भारत माता की जय नारा किसी भी धर्म से संबंधित नहीं है? इसके बारे में आपका क्या दृष्टि कौन है?...


play
user

Neha S

UPSC कोच

0:59

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भारत माता की जय का नारा किसी भी धर्म से संबंधित नहीं है क्योंकि हम एक भारत हम जिस देश में रहते हैं वह भारत है इंडिया है और भारत एक धर्मनिरपेक्ष राज्य है धर्मनिरपेक्षता के सहारे ही धर्म को माननीय प्रधान मान्यता प्रदान है सारे ही धर्म को हम ना रिस्पेक्ट करते हैं सारे धर्म एक दूसरे के दर्द से तुरंत की रिस्पेक्ट करते हैं अपन बाद भारत माता की तो जब हम एक कंट्री में रह रहे हैं जैसे की एक मुट्ठी होती है एक मुट्ठी का योग 20 होता है वह अगर हम हसीनों को लेकर चलने और पांचों उंगलियों को दगा पांचों उंगलियां भी मुट्ठी बंद होगी तुम उस हथेली पर हीटर चुका उसी तरीके से भारत माता जो है वह भारत जो धरती है वह सभी लोगों की है और भारत माता की जय करने में किसी को कोई प्रॉब्लम नहीं होनी चाहिए और ना ही होती है जो भी एक भारतीय है जो भी है कि अपने देश की मां की रक्षा अब जो माउस का बोझ उठा रही है उसका उसकी चेक करने में कोई प्रॉब्लम नहीं होनी चाहिए हमें स्क्रीन की रिस्पेक्ट करनी चाहिए भारत माता की जय

bharat mata ki jai ka naara kisi bhi dharm se sambandhit nahi hai kyonki hum ek bharat hum jis desh mein rehte hain vaah bharat hai india hai aur bharat ek dharmanirapeksh rajya hai dharmanirapekshata ke sahare hi dharm ko mananiya pradhan manyata pradan hai saare hi dharm ko hum na respect karte hain saare dharm ek dusre ke dard se turant ki respect karte hain apan baad bharat mata ki toh jab hum ek country mein reh rahe hain jaise ki ek mutthi hoti hai ek mutthi ka yog 20 hota hai vaah agar hum hasinon ko lekar chalne aur panchon ungaliyon ko daga panchon ungaliyan bhi mutthi band hogi tum us hatheli par heater chuka usi tarike se bharat mata jo hai vaah bharat jo dharti hai vaah sabhi logo ki hai aur bharat mata ki jai karne mein kisi ko koi problem nahi honi chahiye aur na hi hoti hai jo bhi ek bharatiya hai jo bhi hai ki apne desh ki maa ki raksha ab jo mouse ka bojh utha rahi hai uska uski check karne mein koi problem nahi honi chahiye hamein screen ki respect karni chahiye bharat mata ki jai

भारत माता की जय का नारा किसी भी धर्म से संबंधित नहीं है क्योंकि हम एक भारत हम जिस देश में

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  23
WhatsApp_icon
3 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Sachin Bharadwaj

Faculty - Mathematics

0:59
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मुझे लगता है भारत माता की जय कहने में किसी भी तरह की कोई शर्म नहीं होनी चाहिए चाहे वह किसी भी धर्म किसी भी रिलेशन को चाहे हिंदू हो या मुसलमान हो क्रिस्चियन हो बहुत दूर से आई हो उसे कोई फर्क नहीं पड़ता क्योंकि जिस देश में हम रह रहे हैं अगर हम उसको मां की तरह पूछते हैं तो अगर हम भारत माता की जय गंगे तो मुझे नहीं लगता किसी भी तरह का कोई नाम है अगर जिस दिन जो देश हमको इतना सब कुछ दे रहा है जो हम को जीने का सहारा है जो हमको खाने के लिए देता है रहने के लिए देता है तो उसके अगर हम जानी बोल सकते तो मुझे नहीं लगता कि हमें इस तरह की जिंदगी में कोई इस तरह की जिंदगी जीने का कोई अधिकार है या इस देश में रहने का कोई अधिकार मुझे तो मैं बस इतना ही कहूंगा जो लोग भारत माता की जय कहने में संकोच करते हैं उनको तो शर्म के मारे डूब के मर जाना चाहिए क्योंकि जिस देश ने उनको इतना सब कुछ दिया इतना प्यार दिया इतना सम्मान दिया रहने को जगह दी उसकी अगर वह नहीं बोल सकते तूने जीना को

mujhe lagta hai bharat mata ki jai kehne mein kisi bhi tarah ki koi sharm nahi honi chahiye chahen vaah kisi bhi dharm kisi bhi relation ko chahen hindu ho ya musalman ho christian ho bahut dur se I ho use koi fark nahi padta kyonki jis desh mein hum reh rahe hain agar hum usko maa ki tarah poochhte hain toh agar hum bharat mata ki jai gange toh mujhe nahi lagta kisi bhi tarah ka koi naam hai agar jis din jo desh hamko itna sab kuch de raha hai jo hum ko jeene ka sahara hai jo hamko khane ke liye deta hai rehne ke liye deta hai toh uske agar hum jani bol sakte toh mujhe nahi lagta ki hamein is tarah ki zindagi mein koi is tarah ki zindagi jeene ka koi adhikaar hai ya is desh mein rehne ka koi adhikaar mujhe toh main bus itna hi kahunga jo log bharat mata ki jai kehne mein sankoch karte hain unko toh sharm ke maare doob ke mar jana chahiye kyonki jis desh ne unko itna sab kuch diya itna pyar diya itna sammaan diya rehne ko jagah di uski agar vaah nahi bol sakte tune jeena ko

मुझे लगता है भारत माता की जय कहने में किसी भी तरह की कोई शर्म नहीं होनी चाहिए चाहे वह किसी

Romanized Version
Likes  8  Dislikes    views  37
WhatsApp_icon
user

Anukrati

Journalism Graduate

1:21
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

माताओं का सम्मान भारतीय संस्कृति का अभिन्न अंग है हिंदू मुसलमान सिख इसाई और अन्य सभी समुदाय ने माता को आराधना दी गई है यह स्वाभाविक है कि देश को भी इस तरह से विस्तारित किया जा सकता है देश को मां बुलाना मतलब उससे मां जैसा तुंहें पोषण और अमृता जैसी मात्र विशेषताओं को सपना है हालांकि कुछ कलाकारों ने भारत माता को देवी के रूप में परिभाषित और चित्रित करने के लिए चुना हो सकता है उसका मतलब यह नहीं कि माता शब्द की ही कोई धार्मिक नारा बन जाए इसे मातृभूमि के लिए एक सलामी के रूप में सोचें जो लोग इसे करने के लिए उद्देश्य करते हैं यादों के सहारे का अर्थ गलत समझ रहे हैं या नहीं स्वार्थ वाले लोगों द्वारा किए जा रहे हैं यह कहते हुए या बिल्कुल ठीक है अगर कोई भारत माता की जय कहना नहीं चाहता है कहीं भी सरकार ने इसे जनादेश नहीं बनाया है उसी समय यह भी स्पष्ट है कि यह जप करना धार्मिक कार्य नहीं है और इस्लामिक धर्म के सिद्धांतों का उल्लंघन नहीं करता है तो जैसे लोगों को नारे का जप करने के लिए मजबूर नहीं किया जाना चाहिए वैसे ही कोई भी सांप्रदायिक आदेश नहीं देना चाहिए कि उसका जपना किया जाए

mataon ka sammaan bharatiya sanskriti ka abhinn ang hai hindu musalman sikh isai aur anya sabhi samuday ne mata ko aradhana di gayi hai yah swabhavik hai ki desh ko bhi is tarah se vistarit kiya ja sakta hai desh ko maa bulana matlab usse maa jaisa tunhen poshan aur amrita jaisi matra visheshtaon ko sapna hai halaki kuch kalakaron ne bharat mata ko devi ke roop mein paribhashit aur chitrit karne ke liye chuna ho sakta hai uska matlab yah nahi ki mata shabd ki hi koi dharmik naara ban jaaye ise matribhoomi ke liye ek salaami ke roop mein sochen jo log ise karne ke liye uddeshya karte hain yaadon ke sahare ka arth galat samajh rahe hain ya nahi swarth waale logo dwara kiye ja rahe hain yah kehte hue ya bilkul theek hai agar koi bharat mata ki jai kehna nahi chahta hai kahin bhi sarkar ne ise janaadesh nahi banaya hai usi samay yah bhi spasht hai ki yah jap karna dharmik karya nahi hai aur islamic dharm ke siddhanto ka ullanghan nahi karta hai toh jaise logo ko nare ka jap karne ke liye majboor nahi kiya jana chahiye waise hi koi bhi sampradayik aadesh nahi dena chahiye ki uska japna kiya jaaye

माताओं का सम्मान भारतीय संस्कृति का अभिन्न अंग है हिंदू मुसलमान सिख इसाई और अन्य सभी समुदा

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  17
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!