अत्यधिक महत्वकांक्षाओ पर अंकुश कैसे लगाऐं?...


user

DR OM PRAKASH SHARMA

Principal, Education Counselor, Best Experience in Professional and Vocational Education cum Training Skills and 25 years experience of Competitive Exams. 9212159179. dsopsharma@gmail.com

2:12
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अपडेट मेट्रो कार्ड चौक पर अंकुश कैसे लगाएं महत्व कांक्षा को करिए जो संभव है जिसके होने से किसी को कोई नुकसान नहीं आपको कुछ फायदा है अच्छी बात लेकिन किसी को कोई नुकसान नहीं है इस बात का ध्यान रखना आपको फायदा किसी को नुकसान नहीं मानता हमेशा जीत होती है और अमित शाह कास्ट कारकूदी तूफान कितनी कर लेता है और जब दुकान क्या बहुत ज्यादा कर लेता है उसके अंदर क्रोध इंकार लोग नफरत घृणा जैसी बुराइयां जन्म ले लेती रिजल्ट क्या होता है जो इंसान अपने साथ समस्त बंधनों को मौत के मुंह में डाल देता है इसके लिए अपने आप अपने अंदर सद्गुणों को ओपन करें और अच्छे लोगों के साथ बुद्धिजीवी लोगों के साथ बैठे उनसे संपर्क करें उनसे राय दें और उस राय के साथ अपने आपको उसमें एडजेस्ट करें कोशिश करें कि आप ऐसे लोग आपके जीवन का हिस्सा बने जो आपको मार्गदर्शन दे सकते हैं क्योंकि अगर जिंदगी बोझ बन जाती है तो कोई नेट बंद था मैंने नहीं पूछा मई तक अच्छी होती है जहां इंसान को सफलता मिलती है और उसे किसी का नहीं होता दर्द तो नहीं होता देख लीजिए पारो वंश के विनाश के रूप में साथ में गुरु द्रोणाचार्य के पिता में गुरु कृपाचार्य जैसे लोग भी उसके शिकार मूवी यहां यह संकेत मिलता है

update metro card chauk par ankush kaise lagaye mahatva kanksha ko kariye jo sambhav hai jiske hone se kisi ko koi nuksan nahi aapko kuch fayda hai achi baat lekin kisi ko koi nuksan nahi hai is baat ka dhyan rakhna aapko fayda kisi ko nuksan nahi maanta hamesha jeet hoti hai aur amit shah caste karkudi toofan kitni kar leta hai aur jab dukaan kya bahut zyada kar leta hai uske andar krodh inkar log nafrat ghrina jaisi buraiyan janam le leti result kya hota hai jo insaan apne saath samast bandhanon ko maut ke mooh me daal deta hai iske liye apne aap apne andar sadgunon ko open kare aur acche logo ke saath buddhijeevi logo ke saath baithe unse sampark kare unse rai de aur us rai ke saath apne aapko usme edajest kare koshish kare ki aap aise log aapke jeevan ka hissa bane jo aapko margdarshan de sakte hain kyonki agar zindagi bojh ban jaati hai toh koi net band tha maine nahi poocha may tak achi hoti hai jaha insaan ko safalta milti hai aur use kisi ka nahi hota dard toh nahi hota dekh lijiye paro vansh ke vinash ke roop me saath me guru dronacharya ke pita me guru kripacharya jaise log bhi uske shikaar movie yahan yah sanket milta hai

अपडेट मेट्रो कार्ड चौक पर अंकुश कैसे लगाएं महत्व कांक्षा को करिए जो संभव है जिसके होने से

Romanized Version
Likes  455  Dislikes    views  3727
WhatsApp_icon
7 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user
Play

Likes  117  Dislikes    views  2266
WhatsApp_icon
user

Bhim Singh Kasnia

Acupunctrist,Motivational Speaker

0:36
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार आपका सवाल है अत्यधिक महत्वाकांक्षाओं पर अंकुश कैसे लगाएं देखिए महत्वाकांक्षा आदमी में होनी चाहिए महत्वाकांक्षा पर अंकुश लगाने की आवश्यकता नहीं है आवश्यकता है आप की लालसा पर लालच पर लोग पर अंकुश लगाने की आप की महत्वाकांक्षा में लोभ लालच नहीं जुड़ा होना चाहिए मैं पक्षी होना एक अच्छी बात है लेकिन लो भी और लालची होना बहुत गलत बात है तो मैं तो आकांक्षा पर अंकुश लगाने की आवश्यकता नहीं है नमस्कार धन्यवाद

namaskar aapka sawaal hai atyadhik mahatwakankshaon par ankush kaise lagaye dekhiye mahatwakanksha aadmi me honi chahiye mahatwakanksha par ankush lagane ki avashyakta nahi hai avashyakta hai aap ki lalasa par lalach par log par ankush lagane ki aap ki mahatwakanksha me lobh lalach nahi juda hona chahiye main pakshi hona ek achi baat hai lekin lo bhi aur lalchi hona bahut galat baat hai toh main toh aakansha par ankush lagane ki avashyakta nahi hai namaskar dhanyavad

नमस्कार आपका सवाल है अत्यधिक महत्वाकांक्षाओं पर अंकुश कैसे लगाएं देखिए महत्वाकांक्षा आदमी

Romanized Version
Likes  10  Dislikes    views  168
WhatsApp_icon
user
Play

Likes  234  Dislikes    views  2681
WhatsApp_icon
play
user

Manish Singh

VOLUNTEER

0:56

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

डिब्बा कभी भी मत हो खान साहब के अत्याधिक हूं यानी कि जो भी आप कर रहे हैं जितनी भी आपकी हैसियत है तू उससे ज्यादा अगर आपको चाहिए है आपको लाइफ में तो दो तरीके हो सकते हैं एक तो 29 पर रोक लगाई नहीं तो दूसरा जो सबसे अच्छे हो सकता है कि उसके लिए मेहनत करें रोक लगाने वाला इंसान कभी भी आगे नहीं बढ़ सकता है अगर आप कभी कुछ देख रहे दुकान में आपको वह चाहिए लेकिन आप अगर सुस्ती कि नहीं है मैं फोन नहीं कर सकता और वह सोच अगर आप आगे बढ़ जाते हैं तो जिस स्थिति में आप उस दिन है आप अपने मरने के दिन तक दूसरी स्थिति में रहेंगे तो कोई नहीं कह रहा है कि जो आपकी महत्वाकांक्षा है उस पर रोक लगाई आपने उसको पाने के लिए उसको पाने के लिए मेहनत करना चालू करें जितनी आपको और एकता मेहनत करना पड़े तो इससे देखे वह आपको चीज भी मिल जाएगी और आप जो है अपनी लाइफ में हमेशा आगे बढ़ते जाएंगे कोई भी इंसान जो है अगर आप कभी भी फ्लाइट के सपने देखेंगे तू ही आप कार पर घूम पाएंगे आप पहले से ही सोचेंगे कि मेरे पास साइकिल हो तो आप पैदल चलने के लायक हमेशा रहेंगे

dibba kabhi bhi mat ho khan saheb ke atyadhik hoon yani ki jo bhi aap kar rahe hain jitni bhi aapki haisiyat hai tu usse zyada agar aapko chahiye hai aapko life mein toh do tarike ho sakte hain ek toh 29 par rok lagayi nahi toh doosra jo sabse acche ho sakta hai ki uske liye mehnat kare rok lagane vala insaan kabhi bhi aage nahi badh sakta hai agar aap kabhi kuch dekh rahe dukaan mein aapko vaah chahiye lekin aap agar susti ki nahi hai phone nahi kar sakta aur vaah soch agar aap aage badh jaate hain toh jis sthiti mein aap us din hai aap apne marne ke din tak dusri sthiti mein rahenge toh koi nahi keh raha hai ki jo aapki mahatwakanksha hai us par rok lagayi aapne usko paane ke liye usko paane ke liye mehnat karna chaalu kare jitni aapko aur ekta mehnat karna pade toh isse dekhe vaah aapko cheez bhi mil jayegi aur aap jo hai apni life mein hamesha aage badhte jaenge koi bhi insaan jo hai agar aap kabhi bhi flight ke sapne dekhenge tu hi aap car par ghum payenge aap pehle se hi sochenge ki mere paas cycle ho toh aap paidal chalne ke layak hamesha rahenge

डिब्बा कभी भी मत हो खान साहब के अत्याधिक हूं यानी कि जो भी आप कर रहे हैं जितनी भी आपकी हैस

Romanized Version
Likes  9  Dislikes    views  184
WhatsApp_icon
user

Ajay Sinh Pawar

Founder & M.D. Of Radiant Group Of Industries

1:37
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

प्रदीप मथुर आकांक्षाओं पर अंकुश कैसे लगाएं रिकी महत्वाकांक्षाओं को अत्यधिक करनी चाहिए ऐसी बात नहीं है कीमतों का इंतजाम प्राप्त अंकों के साथ जरूर सुनना चाहिए सिर्फ तर्क करने से ही सिद्धि हासिल नहीं होती सिद्धि हासिल होती है महत्वाकांक्षा करने के बाद उस पर मेहनत करने से और प्रयास करने से और बिना प्रयास बिना मेहनत और बिना उसको समय दिए हुए हैं महत्वाकांक्षा कभी सिद्ध नहीं होती इसलिए अगर महत्वाकांक्षा अंकुश लगाना चाहते हैं तो अंकुश मत लगाइए लेकिन उच्च महत्वाकांक्षा को पूरा करने के लिए भरपूर दिमाग के साथ बुद्धि का सदुपयोग करते हुए मेहनत करी प्रयास करें और उस महत्वाकांक्षा को अपनी जो लाइफ में गोल बना हुआ है जो टारगेट बनाया हुआ है आपने सिद्धि पाने की सूची है वहां तक पहुंचने की पूरी कोशिश करके अपनी पूरी शिद्दत के साथ मेहनत करी तब तक का नक्शा आपको बिल्कुल मिल जाएगी जो आपने सोचा है वह आपको सिद्धि अवश्य बने

pradeep mathur akankshaon par ankush kaise lagaye riki mahatwakankshaon ko atyadhik karni chahiye aisi baat nahi hai kimton ka intajam prapt ankon ke saath zaroor sunana chahiye sirf tark karne se hi siddhi hasil nahi hoti siddhi hasil hoti hai mahatwakanksha karne ke baad us par mehnat karne se aur prayas karne se aur bina prayas bina mehnat aur bina usko samay diye hue hain mahatwakanksha kabhi siddh nahi hoti isliye agar mahatwakanksha ankush lagana chahte hain toh ankush mat lagaaiye lekin ucch mahatwakanksha ko pura karne ke liye bharpur dimag ke saath buddhi ka sadupyog karte hue mehnat kari prayas kare aur us mahatwakanksha ko apni jo life me gol bana hua hai jo target banaya hua hai aapne siddhi paane ki suchi hai wahan tak pahuchne ki puri koshish karke apni puri shiddat ke saath mehnat kari tab tak ka naksha aapko bilkul mil jayegi jo aapne socha hai vaah aapko siddhi avashya bane

प्रदीप मथुर आकांक्षाओं पर अंकुश कैसे लगाएं रिकी महत्वाकांक्षाओं को अत्यधिक करनी चाहिए ऐसी

Romanized Version
Likes  327  Dislikes    views  4574
WhatsApp_icon
user

Jyoti Mehta

Ex-History Teacher

1:58
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मेरे विचार से इंसान को महत्वाकांक्षी होना चाहिए इंसान की महत्वाकांक्षा है कि उसे एक मकान तक ले जाती है उसकी मंजिल तक पहुंचाती है और अगर वह कोई महत्वाकांक्षा करता है तो उस तक पहुंचने कि उसे ज़िद रहती है जुनून रहता है और वह वहां से कर लेता है लेकिन हां महत्व कम सुन के साथ-साथ हमें अपनी जिंदगी की रफ्तार को देखना चाहिए अपनी संतोष को देखना चाहिए अपने सुख को देखना चाहिए कोई भी महत्व काम से इतनी महत्वपूर्ण नहीं होनी चाहिए कि उसके पीछे हम अपना रोजमर्रा का जो सुख है उसे खत्म कर दें क्यों मारी शांति है वह नष्ट हो जाए और हम एक अंधाधुंध दौड़ लगा ले उसमें आकांक्षा के लिए यहां हमें अपने आप को समझाना जरूरी है रोकना जरूरी है लेकिन महत्वाकांक्षा जरूरी चाहिए और मुझे लगता है यह की स्टेप बाय स्टेप होनी चाहिए कि आज अगर आपके पास इस फोटो है तो आप जरूर गाड़ी की महत्वाकांक्षा करेंगे और उसके लिए बस आपको थोड़ा सा मेहनत करनी है थोड़ा सा ज्यादा वक्त पैसा कमाने में लगाना है थोड़ा सा दिमाग ज्यादा इस्तेमाल करना है तो आप यह अच्छी तरह से अचीव कर सकते हैं और मैं यही कहना चाहूंगी कि महत्वाकांक्षी होना चाहिए इंसान को लेकिन अति महत्वाकांक्षी नहीं होना चाहिए कि उसकी महत्वाकांक्षा उसके सरल और सादा जीवन को ख़राब कर दे उसकी जीवन की सुख-शांति को नष्ट कर दे और वह सिर्फ उस लालसा के पीछे भागता रहे और अपने जीवन को जीना भूल जाए यह गलत है लेकिन स्टेप बाय स्टेप अगर आप महत्वाकांक्षी रखते हैं और उन्हें पूरी कर पाते हैं तो यह हमारी जिंदगी के लिए बहुत सही है और इसी से हम एक मंजिल तय कर लेते हैं पूरी मेहनत और लगन से हम अपनी महत्वाकांक्षा तक पहुंच सकते हैं

mere vichar se insaan ko mahatwakanshi hona chahiye insaan ki mahatwakanksha hai ki use ek makan tak le jaati hai uski manjil tak pohchti hai aur agar vaah koi mahatwakanksha karta hai toh us tak pahuchne ki use zid rehti hai junun rehta hai aur vaah wahan se kar leta hai lekin haan mahatva kam sun ke saath saath hamein apni zindagi ki raftaar ko dekhna chahiye apni santosh ko dekhna chahiye apne sukh ko dekhna chahiye koi bhi mahatva kaam se itni mahatvapurna nahi honi chahiye ki uske peeche hum apna rozmarra ka jo sukh hai use khatam kar de kyon mari shanti hai vaah nasht ho jaaye aur hum ek andhadhundh daudh laga le usme aakansha ke liye yahan hamein apne aap ko samajhana zaroori hai rokna zaroori hai lekin mahatwakanksha zaroori chahiye aur mujhe lagta hai yah ki step bye step honi chahiye ki aaj agar aapke paas is photo hai toh aap zaroor gaadi ki mahatwakanksha karenge aur uske liye bus aapko thoda sa mehnat karni hai thoda sa zyada waqt paisa kamane mein lagana hai thoda sa dimag zyada istemal karna hai toh aap yah achi tarah se achieve kar sakte hain aur main yahi kehna chahungi ki mahatwakanshi hona chahiye insaan ko lekin ati mahatwakanshi nahi hona chahiye ki uski mahatwakanksha uske saral aur saada jeevan ko kharab kar de uski jeevan ki sukh shanti ko nasht kar de aur vaah sirf us lalasa ke peeche bhagta rahe aur apne jeevan ko jeena bhool jaaye yah galat hai lekin step bye step agar aap mahatwakanshi rakhte hain aur unhe puri kar paate hain toh yah hamari zindagi ke liye bahut sahi hai aur isi se hum ek manjil tay kar lete hain puri mehnat aur lagan se hum apni mahatwakanksha tak pohch sakte hain

मेरे विचार से इंसान को महत्वाकांक्षी होना चाहिए इंसान की महत्वाकांक्षा है कि उसे एक मकान त

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  1
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!