आपकी सबसे गौरवपूर्ण उपलब्धि क्या है?...


user

Dr. Suman Aggarwal

Personal Development Coach

0:16
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मेरे जीवन की सबसे गौरवपूर्ण उपलब्धि यही है कि आज यहां इतनी दूर बैठकर पता नहीं कहां-कहां से लोग आप पर सवाल पूछते हैं और मैं इस लायक हूं कि मैं उनका जवाब दे सकती हूं मेरा जवाब किसी के काम आ सकता है

mere jeevan ki sabse gauravpurn upalabdhi yahi hai ki aaj yahan itni dur baithkar pata nahi kahaan kahaan se log aap par sawaal poochhte hain aur main is layak hoon ki main unka jawab de sakti hoon mera jawab kisi ke kaam aa sakta hai

मेरे जीवन की सबसे गौरवपूर्ण उपलब्धि यही है कि आज यहां इतनी दूर बैठकर पता नहीं कहां-कहां से

Romanized Version
Likes  11  Dislikes    views  348
WhatsApp_icon
5 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Neelam Kumar

Best-selling Author

2:06
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मुझे नहीं पता की गौरवपूर्ण है कि नहीं है लेकिन नरगिस दत्त अवार्ड मेरे लिए आप बहुत ही मायने रखता है कि नरगिस जी इस तरह की कलाकार जिनको मुदित मतलब मैंने उनको इतना नहीं देखा था मैं तो बहुत छोटी बच्ची थी लेकिन करती थी और मैं मैंने जब उनकी तस्वीर देखी थी हां वह कितनी सौम्य है और उसके बाद मैं जब मुंबई में अपनी आदत मेरी फ्रेंड बनी मैंने उनकी जिंदगी के बारे में बहुत कुछ जानना और मैं उन्होंने कैंसर से कैसे लड़ाई की यह सब सुनने के बाद मेरे में बाबा की इतनी अच्छी-अच्छी कैसे गुजार नहीं अचानक अवार्ड मिला तुझे इस तरह की है जिसके चारों तरफ अर्पित जी का अलग रूप सकता है तो मैं आज भी मेरा मन उदास होता है इस चोटी को देखती हूं और मुझे बहुत गर्व होता है कि मैंने इस अपने देश के लिए क्या है उसी दिशा में उनके जैसी सुंदर भजनों डिजीज से कैंसिल पैसा करती है उसकी आंसर में काम किया है तो मेरे लिए बहुत ही शंका कि मुझे नरगिस दत्त का आरोपी मिला

mujhe nahi pata ki gauravpurn hai ki nahi hai lekin nargis dutt award mere liye aap bahut hi maayne rakhta hai ki nargis ji is tarah ki kalakar jinako mudit matlab maine unko itna nahi dekha tha main toh bahut choti bachi thi lekin karti thi aur main maine jab unki tasveer dekhi thi haan vaah kitni saumya hai aur uske baad main jab mumbai mein apni aadat meri friend bani maine unki zindagi ke bare mein bahut kuch janana aur main unhone cancer se kaise ladai ki yah sab sunne ke baad mere mein baba ki itni achi achi kaise gujar nahi achanak award mila tujhe is tarah ki hai jiske charo taraf arpit ji ka alag roop sakta hai toh main aaj bhi mera man udaas hota hai is choti ko dekhti hoon aur mujhe bahut garv hota hai ki maine is apne desh ke liye kya hai usi disha mein unke jaisi sundar bhajanon disease se cancel paisa karti hai uski answer mein kaam kiya hai toh mere liye bahut hi shanka ki mujhe nargis dutt ka aaropi mila

मुझे नहीं पता की गौरवपूर्ण है कि नहीं है लेकिन नरगिस दत्त अवार्ड मेरे लिए आप बहुत ही मायने

Romanized Version
Likes  148  Dislikes    views  1488
WhatsApp_icon
play
user

TS Bhanot

Teacher

0:30

Likes  2  Dislikes    views  144
WhatsApp_icon
play
user

Dilsh Sheikh

Journalist

0:36

Likes  6  Dislikes    views  309
WhatsApp_icon
play
user

Mohini

Voice Artist

0:00

Likes  14  Dislikes    views  167
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!