भारत में जातियां और धर्म कैसे बने?...


user

Pragati

Aspiring Lawyer

1:57
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भारत में जातियां और धर्म कैसे बने तो देखें और इसके लिए आपको और सबसे शुरुआत की आवाज आनी होगी जो हमारे देश में लोगों का रहना शुरू हुआ था तब सबसे पहले एक वरना सिस्टम आया था जिसमें और लोगों को चार अलग-अलग जगहों में विभाजित किया गया किया गया था चार अलग-अलग जो एक के साथ कह सकते हो कि वर्णों में विभाजित किया गया था जिसमें सबसे ऊपर ब्राह्मणवाद का जो लोग पढ़ाई लिखाई का काम करते थे पूजा पाठ का काम करते थे और उनका काम ज्यादा तरह पढ़ाई लिखाई और हमारे जितने भी कल्चरल चीजें थी उन से रिलेटेड था उसके बाद क्षत्रिय वर्क था जहां पर लोगों को हर साल सदा आप अपनी जगह को अपने लोगों को प्रोटेक्ट करने का काम करना होता था उनकी रक्षा करनी होती थी अपने राज्य की उसके अलावा तीसरी बार में आता था अब हमारे और वैश्य लोग आते थे जो कि हमारे देश में ट्रेडिंग का काम करा करते थे जानिए लेन-देन पैसे का वह सब वह चीज का ध्यान रखें वही सबसे चौथे माह में शुभ रहते थे जो कि सफाई का या फिर जो भी नीचे काम होते थे जो भी आप गंदे काम होते जाकर उनसे कराए जाते थे तो कहीं ना कहीं उस समय लोगों को उनके काम के आधार पर विभाजित किया गया था जो इंसान जो काम कर रहा है वह स्वर्ग में चला जाता था लेकिन उसके बाद से धीरे-धीरे करके और नंबर को को ही जातियां बना दिया गया और अलग-अलग धर्म जब हमारे देश में आए धर्म के लोग आए तो उन लोगों ने अपना धर्म स्थापित करना शुरू कर दिया मुसलमान है तो वह मुस्लिम दरभंगिया और रशियन लोग आए तो परिषद धर्म बन गया और र बुद्धम बुद्धिस्ट लोग आए जैन जैन लोग हैं वह सभी अपना अपना धर्म लेकर आने लगे देश में और इसी वजह से हमारे देश में अलग-अलग धर्म बन गए और जो जातियां हैं वह हमारे वर्णों में से बनी थी इस वजह से आप ब्राह्मण क्षत्रिय वैश्य और शूद्र जाति बन गई है जिसमें लोगों को अलग-अलग / कर दिया गया है तो इस तरह से जातियां और धर्म हमारे देश में बनी है

bharat mein jatiya aur dharm kaise bane toh dekhen aur iske liye aapko aur sabse shuruat ki awaaz aani hogi jo hamare desh mein logo ka rehna shuru hua tha tab sabse pehle ek varna system aaya tha jisme aur logo ko char alag alag jagaho mein vibhajit kiya gaya kiya gaya tha char alag alag jo ek ke saath keh sakte ho ki varnon mein vibhajit kiya gaya tha jisme sabse upar brahmanvad ka jo log padhai likhai ka kaam karte the puja path ka kaam karte the aur unka kaam zyada tarah padhai likhai aur hamare jitne bhi cultural cheezen thi un se related tha uske baad kshatriya work tha jaha par logo ko har saal sada aap apni jagah ko apne logo ko protect karne ka kaam karna hota tha unki raksha karni hoti thi apne rajya ki uske alava teesri baar mein aata tha ab hamare aur vaiishay log aate the jo ki hamare desh mein trading ka kaam kara karte the janiye len the paise ka vaah sab vaah cheez ka dhyan rakhen wahi sabse chauthe mah mein shubha rehte the jo ki safaai ka ya phir jo bhi niche kaam hote the jo bhi aap gande kaam hote jaakar unse karae jaate the toh kahin na kahin us samay logo ko unke kaam ke aadhaar par vibhajit kiya gaya tha jo insaan jo kaam kar raha hai vaah swarg mein chala jata tha lekin uske baad se dhire dhire karke aur number ko ko hi jatiya bana diya gaya aur alag alag dharm jab hamare desh mein aaye dharm ke log aaye toh un logo ne apna dharm sthapit karna shuru kar diya muslim hai toh vaah muslim darabhangiya aur russian log aaye toh parishad dharm ban gaya aur r buddham Buddhist log aaye jain jain log hai vaah sabhi apna apna dharm lekar aane lage desh mein aur isi wajah se hamare desh mein alag alag dharm ban gaye aur jo jatiya hai vaah hamare varnon mein se bani thi is wajah se aap brahman kshatriya vaiishay aur shudra jati ban gayi hai jisme logo ko alag alag kar diya gaya hai toh is tarah se jatiya aur dharm hamare desh mein bani hai

भारत में जातियां और धर्म कैसे बने तो देखें और इसके लिए आपको और सबसे शुरुआत की आवाज आनी होग

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  11
KooApp_icon
WhatsApp_icon
3 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!