ध्रुव तारा कैसा दिखाई देता है?...


user

Shailesh Kumar Dubey

Yoga Teacher , Retired Government Employee

0:30
Play

Likes  123  Dislikes    views  4095
WhatsApp_icon
9 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Manish Bhargava

Trainer/ Mentor in Delhi education deptt.

0:41
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार आपके द्वारा कैसा दिखाई देता है ध्रुव तारा हमारे पृथ्वी से काफी ज्यादा दूरी पर है साथिया सूर्य से लगभग दोगुने से भी ज्यादा बढ़ा है इसलिए इसकी एक्चुअल देखने में कैसा है यह आज तक नहीं बताया जा सका किसी के द्वारा भी हो सकता है गोलाकार में हो या किसी अन्य कार्य क्लियर नहीं है पर यह काफी दूरी पर है सूर्य से भी बड़ा है इसलिए इसे क्लियर नहीं बताया जा सकता भी कहा जाता है कि उत्तरी ध्रुव के ऊपर एक ही जगह धन्यवाद

namaskar aapke dwara kaisa dikhai deta hai dhruv tara hamare prithvi se kaafi zyada doori par hai sathiya surya se lagbhag dogune se bhi zyada badha hai isliye iski actual dekhne me kaisa hai yah aaj tak nahi bataya ja saka kisi ke dwara bhi ho sakta hai golaakar me ho ya kisi anya karya clear nahi hai par yah kaafi doori par hai surya se bhi bada hai isliye ise clear nahi bataya ja sakta bhi kaha jata hai ki uttari dhruv ke upar ek hi jagah dhanyavad

नमस्कार आपके द्वारा कैसा दिखाई देता है ध्रुव तारा हमारे पृथ्वी से काफी ज्यादा दूरी पर है स

Romanized Version
Likes  143  Dislikes    views  3742
WhatsApp_icon
user

S Bajpay

Yoga Expert | Beautician & Gharelu Nuskhe Expert

2:09
Play

Likes  373  Dislikes    views  3787
WhatsApp_icon
user

Ashok Bajpai

Rtd. Additional Collector P.C.S. Adhikari

2:44
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

राम राम जी क्या कैसा दिखाई देता है और उससे भी कई गुना बढ़ा है शुरू से गिर 2 गुना बड़ा है लेकिन क्योंकि पृथ्वी से बहुत दूरी पर है इसलिए अभी कोई उपग्रह पृथ्वी की कोई अंतरिक्ष यान वगैरह इसके तारे के कार्य के पास नहीं जा पाए हैं और यह देखने में कैसा है इतनी दूरी पर है कि इसके बारे में यह जानकारी नहीं है कि बोल है चकोर है त्रिभुजाकार है किस तरह का है लेकिन यह सबको मालूम है आपको विदित है वैज्ञानिकों ने भी इसकी पुष्टि की है कि यह बहुत चमकीला है अकरम की राज की चमक किस कारण है यदि वैज्ञानिकों को नहीं मालूम है लेकिन यह बहुत चमकीला है और यह उत्तरी ध्रुव पर एक ही स्थान पर देता है इसीलिए इसे ध्रुव तारा कहते हैं इसके विषय में एक कहानी है एक राजा थे उनकी दो रानियां थी छोटी रानी से बड़ा भीम था छुट्टी बड़ी गांधी के पुत्र ने अपने पिता की गोद में बैठना चाहती माता ने उसे निकाल दिया और कहा कि तुम्हें इस गोद में बैठने के लिए मेरे गर्भ से पैदा होना पड़ेगा तभी तुम इस बच्चे की 5 साल की तिल होने लगी तब नारद जी ने उनको समझाया रास्ते में और कहा कि तुम बैठे तो क्या करूं मैं तुम्हें बंद कर देता हूं तुम अपनी पिता की मौत से ज्यादा पवित्र बूट में बैठोगे भगवान की गोवर्धन ने भगवान विष्णु की तपस्या राम की कड़ी तपस्या की भगवान विष्णु ने दर्शन दिए और तरह-तरह की वरदान दिया शिवा दिया और उन्हें यह भी वरदान दिया कि जब मृत्यु के बाद जब वह सुनेंगे तो वह 2 तारीख के रूप में सदा सदा के लिए संसार में विष्णु जाएंगे हम यही कहानी है और 2 तारीख की चमक चमक कार्ड एसबीआई है तू तारा एक स्थान पर पटेल

ram ram ji kya kaisa dikhai deta hai aur usse bhi kai guna badha hai shuru se gir 2 guna bada hai lekin kyonki prithvi se bahut doori par hai isliye abhi koi upgrah prithvi ki koi antariksh yaan vagera iske taare ke karya ke paas nahi ja paye hain aur yah dekhne me kaisa hai itni doori par hai ki iske bare me yah jaankari nahi hai ki bol hai chakor hai tribhujakar hai kis tarah ka hai lekin yah sabko maloom hai aapko widit hai vaigyaniko ne bhi iski pushti ki hai ki yah bahut chamkila hai akram ki raj ki chamak kis karan hai yadi vaigyaniko ko nahi maloom hai lekin yah bahut chamkila hai aur yah uttari dhruv par ek hi sthan par deta hai isliye ise dhruv tara kehte hain iske vishay me ek kahani hai ek raja the unki do raaniyan thi choti rani se bada bhim tha chhutti badi gandhi ke putra ne apne pita ki god me baithana chahti mata ne use nikaal diya aur kaha ki tumhe is god me baithne ke liye mere garbh se paida hona padega tabhi tum is bacche ki 5 saal ki til hone lagi tab narad ji ne unko samjhaya raste me aur kaha ki tum baithe toh kya karu main tumhe band kar deta hoon tum apni pita ki maut se zyada pavitra boot me baithoge bhagwan ki govardhan ne bhagwan vishnu ki tapasya ram ki kadi tapasya ki bhagwan vishnu ne darshan diye aur tarah tarah ki vardaan diya shiva diya aur unhe yah bhi vardaan diya ki jab mrityu ke baad jab vaah sunenge toh vaah 2 tarikh ke roop me sada sada ke liye sansar me vishnu jaenge hum yahi kahani hai aur 2 tarikh ki chamak chamak card sbi hai tu tara ek sthan par patel

राम राम जी क्या कैसा दिखाई देता है और उससे भी कई गुना बढ़ा है शुरू से गिर 2 गुना बड़ा है

Romanized Version
Likes  107  Dislikes    views  1901
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

कभी-कभी आकाश में झाड़ू की आकार का एक विशेष तारा दिखाई पड़ता है उससे हम दोनों तरफ कहते हैं वह बहुत ज्यादा चमकदार होता है वे कुछ वर्षों में सूर्य का चक्कर पूरा करते हैं और जो सूर्य के नजदीक आते हैं तो दिखाई पड़ते हैं

kabhi kabhi akash me jhadu ki aakaar ka ek vishesh tara dikhai padta hai usse hum dono taraf kehte hain vaah bahut zyada chamakdar hota hai ve kuch varshon me surya ka chakkar pura karte hain aur jo surya ke nazdeek aate hain toh dikhai padate hain

कभी-कभी आकाश में झाड़ू की आकार का एक विशेष तारा दिखाई पड़ता है उससे हम दोनों तरफ कहते हैं

Romanized Version
Likes  8  Dislikes    views  113
WhatsApp_icon
user
0:58
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार दोस्तों आपका क्वेश्चन है कि ध्रुव तारा कैसा दिखाई देता है तो आज आजकल तो हमारी टीवी पर विष्णु पुराण ध्रुव तारे की कहानी भी बता रहा है तू ध्रुव तारा उत्तर दिशा में दिखाई देता है आप सुबह भोर में उठकर देखेंगे ना उत्तर दिशा में सप्त ऋषि तारीख में जो 2 तारीख दिन किनारे वाले होते ना उनकी चीज में देखेंगे आप बिल्कुल सीधी में देखेंगे सब कुछ लुटा रंग दिखाई देगा आपको पहचान की कोई जरूरत नहीं उतारा याद रखें सुबह 4:00 बजे भोर में इसे भी देख सकते हो उसको और सूरज के उगने के बाद नहीं दिखाई देता मतलब बस भोर का तारा उसे आप कह सकते हैं तू उधर ही नहीं उत्तर दिशा में वह दिखाई देता है

namaskar doston aapka question hai ki dhruv tara kaisa dikhai deta hai toh aaj aajkal toh hamari TV par vishnu puran dhruv taare ki kahani bhi bata raha hai tu dhruv tara uttar disha me dikhai deta hai aap subah bhor me uthakar dekhenge na uttar disha me sapt rishi tarikh me jo 2 tarikh din kinare waale hote na unki cheez me dekhenge aap bilkul seedhi me dekhenge sab kuch loota rang dikhai dega aapko pehchaan ki koi zarurat nahi utara yaad rakhen subah 4 00 baje bhor me ise bhi dekh sakte ho usko aur suraj ke ugne ke baad nahi dikhai deta matlab bus bhor ka tara use aap keh sakte hain tu udhar hi nahi uttar disha me vaah dikhai deta hai

नमस्कार दोस्तों आपका क्वेश्चन है कि ध्रुव तारा कैसा दिखाई देता है तो आज आजकल तो हमारी टीवी

Romanized Version
Likes  6  Dislikes    views  126
WhatsApp_icon
user
0:48
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

ध्रुव तारा उत्तर की दिशा में दिखाई देता है आप सप्त ऋषि मंडल को देखें उसके पहले दो तारों को देखें उस तारीख की सामने वाले जो सबसे आगे चमकता तारा होगा वह तारा ध्रुव तारे का भाई होगा जरूर तारीख का जोड़ने के लिए आज सर्वप्रथम सप्त ऋषि मंडल को देखें उसके आगे के दो तारों के सामने जो चमकता तारा है उसके थोड़ी दूर जाकर एक और चमकता तारा है वही जो तारा है जिसकी सही दिशा उत्तर की और है आप सीधा आप अपने मोबाइल के द्वारा कंपास डाउनलोड कर कर भी चेक कर सकते हैं जहां आप का नोटिस हुई सीधा जाएगी 90 डिग्री एंगल बनता होगा वही ध्रुवतारा होगा धन्यवाद

dhruv tara uttar ki disha me dikhai deta hai aap sapt rishi mandal ko dekhen uske pehle do taaron ko dekhen us tarikh ki saamne waale jo sabse aage chamakta tara hoga vaah tara dhruv taare ka bhai hoga zaroor tarikh ka jodne ke liye aaj sarvapratham sapt rishi mandal ko dekhen uske aage ke do taaron ke saamne jo chamakta tara hai uske thodi dur jaakar ek aur chamakta tara hai wahi jo tara hai jiski sahi disha uttar ki aur hai aap seedha aap apne mobile ke dwara compass download kar kar bhi check kar sakte hain jaha aap ka notice hui seedha jayegi 90 degree Angle banta hoga wahi dhruvtara hoga dhanyavad

ध्रुव तारा उत्तर की दिशा में दिखाई देता है आप सप्त ऋषि मंडल को देखें उसके पहले दो तारों को

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  128
WhatsApp_icon
user
0:18
Play

Likes  4  Dislikes    views  110
WhatsApp_icon
Likes  2  Dislikes    views  102
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!