श्रम कानून में क्या बदलाव हुए हैं, जिसके कारण विरोध हो रहा है?...


play
user
8:24

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हेलो भाई मैं राहुल कुमार आपको जो क्वेश्चन है वह रिलेटेड है मजदूर वर्ग से जो हमारे देश की बहुत सकते हैं न्यू है किसान मजदूर और यह मजदूर से रिलेटेड अभी हाल ही में श्रम कानून लेवल में जो बदलाव हुआ है जिसके कारण विरोध हो रहा है उसका कारण यह है कि लव टोन जब हुआ तब अदादा राज्य से अलग अलग राज्य से मजदूरों को लाना लाने की प्रक्रिया पर भी बहुत सवाल होते हैं क्योंकि कहा गया है कि मजदूरों से पैसा नहीं दिया गया लेकिन जो तस्वीर सामने आ रहे हैं सोशल साइट से ट्विटर से उसमें यह देखने को मिला है कि मजदूरों से टिकट से ज्यादा पैसा लिया गया और कहां गया है कि रेलवे 85 प्रशन और राज्य सरकारें 15% पैसे दे रहे हैं जबकि ऐसा देखने को मिलता नहीं है क्योंकि जो लोग आए हैं उन्होंने टिकट खुद-ब-खुद बहन कैसा खर्चा और इसको विपक्षी दलों ने भी सवाल उठाए थे जैसे यूपी में बसपा और सपा बसपा ने यह भी कहा था कि जो मजदूर वर्ग है अगर उन्हें सरकार लेकर नहीं आ पाती है और उनके लिए हां साधन उपलब्ध नहीं करा पाती है तो बसपा जो है सभी मजदूरों के जो मजदूर यूपी के हैं उनकी टिकट की खर्चा जो है खुद बहन करेगी यह बसपा सुप्रीमो मायावती जी ने कहा है और वहां पर उत्तर प्रदेश पर उत्तर प्रदेश में इस समय 3378 केस में कोरोना वायरस के मौतें जो हट पर है और सही मरीज 10000 सॉरी 1499 यूपी में श्रम कानून में बदलाव किया गया है जिस पर सोशल साइट ट्विटर से ही जानकारी मिली है दैनिक भास्कर में जो अभी हाल ही में विपक्षी पार्टियों ने जो कहा है जिसमें बसपा सुप्रीमो मायावती जी ने जो बात कही है कि पहले जो श्रम कानून के तहत मजदूरों को 8 घंटे ड्यूटी का प्रावधान था जो ब्रिटिश काल में 12 से 14 घंटे का सही मायने में यह इंसान को समझना चाहिए कि मजदूरों के लिए जो संघर्ष किया है वह क्योंकि यह किसने किया तो मजदूरों के संघर्ष उस समय में बाबा साहब डॉक्टर बी आर अंबेडकर जी ने जो संविधान निर्माता और पहले कानून मंत्री थे उन्होंने मजदूरों के लिए बहुत ही हर्ष हड़ताल की है जिसमें ब्रिटिश काल में 12 से 14 घंटे मजदूरों से और लीवर फैक्ट्री लेकर जो भी उन सभी में एक मजदूर वर्ग में सभी आ जाते हैं उन्हें 12 से 14 घंटे कार्य करना पड़ता था लेकिन उनके लिए संघर्ष करके उसे 8 घंटे कराया और आठ सेवर ऊपर करेंगे तो वह आपको ओवर टाइम मिलेगा उसका पे जो है फैक्ट्री या जहां भी मजबूत और कार्य करता है उसे देना होगा चाहे हम किसी से कार्य करें मजदूर अपने और कार्य करेंगे अपने घर निर्माण कार्य करते हैं उसमें भी होगा 1 घंटे 2 घंटे के होते हैं तो उन्हें देते हैं लेकिन जो संशोधन हुआ है अभी हाल ही में यूपी में उसमें 2020 2020 स्थाई छूट अध्यादेश लेकर आई है यूपी सरकार यूपी में समय श्री योगी आदित्यनाथ जी की सरकार है और उन्हें अस्थाई रूप से 3 वर्ष के लिए एक अध्यादेश लेकर आई है सदा देश में श्रम कानून में 3 वर्ष तक आप मजदूरों के बोल सकते हैं कि उन्हें 8 से नहीं 12 घंटे तक कार्य करना पड़ेगा और उनके जो अधिकार है वह सस्पेंड कर दिए गए सस्पेंड का मतलब निरस्त हुए उन अधिकारों को जो कानून है श्रम कानून लेबर लॉ का उन्हें सस्पेंड कर दिया गया है 3 साल के लिए अब जो जिस जगह कार्य करेंगे मजदूर वर्ग उस जगह उस व्यक्ति की मानी जाएगी जो व्यक्ति ने कार्य देगा 8 घंटे कराता है 12 टेकर आता है उसको पर निर्भर हो गया है क्योंकि अस्थाई अध्यादेश मतलब 3 साल के लिए लेवल और सस्पेंड अब कार्य तो मजदूर करेगा लेकिन उसकी समय सीमा पर उस कानून के तहत नहीं हो पाएगी जो कानून 8 घंटे उसे अधिकार देता था कि वह 8 घंटे ड्यूटी करके अपना मेहनताना लेगा चाहे वह फैक्ट्री वर्कर हुआ कारखाने वगैरह दिहाड़ी मजदूर सभी के लिए सही मायने में कोरोनावायरस के देखते हुए मजदूरों के हितों की बात करना चाहिए लेकिन ऐसा देखने को नहीं मिला मैंने ट्विटर पर बहुत सही जानकारी देखें और कुछ लोगों के ट्वीट मुझे अच्छे लगते हैं इसलिए मैं आपको उनके बारे में जानकारी देता हूं लेकिन सबसे बड़ी बात यह है कि श्रम कानून में बदलाव श्रम कानून में बदलाव की जानकारी जो है इंफॉर्मेशन यही है कि जब श्रम कानून में अस्थाई अध्यादेश मतलब स्थाई नहीं हट हट जाएगा लेकिन 3 साल के लिए 3 साल की अवधि बहुत होती और लेबर लॉ को सस्पेंड 3 साल तक रखा जाएगा जिसमें मजदूरों के अधिकार जो है सही मायने में जब लेबर लॉ सस्पेंड हो जाएगा तो कुछ नहीं रह जाएंगे और करुणा बारिश की दिक्कत को देखते हुए यह मानते हैं कि पूरे विश्व पर को रोना कहर है लेकिन कोरोनावायरस को केवल मजदूर वर्ग ही क्यों हुए वह तो वैसे भी समय परेशान है और यह तस्वीर आइए सामने कि मजदूर गलत चल चलकर छत्तीसगढ़ का है और लखनऊ में आकर मजदूरी कर रहा है तो लखनऊ से पैदल ही छत्तीसगढ़ के लिए साइकिल से चलने लगा और भी परेशानी होने झेलनी पड़ी है मजदूरी भी उनकी चली गई काम भी चला गया इस दौरान अगर भी मिलेगा तो 8 से की जगह अगर उसने 12 घंटे कार्य करना पड़ेगा मजदूरी वही मिलेगी तो यह उनके हितों की बात नहीं है यह उनका शोषण है और मजदूरों का शोषण सही नहीं रहेगा इन हालातों को देखकर सरकार से निवेदन है हम तो यही उम्मीद करते हैं कि सरकार अच्छा करेंगे तो यह श्रम कानून में बदलाव यही है मैं कहा गया है कि 2020 अध्यादेश अस्थाई अध्यादेश व श्रम कानूनों में 3 साल के लिए छूट प्रदान की गई है और जो कारखाने हैं जाले व कार्य करती है अब उन्हें खुली छूट है वह किस तरीके से कार्य कराते हैं कितने घंटे कर आते हैं उनको पर निर्भर करेगा 3 साल के लिए तो यह शर्म कानून में बदलाव है धन्यवाद

hello bhai main rahul kumar aapko jo question hai vaah related hai majdur varg se jo hamare desh ki bahut sakte hain new hai kisan majdur aur yah majdur se related abhi haal hi me shram kanoon level me jo badlav hua hai jiske karan virodh ho raha hai uska karan yah hai ki love tone jab hua tab adada rajya se alag alag rajya se majduro ko lana lane ki prakriya par bhi bahut sawaal hote hain kyonki kaha gaya hai ki majduro se paisa nahi diya gaya lekin jo tasveer saamne aa rahe hain social site se twitter se usme yah dekhne ko mila hai ki majduro se ticket se zyada paisa liya gaya aur kaha gaya hai ki railway 85 prashn aur rajya sarkaren 15 paise de rahe hain jabki aisa dekhne ko milta nahi hai kyonki jo log aaye hain unhone ticket khud bsp khud behen kaisa kharcha aur isko vipakshi dalon ne bhi sawaal uthye the jaise up me BSP aur sapa BSP ne yah bhi kaha tha ki jo majdur varg hai agar unhe sarkar lekar nahi aa pati hai aur unke liye haan sadhan uplabdh nahi kara pati hai toh BSP jo hai sabhi majduro ke jo majdur up ke hain unki ticket ki kharcha jo hai khud behen karegi yah BSP suprimo mayawati ji ne kaha hai aur wahan par uttar pradesh par uttar pradesh me is samay 3378 case me corona virus ke mautain jo hut par hai aur sahi marij 10000 sorry 1499 up me shram kanoon me badlav kiya gaya hai jis par social site twitter se hi jaankari mili hai dainik bhaskar me jo abhi haal hi me vipakshi partiyon ne jo kaha hai jisme BSP suprimo mayawati ji ne jo baat kahi hai ki pehle jo shram kanoon ke tahat majduro ko 8 ghante duty ka pravadhan tha jo british kaal me 12 se 14 ghante ka sahi maayne me yah insaan ko samajhna chahiye ki majduro ke liye jo sangharsh kiya hai vaah kyonki yah kisne kiya toh majduro ke sangharsh us samay me baba saheb doctor be R ambedkar ji ne jo samvidhan nirmaata aur pehle kanoon mantri the unhone majduro ke liye bahut hi harsh hartal ki hai jisme british kaal me 12 se 14 ghante majduro se aur liver factory lekar jo bhi un sabhi me ek majdur varg me sabhi aa jaate hain unhe 12 se 14 ghante karya karna padta tha lekin unke liye sangharsh karke use 8 ghante karaya aur aath sevar upar karenge toh vaah aapko over time milega uska pe jo hai factory ya jaha bhi majboot aur karya karta hai use dena hoga chahen hum kisi se karya kare majdur apne aur karya karenge apne ghar nirmaan karya karte hain usme bhi hoga 1 ghante 2 ghante ke hote hain toh unhe dete hain lekin jo sanshodhan hua hai abhi haal hi me up me usme 2020 2020 sthai chhut adhyadesh lekar I hai up sarkar up me samay shri yogi adityanath ji ki sarkar hai aur unhe asthai roop se 3 varsh ke liye ek adhyadesh lekar I hai sada desh me shram kanoon me 3 varsh tak aap majduro ke bol sakte hain ki unhe 8 se nahi 12 ghante tak karya karna padega aur unke jo adhikaar hai vaah Suspend kar diye gaye Suspend ka matlab nirast hue un adhikaaro ko jo kanoon hai shram kanoon labour law ka unhe Suspend kar diya gaya hai 3 saal ke liye ab jo jis jagah karya karenge majdur varg us jagah us vyakti ki maani jayegi jo vyakti ne karya dega 8 ghante karata hai 12 taker aata hai usko par nirbhar ho gaya hai kyonki asthai adhyadesh matlab 3 saal ke liye level aur Suspend ab karya toh majdur karega lekin uski samay seema par us kanoon ke tahat nahi ho payegi jo kanoon 8 ghante use adhikaar deta tha ki vaah 8 ghante duty karke apna mehanatana lega chahen vaah factory worker hua karkhane vagera dihadi majdur sabhi ke liye sahi maayne me coronavirus ke dekhte hue majduro ke hiton ki baat karna chahiye lekin aisa dekhne ko nahi mila maine twitter par bahut sahi jaankari dekhen aur kuch logo ke tweet mujhe acche lagte hain isliye main aapko unke bare me jaankari deta hoon lekin sabse badi baat yah hai ki shram kanoon me badlav shram kanoon me badlav ki jaankari jo hai information yahi hai ki jab shram kanoon me asthai adhyadesh matlab sthai nahi hut hut jaega lekin 3 saal ke liye 3 saal ki awadhi bahut hoti aur labour law ko Suspend 3 saal tak rakha jaega jisme majduro ke adhikaar jo hai sahi maayne me jab labour law Suspend ho jaega toh kuch nahi reh jaenge aur corona barish ki dikkat ko dekhte hue yah maante hain ki poore vishwa par ko rona kahar hai lekin coronavirus ko keval majdur varg hi kyon hue vaah toh waise bhi samay pareshan hai aur yah tasveer aaiye saamne ki majdur galat chal chalkar chattisgarh ka hai aur lucknow me aakar mazdoori kar raha hai toh lucknow se paidal hi chattisgarh ke liye cycle se chalne laga aur bhi pareshani hone jhelani padi hai mazdoori bhi unki chali gayi kaam bhi chala gaya is dauran agar bhi milega toh 8 se ki jagah agar usne 12 ghante karya karna padega mazdoori wahi milegi toh yah unke hiton ki baat nahi hai yah unka shoshan hai aur majduro ka shoshan sahi nahi rahega in halaton ko dekhkar sarkar se nivedan hai hum toh yahi ummid karte hain ki sarkar accha karenge toh yah shram kanoon me badlav yahi hai main kaha gaya hai ki 2020 adhyadesh asthai adhyadesh va shram kanuno me 3 saal ke liye chhut pradan ki gayi hai aur jo karkhane hain jale va karya karti hai ab unhe khuli chhut hai vaah kis tarike se karya karate hain kitne ghante kar aate hain unko par nirbhar karega 3 saal ke liye toh yah sharm kanoon me badlav hai dhanyavad

हेलो भाई मैं राहुल कुमार आपको जो क्वेश्चन है वह रिलेटेड है मजदूर वर्ग से जो हमारे देश की

Romanized Version
Likes  23  Dislikes    views  327
KooApp_icon
WhatsApp_icon
1 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!