महात्मा गांधी जी के राजनीतिक गुरु कौन थे?...


user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अपने पिता महात्मा गांधी के राजनीतिक गुरु कौन थे गांधी की आत्मा गांधी दक्षिण अफ्रीका से भारत में शुरू से राजनीति की पूरे भारत की यात्रा करें भारत की दशा को समझें उसके बाद ही भारत के लिए क्या किया जा सकता उसमें भी भारत की रेल से यात्रा की उन्होंने भारत करीब से जाना उसकी समस्याओं को संख्या और उसके बाद उन्होंने अंग्रेजों से लड़ने के लिए

apne pita mahatma gandhi ke raajnitik guru kaun the gandhi ki aatma gandhi dakshin africa se bharat me shuru se raajneeti ki poore bharat ki yatra kare bharat ki dasha ko samajhe uske baad hi bharat ke liye kya kiya ja sakta usme bhi bharat ki rail se yatra ki unhone bharat kareeb se jana uski samasyaon ko sankhya aur uske baad unhone angrejo se ladane ke liye

अपने पिता महात्मा गांधी के राजनीतिक गुरु कौन थे गांधी की आत्मा गांधी दक्षिण अफ्रीका से भार

Romanized Version
Likes  31  Dislikes    views  390
WhatsApp_icon
4 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
play
user

vikas kumar yadav

UGC NET In History || Photography || Bodybuilding ||

0:15

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

एमके गांधी यानी कि मोहनदास करमचंद गांधी इन के राजनीतिक गुरु का नाम गोपाल कृष्ण गोखले

MK gandhi yani ki mohandas karamchand gandhi in ke raajnitik guru ka naam gopal krishna gokhale

एमके गांधी यानी कि मोहनदास करमचंद गांधी इन के राजनीतिक गुरु का नाम गोपाल कृष्ण गोखले

Romanized Version
Likes  10  Dislikes    views  166
WhatsApp_icon
user

PKS

Assistant Professor, Dept Of History

3:23
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

इसका प्रश्न महात्मा गांधी जी के राजनीतिक गुरु कौन थे रितु दोस्तों इस प्रश्न का जवाब है महात्मा गांधी के राजनीतिक गुरु गोपाल कृष्ण गोखले थे जो भारत के राष्ट्र वादियों में प्रमुख स्थान रखते हैं और उन्हें भारत का प्रथम राष्ट्रवादी कूटनीतिज्ञ माना जाता है गोखले का जन्म और सियासत में कोल्हापुर में हुआ था और 484 में 1 शिक्षकों गए थे फिर फर्गुसन कॉलेज पुणे के प्रधानाचार्य बनाया गया और 22 वर्ष की आयु में मुंबई विधानसभा के सदस्य चुने गए थे तो जिस समय महात्मा गांधी भारत दक्षिण अफ्रीका से लौटे भारत लौटने के बाद गांधी जी ने गोपाल कृष्ण गोखले को अपने राजनीतिक गुरु बनाया और इस बात को गांधी जी से भी मानते थे गांधी जी ने लिखा है कि श्री गोखले ने मुझे सिखाया है कि अपने देश से प्यार करने का दम भरने वाले प्रत्येक भारतीय का सक्रिय होना चाहिए कि शब्द वैभव में ग्रस्त में होकर इस देश के राजनीतिक जीवन का आध्यात्मिक करण किया जाए उन्होंने मेरे जीवन को प्रेरित प्रभावित किया और आज भी कर रहे हैं इसी नाते मैं स्वर को पवित्र बनाना चाहता हूं और अपना आध्यात्मिक रन करना चाहता हूं इस आदेश के प्रति मैंने अपनी को समर्पित कर दिया है तो दोस्तों आपको जानकार आश्चर्य होगा कि भारत के इस महान देशभक्त गोपाल कृष्ण गोखले की मृत्यु 1915 ईस्वी में ही हो गई थी और गोपाल कृष्ण गोखले नहीं महात्मा गांधी को कहा था कि वह पहले भारत का भ्रमण कर भारत की स्थिति को जानने और गांधी जी ने ऐसा ही किया और चंपारण सबसे पहले चंपारण बिहार के चंपारण में मिले जमींदारों के शोषण से भारत किसानों को मुक्ति दिलाई थी तो दोस्तों अब आप समझ गए कि गोपाल कृष्ण गोखले महात्मा गांधी के राजनीतिक गुरु थे धन्यवाद

iska prashna mahatma gandhi ji ke raajnitik guru kaun the ritu doston is prashna ka jawab hai mahatma gandhi ke raajnitik guru gopal krishna gokhale the jo bharat ke rashtra vadiyon me pramukh sthan rakhte hain aur unhe bharat ka pratham rashtrawadi kutnitigya mana jata hai gokhale ka janam aur siyasat me kolhapur me hua tha aur 484 me 1 shikshakon gaye the phir ferguson college pune ke pradhanacharya banaya gaya aur 22 varsh ki aayu me mumbai vidhan sabha ke sadasya chune gaye the toh jis samay mahatma gandhi bharat dakshin africa se laute bharat lautne ke baad gandhi ji ne gopal krishna gokhale ko apne raajnitik guru banaya aur is baat ko gandhi ji se bhi maante the gandhi ji ne likha hai ki shri gokhale ne mujhe sikhaya hai ki apne desh se pyar karne ka dum bharne waale pratyek bharatiya ka sakriy hona chahiye ki shabd vaibhav me grast me hokar is desh ke raajnitik jeevan ka aadhyatmik karan kiya jaaye unhone mere jeevan ko prerit prabhavit kiya aur aaj bhi kar rahe hain isi naate main swar ko pavitra banana chahta hoon aur apna aadhyatmik run karna chahta hoon is aadesh ke prati maine apni ko samarpit kar diya hai toh doston aapko janakar aashcharya hoga ki bharat ke is mahaan deshbhakt gopal krishna gokhale ki mrityu 1915 isvi me hi ho gayi thi aur gopal krishna gokhale nahi mahatma gandhi ko kaha tha ki vaah pehle bharat ka bhraman kar bharat ki sthiti ko jaanne aur gandhi ji ne aisa hi kiya aur champaran sabse pehle champaran bihar ke champaran me mile zamindaro ke shoshan se bharat kisano ko mukti dilai thi toh doston ab aap samajh gaye ki gopal krishna gokhale mahatma gandhi ke raajnitik guru the dhanyavad

इसका प्रश्न महात्मा गांधी जी के राजनीतिक गुरु कौन थे रितु दोस्तों इस प्रश्न का जवाब है मह

Romanized Version
Likes  13  Dislikes    views  181
WhatsApp_icon
user

kitty

Teacher Commerce

0:12
Play

Likes  6  Dislikes    views  125
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!