कुछ चीज़ ें क्या हैं जो आपको प्रभावित नहीं करती हैं?...


user

Divya

Digital media journalist

1:33
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

ऐसी बहुत सी चीज है जो शायद एक टाइम पर मुझे बहुत प्रभावित करती थी पर अब बिल्कुल भी नहीं करती जिनमें से एक जो मेरे दिमाग में आता है वही है कि एक इंसान कितनी अच्छी अंग्रेजी या इंग्लिश बोल सकता है आप पहले मुझे लगता है कि मैं उन लोगों को जांच करती थी जो कि ठीक से अंग्रेजी नहीं बोल पाते थे जो कि टूटी फूटी अंग्रेजी होती थी या तो ज्यादा हिंदी में बात करना प्रचार करते थे मुझे पता था कि यह क्या है मतलब ठीक से इंग्लिश भी नहीं बोल पाते और शायद मुझे लगता था कि वह अच्छे लोग नहीं है या इन लोगों के साथ में घूमना फिरना नहीं चाहती और जैसे-जैसे मैं बड़ी हुई मुझे रिलाइज हुआ कि एक बहुत ही गलत सोच है और इंसान के थॉट्स अच्छे होने चाहिए वह उसे जिस भी भाषा में बोल रहा है उसमें कोई चीज कोई भी डिफरेंस नहीं बनाती है इसीलिए शायद मुझे वह कल आप भी इतनी पसंद है क्योंकि इसमें अलग-अलग भाषाओं में लोग अपने व्यूवर्स जो लोगों के साथ शेयर कर सकते हैं जो उनकी न्यूज़ जरूरी है जिस भाषा में वह शेयर कर रहे हैं उसका वह इतना जरूरी नहीं होता है तो यह क्लोनिंग चौकी चीज मुझे पहले बहुत प्रभावित करती थी और अब नहीं करती आई थिंक वही होगी जो कि है लोगों की कितनी अच्छी हिंदी बोल सकते हैं या नहीं बोल सकते हमारे देश में इंग्लिश अच्छे से बोलने के ऊपर इतना ज्यादा स्ट्रेस दिया जाता है तो मुझे लगता बिल्कुल भी जरूरी नहीं है आप जो भी बोल रहे हैं आप दिल से बोले अच्छे से एक्सप्रेस करें अर्थिंग वही चीज है जो सबसे ज्यादा नाटक करती है

aisi bahut si cheez hai jo shayad ek time par mujhe bahut prabhavit karti thi par ab bilkul bhi nahi karti jinmein se ek jo mere dimag mein aata hai wahi hai ki ek insaan kitni achi angrezi ya english bol sakta hai aap pehle mujhe lagta hai ki main un logo ko jaanch karti thi jo ki theek se angrezi nahi bol paate the jo ki tuti phooti angrezi hoti thi ya toh zyada hindi mein baat karna prachar karte the mujhe pata tha ki yah kya hai matlab theek se english bhi nahi bol paate aur shayad mujhe lagta tha ki vaah acche log nahi hai ya in logo ke saath mein ghumana phirna nahi chahti aur jaise jaise main badi hui mujhe rilaij hua ki ek bahut hi galat soch hai aur insaan ke thoughts acche hone chahiye vaah use jis bhi bhasha mein bol raha hai usme koi cheez koi bhi difference nahi banati hai isliye shayad mujhe vaah kal aap bhi itni pasand hai kyonki isme alag alag bhashaon mein log apne vyuvars jo logo ke saath share kar sakte hain jo unki news zaroori hai jis bhasha mein vaah share kar rahe hain uska vaah itna zaroori nahi hota hai toh yah cloning chowki cheez mujhe pehle bahut prabhavit karti thi aur ab nahi karti I think wahi hogi jo ki hai logo ki kitni achi hindi bol sakte hain ya nahi bol sakte hamare desh mein english acche se bolne ke upar itna zyada stress diya jata hai toh mujhe lagta bilkul bhi zaroori nahi hai aap jo bhi bol rahe hain aap dil se bole acche se express kare earthing wahi cheez hai jo sabse zyada natak karti hai

ऐसी बहुत सी चीज है जो शायद एक टाइम पर मुझे बहुत प्रभावित करती थी पर अब बिल्कुल भी नहीं करत

Romanized Version
Likes  14  Dislikes    views  443
WhatsApp_icon
3 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
play
user

Kavita

Writer

1:59

Likes  13  Dislikes    views  326
WhatsApp_icon
play
user

Snehasish Gupta

Journalist / Traveller

0:26

Likes  14  Dislikes    views  370
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!