किसी भी इवेंट में आतिशबाजी पर रोक लगाने के बारे में उत्तर प्रदेश सरकार का प्रमुख निर्णय है, क्या सिर्फ आतिशबाजी रोक ने से प्रदूषण कम हो सकता है?...


play
user

Chandraprakash Joshi

Ex-AGM RBI & CEO@ixamBee.com

0:56

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

कहीं मैं पढ़ रहा था मुझे परसेंटेज याद नहीं है कि दुनिया में जो आतिशबाज़ी से पोलूशन होता है वह कितना कम परसेंट है और इंडिया में भी जो आतिशबाज़ी होती है वह दुनिया में जो आतिशबाज़ी होती है उसका बहुत ही छोटा परसेंट है लेकिन मुझे लगता है सरकार आजकल इस तरीके के डिसीजन दिखावे के लिए मीडिया में आने के लिए ज्यादा करती है क्योंकि आतिशबाजी में आम आदमी जुड़ा हुआ है तो यह न्यूज़ ज्यादा जल्दी फैलेगी लेकिन वह नहीं दिखेगी जो खास आदमियों की इतनी सारी फैक्ट्रियां लगी है जिनसे गंगा और यमुना जो है अपना पिछले 20 सालों से प्रदूषित होती आ रही है जो हमारे पुराने शहर है कानपुर मामा वाराणसी मुरादाबाद आर यू पी के शहरों के हालत देखिए क्या बुरी हालत है आप सड़कों में धुंध की कितनी दूरी है कंस्ट्रक्शन में कितना पोलूशन हो रहा है इन सब पर काम करने की बजाय सरकार जिनसे उसको न्यूज़ आइटम मिल रहा है मीडिया पॉपुलर ट्री मिल गई है उस पर लगी हुई है तो कोई ग्रेट नहीं मिला नहीं है

kahin main padh raha tha mujhe percentage yaad nahi hai ki duniya mein jo atishbazi se pollution hota hai vaah kitna kam percent hai aur india mein bhi jo atishbazi hoti hai vaah duniya mein jo atishbazi hoti hai uska bahut hi chota percent hai lekin mujhe lagta hai sarkar aajkal is tarike ke decision dikhaave ke liye media mein aane ke liye zyada karti hai kyonki aatishabaji mein aam aadmi juda hua hai toh yah news zyada jaldi failegi lekin vaah nahi dikhegi jo khaas adamiyo ki itni saree factoriyan lagi hai jinse ganga aur yamuna jo hai apna pichle 20 salon se pradushit hoti aa rahi hai jo hamare purane shehar hai kanpur mama varanasi muradabad R you p ke shaharon ke halat dekhiye kya buri halat hai aap sadkon mein dhundh ki kitni doori hai construction mein kitna pollution ho raha hai in sab par kaam karne ki bajay sarkar jinse usko news item mil raha hai media popular tree mil gayi hai us par lagi hui hai toh koi great nahi mila nahi hai

कहीं मैं पढ़ रहा था मुझे परसेंटेज याद नहीं है कि दुनिया में जो आतिशबाज़ी से पोलूशन होता है

Romanized Version
Likes  29  Dislikes    views  308
KooApp_icon
WhatsApp_icon
7 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!