भारत के इतिहास को तीन भागों में बांटा गया कौन-कौन से हैं?...


चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भारत के इतिहास को तीन भागों में बांटा गया है आपको यह बात पता है और वह भाग कौन-कौन से हैं या आपको मैं बताती हूं भारत की इतिहास को तीन भागों में बांटा गया है पहला है प्राचीन इतिहास दूसरा है मध्यकालीन इतिहास और तीसरा है आधुनिक इतिहास और प्राचीन काल के इतिहास में पाषाण युग सिंधु सभ्यता वैदिक संस्कृति का छठी शताब्दी ईसा पूर्व की जो धार्मिक क्रांति हुई थी जैन और बौद्ध धर्म और सिर्फ हर्यक वंश मौर्य वंश शिशुनाग वंश यह सारे वंश गुप्त वंश और हर्ष के समय तक को प्राचीन काल इतिहास में रखा गया है सातवीं शताब्दी ईस्वी तक इसके पश्चात मध्यकालीन इतिहास प्रारंभ हो जाता है जब भारत पर विदेशी आक्रमण शुरू हुए और मूर्तियों की आंख मनसूर और जो चला है औरंगजेब तक तो आठवीं शताब्दी ईस्वी से लेकर 17 100 तक का जो समय है 1780 प्रकाश यह हम मध्यकालीन इतिहास में रखते हैं इसमें सल्तनत काल और मुगल इन दोनों को ही पढ़ते हैं जिसमें गुलाम वंश खिलजी वंश तुगलक सैयद लोधी उसके बाद मुगलों का आगमन और फिर मुगलों में बाबर से लेकर औरंगजेब तक इसके पश्चात जब अंग्रेजों का आगमन होता है जो हमारे आधुनिक काल का इतिहास कहलाता है चित्र काल है जो और फिर उसके पश्चात हम अभी तक का मतलब जो हमारा चल रहा होता है समय उसे 30 वर्ष पूर्व तक का हम इतिहास के अंतर्गत ले सकते हैं तो 2000 तक का हम मान के चलते हैं आधुनिक काल के इतिहास में आएगा धन्यवाद

bharat ke itihas ko teen bhaagon me baata gaya hai aapko yah baat pata hai aur vaah bhag kaun kaun se hain ya aapko main batati hoon bharat ki itihas ko teen bhaagon me baata gaya hai pehla hai prachin itihas doosra hai madhyakalin itihas aur teesra hai aadhunik itihas aur prachin kaal ke itihas me pashan yug sindhu sabhyata vaidik sanskriti ka chathi shatabdi isa purv ki jo dharmik kranti hui thi jain aur Baudh dharm aur sirf haryak vansh maurya vansh shishunag vansh yah saare vansh gupt vansh aur harsh ke samay tak ko prachin kaal itihas me rakha gaya hai satvi shatabdi isvi tak iske pashchat madhyakalin itihas prarambh ho jata hai jab bharat par videshi aakraman shuru hue aur murtiyon ki aankh mansur aur jo chala hai aurangzeb tak toh aatthvi shatabdi isvi se lekar 17 100 tak ka jo samay hai 1780 prakash yah hum madhyakalin itihas me rakhte hain isme sultanate kaal aur mughal in dono ko hi padhte hain jisme gulam vansh khilji vansh tuglak saiyed lodhi uske baad mugalon ka aagaman aur phir mugalon me babar se lekar aurangzeb tak iske pashchat jab angrejo ka aagaman hota hai jo hamare aadhunik kaal ka itihas kehlata hai chitra kaal hai jo aur phir uske pashchat hum abhi tak ka matlab jo hamara chal raha hota hai samay use 30 varsh purv tak ka hum itihas ke antargat le sakte hain toh 2000 tak ka hum maan ke chalte hain aadhunik kaal ke itihas me aayega dhanyavad

भारत के इतिहास को तीन भागों में बांटा गया है आपको यह बात पता है और वह भाग कौन-कौन से हैं य

Romanized Version
Likes  9  Dislikes    views  99
WhatsApp_icon
1 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
Likes    Dislikes    views  
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!