us ek lene ke liye question answer the question answer chinna ki insaan aur janwar mein kya antar hai insaan aur janwar mein kya antar hai kisi ka koi jawab nahi bana bahut thodi der mein guruji nahi ho sakti hai unhone kaha ki manushya apni yoni banane aaya hai aur janwar apni yoni bhugatane aaya toh dost upar wale ne bheja hai zindagi mein sukh dukh dono se akshar kya dekh rahe hain na sukh ke dukh mein sukh aur dukh dono mein aksar khaibu dekho jo sukh milta hai aur dukh mein bhi adhik tak hum kyon nahi ok google light karo rub rabbe nahi hai lekin thoda luiz kar lo poochh lo todne ke liye dost khush kyon nahi reh sakte apni soch badlo bilkul le sakte hain kyon nahi reh sakte aapki apni soch aapko kuch nahi rehne deti hai paristhiyaann hain manata hoon ki aap ki paristhitiyon ne aapko aisa kiya hua hai lekin baad mein milte hain pichhle aapke prarabdh hai ismein aapko karni hai dil nahi ho acche acche milenge bhagwan dayalu hai ki aapke jo karm hai dukh wale karmiyon ko baant diya puja karte hain puja path karte hain aap toh usko usne tukadon mein baant diya dukh poore jeevan ke ek saath do toh ab shayad sarvadhik na kar paye toh khush reh sakte hain aur kuch sukh khush ke aap pehle aa gaya toh khush se mila le tu sukh theek hai na dost khush rakhe apne man mein khush rehne ki iccha prabal karein aur is varsh aapka saath zaroor de baat nahi theek hai na ab khush zaroor aayenge khush rehne ke liye apni karein samasyaon se paristhitiyon se bahar nikalne ki koshish karein positive mujhe apne dost aur main bhagwan se prarthna karta hoon ki aap khush rahen sukhi rahen dhanyavad

स्मॉल गर्ल फिर आपके साथ क्या कारण है कि मैं खुश नहीं रह सकता ऐसा बिल्कुल भी नहीं है आप खु

Romanized Version
Likes  122  Dislikes    views  1491
WhatsApp_icon
user

Ved prakash Mishra

Journalist Dainik jagran { Naidunia}

0:42
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आप यदि हर बात को ज्यादातर सोचते रहेंगे चिंता करते रहेंगे तो आप दुखी ही रहेंगे और यदि आप जो आपको ईश्वर ने दिया है उसमें संतुष्ट रहेंगे और आगे बढ़ने का प्रयास करेंगे तो आप सोचेंगे आप सोचिए कि आपके दोनों हाथ पैर सही सलामत है भगवान ने आपको देखने के लिए आग दिए हैं सुनने के लिए कान दिए हैं आप को दो वक्त का भोजन मिल रहा है ऐसी स्थिति में आपको आगे बढ़ने के लिए प्रयास करना चाहिए ना कि अपनी किस्मत को कोसते रहना चाहिए और दुखी रहना चाहिए इसलिए आपसे मैं ही सुना दूंगा आपको क्या खुश रहें और आगे बढ़े मेरी शुभकामनाएं आपके साथ हैं

aap yadi har baat ko jyadatar sochte rahenge chinta karte rahenge toh aap dukhi hi rahenge aur yadi aap jo aapko ishwar ne diya hai usme santusht rahenge aur aage badhne ka prayas karenge toh aap sochenge aap sochiye ki aapke dono hath pair sahi salamat hai bhagwan ne aapko dekhne ke liye aag diye hain sunane ke liye kaan diye hain aap ko do waqt ka bhojan mil raha hai aisi sthiti mein aapko aage badhne ke liye prayas karna chahiye na ki apni kismat ko koste rehna chahiye aur dukhi rehna chahiye isliye aapse main hi suna dunga aapko kya khush rahein aur aage badhe meri subhkamnaayain aapke saath hain

आप यदि हर बात को ज्यादातर सोचते रहेंगे चिंता करते रहेंगे तो आप दुखी ही रहेंगे और यदि आप जो

Romanized Version
Likes  172  Dislikes    views  3129
WhatsApp_icon
user

Surender Dhalwal

Assistant Professor Clinical Psychology

1:20
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

इसमें सोचने वाले के ऊपर किस स्थिति में खुश क्यों नहीं रहता ठीक है इसकी अपेक्षा अधिक होती हैं और हमारी अपेक्षाएं अधिक पूरी ना हो तो एक से स्टेशन पर भाव बंद है और उसकी स्थिति में हमें लगता है कि हम अपने लक्ष्य को लक्ष्य की प्राप्ति नहीं कर पा रहे तो जब क्योंकि हमारी अपेक्षा होती है और हमारी खुशी उन अपेक्षाओं की पूर्ति से जुड़ी होती है और तू आपूर्ति नहीं हो पाती अभाव महसूस होता है ना उतना मतलब निर्भर करता है कि रखा जाए तो भाव है नहीं हम सोचे मैं अपना अपना

isme sochne waale ke upar kis sthiti mein khush kyon nahi rehta theek hai iski apeksha adhik hoti hain aur hamari apekshayen adhik puri na ho toh ek se station par bhav band hai aur uski sthiti mein hamein lagta hai ki hum apne lakshya ko lakshya ki prapti nahi kar paa rahe toh jab kyonki hamari apeksha hoti hai aur hamari khushi un apekshaon ki purti se judi hoti hai aur tu aapurti nahi ho pati abhaav mahsus hota hai na utana matlab nirbhar karta hai ki rakha jaaye toh bhav hai nahi hum soche main apna apna

इसमें सोचने वाले के ऊपर किस स्थिति में खुश क्यों नहीं रहता ठीक है इसकी अपेक्षा अधिक होती ह

Romanized Version
Likes  18  Dislikes    views  267
WhatsApp_icon
user

Rakesh Tiwari

Life Coach, Management Trainer

2:00
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

क्या कारण है कारण आपको बाहर कारण आपके अंदर कुछ ही घंटों में खुशी भोग में खुशी भोग में नहीं खुशी आपकी सोच में है खुशी आपकी व्रत में है कि आपकी चिंता नहीं है आपके अंदर प्रसन्न रहने की भावना गांधीजी का चरखा चलाते सूट के कपड़े पहन के अंगूठी लेकर भारत की गरीबी गरीबों पर स्थित देखकर उन्होंने शरीर में केवल अंगूठी पहनना स्टार्ट किया जिससे भारत के सामान्य लोग रहते थे उस तरह मैं रहूंगा लोगों की संवेदना और चीन के अंदर कुछ ना होते हुए भी उनसे ज्यादा धनी कोई नहीं था क्या एक लाठी और एक धोती कुर्ता पहनते थे और चल देते थे शायद दुनिया में सबसे संतुष्ट सबसे खुश एवं सबसे सुखी एवं आनंदमई प्राणी महात्मा गांधी जी आप तो आराम दे सकते हैं लेकिन आपको खुशी नहीं दे सकते खुशी आपके अंदर है आपके विचारों में आपके दृष्टिकोण में हैं आपको अपने अंदर बाहर नहीं

kya karan hai karan aapko bahar karan aapke andar kuch hi ghanto mein khushi bhog mein khushi bhog mein nahi khushi aapki soch mein hai khushi aapki vrat mein hai ki aapki chinta nahi hai aapke andar prasann rehne ki bhavna gandhiji ka charkha chalte suit ke kapde pahan ke anguthi lekar bharat ki gareebi garibon par sthit dekhkar unhone sharir mein keval anguthi pahanna start kiya jisse bharat ke samanya log rehte the us tarah main rahunga logo ki samvedana aur china ke andar kuch na hote hue bhi unse zyada dhani koi nahi tha kya ek lathi aur ek dhoti kurta pehente the aur chal dete the shayad duniya mein sabse santusht sabse khush evam sabse sukhi evam anandamai prani mahatma gandhi ji aap toh aaram de sakte hain lekin aapko khushi nahi de sakte khushi aapke andar hai aapke vicharon mein aapke drishtikon mein hain aapko apne andar bahar nahi

क्या कारण है कारण आपको बाहर कारण आपके अंदर कुछ ही घंटों में खुशी भोग में खुशी भोग में नहीं

Romanized Version
Likes  219  Dislikes    views  2222
WhatsApp_icon
qIcon
ask

Related Searches:
khush ; क्या आप खुश है ; क्या आप खुश हो ;

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!