अकेला रहना कैसे लगता है?...


user

आचार्य प्रशांत

IIT-IIM Alumnus, Ex Civil Services Officer, Mystic

5:24
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मन हमेशा भीड़ में क्यों रहना चाहता है हम अकेले कभी होते नहीं हम जिसे अकेलापन कहते हैं उसमें भी संसार मौजूद रहता है आप एक कमरे में बिल्कुल अकेले हो गए हो कमरा बंद है कमरे में कोई चीज भी नहीं है फिर भी संसार के साथ तो आप हुई बस अब जो संसार है आपके पास वो मानते क्या काल्पनिक है मन विचार कर रहा है संसार का अब यह जो संसार आपके सामने आएगा यह तो बेचारा हुआ संसार है गड़ा हुआ संसार है यह संसार का किसका है यह संसार की हकीकत नहीं होगी यह संसार आपके सामने की कुछ रूप में आएगा जिस रूप में आपने इसे खड़ा है बोरूप आपकी अंता के अनुकूल है और जवाब भाषा में संसार के सामने होते हैं संबंधों में होते हैं तब संसार की कल्पना नहीं बल्कि संसार तक जाता है आपके सामने और कुछ ऐसा हो सकता है जो आपकी भावनाओं को आपकी मान्यताओं को तोड़ दे आपकी कल्पनाएं क्योंकि आपकी हैं इसीलिए तो आपकी भावनाओं से उपजी हैं जो धारणा से उपजा है वह भावनाओं को तोड़ दो खट्टा नहीं जवाब बाहर निकलते हैं अपने कमरे से दुनिया के सामने जाते हैं संबंधों में जाते हैं तब संभावना बनती है कि अब कुछ ऐसा हो जो आपको धरा झटका दे छोड़ दे क्योंकि आप संसार का पद चाहेगा आपके सामने याद रखिएगा कमरे के अंदर कमरे के बाहर दोनों ही दशाओं में अकेले नहीं हैं आप और जो अकेला होता है वास्तव में जिसे केवल लिखे मतलब है उसे फर्क नहीं पड़ता क्यों कमरे के भीतर है कमरे के बाहर क्योंकि वह जानता है कि दूसरा अपन द्वैत तो सदा मौजूद रहेंगे बस वो वहां न चढ़ाएं जहां उन्हें नहीं होना चाहिए केंद्र में चावल ले रहे अज्ञात रहे अकेलापन रहे बाहर बाहर दूसरे रहेंगे रहेंगे यह कोशिश करना कि बाहर भी दूसरे ना रहे बाहर से भी मैं दूसरों को बेदखल कर दो कमरा खाली कर दो यह मूर्खता की बात है कमरे से आपने सबको हटा दिया कमरा तो बच गया ना आप कमरे को देखेंगे तो कमरे के कारीगर का ख्याल आएगा कमरे का कोई रंग होगा उस रंग को देखेंगे तो किसी स्त्री की शादी का ख्याल आ जाएगा यह लीजिए कल्पना दौड़ा दौड़ा अकेले रह गए आप कमरे में भी अकेले नहीं है निर्जन से निर्धन जगह आपको छोड़ दिया जाए अकेले नहीं रह जाएंगे किसने जाना है वह दूसरों से आपत्ति नहीं करता वह कहता दूसरे मौजूद रहे जीव पैदा हुआ हूं तो संसार में पैदा हुआ हूं संसार मैंने बहुत सारे दूसरे तो दूसरे तो रहेंगे बस दूसरे अपनी जगह है दूसरे वहां का चित्र बनाकर दे जहां से परमात्मा को आशीष होना चाहिए किसी दूसरे को इतना महत्वपूर्ण बना लेना कि वह तुम्हारी आत्मा पर सवार हो जाए तुम्हारा मात्र सत्य को समर्पित हो दूसरों को यदि परेशान नहीं करना चाहते तो कभी उन्हें अपनी प्रथम वरीयता मत बना लेना जिसको तुमने अपनी प्रथम वरीयता बना लिया उसको अब तुम सिर्फ दुख दर्द दोगे और उसके सिर्फ दुख दर्द पाओगे किसी इंसान से मन लगने लगा है तुम्हारा और नहीं चाहते हो तुम कि तुम दोनों एक दूसरे के लिए विपदा का कारण बनो तो उससे कहना कि तू भी मुझे बहुत महत्व मत दें और मैं भी तुझे बहुत महत्त्व नहीं दूंगा जूही तुम्हारे लिए बहुत मूल्यवान हो गया वही तुम्हारे लिए नर्क बन जाएगा

man hamesha bheed mein kyon rehna chahta hai hum akele kabhi hote nahi hum jise akelapan kehte hain usme bhi sansar maujud rehta hai aap ek kamre mein bilkul akele ho gaye ho kamra band hai kamre mein koi cheez bhi nahi hai phir bhi sansar ke saath toh aap hui bus ab jo sansar hai aapke paas vo maante kya kalpnik hai man vichar kar raha hai sansar ka ab yah jo sansar aapke saamne aayega yah toh bechaara hua sansar hai gada hua sansar hai yah sansar ka kiska hai yah sansar ki haqiqat nahi hogi yah sansar aapke saamne ki kuch roop mein aayega jis roop mein aapne ise khada hai borup aapki anta ke anukul hai aur jawab bhasha mein sansar ke saamne hote hain sambandhon mein hote hain tab sansar ki kalpana nahi balki sansar tak jata hai aapke saamne aur kuch aisa ho sakta hai jo aapki bhavnao ko aapki manyataon ko tod de aapki kalpanaen kyonki aapki hain isliye toh aapki bhavnao se upji hain jo dharana se upaja hai vaah bhavnao ko tod do khatta nahi jawab bahar nikalte hain apne kamre se duniya ke saamne jaate hain sambandhon mein jaate hain tab sambhavna banti hai ki ab kuch aisa ho jo aapko dhara jhatka de chod de kyonki aap sansar ka pad chahega aapke saamne yaad rakhiega kamre ke andar kamre ke bahar dono hi dashao mein akele nahi hain aap aur jo akela hota hai vaastav mein jise keval likhe matlab hai use fark nahi padta kyon kamre ke bheetar hai kamre ke bahar kyonki vaah jaanta hai ki doosra apan dwait toh sada maujud rahenge bus vo wahan na chadhaen jaha unhe nahi hona chahiye kendra mein chawal le rahe agyaat rahe akelapan rahe bahar bahar dusre rahenge rahenge yah koshish karna ki bahar bhi dusre na rahe bahar se bhi main dusro ko bedakhal kar do kamra khaali kar do yah murkhta ki baat hai kamre se aapne sabko hata diya kamra toh bach gaya na aap kamre ko dekhenge toh kamre ke karigar ka khayal aayega kamre ka koi rang hoga us rang ko dekhenge toh kisi stree ki shadi ka khayal aa jaega yah lijiye kalpana dauda dauda akele reh gaye aap kamre mein bhi akele nahi hai nirjan se nirdhan jagah aapko chod diya jaaye akele nahi reh jaenge kisne jana hai vaah dusro se apatti nahi karta vaah kahata dusre maujud rahe jeev paida hua hoon toh sansar mein paida hua hoon sansar maine bahut saare dusre toh dusre toh rahenge bus dusre apni jagah hai dusre wahan ka chitra banakar de jaha se paramatma ko aashish hona chahiye kisi dusre ko itna mahatvapurna bana lena ki vaah tumhari aatma par savar ho jaaye tumhara matra satya ko samarpit ho dusro ko yadi pareshan nahi karna chahte toh kabhi unhe apni pratham variyata mat bana lena jisko tumne apni pratham variyata bana liya usko ab tum sirf dukh dard doge aur uske sirf dukh dard paoge kisi insaan se man lagne laga hai tumhara aur nahi chahte ho tum ki tum dono ek dusre ke liye vipada ka karan bano toh usse kehna ki tu bhi mujhe bahut mahatva mat de aur main bhi tujhe bahut mahatva nahi dunga juhi tumhare liye bahut mulyavan ho gaya wahi tumhare liye nark ban jaega

मन हमेशा भीड़ में क्यों रहना चाहता है हम अकेले कभी होते नहीं हम जिसे अकेलापन कहते हैं उस

Romanized Version
Likes  395  Dislikes    views  3796
KooApp_icon
WhatsApp_icon
30 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

Related Searches:
ab maza aayega na bhidu memes ; jatti de pakaye hoye kha lena ;

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!