हमें कौन सी दुनिया में जीना चाहिए धार्मिक या साइंटिफिक?...


user

Jyoti Mehta

Ex-History Teacher

1:54
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आज का युग विज्ञान का युग है तकनीकी का युग है और विज्ञान में हर चीज को साबित कर दिया है हर धर्म का जो भी कर्मकांड है वह भी वैज्ञानिक है हमारी जो पुराने संस्कार है हमारे दिमाग में बचपन से जो धर्म के प्रति आस्था है उसे मुझे नहीं लगता है कि हम भुला सकते हैं कि मुझे लगता है हमें अपने विवेक से निर्णय लेना चाहिए और धर्मांध नहीं होना चाहिए धर्म के प्रति हमारे मन में अंध भक्ति नहीं होना चाहिए हमें विज्ञान को समझने की कोशिश करनी चाहिए और विज्ञान के अनुसार की जीवन को ही ना चाहिए कि धार्मिक कारणों के चलते हम विज्ञान के सत्य को भुला दें ढोंगी बाबाओं के चक्कर में आकर अपने जीवन को खत्म करते हैं इसलिए बहुत जरूरी है कि हम धार्मिक हो हमारी आस्था धर्म में हो हम धर्म को मानते हैं उसके पीछे हमें अंधभक्त नहीं होना चाहिए अंधविश्वासी नहीं होना चाहिए क्योंकि भक्ति और यह अंधविश्वास नहीं जाता है अच्छा बुरा नहीं सोच पाते हैं इसलिए हमें आज के युग के हिसाब से सीखना चाहिए सोचना चाहिए हमारी आस्था है अच्छी तरह से बनाए रख सकते हैं धार्मिक परंपरा में रहते हैं उधर हमारी बहुत अंदर तक गहराई तक रहता है नहीं सकता है लेकिन हमें उसे बहुत सोच समझकर और धर्म के अनुसार ही अपने जीवन में अपनाना चाहिए ना कि के रूप में अंधविश्वास

aaj ka yug vigyan ka yug hai takniki ka yug hai aur vigyan mein har cheez ko saabit kar diya hai har dharm ka jo bhi karmakand hai vaah bhi vaigyanik hai hamari jo purane sanskar hai hamare dimag mein bachpan se jo dharm ke prati astha hai use mujhe nahi lagta hai ki hum bhula sakte hain ki mujhe lagta hai hamein apne vivek se nirnay lena chahiye aur dharmandh nahi hona chahiye dharm ke prati hamare man mein andh bhakti nahi hona chahiye hamein vigyan ko samjhne ki koshish karni chahiye aur vigyan ke anusaar ki jeevan ko hi na chahiye ki dharmik karanon ke chalte hum vigyan ke satya ko bhula de dhongi babaon ke chakkar mein aakar apne jeevan ko khatam karte hain isliye bahut zaroori hai ki hum dharmik ho hamari astha dharm mein ho hum dharm ko maante hain uske peeche hamein andhbhakt nahi hona chahiye andhavishvasi nahi hona chahiye kyonki bhakti aur yah andhavishvas nahi jata hai accha bura nahi soch paate hain isliye hamein aaj ke yug ke hisab se sikhna chahiye sochna chahiye hamari astha hai achi tarah se banaye rakh sakte hain dharmik parampara mein rehte hain udhar hamari bahut andar tak gehrai tak rehta hai nahi sakta hai lekin hamein use bahut soch samajhkar aur dharm ke anusaar hi apne jeevan mein apnana chahiye na ki ke roop mein andhavishvas

आज का युग विज्ञान का युग है तकनीकी का युग है और विज्ञान में हर चीज को साबित कर दिया है हर

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  5
KooApp_icon
WhatsApp_icon
3 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!