मैं पूछ रहा हूँ यह गरीबी कब जाएगी अगर मैं भी एक गरीब आदमी हूँ खाने के लिए पैसे नहीं है?...


play
user

vikashsingh

Youtuber

1:45

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

दोस्त मैं आपसे बात करना चाहता हूं मैं भी एक आम आदमी हूं एक गरीब घर से आता हूं एक छोटे घर चाहता हूं इसलिए मैं बात देखना चाहता हूं आप का सवाल है कि मैं पूछ रहा हूं यह गरीबी कब जाएगी अगर मैं भी एक गरीब आदमी हूं खाने के लिए पैसे नहीं है तुम्हें कहना चाहता हूं कि इसमें गलतियां करीब होने का कुछ हमारी है कुछ मारे व्यवस्था की है अगर व्यवस्था निकलती है कि हमने उसे नजर नजर अंदाज किया है और इसी वजह से उन्होंने एक गलतियां कि अगर हम गलत थे तो वह भी नहीं गलत थे हमारी व्यवस्था भी गलत थी कि हमारी हमें सुधारा नहीं इसलिए गरीबी का जो भी हुआ होगा लेकिन करीब अगर दूर करना है तो हमें सबसे पहले अपने आप को स्वच्छ तभी हम गरीबी को दूर कर सकते हैं अपने जीवन से क्योंकि यह गरीब और अमीर सभी व्यक्ति हैं अगर हम अपने आप को सक्षम बना ले तू हमारी मदद जरूरतें पूरी हो जाएंगी तो हम करीब बहुत कम रह जाएंगे बहुत कम चीजों की ऐसी आवश्यकता होगी जो मेरे पास नहीं होगी बस आंखें बाहर अपनी सत्ता को पूरी कर सकते हैं आज से और अभी से आप मेहनत करें पूरी मन लगाकर इसलिए हम जरूर गरीब गरीब से अमीर होंगे

dost main aapse baat karna chahta hoon main bhi ek aam aadmi hoon ek garib ghar se aata hoon ek chote ghar chahta hoon isliye main baat dekhna chahta hoon aap ka sawaal hai ki main puch raha hoon yah garibi kab jayegi agar main bhi ek garib aadmi hoon khane ke liye paise nahi hai tumhe kehna chahta hoon ki isme galtiya kareeb hone ka kuch hamari hai kuch maare vyavastha ki hai agar vyavastha nikalti hai ki humne use nazar nazar andaaz kiya hai aur isi wajah se unhone ek galtiya ki agar hum galat the toh vaah bhi nahi galat the hamari vyavastha bhi galat thi ki hamari hamein sudhara nahi isliye garibi ka jo bhi hua hoga lekin kareeb agar dur karna hai toh hamein sabse pehle apne aap ko swachh tabhi hum garibi ko dur kar sakte hain apne jeevan se kyonki yah garib aur amir sabhi vyakti hain agar hum apne aap ko saksham bana le tu hamari madad jaruratein puri ho jayegi toh hum kareeb bahut kam reh jaenge bahut kam chijon ki aisi avashyakta hogi jo mere paas nahi hogi bus aankhen bahar apni satta ko puri kar sakte hain aaj se aur abhi se aap mehnat kare puri man lagakar isliye hum zaroor garib garib se amir honge

दोस्त मैं आपसे बात करना चाहता हूं मैं भी एक आम आदमी हूं एक गरीब घर से आता हूं एक छोटे घर च

Romanized Version
Likes  9  Dislikes    views  157
KooApp_icon
WhatsApp_icon
1 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!