इलाहाबाद के पास ट्रैन की दुर्घटना, तीन ट्रैन एक पटरी पर? क्या आपको लगता है की यह लापरवाही या साजिश है?...


user

MD HAROON

Teacher

0:36
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

दोस्तों आप ने सवाल किया इलाहाबाद के पास ट्रेन की दुर्घटना 331 पटरी पर क्या आपको लगता है कि यह लापरवाही या साजिश है यह एक तरह से देखा जाए तो लापरवाही ज्यादा है साजिश का है इसलिए कि कोई भी आदमी नहीं चाहेगा कि हां किसी की जान जोखिम में चली जाए और 333 समय न जाने कितने यात्री होंगे इस तरह से हमारे अनुमान से लापरवाही है और इस तरह से ऐसे स्टेशन मास्टर को वरण कार्रवाई की तलवार लगानी चाहिए ताकि आइंदा ऐसी गलती और ऐसी लापरवाही ना करें

doston aap ne sawaal kiya allahabad ke paas train ki durghatna 331 patri par kya aapko lagta hai ki yah laparwahi ya saajish hai yah ek tarah se dekha jaaye toh laparwahi zyada hai saajish ka hai isliye ki koi bhi aadmi nahi chahega ki haan kisi ki jaan jokhim me chali jaaye aur 333 samay na jaane kitne yatri honge is tarah se hamare anumaan se laparwahi hai aur is tarah se aise station master ko varan karyawahi ki talwar lagani chahiye taki ainda aisi galti aur aisi laparwahi na kare

दोस्तों आप ने सवाल किया इलाहाबाद के पास ट्रेन की दुर्घटना 331 पटरी पर क्या आपको लगता है कि

Romanized Version
Likes  72  Dislikes    views  1318
WhatsApp_icon
2 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
play
user

Sachin Bharadwaj

Faculty - Mathematics

0:59

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखो दोस्त मुझे लगता है कि रेलवे कि जो दुर्घटना हुई है उसमें साजिश तो मुझे नहीं नजर आती हैं लेकिन लापरवाही जरूर नजर आती है अगर आप फास्ट की घटनाओं को देखो जितनी भी रेल दुर्घटना हुई है वह और साजिश कम आपकी लापरवाही रेलवे एंप्लाइज की जो लापरवाही है वह ज्यादा दिखा दी है तो मैं इसमें यही कहना चाहूंगा कि जो लोग इस दुर्घटना के लिए जिम्मेदार है उन लोगों को चिन्हित किया जाना चाहिए तथा उनके खिलाफ सबसे सख्त कार्यवाही करनी चाहिए इसके अलावा में एक चीज और कहना चाहूंगा कि सरकार को रेलवे के नेटवर्क को बढ़ाने से अच्छा है कि जो बेसिक जरूरत है दूसरा जो इस तरह का सिस्टम डेवलप करना चाहिए ताकि रेल दुर्घटनाएं जो भी हो रही है उनको बहुत कम किया जा सके तो क्या हाल ही में एक 2 साल में देखा गया कि रेलवे की दुर्घटना बहुत ज्यादा है या भबुआ तो बस मैं यही कहूंगा

dekho dost mujhe lagta hai ki railway ki jo durghatna hui hai usme saajish toh mujhe nahi nazar aati hain lekin laparwahi zaroor nazar aati hai agar aap fast ki ghatnaon ko dekho jitni bhi rail durghatna hui hai vaah aur saajish kam aapki laparwahi railway emplaij ki jo laparwahi hai vaah zyada dikha di hai toh main isme yahi kehna chahunga ki jo log is durghatna ke liye zimmedar hai un logo ko chinhit kiya jana chahiye tatha unke khilaf sabse sakht karyavahi karni chahiye iske alava mein ek cheez aur kehna chahunga ki sarkar ko railway ke network ko badhane se accha hai ki jo basic zarurat hai doosra jo is tarah ka system develop karna chahiye taki rail durghatanaen jo bhi ho rahi hai unko bahut kam kiya ja sake toh kya haal hi mein ek 2 saal mein dekha gaya ki railway ki durghatna bahut zyada hai ya bhabua toh bus main yahi kahunga

देखो दोस्त मुझे लगता है कि रेलवे कि जो दुर्घटना हुई है उसमें साजिश तो मुझे नहीं नजर आती है

Romanized Version
Likes  9  Dislikes    views  27
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!