मैं अपने आप को और अधिक आत्म-प्रेरित कैसे कर सकता हूँ?...


user

Santosh Singh indrwar

Business Consultant & Life Couch

0:28
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आप अपने आप को आप को प्रेरित करने के लिए ध्यान करिए योग करिए अपने बारे में सोचिए कि हम क्या सही करते हैं क्या गलत करते हैं और उनके समाधान ढूंढिए आप अपने आप को योग और ध्यान के माध्यम से आप प्रेरित कर पाएंगे

aap apne aap ko aap ko prerit karne ke liye dhyan kariye yog kariye apne bare me sochiye ki hum kya sahi karte hain kya galat karte hain aur unke samadhan dhundhiye aap apne aap ko yog aur dhyan ke madhyam se aap prerit kar payenge

आप अपने आप को आप को प्रेरित करने के लिए ध्यान करिए योग करिए अपने बारे में सोचिए कि हम क्या

Romanized Version
Likes  7  Dislikes    views  90
WhatsApp_icon
30 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Diksha career expert

Career Counsellor

2:07
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हेलो फ्रेंड्स यह बहुत ही अच्छा सवाल है कि मैं अपने आप को और अधिकार में प्रेरित कैसे कर सकते हो देखी जिंदगी में क्या है आप जब भी कहीं जाते हैं कहीं आपका काम करते हैं तो बहुत से लोग हैं जो आप अकेला कोचिंग करके आपको पीछे धकेल देते हैं आपकी नीचा दिखाते हैं तो उनसे नारियल कंडीशन ओं से आप डरे नहीं आप एकदम प्रबल शक्ति की तरह आप आगे बढ़िए यही सबसे अच्छा आत्म प्रेरित करने का तरीका है कि आप अपने को चल पांडे कॉन्फिडेंस आफ कैसे लेते हैं आप उन लोगों को यह सूची कि उन्होंने आपके साथ ऐसा क्यों किया ऐसा कैसे किया आप अपने आप को देखे कि आपने किसी के लिए ऐसा बुरा तो नहीं किया आपने किसी को दिखाया तो नहीं है तो आप जरूर ही सफल होंगे और आप जरूर ही अपनी अपनी आत्मा को कंट्रोल कर पाएंगे बुरा ना करने से बुरा ना होने से और मैं कह सकती हूं कि आप सूर्य प्रणाम करें आप सबसे अच्छी आपको अंदर से जो शक्ति है वह सूरज जब उठता है जब आप उसकी रोशनी में जाते हैं आप उनकी किरणों से आपको सबसे ज्यादा आपको कॉन्फिडेंस मिलता है कि सूरज तब कर भी अपने को जला कर के भी लोगों को अंधेरा हटाकर उजाला देता है तो क्यों ना हम भी चाहे कितना भी हमारे आसपास अंधेरा क्यों ना हो हम उस अंधेरे की छटा को हटा करके हम आगे उजाले की ओर बढ़े तो आप सबसे अच्छा उदाहरण आप सूरत से ही रह सकते हैं तो आई हो आप समझ कि मैंने कैसे सूरज को अपनी लाइफ से डिलीट किया है ओके धन्यवाद

hello friends yah bahut hi accha sawaal hai ki main apne aap ko aur adhikaar me prerit kaise kar sakte ho dekhi zindagi me kya hai aap jab bhi kahin jaate hain kahin aapka kaam karte hain toh bahut se log hain jo aap akela coaching karke aapko peeche dhakel dete hain aapki nicha dikhate hain toh unse nariyal condition on se aap dare nahi aap ekdam prabal shakti ki tarah aap aage badhiye yahi sabse accha aatm prerit karne ka tarika hai ki aap apne ko chal pandey confidence of kaise lete hain aap un logo ko yah suchi ki unhone aapke saath aisa kyon kiya aisa kaise kiya aap apne aap ko dekhe ki aapne kisi ke liye aisa bura toh nahi kiya aapne kisi ko dikhaya toh nahi hai toh aap zaroor hi safal honge aur aap zaroor hi apni apni aatma ko control kar payenge bura na karne se bura na hone se aur main keh sakti hoon ki aap surya pranam kare aap sabse achi aapko andar se jo shakti hai vaah suraj jab uthata hai jab aap uski roshni me jaate hain aap unki kirano se aapko sabse zyada aapko confidence milta hai ki suraj tab kar bhi apne ko jala kar ke bhi logo ko andhera hatakar ujaala deta hai toh kyon na hum bhi chahen kitna bhi hamare aaspass andhera kyon na ho hum us andhere ki chata ko hata karke hum aage ujale ki aur badhe toh aap sabse accha udaharan aap surat se hi reh sakte hain toh I ho aap samajh ki maine kaise suraj ko apni life se delete kiya hai ok dhanyavad

हेलो फ्रेंड्स यह बहुत ही अच्छा सवाल है कि मैं अपने आप को और अधिकार में प्रेरित कैसे कर सकत

Romanized Version
Likes  6  Dislikes    views  79
WhatsApp_icon
user

Kaushik Chaitnya

Spiritual expert

1:21
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

पोयम को आतुर प्रेरित करने के लिए सबसे पहले अपना एक लक्ष्य बनाइए हमारे जीवन में लक्ष्य मेरे सामने होता है तो लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए हम स्वयं से ही प्रेरित होते रहते हैं और उस लक्ष्य की प्राप्ति के लिए कितने उद्दीन की जरूरत है एक बहुत ही सुंदर सुभाषित श्लोक लिखा गया है उद्यमेन हि सिध्यंति कार्याणि ना मनोरथ ही नहीं सकता सुसंगत से पर्युषण टीमों केंद्र का बिना उद्यम किए किसी को भी आज तक सफलता ना मिली आज तक पर भी जब भूख लगती है तो उसे भी शिकार करना पड़ता है यह देखो जंगल का राजा है बहुत बलवान है फिर भी उसे मेहनत करनी ही पड़ती है अपनी क्षुधा की निवृत्ति के लिए ठीक उसी प्रकार जब लक्ष्य होगा तो लक्ष्य पर हम स्वयं प्रेरित होंगे हर एक बड़ी सुंदर लाइन है नर हो न निराश करो मन को कुछ काम करो कुछ काम करो जग में रहकर कुछ नाम करो यह जन्म हुआ किस अर्थ अहो जिसमें यह जीवन व्यर्थ न हो समझो कि सुयोग न जाए चला कब व्यर्थ हुआ सब उपाय भला नर हो न निराश करो मन को कुछ काम करो कुछ काम करो जग में रहकर कुछ नाम करो जगह आप के भीतरिया लक्ष्य निर्धारित होगा तो आप प्रेम से ही प्रेरित होंगे

poem ko aatur prerit karne ke liye sabse pehle apna ek lakshya banaiye hamare jeevan me lakshya mere saamne hota hai toh lakshya ko prapt karne ke liye hum swayam se hi prerit hote rehte hain aur us lakshya ki prapti ke liye kitne uddhin ki zarurat hai ek bahut hi sundar subhashit shlok likha gaya hai udyamen hi sidhyanti karyani na manorath hi nahi sakta susangat se teamo kendra ka bina udyam kiye kisi ko bhi aaj tak safalta na mili aaj tak par bhi jab bhukh lagti hai toh use bhi shikaar karna padta hai yah dekho jungle ka raja hai bahut balwan hai phir bhi use mehnat karni hi padti hai apni kshudha ki nivritti ke liye theek usi prakar jab lakshya hoga toh lakshya par hum swayam prerit honge har ek badi sundar line hai nar ho na nirash karo man ko kuch kaam karo kuch kaam karo jag me rahkar kuch naam karo yah janam hua kis arth aho jisme yah jeevan vyarth na ho samjho ki suyog na jaaye chala kab vyarth hua sab upay bhala nar ho na nirash karo man ko kuch kaam karo kuch kaam karo jag me rahkar kuch naam karo jagah aap ke bhitriya lakshya nirdharit hoga toh aap prem se hi prerit honge

पोयम को आतुर प्रेरित करने के लिए सबसे पहले अपना एक लक्ष्य बनाइए हमारे जीवन में लक्ष्य मेरे

Romanized Version
Likes  24  Dislikes    views  245
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार आपका प्रश्न है कि आप अपने आप को अधिकतम प्रेरित कैसे कर सकते हैं देखिए व्यक्ति यदि अपने आपको आतम प्रेरित करता है तभी वह जीवन में आगे बढ़ पाता है आतम प्रेरित करने के लिए सबसे पहले हमें अपने लक्ष्यों को बनाना है और उन लक्ष्यों को हमने कैसे प्राप्त करना है उसके लिए उसकी पूरी रूपरेखा बनानी है और कहीं ना कहीं उस रूपरेखा को समय-समय पर उसकी समीक्षा करनी है कि हम सही दिशा में बढ़ रहे हैं हमें लोगों की सहायता लेनी है अपने टारगेट पूरा करने के लिए क्योंकि जब हम किसी की सहायता लेते हैं और किसी को सहायता देते हैं तो वह कार्य जल्दी इस समय से पूरा होता है इसलिए जहां तक संभव हो आप भी दूसरों के लक्ष्यों को प्राप्त करने में उनकी मदद कीजिए और अगर आपको लगता है कि किसी मदद से आपका कार्य जल्दी खत्म हो सकता है तो आप उससे मदद मांग सकते हैं अभिमान कहीं ना कहीं काईगो आपके लक्ष्यों से आपको दूर ले जाता है इसलिए कभी भी वो आगे नहीं लेकर आना चाहिए उसके अलावा हमें अनुशासित रहना है लगातार अपने लक्ष्य पर काम करना है आतम प्रिंट करने के लिए जब हम अपने लगते को बाहर में पढ़ते हैं और उस लक्ष्य को प्राप्त करने के बाद जो खुशी या जो होने वाला है उसकी कल्पना करते हैं तो हमें आनंद आता है और हम आतम प्रेरित होते हैं आतम प्रेरित होने के बाद हमारा अपने प्रति आत्मविश्वास भी बढ़ता है इसके लिए हमें अपनी संकल्प शक्ति को भी बनाए रखना है धन्यवाद

namaskar aapka prashna hai ki aap apne aap ko adhiktam prerit kaise kar sakte hain dekhiye vyakti yadi apne aapko atam prerit karta hai tabhi vaah jeevan me aage badh pata hai atam prerit karne ke liye sabse pehle hamein apne lakshyon ko banana hai aur un lakshyon ko humne kaise prapt karna hai uske liye uski puri rooprekha banani hai aur kahin na kahin us rooprekha ko samay samay par uski samiksha karni hai ki hum sahi disha me badh rahe hain hamein logo ki sahayta leni hai apne target pura karne ke liye kyonki jab hum kisi ki sahayta lete hain aur kisi ko sahayta dete hain toh vaah karya jaldi is samay se pura hota hai isliye jaha tak sambhav ho aap bhi dusro ke lakshyon ko prapt karne me unki madad kijiye aur agar aapko lagta hai ki kisi madad se aapka karya jaldi khatam ho sakta hai toh aap usse madad maang sakte hain abhimaan kahin na kahin kaigo aapke lakshyon se aapko dur le jata hai isliye kabhi bhi vo aage nahi lekar aana chahiye uske alava hamein anushasit rehna hai lagatar apne lakshya par kaam karna hai atam print karne ke liye jab hum apne lagte ko bahar me padhte hain aur us lakshya ko prapt karne ke baad jo khushi ya jo hone vala hai uski kalpana karte hain toh hamein anand aata hai aur hum atam prerit hote hain atam prerit hone ke baad hamara apne prati aatmvishvaas bhi badhta hai iske liye hamein apni sankalp shakti ko bhi banaye rakhna hai dhanyavad

नमस्कार आपका प्रश्न है कि आप अपने आप को अधिकतम प्रेरित कैसे कर सकते हैं देखिए व्यक्ति यदि

Romanized Version
Likes  108  Dislikes    views  2842
WhatsApp_icon
user

कृष्णा नंद मिश्र। वशिष्ठ जी।

विद्या।दान।यज्ञ करना

0:26
Play

Likes  3  Dislikes    views  111
WhatsApp_icon
user

Ankur Nautiyal

Career & Relationship Counsellor, Motivator

1:17
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मैं अपने आप को और भी काफी प्रेरित कैसे कर सकता हूं तो आपका यह क्वेश्चन बहुत अच्छी है आप अपने को अभी प्रेरित ऐसे कर सकते हैं कि आप अपने में ऐसी चीजें आप देखिए मोटिवेशन वाली चीजें देखे अपने आप को प्रेरित करें कि हां आप क्या कर सकते हैं आपके क्या जिंदगी क्या कि क्या उद्देश्य हैं और उद्देश्य को फोकस करें और आपके पास जो आपके एबिलिटी हैं उनको लिखेंगे कि मेरे पास ऐसी चीजें एबिलिटी है मेरे पास एक काबिलियत है और उनका वीडियो तो है मेरे लक्ष्य उनको मैं आप इस तरीके से मैं अपनी जिंदगी में उतार सकता उन लोगों को मैं समझा सकता हूं लोगों के प्रति में अपना अपनी जो झलक है वह दिखा सकता हूं प्रभावित कर सकता हूं तो अपनी पर्सनैलिटी को अच्छे तरीके से आप अगर शो करेंगे डर जाएंगे तो अपने आप को खुद आप अपने शीशे के सामने आप बोलेंगे कि हमें यह सब चीजें कर सकता हूं मेरे में आप खुद से खुद से आप आधारित होंगे और आपको एक अच्छा महसूस होगा इसके लिए आप अपने मोटिवेशन मोटिवेशन वीडियो देख सकते हैं या खुद को आप सो सकते हैं कि हम मैं भी मैं मेरे अंदर क्या-क्या चीज है उन सब चीजों का ध्यान रखना अपने को आप डिलीट कर सकते हैं धन्यवाद

main apne aap ko aur bhi kaafi prerit kaise kar sakta hoon toh aapka yah question bahut achi hai aap apne ko abhi prerit aise kar sakte hain ki aap apne me aisi cheezen aap dekhiye motivation wali cheezen dekhe apne aap ko prerit kare ki haan aap kya kar sakte hain aapke kya zindagi kya ki kya uddeshya hain aur uddeshya ko focus kare aur aapke paas jo aapke ability hain unko likhenge ki mere paas aisi cheezen ability hai mere paas ek kabiliyat hai aur unka video toh hai mere lakshya unko main aap is tarike se main apni zindagi me utar sakta un logo ko main samjha sakta hoon logo ke prati me apna apni jo jhalak hai vaah dikha sakta hoon prabhavit kar sakta hoon toh apni personality ko acche tarike se aap agar show karenge dar jaenge toh apne aap ko khud aap apne shishe ke saamne aap bolenge ki hamein yah sab cheezen kar sakta hoon mere me aap khud se khud se aap aadharit honge aur aapko ek accha mehsus hoga iske liye aap apne motivation motivation video dekh sakte hain ya khud ko aap so sakte hain ki hum main bhi main mere andar kya kya cheez hai un sab chijon ka dhyan rakhna apne ko aap delete kar sakte hain dhanyavad

मैं अपने आप को और भी काफी प्रेरित कैसे कर सकता हूं तो आपका यह क्वेश्चन बहुत अच्छी है आप अप

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  118
WhatsApp_icon
user
1:46
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अपने आप को आत्म केंद्रित करने के लिए आत्माओं की अनुभूति दिलाने के लिए सबसे बढ़िया रास्ता है आपका आइना दर्पण के सामने खड़े हो जाए और दर्पण में देखें और महसूस करें अपने आप से पूछें कि जो आईने में दिखाई दे रहा है वह मैं हूं या जो आईने में देख रहा है वह मैं हूं बहुत सिंपल सा सवाल है लेकिन आप चौक जायेंगे आपको उसी क्षण पता चलेगा दिखाई देने वाला कोई और है और देखने वाला कोई और है जो दिखाई दे रहा है वह शरीर है और जो दिख रही है वह आंखों के द्वारा आत्मा है बहुत जल्दी आत्मानुभूति होती है बहुत से लोग जब मुझे कहते हैं गुरुजी हमने आईने के सामने अभ्यास किया तो हमारे रोंगटे खड़े हो गए हम अंदर से काम करें कि आज तक हम कितनी बार आईने में देखे होंगे लेकिन यह सवाल कभी नहीं पूछा कि जो आईने में दिखाई दे रहा है वह मैं हूं या जो आईने में देख रहा है वह महमूद आपको खुद पर खुद पता चलेगा जो दिखाई दे रहा है वह मैं नहीं हूं वह मेरा शरीर है और जो दिख रहा है वह मैं हूं यानी आत्मा आत्मानुभूति होते ही बहुत सारे पट खुल जाएंगे बहुत सारे सवालों के जवाब मिल जाएंगे ओम शांति शांति

apne aap ko aatm kendrit karne ke liye atmaon ki anubhuti dilaane ke liye sabse badhiya rasta hai aapka aaina darpan ke saamne khade ho jaaye aur darpan me dekhen aur mehsus kare apne aap se puchen ki jo aaine me dikhai de raha hai vaah main hoon ya jo aaine me dekh raha hai vaah main hoon bahut simple sa sawaal hai lekin aap chauk jayenge aapko usi kshan pata chalega dikhai dene vala koi aur hai aur dekhne vala koi aur hai jo dikhai de raha hai vaah sharir hai aur jo dikh rahi hai vaah aakhon ke dwara aatma hai bahut jaldi atmanubhuti hoti hai bahut se log jab mujhe kehte hain guruji humne aaine ke saamne abhyas kiya toh hamare rongate khade ho gaye hum andar se kaam kare ki aaj tak hum kitni baar aaine me dekhe honge lekin yah sawaal kabhi nahi poocha ki jo aaine me dikhai de raha hai vaah main hoon ya jo aaine me dekh raha hai vaah mahmood aapko khud par khud pata chalega jo dikhai de raha hai vaah main nahi hoon vaah mera sharir hai aur jo dikh raha hai vaah main hoon yani aatma atmanubhuti hote hi bahut saare pat khul jaenge bahut saare sawalon ke jawab mil jaenge om shanti shanti

अपने आप को आत्म केंद्रित करने के लिए आत्माओं की अनुभूति दिलाने के लिए सबसे बढ़िया रास्ता

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  95
WhatsApp_icon
user

Sri Dhiru G

Spiritual Guru, Engineer

3:13
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

यदि आप अपने आप को अधिकारथु प्रेरित बनाना चाहते हैं तो अपने रूटीन धीरे-धीरे परिवर्तन लाएं स्वस्थ विचार शुद्ध और सात्विक भोजन पर फोकस करें करके एक कहावत है सादा भोजन उच्च विचार इस को फॉलो करें दूसरी तरफ से योग का सहारा ले योग प्राणायाम करें हमेशा पॉजिटिव वातावरण बनाए रखी किसी की बातों को अगर आपको ठेस पहुंच रही है किसी का बात आपको बुरा लग रहा है तो पलट के जवाब ना दे निश्चय ही उस बात की गहराई को समझो और उसमें कौन सी टीम ने खुद कर उसे शांति मन से समझाने का कोशिश करें ऑटोमेटिक आत्मा से प्रेरित होते रहेंगे और आपको लगेगा कि आप कुछ अच्छा कर रहे हैं और वातावरण पॉजिटिव रखें अगर आप पूजा पाठ कर सकते हैं तो बेशक करें जिन भी इसको आप ध्यान करते हैं स्टेशन में माता-पिता को मन ही मन प्रणाम करें अगर चरण स्पर्श करके नहीं कर पा रहे हैं तो अपने इसको परिणाम करें और उस बिस्तर से उठने के बाद हो सके तो गुनगुना पानी अदरक डाला हुआ है आप सोचेंगे कि मैं यह क्यों बता रहा हूं कि गुनगुना पानी और आतंक प्रेरित यह कैसा संबंध है जी हां हम आपको शारीरिक स्थिति को सुधारने का प्रयत्न करेंगे तो ऑटोमेटिक है कि आपकी मानसिक प्रवृत्ति भी परिवर्तित हो जाएगी सुबह उठकर पानी पीने से बाथरूम गए बात किए स्नान किए और उसके बाद अपने वर्कआउट में लग जाए सौरभ पूजा-पाठ फिर वर्क प्लान करें कि हमारा आज का क्या रोटी होना चाहिए रिश्ते भी कर सकते कि आज हमें क्या-क्या अच्छे काम करने हैं दिन आपको एक एनर्जी मिलेगा और ध्यान रखें कि आपको कतई भी क्रोध किसी बात पर है उस समय ही बर्दाश्त करना है 100 लंबी सांस लें और शांत रहकर अपने आप को इस थे सखी पलट के जवाब देने से पहले सोचें कि हमारी जीवा जो उत्तर दीजिए उससे अगले को क्या होगा जो आधार दूसरे की बातों से आपको हुआ वही आघात अगले को देने का प्रयत्न करें अगर वैसी स्थिति ना हो तो तो निश्चय ही आत्म प्रेरित होते चले जाएंगे और आपकी स्मरण शक्ति और जो अध्यात्म सकती हो वह पड़ेगी आपके अंदर से प्रेरणा जागृत होगी और विकास के मार्ग पर अच्छा जीवन व्यतीत करेंगे

yadi aap apne aap ko adhikarthu prerit banana chahte hain toh apne routine dhire dhire parivartan laye swasth vichar shudh aur Satvik bhojan par focus kare karke ek kahaavat hai saada bhojan ucch vichar is ko follow kare dusri taraf se yog ka sahara le yog pranayaam kare hamesha positive vatavaran banaye rakhi kisi ki baaton ko agar aapko thes pohch rahi hai kisi ka baat aapko bura lag raha hai toh palat ke jawab na de nishchay hi us baat ki gehrai ko samjho aur usme kaun si team ne khud kar use shanti man se samjhane ka koshish kare Automatic aatma se prerit hote rahenge aur aapko lagega ki aap kuch accha kar rahe hain aur vatavaran positive rakhen agar aap puja path kar sakte hain toh beshak kare jin bhi isko aap dhyan karte hain station me mata pita ko man hi man pranam kare agar charan sparsh karke nahi kar paa rahe hain toh apne isko parinam kare aur us bistar se uthane ke baad ho sake toh gunguna paani adrak dala hua hai aap sochenge ki main yah kyon bata raha hoon ki gunguna paani aur aatank prerit yah kaisa sambandh hai ji haan hum aapko sharirik sthiti ko sudhaarne ka prayatn karenge toh Automatic hai ki aapki mansik pravritti bhi parivartit ho jayegi subah uthakar paani peene se bathroom gaye baat kiye snan kiye aur uske baad apne workout me lag jaaye saurabh puja path phir work plan kare ki hamara aaj ka kya roti hona chahiye rishte bhi kar sakte ki aaj hamein kya kya acche kaam karne hain din aapko ek energy milega aur dhyan rakhen ki aapko katai bhi krodh kisi baat par hai us samay hi bardaasht karna hai 100 lambi saans le aur shaant rahkar apne aap ko is the sakhi palat ke jawab dene se pehle sochen ki hamari Jiva jo uttar dijiye usse agle ko kya hoga jo aadhar dusre ki baaton se aapko hua wahi aaghat agle ko dene ka prayatn kare agar vaisi sthiti na ho toh toh nishchay hi aatm prerit hote chale jaenge aur aapki smaran shakti aur jo adhyaatm sakti ho vaah padegi aapke andar se prerna jagrit hogi aur vikas ke marg par accha jeevan vyatit karenge

यदि आप अपने आप को अधिकारथु प्रेरित बनाना चाहते हैं तो अपने रूटीन धीरे-धीरे परिवर्तन लाएं स

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  62
WhatsApp_icon
user

Preet

Soft Skill Trainer, Coach, Artist, Speaker

2:40
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आत्म प्रेरित यानी सेल्फ मोटिवेशन सबसे पहली चीज खुद को खुद से ही कमरे कीजिए किसी और से नहीं याद कीजिए अगर आप किसी दिन आप लोग भी कर रहे हैं आप मोटे बैठे कि नहीं कर रहे हैं लेकिन आप फिल करना चाहते हैं तो अपने आप को अपने मन से अपनी उन चीजों को धराई है जो आपने अजीत करिए लाइफ में आप हर रोज क्या-क्या अच्छा कर रहे हैं आप हर रोज छोटी-छोटी जीत अजीत करते हैं लाइफ में हो सकता है आप अपनी हेल्थ का ध्यान अच्छे से रखते हो आप बहुत डिसिप्लिन जो अपनी एक्सरसाइज को लेकर या दूसरों के बारे में अच्छा उनकी मदद करने की कोशिश करते हैं या आपने नहीं स्कूल सीखिए तो ऐसा कुछ भी जो आप हर रोज अपने ऊपर अपने आप से खुद को बेहतर करने की कोशिश करते हैं उन चीजों को दबाइए एक ही तरीका है दूसरा तरीका है और जो एस्ट्रोसाइंस हमारा जो ब्रेन है वह दो तरीके से ही मोटिवेटेड होता है या तो वह एक ढंग से भागता है कि अगर मैं यह नहीं करूंगा तो मेरी लाइफ में यह हो जाएगा और मैं उससे डर जाऊंगा डर जाता हूं इसलिए मैं वह काम करता हूं क्योंकि मैं नहीं चाहता कि वह चीज मेरी लाइफ में दूसरा तरीका है जिससे कि हमारा ब्रेन मोटिवेटेड होता है या हम मोटिवेटेड होते हैं वह यह है कि उस काम को करने से मुझे नतीजा क्या मिलेगा क्या अच्छा मिलेगा तो या तो हम उस काम को ना करने से होने वाले नुकसान से बचाने की वजह से वह काम करते हैं या उससे होने वाले हैं जो हमें फायदा हमें दिखाई देता है उस फायदे के बारे में सोचकर हम मोटिवेटेड होते हैं तो पहले तो आपको खुद से खुद के साथ वक्त बिता के यह समझना है कि आप किस तरीके से मोटिवेटेड होते हैं तो अगर मान लीजिए आप एक काम करना चाहते हैं पर आपको अंदर से वह प्रेरणा नहीं मिल रही है तो या आपका कोई डर आपको रोक रहा है या आपको उसमें कोई बहुत स्ट्रांग फायदा नहीं देख कर आप इन चीजों में थोड़ा खुद को समझ अपने बारे में जानेंगे और तो आपको खुद समझ आने लग जाएगा कि क्या चीज आपको मोटिवेट करती है दूसरा खुद से खुद को कंपेयर करके अच्छे सेंस में हर रोज अपने आपको बता दें कि आई एम प्राउड ऑफ यू शीशे में देखिए जाकर खुद से बातें कीजिए और बताइए क्या अपने कैसे-कैसे और लाइफ में चीजें अच्छी करी है कैसे-कैसे हर रोज आपने अपने आप को पहचान क्या है तो इन सब चीजों से आप आदमी प्रेरित हो सकते हैं

aatm prerit yani self motivation sabse pehli cheez khud ko khud se hi kamre kijiye kisi aur se nahi yaad kijiye agar aap kisi din aap log bhi kar rahe hain aap mote baithe ki nahi kar rahe hain lekin aap fill karna chahte hain toh apne aap ko apne man se apni un chijon ko dharai hai jo aapne ajit kariye life me aap har roj kya kya accha kar rahe hain aap har roj choti choti jeet ajit karte hain life me ho sakta hai aap apni health ka dhyan acche se rakhte ho aap bahut discipline jo apni exercise ko lekar ya dusro ke bare me accha unki madad karne ki koshish karte hain ya aapne nahi school sikhiye toh aisa kuch bhi jo aap har roj apne upar apne aap se khud ko behtar karne ki koshish karte hain un chijon ko dabaiye ek hi tarika hai doosra tarika hai aur jo estrosains hamara jo brain hai vaah do tarike se hi motivated hota hai ya toh vaah ek dhang se bhagta hai ki agar main yah nahi karunga toh meri life me yah ho jaega aur main usse dar jaunga dar jata hoon isliye main vaah kaam karta hoon kyonki main nahi chahta ki vaah cheez meri life me doosra tarika hai jisse ki hamara brain motivated hota hai ya hum motivated hote hain vaah yah hai ki us kaam ko karne se mujhe natija kya milega kya accha milega toh ya toh hum us kaam ko na karne se hone waale nuksan se bachane ki wajah se vaah kaam karte hain ya usse hone waale hain jo hamein fayda hamein dikhai deta hai us fayde ke bare me sochkar hum motivated hote hain toh pehle toh aapko khud se khud ke saath waqt bita ke yah samajhna hai ki aap kis tarike se motivated hote hain toh agar maan lijiye aap ek kaam karna chahte hain par aapko andar se vaah prerna nahi mil rahi hai toh ya aapka koi dar aapko rok raha hai ya aapko usme koi bahut strong fayda nahi dekh kar aap in chijon me thoda khud ko samajh apne bare me jaanege aur toh aapko khud samajh aane lag jaega ki kya cheez aapko motivate karti hai doosra khud se khud ko compare karke acche sense me har roj apne aapko bata de ki I M proud of you shishe me dekhiye jaakar khud se batein kijiye aur bataiye kya apne kaise kaise aur life me cheezen achi kari hai kaise kaise har roj aapne apne aap ko pehchaan kya hai toh in sab chijon se aap aadmi prerit ho sakte hain

आत्म प्रेरित यानी सेल्फ मोटिवेशन सबसे पहली चीज खुद को खुद से ही कमरे कीजिए किसी और से नही

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  118
WhatsApp_icon
user

Dr. J.Singh

Financial Expert || Ayurvedic Doctor

0:20
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आप कुछ कार्य निस्वार्थ भाव से करिए कुछ सेवाएं निशा गांव से करिए वह किसी प्रकार की हूं इस तरीके से आप अपने आपको बहुत ज्यादा आज प्रेरित कर सकते हैं इसका आपको अपने भविष्य में या आप से जुड़े व्यक्ति के जीवन में आपके द्वारा बहुत अच्छा परिवर्तन देखने को मिल सकता है धन्यवाद

aap kuch karya niswarth bhav se kariye kuch sevayen nisha gaon se kariye vaah kisi prakar ki hoon is tarike se aap apne aapko bahut zyada aaj prerit kar sakte hain iska aapko apne bhavishya me ya aap se jude vyakti ke jeevan me aapke dwara bahut accha parivartan dekhne ko mil sakta hai dhanyavad

आप कुछ कार्य निस्वार्थ भाव से करिए कुछ सेवाएं निशा गांव से करिए वह किसी प्रकार की हूं इस त

Romanized Version
Likes  8  Dislikes    views  97
WhatsApp_icon
user

Bk Arun Kaushik

Youth Counselor Motivational Speaker

3:22
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार सबसे पहले आप स्वयं से बात करना चाहिए प्रतिदिन अपने से बात करने का कुछ समय निकालें उस समय आप अपनी भूतकाल की सफलताओं को याद करें कि आपने किन परिस्थितियों के अंदर सफलता पाई थी उन्हें याद करें आप अपने कुछ ऐसी सहयोगी ढूंढे जो सकारात्मक हूं कमजोरी की बातें ना करते हैं और आगे बढ़ने की प्लान बनाते हो आप उनसे दिन में किसी ना किसी से अवश्य बात करें फोन के द्वारा या व्यक्ति के रूप में उनको मिलकर बात करें किसी बात गिफ्ट मिल में आग आगे बढ़ना चाहते हैं उस फील्ड के इतिहास के अंदर बहुत लोग हैं उनकी जीवन कहानियों को पड़े उनकी सफलता की कहानियों को सुने और उनके संघर्ष की कहानी पढ़कर फिर उस पर अकेले बैठकर शांत मन से उनके ऊपर मंथन करें कि जब वह सफल हो सकते हैं तुमने क्यों नहीं कर सकता मैं इंसान हूं उन्हीं की तरह के हमसे यह प्रश्न अवश्य पूछें मैं क्यों नहीं नेट जीवन में तीन मंत्र हमेशा याद रखें पहला मैं जो चाहूं बन सकता हूं दूसरा मैं जो चाहूं कर सकता हूं तीसरा में जो 45 सकता हूं यह तीन मंत्र अगर हम इनको रात को सोने से पहले और सुबह उठकर सच्चे दिल से गहराई में जाकर इनको रिपीट करें बार-बार इनको दोहराएं तो अवश्य ही यह हमारा जीवन का एक आधार बन जेंट्स एक विद्यार्थी को चीज याद नहीं रहती लेसन याद नहीं रहता तू क्या करता है मन के अंदर उसको बार-बार रिपीट करता है ऐसे ही जो चीज हम पाना चाहते हैं जैसा बनना चाहते हैं उसको मन के अंदर अवश्य ही सोने से पहले क्योंकि सोने के बाद हमारा सबकॉन्शियस माइंड वर्किंग में होता है वह हमें मोटिवेट करता है हमारे अंदर क्रिएट करता है तो इस प्रकार उच्च सुबह उठकर जब हम उसको फिर से रिपीट करते हैं तो दिन भर हमारे काम आता है तो यह अवश्य ही अपने जीवन के अंदर हम उसको प्राप्त प्राप्त कर सकते हैं और अपने आप को और अधिक प्रेरित कर सकते हैं इसमें एक चीज का हमें ध्यान रखना होगा नहीं तो यह सारी सफलता असफलता में बदल जाएगी अपने आप को नकारात्मक बातों से बचाने की सजा कोशिश करते और ऐसी बातों से हमेशा परहेज रखें जिसमें हताश असफलता नकारात्मकता की बातों से घटनाओं से अपने को सदा बचा कर रखें मेरी शुभकामनाएं आप अवश्य ही अपने आप को अधिक आश्रम प्रेरित कर सकेंगे थैंक यू

namaskar sabse pehle aap swayam se baat karna chahiye pratidin apne se baat karne ka kuch samay nikale us samay aap apni bhootkaal ki safalataon ko yaad kare ki aapne kin paristhitiyon ke andar safalta payi thi unhe yaad kare aap apne kuch aisi sahyogi dhundhe jo sakaratmak hoon kamzori ki batein na karte hain aur aage badhne ki plan banate ho aap unse din me kisi na kisi se avashya baat kare phone ke dwara ya vyakti ke roop me unko milkar baat kare kisi baat gift mil me aag aage badhana chahte hain us field ke itihas ke andar bahut log hain unki jeevan kahaniyan ko pade unki safalta ki kahaniyan ko sune aur unke sangharsh ki kahani padhakar phir us par akele baithkar shaant man se unke upar manthan kare ki jab vaah safal ho sakte hain tumne kyon nahi kar sakta main insaan hoon unhi ki tarah ke humse yah prashna avashya puchen main kyon nahi net jeevan me teen mantra hamesha yaad rakhen pehla main jo chahu ban sakta hoon doosra main jo chahu kar sakta hoon teesra me jo 45 sakta hoon yah teen mantra agar hum inko raat ko sone se pehle aur subah uthakar sacche dil se gehrai me jaakar inko repeat kare baar baar inko dohraen toh avashya hi yah hamara jeevan ka ek aadhar ban gents ek vidyarthi ko cheez yaad nahi rehti Lesson yaad nahi rehta tu kya karta hai man ke andar usko baar baar repeat karta hai aise hi jo cheez hum paana chahte hain jaisa banna chahte hain usko man ke andar avashya hi sone se pehle kyonki sone ke baad hamara subconscious mind working me hota hai vaah hamein motivate karta hai hamare andar create karta hai toh is prakar ucch subah uthakar jab hum usko phir se repeat karte hain toh din bhar hamare kaam aata hai toh yah avashya hi apne jeevan ke andar hum usko prapt prapt kar sakte hain aur apne aap ko aur adhik prerit kar sakte hain isme ek cheez ka hamein dhyan rakhna hoga nahi toh yah saari safalta asafaltaa me badal jayegi apne aap ko nakaratmak baaton se bachane ki saza koshish karte aur aisi baaton se hamesha parhej rakhen jisme hathaash asafaltaa nakaratmakta ki baaton se ghatnaon se apne ko sada bacha kar rakhen meri subhkamnaayain aap avashya hi apne aap ko adhik ashram prerit kar sakenge thank you

नमस्कार सबसे पहले आप स्वयं से बात करना चाहिए प्रतिदिन अपने से बात करने का कुछ समय निकालें

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  63
WhatsApp_icon
user

Madan Nanda Haral patil

Soft Skill Trainer

0:53
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार आपने मेरा नाम मिस्टर मदन पाटील है मैं अहमदनगर का हूं अपने मुझे सवाल पूछा है कि मैं अपने आप को अधिक आत्मक प्रेरित कैसे कर सकता हूं दिखी कि आपको आत्मा उन्नति करनी है तो ध्यान करो ध्यानी बनो मेडिटेशन करो अच्छे विचार लाओ नेगेटिव विचार छोड़ो जीवन में हमेशा शांति के साथ बात करो शांति महसूस करो आपका जीवन अंदर से अपना परेड बन जाएगा और आपका जीवन बहुत ही सुंदर बन जाएगा तो मुझे लगता है कि आपके सवाल का जवाब मैंने ठीक दिया है आप उस पर विचार करो और आपके जीवन को और भी बेहतर बना और सुंदर बनाओ धन्यवाद

namaskar aapne mera naam mister madan patil hai main ahmednagar ka hoon apne mujhe sawaal poocha hai ki main apne aap ko adhik aatmkatha prerit kaise kar sakta hoon dikhi ki aapko aatma unnati karni hai toh dhyan karo dhyani bano meditation karo acche vichar laao Negative vichar chodo jeevan me hamesha shanti ke saath baat karo shanti mehsus karo aapka jeevan andar se apna parade ban jaega aur aapka jeevan bahut hi sundar ban jaega toh mujhe lagta hai ki aapke sawaal ka jawab maine theek diya hai aap us par vichar karo aur aapke jeevan ko aur bhi behtar bana aur sundar banao dhanyavad

नमस्कार आपने मेरा नाम मिस्टर मदन पाटील है मैं अहमदनगर का हूं अपने मुझे सवाल पूछा है कि मैं

Romanized Version
Likes  6  Dislikes    views  113
WhatsApp_icon
user
8:54
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जी राधे कृष्णा मैं संत श्री विमल आचार्य जी जम्मू से आपका प्रश्न है कि मैं अपने आपको अपने आप को अधिकतम प्रतीक कैसे कर सकता हूं की आत्मा को जल्दी की आत्मा जो हमारे उसको कैसे प्रेरित कर सकता हूं तो आत्मा हमारी अगर आपको मालूम है कि हमारी आत्मा है शरीर में तो पहले तो सबसे बढ़ा दे है कि आपको अपनी आत्मा से अच्छा प्राप्त करना चाहिए आपको मालूम होना चाहिए कि हमारी आत्मा शरीर के किस भाग में विराजमान है आत्मा कहां रहती है जब तक आप को अपने आप पर के विषय में मालूम नहीं होगा तब तक आप अपनी आत्मा को प्रेरित नहीं कर सकते आपको मालूम होना चाहिए कि हमारी जो शरीर में शत-शत रहे चक्कर भी कहते हैं और सच कुंडलियां भी कहते हैं हमारी आत्मा किस स्थान पर विराजमान है उनसे कैसे हमें संबंध करना चाहिए देखो सबसे बड़ी बात तो यह है कि हमारी आत्मा हमारे शरीर में रहते हैं हम दर्पण में अपने मुख को देख लेते हैं पर हमें अपनी आत्मा दिखाई नहीं देती तभी आपने जो भी हमारे जिस वाणी को श्रवन करेगा आपने कभी ध्यान लगाना और बड़े प्रेम भाव से आनंद मुक्त होकर आपने सोचना कि हमारी जो आत्मा है हम भगवान को ढूंढते रहते हैं क्यों मेरी आत्मा हमारे शरीर में कभी हमने आत्मा के दर्शन किए कभी हमें अपनी आत्मा दिखाई भी नहीं देते दूसरा अपना प्रेरित करने का सबसे उपाय हैं अब आप ही सोचो कि मेरा नाम जोड़ रखा है मेरे माता पिता ने 2 नाम तो माता-पिता ने रखा है मेरा नाम कुछ भी जो भी आपका नाम है जी नाम तो माता-पिता का रखा हुआ है मेरे खुद का नाम क्या है मैं कहां से आया हूं मैं कौन हूं मेरा घर माता के दिया हुआ है खाना पिता का दिया हुआ है विद्या गुरु वर्क ने दी हुई है मेरा अपना क्या है मैं कहां से आया हूं मैं कौन हूं और जिसने आप रानी इंसान जो सोचने पर विवश होगा कि मैं कौन हूं मैं क्या करने आया हूं मेरा जग में क्या कारण था कि मुझे जिसकी बात हमें समझ आ गई कि मैं दुनिया में क्या करने आया हूं और क्या कर ले लेना है मेरा जग में क्या है हाल नहीं आया खाली जग में जाना है संसार की आया था कि चले जाना है माता पिता अरुण नारी सब में ममता झूठी दारी मैं कौन हूं तो तब हमारी आत्मा प्रेरित होगी तब हमारी आत्मा जागृत हो गई क्योंकि जब तक हमारी आत्मा जागृत नहीं होगी तब तक हमें आत्मा के साथ संबंध नहीं होता पहले सब से हमारी आत्मा हमारे शरीर में रहते हैं उस आत्मा से संबंध की थी और संबंध करने का सबसे बड़ा उपाय है कि आप सुबह उठ करें सना ऑन कीजिए स्नान करने के बाद अगर भगवान शिव का मंदिर है आप भगवान शिव के मंदिर में जाएं वहां जल चढ़ाएं क्योंकि हमारी आत्मा शुद्ध होती हैं हम शरीर में जो महल होते हैं गंदगी होते हैं साबुन से नहा कर दो लेते हैं मन की मैल कैसे ढूंढें जब तक मन की मैल ना दूर हूं तब तक आप मत हमें संबंध नहीं होता आत्मा जो है क्योंकि मन तो हमारा दिन पर चलता रहता है कि फलाना करीब लाना क्योंकि पहले तो आत्मा से समझ तो आत्मा से संबंध करने का उपाय है घर के में आओ घर में पूजा के स्थान में बैठ जाओ एक लोटा जल का रखो आंखें बंद कर लो श्री वज्रासन में रखो वजन आश्रम में रहकर जहां तेल लगाते हैं अगर कोई माता बहन पूजा करने आत्मा जगाने है तो बहुत सरल उपाय हैं यहां कल कल जाते हैं आंखें बंद कर लो आंखें बंद करके तीन बार ओम का उच्चारण करना है ओम का उच्चारण तीन बार करो और अपने आप को ऐसे सोचो कि मैं इस धरती पर नहीं हूं मैं कैलाश पर्वत पर हूं आंखें बंद करके भगवान शिव का ध्यान कीजिए भगवान शिव जी का जल चढ़ाते हैं देखो पूरा ध्यान करके आप उस भगवान का प्रभु का ध्यान कीजिए और धीरे-धीरे जब आप एक घंटा आधा घंटा आप जब करोगे भगवान का ओम नमः शिवाय ओम नमः शिवाय जहां आप पिक लगाते हैं जहां आप थोड़ा ध्यान लगाओ आपको एक रोशनी प्रकाशित होगा आंखें बंद करने के बाद आपको जहां तक लगाते हैं जहां आप बिल्ली गाते हैं आपको जहां एक लाइट रोष प्रकट होगी और उसी अलग-अलग रूपों में दिखाई देते हैं किसी को क्योंकि यह किसी की वाइट रंग की होती है यह हमारी आत्मा होती है किसी को छोटी होती है किसी की बड़ी जैसी जैसी आत्मा का तेज होता है हमारी आत्मा होते हैं जिनकी जब हमें ज्योति प्राप्त हो जाए हमें ज्योति दिखने लगे कि हमारे यहां बिंदी लगाते हैं तिलक लगाते हैं क्योंकि तेल क्यों लगाते हैं जा पाया तुम पूजा होती है पूजा में जब गणेश पूजा के पहले हम पूजा पंडित वगैरा भी आतम पूजा करते हैं तो आप पूजा हमारी आत्मा का है किसी की आत्मा मध्य में होती है किसी की कमी होती है किसी में हृदय में होती है कि नहीं होती है अलग-अलग होती है जरूरी काम करते हैं दुष्कर्म करते हैं पहले तो सबसे आत्मा प्रेषित करने का सबसे बड़ा एक तरीका और भी है कि जितने भी हमारे बीच वित्त में बुराइयां है उन बुराइयों को दूर कीजिए जब तक हमारे दिन में सब बुराइयां दूर नहीं होगी हमारे जो मस्जिद में यह तरीका लगाते हैं जहां पर आप पढ़ते होते हैं आप पढ़ते हमें मुझ पर ही नहीं होगी जब तक वह अपने नहीं होगे हमें अपने आप में दिखाई देगी अब रोज अभ्यास कीजिए और मेरा का प्रमाण है कि आपको अपनी आत्मा के दर्शन हो गए धीरे-धीरे जब आप रोज करेंगे आपका आत्मा से कनेक्शन जुड़ जाएगा आपकी आत्मा आप जो चाहोगे आत्मा प्रेरित होगी और आत्मा प्रेत से होकर आपकी आत्मा भगवान का भजन करेगी और भगवान का जब भजन करेगी तो इसे इसी रोशनी से क्योंकि संजीव हुए गीत राष्ट्र को पूरी महाभारत की कथा सुनाइए आत्म जागृति थी भगवान कृष्ण ने अपनी आत्मा को जागृत कर लिया तो समझे ना दुनिया में सब कुछ प्राप्त हो जाता है यानी कि भगवान से सन हो जाता है और यह भगवान को संग हो जाता है तो आत्मा परमात्मा का रूप बन जाता है भगवान कृष्ण हुए राम हुए जितने भी संत महात्माओं है हम उनकी पूजा करते हैं क्योंकि क्योंकि पहले तो आप महात्मा ने परमात्मा का संख्या परमात्मा जैसा हो गया आज हम मीरा के भजन गाते हैं दिल्ली के प्रभु का ध्यान किया या अपनी आत्मा जिला प्राप्त करने के बीच में शरीर में आत्मा का ज्ञान होता है कपड़ा पड़ा हुआ जो आत्मा प्रेत होगा हम ज्ञान ब्रह्म ज्ञान हमें प्राप्त हो जाएगा हम बहुत संगीत को क्योंकि हमने आज तक कम से कम 1000 हामूद कथा कर ली है और शासन कितने की है उनका को लेख नहीं आती महाविष्णु यज्ञ में 25 कर ली है तो हम चाहते हैं कि हर तरह का लोगों को ज्ञान मिले आप वह कल के माध्यम से और भी हमारे जोड़ो और हम ज्यादा से ज्यादा हम को फॉलो कीजिए और हमारी जी कथा ज्ञान अमृत आपका प्रश्न है या हो राधे राधे

ji radhe krishna main sant shri vimal aacharya ji jammu se aapka prashna hai ki main apne aapko apne aap ko adhiktam prateek kaise kar sakta hoon ki aatma ko jaldi ki aatma jo hamare usko kaise prerit kar sakta hoon toh aatma hamari agar aapko maloom hai ki hamari aatma hai sharir me toh pehle toh sabse badha de hai ki aapko apni aatma se accha prapt karna chahiye aapko maloom hona chahiye ki hamari aatma sharir ke kis bhag me viraajamaan hai aatma kaha rehti hai jab tak aap ko apne aap par ke vishay me maloom nahi hoga tab tak aap apni aatma ko prerit nahi kar sakte aapko maloom hona chahiye ki hamari jo sharir me shat shat rahe chakkar bhi kehte hain aur sach kundaliyan bhi kehte hain hamari aatma kis sthan par viraajamaan hai unse kaise hamein sambandh karna chahiye dekho sabse badi baat toh yah hai ki hamari aatma hamare sharir me rehte hain hum darpan me apne mukh ko dekh lete hain par hamein apni aatma dikhai nahi deti tabhi aapne jo bhi hamare jis vani ko shravan karega aapne kabhi dhyan lagana aur bade prem bhav se anand mukt hokar aapne sochna ki hamari jo aatma hai hum bhagwan ko dhoondhate rehte hain kyon meri aatma hamare sharir me kabhi humne aatma ke darshan kiye kabhi hamein apni aatma dikhai bhi nahi dete doosra apna prerit karne ka sabse upay hain ab aap hi socho ki mera naam jod rakha hai mere mata pita ne 2 naam toh mata pita ne rakha hai mera naam kuch bhi jo bhi aapka naam hai ji naam toh mata pita ka rakha hua hai mere khud ka naam kya hai main kaha se aaya hoon main kaun hoon mera ghar mata ke diya hua hai khana pita ka diya hua hai vidya guru work ne di hui hai mera apna kya hai main kaha se aaya hoon main kaun hoon aur jisne aap rani insaan jo sochne par vivash hoga ki main kaun hoon main kya karne aaya hoon mera jag me kya karan tha ki mujhe jiski baat hamein samajh aa gayi ki main duniya me kya karne aaya hoon aur kya kar le lena hai mera jag me kya hai haal nahi aaya khaali jag me jana hai sansar ki aaya tha ki chale jana hai mata pita arun nari sab me mamata jhuthi dari main kaun hoon toh tab hamari aatma prerit hogi tab hamari aatma jagrit ho gayi kyonki jab tak hamari aatma jagrit nahi hogi tab tak hamein aatma ke saath sambandh nahi hota pehle sab se hamari aatma hamare sharir me rehte hain us aatma se sambandh ki thi aur sambandh karne ka sabse bada upay hai ki aap subah uth kare sana on kijiye snan karne ke baad agar bhagwan shiv ka mandir hai aap bhagwan shiv ke mandir me jayen wahan jal chadhaen kyonki hamari aatma shudh hoti hain hum sharir me jo mahal hote hain gandagi hote hain sabun se naha kar do lete hain man ki mail kaise dhundhe jab tak man ki mail na dur hoon tab tak aap mat hamein sambandh nahi hota aatma jo hai kyonki man toh hamara din par chalta rehta hai ki falana kareeb lana kyonki pehle toh aatma se samajh toh aatma se sambandh karne ka upay hai ghar ke me aao ghar me puja ke sthan me baith jao ek lota jal ka rakho aankhen band kar lo shri vajrasan me rakho wajan ashram me rahkar jaha tel lagate hain agar koi mata behen puja karne aatma jagaane hai toh bahut saral upay hain yahan kal kal jaate hain aankhen band kar lo aankhen band karke teen baar om ka ucharan karna hai om ka ucharan teen baar karo aur apne aap ko aise socho ki main is dharti par nahi hoon main kailash parvat par hoon aankhen band karke bhagwan shiv ka dhyan kijiye bhagwan shiv ji ka jal chadhate hain dekho pura dhyan karke aap us bhagwan ka prabhu ka dhyan kijiye aur dhire dhire jab aap ek ghanta aadha ghanta aap jab karoge bhagwan ka om namah shivay om namah shivay jaha aap pic lagate hain jaha aap thoda dhyan lagao aapko ek roshni prakashit hoga aankhen band karne ke baad aapko jaha tak lagate hain jaha aap billi gaate hain aapko jaha ek light rosh prakat hogi aur usi alag alag roopon me dikhai dete hain kisi ko kyonki yah kisi ki white rang ki hoti hai yah hamari aatma hoti hai kisi ko choti hoti hai kisi ki badi jaisi jaisi aatma ka tez hota hai hamari aatma hote hain jinki jab hamein jyoti prapt ho jaaye hamein jyoti dikhne lage ki hamare yahan bindi lagate hain tilak lagate hain kyonki tel kyon lagate hain ja paya tum puja hoti hai puja me jab ganesh puja ke pehle hum puja pandit vagera bhi atam puja karte hain toh aap puja hamari aatma ka hai kisi ki aatma madhya me hoti hai kisi ki kami hoti hai kisi me hriday me hoti hai ki nahi hoti hai alag alag hoti hai zaroori kaam karte hain dushkarm karte hain pehle toh sabse aatma preshit karne ka sabse bada ek tarika aur bhi hai ki jitne bhi hamare beech vitt me buraiyan hai un buraiyon ko dur kijiye jab tak hamare din me sab buraiyan dur nahi hogi hamare jo masjid me yah tarika lagate hain jaha par aap padhte hote hain aap padhte hamein mujhse par hi nahi hogi jab tak vaah apne nahi hoge hamein apne aap me dikhai degi ab roj abhyas kijiye aur mera ka pramaan hai ki aapko apni aatma ke darshan ho gaye dhire dhire jab aap roj karenge aapka aatma se connection jud jaega aapki aatma aap jo chahoge aatma prerit hogi aur aatma pret se hokar aapki aatma bhagwan ka bhajan karegi aur bhagwan ka jab bhajan karegi toh ise isi roshni se kyonki sanjeev hue geet rashtra ko puri mahabharat ki katha sunaiye aatm jagriti thi bhagwan krishna ne apni aatma ko jagrit kar liya toh samjhe na duniya me sab kuch prapt ho jata hai yani ki bhagwan se san ho jata hai aur yah bhagwan ko sang ho jata hai toh aatma paramatma ka roop ban jata hai bhagwan krishna hue ram hue jitne bhi sant mahatmaon hai hum unki puja karte hain kyonki kyonki pehle toh aap mahatma ne paramatma ka sankhya paramatma jaisa ho gaya aaj hum meera ke bhajan gaate hain delhi ke prabhu ka dhyan kiya ya apni aatma jila prapt karne ke beech me sharir me aatma ka gyaan hota hai kapda pada hua jo aatma pret hoga hum gyaan Brahma gyaan hamein prapt ho jaega hum bahut sangeet ko kyonki humne aaj tak kam se kam 1000 hamud katha kar li hai aur shasan kitne ki hai unka ko lekh nahi aati mahavishnu yagya me 25 kar li hai toh hum chahte hain ki har tarah ka logo ko gyaan mile aap vaah kal ke madhyam se aur bhi hamare jodon aur hum zyada se zyada hum ko follow kijiye aur hamari ji katha gyaan amrit aapka prashna hai ya ho radhe radhe

जी राधे कृष्णा मैं संत श्री विमल आचार्य जी जम्मू से आपका प्रश्न है कि मैं अपने आपको अपने

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  86
WhatsApp_icon
user

विजय कुमार

Experiential Counsellor

0:24
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अपने विवेक को शरीर जागृत रखे क्या गलत है क्या सही पहले उस पर विचार करें फिर कोई कार्य करें आपके अंदर नाम का सूत्र है विवेक की आवाज सुन उसका सदुपयोग करें मन के दास कभी ना बने

apne vivek ko sharir jagrit rakhe kya galat hai kya sahi pehle us par vichar kare phir koi karya kare aapke andar naam ka sutra hai vivek ki awaaz sun uska sadupyog kare man ke das kabhi na bane

अपने विवेक को शरीर जागृत रखे क्या गलत है क्या सही पहले उस पर विचार करें फिर कोई कार्य करें

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  74
WhatsApp_icon
user

Shiv Shankar

Social Worker

0:31
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका प्रश्न अति उत्तम है आत्म प्रेरित होने के लिए आत्मा का उत्थान बहुत जरूरी है आत्मा का उत्थान हो सके इसके लिए फिर जीवन में गुरु की आवश्यकता है

aapka prashna ati uttam hai aatm prerit hone ke liye aatma ka utthan bahut zaroori hai aatma ka utthan ho sake iske liye phir jeevan me guru ki avashyakta hai

आपका प्रश्न अति उत्तम है आत्म प्रेरित होने के लिए आत्मा का उत्थान बहुत जरूरी है आत्मा का उ

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  53
WhatsApp_icon
user

Ganesh Joshi

Journalist

1:10
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मैं अपने आप को और अधिक आत्म प्रेरित करने के लिए खुद को अनुशासन में रखने की कोशिश करता हूं नियमित व्यायाम करता हूं मोटिवेशनल किताबें पढ़ता हूं कोटेशन पढ़ता हूं ऐसी वीडियो सुनता हूं और खुद को अपने जीवन को खुद को बेहतर बनाने के लिए हर संभव कोशिश करता कोशिश करता हूं कि अधिक से अधिक लोगों की सेवा कर सकूं मूल रूप से मेरा काम पत्रकारिता है कि सूचनाओं को एकत्रित कर आम पब्लिक तक सूचनाएं पहुंचना पब्लिक सूचनाओं को सरकार तक पहुंचाना इस काम में ना अपने को पूरी जिम्मेदारी के साथ चौक सकूं इसके लिए मैं हर संभव कोशिश कर सकता हूं और आप प्रेरित करने के लिए आपके परिवार का भी विशेष सहयोग की जरूरत होती है अगर आपका परिवार पॉजिटिव है और हंस में एक पॉजिटिव माहौल बना रहता है होने के लिए वाहन संभल का काम करता है और भी बहुत बातें हैं फिर आपसे मैं चर्चा करते रहूंगा धन्यवाद

main apne aap ko aur adhik aatm prerit karne ke liye khud ko anushasan me rakhne ki koshish karta hoon niyamit vyayam karta hoon Motivational kitaben padhata hoon quotation padhata hoon aisi video sunta hoon aur khud ko apne jeevan ko khud ko behtar banane ke liye har sambhav koshish karta koshish karta hoon ki adhik se adhik logo ki seva kar sakun mul roop se mera kaam patrakarita hai ki suchanaon ko ekatrit kar aam public tak suchnaen pahunchana public suchanaon ko sarkar tak pahunchana is kaam me na apne ko puri jimmedari ke saath chauk sakun iske liye main har sambhav koshish kar sakta hoon aur aap prerit karne ke liye aapke parivar ka bhi vishesh sahyog ki zarurat hoti hai agar aapka parivar positive hai aur hans me ek positive maahaul bana rehta hai hone ke liye vaahan sambhal ka kaam karta hai aur bhi bahut batein hain phir aapse main charcha karte rahunga dhanyavad

मैं अपने आप को और अधिक आत्म प्रेरित करने के लिए खुद को अनुशासन में रखने की कोशिश करता हूं

Romanized Version
Likes  10  Dislikes    views  185
WhatsApp_icon
user

Raja Bhaiya Gandhi

Brain Enhance Workshop & Career Counselling

2:40
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

कोई भी व्यक्ति अपने आपको अधिक आत्मा प्रेरित करना चाहता है तो वह किताबें पढ़ें प्रेरणादायक किताबें पढ़ें किताबों की जानकारी के लिए अमेजॉन पर जाएं टॉप 10 मोटिवेशनल बुक सर्च करें उन्हें पड़े ओशो को सुनें प्रवचन सुने मोटिवेशनल स्पीकर में होने सुने जो भी आपको पसंद आए उसे सुने बहुत सारे हैं आप यूट्यूब पर सर्च करेंगे आ जाएंगे इन किताबों के द्वारा आप स्वता अपने आप आंखें प्रेरित होते चले जाएंगे अब आप किस पार्टिकुलर किसी एक फील्ड में प्रेरित होना चाहते हैं तो उससे संबंधित व्यक्तियों के संपर्क में रहे उनके सानिध्य में रहे उनके बीच में जाएं आए तो उस फील्ड में आप प्रेरित होना शुरू हो जाएंगे और सभी कामों के लिए आप अगर प्रेरित होना चाहते हैं आपको कुछ क्लियर नहीं है कि मुझे किस फील्ड के लिए प्रेरित होना है जैसे सपोर्ट मेरा एक्सरसाइज करने का मन है बट में प्रेरित नहीं हो पाता हूं नहीं कर पाता हूं आलसी हूं अटल जाती है रोज कल पर डाल देता हूं तो उसकी प्रेरणा के लिए मैं जिम जा सकता हूं भले एक्सरसाइ ना करूं चले जाऊं जाने का नहीं अभी बना लूं किसी भी समय चला जाऊं ऐसे ही चला जाऊं अपने आप उस माहौल में रहें या कोई ऐसी मूवी देखने जिसमें अच्छे जिससे आपको प्रेरणा मिलती हो जिसे सुल्तान करके मूवी आई थी उसे देखे तो एक प्रेरणा मिलती कि नहीं मैं भी अपना शरीर बना सकता हूं इस तरह से उस क्षेत्र में उस फील्ड में उन विचारों में अब रहेंगे तो आपको प्रेरित अंदर से प्रेरित होना शुरू हो जाएंगे और अगर आपको फील्ड नहीं पता है क्लियर नहीं है स्पष्टीकरण नहीं आपके दिमाग में तो किताबें पढ़ने किताबें पढ़ने से सभी प्रकार की प्रेरणा आपको मिलेगी किताबों पर अगर खर्च नहीं कर सकते हो तो फ्री में बहुत सारी पीडीएफ उपलब्ध हैं किताबों की बहुत सारे ऐप हैं जिनसे आप किताबों को फ्री में पढ़ सकते हैं थोड़ा भी सर्च करेंगे यूट्यूब पर डालेंगे फ्री किताबें फ्री बुक्स आ जाएंगे ढेर सारे उन पर जाकर पढ़ सकते हैं ऑडियो पढ़ना पसंद नहीं ऑडियो सुनना चाहते हैं तो बहुत सारे हैं जिनमें फ्री ऑडियो हैं आप आदियोगी सुंदर धन्यवाद

koi bhi vyakti apne aapko adhik aatma prerit karna chahta hai toh vaah kitaben padhen preranadayak kitaben padhen kitabon ki jaankari ke liye amazon par jayen top 10 Motivational book search kare unhe pade osho ko sunen pravachan sune Motivational speaker me hone sune jo bhi aapko pasand aaye use sune bahut saare hain aap youtube par search karenge aa jaenge in kitabon ke dwara aap swata apne aap aankhen prerit hote chale jaenge ab aap kis particular kisi ek field me prerit hona chahte hain toh usse sambandhit vyaktiyon ke sampark me rahe unke sanidhya me rahe unke beech me jayen aaye toh us field me aap prerit hona shuru ho jaenge aur sabhi kaamo ke liye aap agar prerit hona chahte hain aapko kuch clear nahi hai ki mujhe kis field ke liye prerit hona hai jaise support mera exercise karne ka man hai but me prerit nahi ho pata hoon nahi kar pata hoon aalsi hoon atal jaati hai roj kal par daal deta hoon toh uski prerna ke liye main gym ja sakta hoon bhale eksarasai na karu chale jaaun jaane ka nahi abhi bana loon kisi bhi samay chala jaaun aise hi chala jaaun apne aap us maahaul me rahein ya koi aisi movie dekhne jisme acche jisse aapko prerna milti ho jise sultan karke movie I thi use dekhe toh ek prerna milti ki nahi main bhi apna sharir bana sakta hoon is tarah se us kshetra me us field me un vicharon me ab rahenge toh aapko prerit andar se prerit hona shuru ho jaenge aur agar aapko field nahi pata hai clear nahi hai spashteekaran nahi aapke dimag me toh kitaben padhne kitaben padhne se sabhi prakar ki prerna aapko milegi kitabon par agar kharch nahi kar sakte ho toh free me bahut saari pdf uplabdh hain kitabon ki bahut saare app hain jinse aap kitabon ko free me padh sakte hain thoda bhi search karenge youtube par daalenge free kitaben free books aa jaenge dher saare un par jaakar padh sakte hain audio padhna pasand nahi audio sunana chahte hain toh bahut saare hain jinmein free audio hain aap adiyogi sundar dhanyavad

कोई भी व्यक्ति अपने आपको अधिक आत्मा प्रेरित करना चाहता है तो वह किताबें पढ़ें प्रेरणादायक

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  66
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

को अपने आप से आत्मा प्रयोग करने के लिए आतंकवाद का कावलम करना चाहिए मानव की यम नियम आसन प्राणायाम प्रत्याहार धारणा ध्यान और समाधि हिसार टांगों का इस्तेमाल कर सकते हैं आप कुछ ही दिनों में मतलब नव 1 दिन के अंदर आत्मवृत्त हो सकते हैं और आवश्यक होंगे

ko apne aap se aatma prayog karne ke liye aatankwad ka kavalam karna chahiye manav ki yum niyam aasan pranayaam pratyahar dharana dhyan aur samadhi hisar tangon ka istemal kar sakte hain aap kuch hi dino me matlab nav 1 din ke andar atmavritt ho sakte hain aur aavashyak honge

को अपने आप से आत्मा प्रयोग करने के लिए आतंकवाद का कावलम करना चाहिए मानव की यम नियम आसन प्र

Romanized Version
Likes  327  Dislikes    views  2683
WhatsApp_icon
user

Dr. Archana Jain

RCI Registered Rehb Psychologist, Counselor, NLP Practitioner, Reiki Master

0:57
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आप अपने आप को हाथ में प्रेरित करने के लिए सबसे पहले अपना व्यक्तिगत प्रेरणादायक कोई भी कविता सॉन्ग या कोटेशन सेलेक्ट करें और उसको दिल्ली रिपीट करें जब जब भी आप लोग फील करें तो आप उसको धाराएं रिपीट करें इसके अलावा आप दिल्ली मेडिटेशन करें एक्सरसाइज करें उसमें वाकिंग करें या कोई भी इस पैचिंग कर सकती हैं और इसके बाद आप अपनी लाइफ में छोटे छोटे गोल सेट करें और उनको अचीव करने के बाद आप अपने आप को यह बधाई ने शाबाशी दे कि आपने बहुत अच्छे से इस काम को किया है और आप अपने चारों तरफ पॉजिटिव वातावरण बनाए रखें जिससे कि आपको उसकी सकारात्मक एनर्जी मिलती रहे

aap apne aap ko hath me prerit karne ke liye sabse pehle apna vyaktigat preranadayak koi bhi kavita song ya quotation select kare aur usko delhi repeat kare jab jab bhi aap log feel kare toh aap usko dharayen repeat kare iske alava aap delhi meditation kare exercise kare usme Walking kare ya koi bhi is paiching kar sakti hain aur iske baad aap apni life me chote chote gol set kare aur unko achieve karne ke baad aap apne aap ko yah badhai ne shabashi de ki aapne bahut acche se is kaam ko kiya hai aur aap apne charo taraf positive vatavaran banaye rakhen jisse ki aapko uski sakaratmak energy milti rahe

आप अपने आप को हाथ में प्रेरित करने के लिए सबसे पहले अपना व्यक्तिगत प्रेरणादायक कोई भी कवित

Romanized Version
Likes  6  Dislikes    views  124
WhatsApp_icon
user

Sachin Sinha

Journalist

2:38
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मैं अपने आप को और अधिकार को प्रेरित फंसे कर सकता कुछ अच्छे बुक पढ़िए कुछ अच्छे विचारधारा को मेरे से भी दिए जुलिए जो आपके एहसास हुआ और आगे बढ़ाएं जिस तरह पापा जाने जाना है उसमें वह आपकी मदद कर पाए इसके लिए सबसे ज्यादा जरूरी है कि आपको अच्छे बुक को अपना दोस्त बनाया अच्छे लोगों को अपना दोस्त बनाएं अच्छी मानसिकता रखें तो आपका आत्मविश्वास और प्रकार होगा और मजबूत हुआ थोड़े आपको अलग नजर आएंगे और थोड़ा मुड़ा है तो पूजा बाद में अगर आपको विश्वास है तो वह प्रारंभ करें बहुत सारे श्लोक है जो आपके आत्मविश्वास को और अंदर से मजबूत करते हैं वह तो सूर्य नमस्कार भी है और न जाने और के कई सारे मंत्र हमने आप पढ़ सकते हैं और और घर में जो व्यक्ति हैं मां पिताजी हैं उनके साथ अच्छा समय बताइए हम से अच्छे अच्छे संस्कार प्राप्त करिए तो वह आपको जो वह जो सीखे हैं वह आपको बिल्कुल आपको आगे बढ़ने के लिए प्रेरणा प्रदान करेगी ताकि आपको उस लक्ष्य को प्राप्त कर पाया इसके लिए पूरी तरीके से आपको एक बार जीता चीज मैंने फेसबुक करके देखिए बिल्कुल और आगे बढ़ सकते हैं और रात में प्रेरित होंगे ही उम्र भी आप इन सभी बातों से और जो भी बड़े बुजुर्ग सिखाते हैं वह तो पता ही है हम उनकी बातों को भले ही सुनते नहीं है लेकिन बहुत सारी सच्चाई में सर्दियों में सुनने की कोशिश करी समझने की कोशिश करिए और आपके आसपास जो अच्छा ही है बोल इवनिंग के ऐसी हो उन्हें ग्रहण करने की कोशिश कीजिए

main apne aap ko aur adhikaar ko prerit fanse kar sakta kuch acche book padhiye kuch acche vichardhara ko mere se bhi diye juliye jo aapke ehsaas hua aur aage badhaye jis tarah papa jaane jana hai usme vaah aapki madad kar paye iske liye sabse zyada zaroori hai ki aapko acche book ko apna dost banaya acche logo ko apna dost banaye achi mansikta rakhen toh aapka aatmvishvaas aur prakar hoga aur majboot hua thode aapko alag nazar aayenge aur thoda muda hai toh puja baad me agar aapko vishwas hai toh vaah prarambh kare bahut saare shlok hai jo aapke aatmvishvaas ko aur andar se majboot karte hain vaah toh surya namaskar bhi hai aur na jaane aur ke kai saare mantra humne aap padh sakte hain aur aur ghar me jo vyakti hain maa pitaji hain unke saath accha samay bataiye hum se acche acche sanskar prapt kariye toh vaah aapko jo vaah jo sikhe hain vaah aapko bilkul aapko aage badhne ke liye prerna pradan karegi taki aapko us lakshya ko prapt kar paya iske liye puri tarike se aapko ek baar jita cheez maine facebook karke dekhiye bilkul aur aage badh sakte hain aur raat me prerit honge hi umar bhi aap in sabhi baaton se aur jo bhi bade bujurg sikhaate hain vaah toh pata hi hai hum unki baaton ko bhale hi sunte nahi hai lekin bahut saari sacchai me sardiyo me sunne ki koshish kari samjhne ki koshish kariye aur aapke aaspass jo accha hi hai bol evening ke aisi ho unhe grahan karne ki koshish kijiye

मैं अपने आप को और अधिकार को प्रेरित फंसे कर सकता कुछ अच्छे बुक पढ़िए कुछ अच्छे विचारधारा क

Romanized Version
Likes  41  Dislikes    views  1090
WhatsApp_icon
user

akanksha jain

Business Owner

1:26
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अपने आपको ज्यादा से ज्यादा मोटिवेशन मोटिवेशन करने के लिए लाइका आत्म प्रेरित जिसे आपने हिंदी वर्ड में लिखा है करने के लिए आपको सबसे ज्यादा खुद को पढ़ना पड़ेगा क्योंकि दूसरों को पढ़ने से पहले हमें खुद के बारे में पता होना चाहिए आज के आज के समय में जो में सारी चीजें हैं ना भी कैंसर होता है हमारी प्रॉब्लम यही आ जाती है कि वे कैन नॉट डूइंग एनीथिंग फॉर यूनिटी आपको किस तरीके से लेके चला रहे हैं इसके अलावा आपको अपनी स्टडी करने के साथ-साथ आपको बुक्स भी पढ़नी है पढ़ना पड़ेगा मोटिवेशनल स्पीकर्स को भी सुनना पड़ेगा और औरतें

apne aapko zyada se zyada motivation motivation karne ke liye laika aatm prerit jise aapne hindi word me likha hai karne ke liye aapko sabse zyada khud ko padhna padega kyonki dusro ko padhne se pehle hamein khud ke bare me pata hona chahiye aaj ke aaj ke samay me jo me saari cheezen hain na bhi cancer hota hai hamari problem yahi aa jaati hai ki ve can not doing anything for unity aapko kis tarike se leke chala rahe hain iske alava aapko apni study karne ke saath saath aapko books bhi padhani hai padhna padega Motivational speakers ko bhi sunana padega aur auraten

अपने आपको ज्यादा से ज्यादा मोटिवेशन मोटिवेशन करने के लिए लाइका आत्म प्रेरित जिसे आपने हिंद

Romanized Version
Likes  6  Dislikes    views  132
WhatsApp_icon
user

bhaand's Theatre and Acting Classes

Acting And drama Coach Casting director Drama Director

1:50
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अपने आपको अगर प्रेरित करना है तो अपने आपको ही देखना पड़ेगा आपको वह उपलब्धियां देखना पड़ेगी चाहे छोटी हो चाहे बड़ी हो जो आपने हासिल किए और उससे आपको कितना एप्रिसिएशन मिला है आपको लोगों ने कितना है प्रेषित किया जो आपके द्वारा उत्पन्न की गई है वाक्यों पर जाओ उठ जाओ जिसमें आपने लोगों को सुख दिया है और लोगों को आनंद दिया है लोगों को मजा आया है अब पीछे मुड़कर देखेंगे तो आपको बहुत सारी ऐसी बातें दिखेगी जिससे आपको लगेगा कि हां मैंने कुछ किया है और आपके जीवन में ऐसे कई मौके आए होंगे जब आप अपने लोगों को सुख की अनुभूति होगी और लोगों को मजा आया होगा और अब दोबारा से फिर से वही लोगों को अच्छा लगे ऐसा कीजिए कि लोगों को सुख की प्राप्ति हो और जब आप दूसरों को सुख देते हो दूसरों को खुशी देते हैं तो ऊपर वाला भी खुश होता है ऐसा बोला जाता है और आप लोगों के लिए अच्छा करते रहिए और खुद के लिए भी करते रहिए आपको शांति रहेगी आप इनोवेटिव बनी है आप सोचो क्रिएटिव बनी है आप जो आपके अंदर क्वालिटीज है उनको देखो उनको निकालो और उन पर फिर से वर्क करना शुरू करो अब जैसे पीछे मुड़कर देखेंगे तो आपको बहुत सारी अपने अंदर क्वालिटी दिखेगी क्वालिटी उसको निकालो और लोगों के सामने रखो काम करना शुरू करो जो आप करना चाहते हो तो ऐसी बात है आपको कोई प्रेरणा नहीं देखा आपको अपने आप से प्रेरणा मिलेगी और आप अपना काम करते चलिए गा थैंक यू

apne aapko agar prerit karna hai toh apne aapko hi dekhna padega aapko vaah upalabdhiyaan dekhna padegi chahen choti ho chahen badi ho jo aapne hasil kiye aur usse aapko kitna eprisieshan mila hai aapko logo ne kitna hai preshit kiya jo aapke dwara utpann ki gayi hai vaakyon par jao uth jao jisme aapne logo ko sukh diya hai aur logo ko anand diya hai logo ko maza aaya hai ab peeche mudkar dekhenge toh aapko bahut saari aisi batein dikhegi jisse aapko lagega ki haan maine kuch kiya hai aur aapke jeevan me aise kai mauke aaye honge jab aap apne logo ko sukh ki anubhuti hogi aur logo ko maza aaya hoga aur ab dobara se phir se wahi logo ko accha lage aisa kijiye ki logo ko sukh ki prapti ho aur jab aap dusro ko sukh dete ho dusro ko khushi dete hain toh upar vala bhi khush hota hai aisa bola jata hai aur aap logo ke liye accha karte rahiye aur khud ke liye bhi karte rahiye aapko shanti rahegi aap innovative bani hai aap socho creative bani hai aap jo aapke andar kwalitij hai unko dekho unko nikalo aur un par phir se work karna shuru karo ab jaise peeche mudkar dekhenge toh aapko bahut saari apne andar quality dikhegi quality usko nikalo aur logo ke saamne rakho kaam karna shuru karo jo aap karna chahte ho toh aisi baat hai aapko koi prerna nahi dekha aapko apne aap se prerna milegi aur aap apna kaam karte chaliye jaayega thank you

अपने आपको अगर प्रेरित करना है तो अपने आपको ही देखना पड़ेगा आपको वह उपलब्धियां देखना पड़ेगी

Romanized Version
Likes  6  Dislikes    views  70
WhatsApp_icon
user

Pawan

Financial Planer

0:34
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आप अपने आप को अत्यंत पवित्र सिर्फ ध्यान से ही लगा सकते हैं आप रोज ध्यान लगाइए ज्यादा ध्यान लगाइए खुद को समय दीजिए और अच्छे इंसान बनी ध्यान लगाने से आपके साथ आपके अंदर से जितने भी गंदगी साफ हो जाएगी और आप एक अच्छे इंसान बन जाएंगे लोग को पूरा जाना छोड़ दीजिए और अपने को ध्यान परमेश्वर की तरफ ले जाइए और ध्यान लगाइए सुबह 5:00 बजे से 7:00 बजे तक ध्यान लगाने की कोशिश कीजिए

aap apne aap ko atyant pavitra sirf dhyan se hi laga sakte hain aap roj dhyan lagaaiye zyada dhyan lagaaiye khud ko samay dijiye aur acche insaan bani dhyan lagane se aapke saath aapke andar se jitne bhi gandagi saaf ho jayegi aur aap ek acche insaan ban jaenge log ko pura jana chhod dijiye aur apne ko dhyan parmeshwar ki taraf le jaiye aur dhyan lagaaiye subah 5 00 baje se 7 00 baje tak dhyan lagane ki koshish kijiye

आप अपने आप को अत्यंत पवित्र सिर्फ ध्यान से ही लगा सकते हैं आप रोज ध्यान लगाइए ज्यादा ध्यान

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  126
WhatsApp_icon
user

Mahesh Kumar

Govt Employee.

0:22
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मैं अपने आप को अधिक आपूर्ति तथा चिंतन मनन कर कर सकता हूं किसी आदर्श पुरुष को अपना आदर्श मानकर आत्म चिंतन मनन करने से आत्म प्रेरित हो सकते हैं

main apne aap ko adhik aapurti tatha chintan manan kar kar sakta hoon kisi adarsh purush ko apna adarsh maankar aatm chintan manan karne se aatm prerit ho sakte hain

मैं अपने आप को अधिक आपूर्ति तथा चिंतन मनन कर कर सकता हूं किसी आदर्श पुरुष को अपना आदर्श मा

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  70
WhatsApp_icon
user

vivek sharma

BANK PO| Astrologer | Mutual Fund Advisor। Career Counselor

2:00
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आत्मवृत्त करने के लिए सिर्फ अपने अपनी क्लास जहां पर आप पढ़ते थे जितने भी लोगों को आप जानते हैं जितने भी लोगों को आप कुछ याद है आपकी क्लास में थे आपको वही लोग याद होंगे अरे यार वह तो इंग्लैंड पहुंच गया वह अमेरिका पहुंच गया आप याद करो कि आपकी क्लास में है इतने और लोग हैं जो क्या-क्या कर रहे हैं जिनकी नौकरी नहीं लगी जो मरीज में अपनी जीवन बिता रहे हैं जो कि जिनको की स्थाई नौकरी नहीं लगी उनको आप थोड़ा सा बातचीत करें उनके साथ में घुले मिले क्योंकि वह भी आपके दोस्त हैं दुश्मन कोई नहीं जब आप इतना सोच सकते हैं कि आत्मा प्रेत कैसे करें तो आप आत्म चिंतन में हैं तो आपका कोई दुश्मन नहीं हो सकता आप ऐसे व्यक्ति होंगे कि उनको कि हर व्यक्ति पसंद करता होगा या फिर कोई बुराई नहीं करता वह तो अपने को प्रेरित करने के लिए उन लोगों को जो आपकी क्लास में आपके मोहल्ले में जो बच्चे आपके साथ खेलते थे आपको सिर्फ वही याद है जो अमेरिका मुंबई दिल्ली बेंगलुरु बड़ी चीटियों में या फिर बड़ी कंपनियों में या फिर अच्छा धन्य उनके पास आप उनको याद करते हो बदमाश था फिर भी हो गया आप ऐसे लोगों को याद करोगे जो आप सेंटर जाना इंटेलीजेंट क्या करूं जो आपसे क्षमा चलाते थे वह कहां है निश्चित ही आपको आत्मवृत्त हो जाएंगे आप और थोड़ा सा ध्यान करें कि कोई भी पद्धति से करें आजकल बहुत सारे ऐप है मेडिटेशन के बहुत सारे ग्रुप है सबका मेडिसिन बढ़िया है बहुत अच्छे मातम रहते हो जाएंगे आप

atmavritt karne ke liye sirf apne apni class jaha par aap padhte the jitne bhi logo ko aap jante hain jitne bhi logo ko aap kuch yaad hai aapki class me the aapko wahi log yaad honge are yaar vaah toh england pohch gaya vaah america pohch gaya aap yaad karo ki aapki class me hai itne aur log hain jo kya kya kar rahe hain jinki naukri nahi lagi jo marij me apni jeevan bita rahe hain jo ki jinako ki sthai naukri nahi lagi unko aap thoda sa batchit kare unke saath me ghule mile kyonki vaah bhi aapke dost hain dushman koi nahi jab aap itna soch sakte hain ki aatma pret kaise kare toh aap aatm chintan me hain toh aapka koi dushman nahi ho sakta aap aise vyakti honge ki unko ki har vyakti pasand karta hoga ya phir koi burayi nahi karta vaah toh apne ko prerit karne ke liye un logo ko jo aapki class me aapke mohalle me jo bacche aapke saath khelte the aapko sirf wahi yaad hai jo america mumbai delhi bengaluru badi chitiyon me ya phir badi companion me ya phir accha dhanya unke paas aap unko yaad karte ho badamash tha phir bhi ho gaya aap aise logo ko yaad karoge jo aap center jana intelligent kya karu jo aapse kshama chalte the vaah kaha hai nishchit hi aapko atmavritt ho jaenge aap aur thoda sa dhyan kare ki koi bhi paddhatee se kare aajkal bahut saare app hai meditation ke bahut saare group hai sabka medicine badhiya hai bahut acche maatam rehte ho jaenge aap

आत्मवृत्त करने के लिए सिर्फ अपने अपनी क्लास जहां पर आप पढ़ते थे जितने भी लोगों को आप जानते

Romanized Version
Likes  6  Dislikes    views  73
WhatsApp_icon
user

अनमोल मणी

योग शिक्षक

3:28
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

प्रिय मित्र आपने पूछा है कि मैं अपने आप को और अधिक हाथ में प्रेरित कैसे कर सकता हूं तो आदमी प्रेरित करने के लिए सबसे पहले आत्मा का ज्ञान होना अनिवार्य है कि आत्मा पर किस परिस्थिति का किस विचार का कैसे व्यवहार का किस प्रकार के स्वभाव का कैसा प्रभाव पड़ता तमा इस संसार में कहां से आती है और कहां जाती है आत्मज्ञान जब आप हासिल करेंगे तो आत्म प्रेरित होने में आंखों मदद मिलेगी जितना ज्यादा आप आत्मबोध में रहेंगे उतना ज्यादा आपको प्रेरणा मिलती रहेगी जितना ज्यादा आप एक मनुष्य आत्माओं के प्रति आदमी व्यवहार करेंगे आत्मीय प्रेम रखेंगे एक होता है दैहिक प्रेम और दूसरा होता है आदमी के हित प्रेम व्यक्ति को वासना में ढकेल कर और पतित बनाता है और आदमी प्रेम प्रतीक आत्मा को वासना से मुक्त करके पावन बनाता है आत्म अधिक आत्म प्रेरित होने के लिए आप पूरी तरह अध्यात्म के अर्थ को समझें अध्यात्म का मतलब होता है आत्मा का अध्ययन और इस संसार में आत्मा का जीरो जीरो पॉइंट एक परसेंट भी नहीं है सब जगह केवल दे दर्शन दे प्रदर्शन तेरा मेरा मेरी पार्टी तेरी बाल्टी इसलिए ऐसा किया उसने ऐसा किया आरोप-प्रत्यारोप का ही प्रचार प्रसार है आप धार्मिक सीरियल देखें तो उसने मारधाड़ पारिवारिक सीरियल देखें तो उसमें मारधाड़ खून खराबा तेरा मेरा ऐसे आए कोई भी पिक्चर अभी तक नहीं बनी है जिसमे आदमी प्रवृत्ति को दिखाया जाए इसलिए आप हमारा अनमोल मणि के नाम से यूट्यूब पर चैनल है अनमोल बनी पहले टाइप करें फिर लेंस में क्लिक करके हमारी फोटो आएगी उस फोटो पर क्लिक करेंगे तब हमारे चाचा वीडियो आ जाएंगे आप उसे सब्सक्राइब कर ले बेल पर क्लिक कर ले और पूरे वीडियो को बहुत ध्यान से देखें जहां पर नहीं समझ में आया हमें 9271 41207 पर फोन भी कर सकते हैं शुक्रिया

priya mitra aapne poocha hai ki main apne aap ko aur adhik hath me prerit kaise kar sakta hoon toh aadmi prerit karne ke liye sabse pehle aatma ka gyaan hona anivarya hai ki aatma par kis paristhiti ka kis vichar ka kaise vyavhar ka kis prakar ke swabhav ka kaisa prabhav padta tama is sansar me kaha se aati hai aur kaha jaati hai atmagyan jab aap hasil karenge toh aatm prerit hone me aakhon madad milegi jitna zyada aap atmabodh me rahenge utana zyada aapko prerna milti rahegi jitna zyada aap ek manushya atmaon ke prati aadmi vyavhar karenge atmiya prem rakhenge ek hota hai daihik prem aur doosra hota hai aadmi ke hit prem vyakti ko vasana me dhakel kar aur patit banata hai aur aadmi prem prateek aatma ko vasana se mukt karke paavan banata hai aatm adhik aatm prerit hone ke liye aap puri tarah adhyaatm ke arth ko samajhe adhyaatm ka matlab hota hai aatma ka adhyayan aur is sansar me aatma ka zero zero point ek percent bhi nahi hai sab jagah keval de darshan de pradarshan tera mera meri party teri balti isliye aisa kiya usne aisa kiya aarop pratyarop ka hi prachar prasaar hai aap dharmik serial dekhen toh usne mardhad parivarik serial dekhen toh usme mardhad khoon kharaaba tera mera aise aaye koi bhi picture abhi tak nahi bani hai jisme aadmi pravritti ko dikhaya jaaye isliye aap hamara anmol mani ke naam se youtube par channel hai anmol bani pehle type kare phir lens me click karke hamari photo aayegi us photo par click karenge tab hamare chacha video aa jaenge aap use subscribe kar le bell par click kar le aur poore video ko bahut dhyan se dekhen jaha par nahi samajh me aaya hamein 9271 41207 par phone bhi kar sakte hain shukriya

प्रिय मित्र आपने पूछा है कि मैं अपने आप को और अधिक हाथ में प्रेरित कैसे कर सकता हूं तो आदम

Romanized Version
Likes  51  Dislikes    views  691
WhatsApp_icon
user

Manish Dev

Motivational Speaker, Yoga-Meditation Guide, Spiritualist, Psycho-analyst, Astrologer, Spiritual Healer, Life Coach

4:55
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

स्वाध्याय से अगर आप अपने आप को आमंत्रित करना चाहते हैं तो स्वाध्याय करें फिर स्वाध्याय करने का तात्पर्य क्या है शास्त्र अध्ययन और उनका चिंतन करने से स्वाध्याय होता है आप अपनी स्वयं की क्षमताओं का विकास करें और स्वयं की क्षमता को जाने आस्तीन प्रेरित कब होंगे जब आप आत्मा को जाने और आत्मा को जानना मतलब आत्मा को किसी आत्मा या कोई आजकल आत्मा शब्द का प्रयोग भी बड़ा विकृत रूप में होता है आत्मा को जानना मतलब स्वयं को जानो अपने स्वरूप को पहचानो कि तुम कौन हो तुम हो कौन कहां से आए युग हमें सहायता करता है स्वयं को जानने में योग कहता है योग्यता वृत्तियों का निरोध हमारे क्षेत्र में अनेकों भर्तियां हैं प्रमाणित रैबिकल स्मृति निद्रा यह पांच प्रकार की वृत्तियां महत्व पतंजलि निबंध बताइए यह पांच प्रकार की वृत्तियां चलती रहती है कभी संकल्प है कभी विकल्प है कभी अच्छे हैं कभी बुरे हैं कभी नखरा तमक विचारधारा कभी सकारात्मक विचारधारा हल कैसी है बिना पेंदी के लोटे के समान मन की स्थिति होती है मनुष्य की स्थिति होती है जहां ढलान मिला वहां गलत जाता है जहां मान सम्मान मिला वहां फंस जाता है वहां उलझ जाता है कि ऐसी चीजें होती रोशनी आप पहली तब होंगे जब आप आत्मा को जानेंगे आप आत्मा को जानने का तात्पर्य आत्मा को जानेंगे अर्थात स्वयं को जानेंगे और स्वयं को जानना अपने शरीर को जानना नहीं है उससे पहले शरीर के बाद अपने विचारों को अपने विचारों को अपने नियंत्रण में लो कंट्रोल योर हार्ट में विक्रम योर एक्शन कंट्रोल इलेक्शन इसमें विक्रम ट्रैक्टर स्वामी विवेकानंद जी ने ऐसा कहा अपने विचारों को अपने नियंत्रण मिलाओ चित्त वृत्तियों का निरोध अपनी भावनाओं अपने इमोशंस को अपने कंट्रोल में लिया तब जाकर तुम आतम प्रेरित हो पाओगे स्पेनको जानोगे तभी हुसैन के ऊपर जो पर्दा पड़ा हुआ है पर्दा हटना हटना चाहिए वह पर्दा है पर्दा है वृत्तियों का वह पर्दा है कर्म संस्कारों और वासना होता तो हो जाता है तब जाकर तब जाकर हमें सिर्फ आप तुम प्रेरित हमको सकते हैं हमें किसी और से प्रेरित होने की जरूरत नहीं पड़ेगी हम स्वयं से प्रेरित होते रहेंगे तो उसके लिए स्वयं को जानना भी जरूरी है आत्मज्ञान भी जरूरी है इसलिए अपने आप को और अधिक आस्तीन प्रेरित कैसे कर सकते हैं स्वयं के प्रति जागरूक हुई आत्मा के प्रति जागरूक चाहिए तभी जाकर आप अपने आप को आमंत्रित कर सकते हैं अन्यथा नहीं अगर आप स्पेन के प्रति जिम्मेदार नहीं हैं अपने और स्पेन के प्रति जिम्मेदार नेता अपने शरीर के प्रति कैसे कपड़े पहने कैसा भोजन किया अच्छा भोजन किया कि नहीं किया अक्षय कपड़े पहनने के लिए इतना ध्यान आपका अपने अच्छे भोजन और अक्षय वस्तुओं पर होता है उतना ध्यान आपके आपको अपने अच्छे विचारों पर भी होना चाहिए अच्छे विचारों पर जिस तरह से हम गंदे कपड़े नहीं पहनते हैं गंदे भोजन जो खराब हो गया है सड़ा गला भोज नहीं खाते हैं वैसे ही हमें गंदे बुरे नखरा तमक विचारों को अपने मन में अस्थान नहीं देना चाहिए अगर वह आए आ सकते हैं पी भी सकते हैं फिल्मों सकते हैं न्यूज़पेपर सकते हैं चारों तरफ से तो विचार आ रहे हैं क्यों सभी हम आत्मवृत्त कर पाएंगे अपने आप जितना ध्यान हम भोजन पर और कपड़ों पर देते इतना ध्यान अपनी सोच पर दो भोजन अच्छा कपड़े अच्छे लेकिन सोच बुरी फ्री गड़बड़ हो जाएगा सोच को अपनी सही हम जब तक नहीं करेंगे तब तक हम आग में प्रयुक्त होने के लिए सबसे पहले हाथ में जागरूक होना जरूरी है इतने में टेरा अपनी सोच पर ध्यान दो कि तुम सोचते कि प्रकृति प्रकार यह बहुत ध्यान है कि हम वस्त्र कैसे पहने हम भोजन कैसा करें उसी प्रकार जागरूकता होनी चाहिए कि हम सोच क्या रहे जब इस पर जागरूकता आएगी आज तुम प्रीत हो ना और अधिक आत्मवृत्त होना सरल हो जाएगा

swaadhyaay se agar aap apne aap ko aamantrit karna chahte hain toh swaadhyaay kare phir swaadhyaay karne ka tatparya kya hai shastra adhyayan aur unka chintan karne se swaadhyaay hota hai aap apni swayam ki kshamataon ka vikas kare aur swayam ki kshamta ko jaane astin prerit kab honge jab aap aatma ko jaane aur aatma ko janana matlab aatma ko kisi aatma ya koi aajkal aatma shabd ka prayog bhi bada vikrit roop me hota hai aatma ko janana matlab swayam ko jano apne swaroop ko pehchano ki tum kaun ho tum ho kaun kaha se aaye yug hamein sahayta karta hai swayam ko jaanne me yog kahata hai yogyata vrittiyon ka nirodh hamare kshetra me anekon bhartiyan hain pramanit raibikal smriti nidra yah paanch prakar ki vrittiyan mahatva patanjali nibandh bataiye yah paanch prakar ki vrittiyan chalti rehti hai kabhi sankalp hai kabhi vikalp hai kabhi acche hain kabhi bure hain kabhi nakhra tumak vichardhara kabhi sakaratmak vichardhara hal kaisi hai bina pendi ke lote ke saman man ki sthiti hoti hai manushya ki sthiti hoti hai jaha dhalan mila wahan galat jata hai jaha maan sammaan mila wahan fans jata hai wahan ulajh jata hai ki aisi cheezen hoti roshni aap pehli tab honge jab aap aatma ko jaanege aap aatma ko jaanne ka tatparya aatma ko jaanege arthat swayam ko jaanege aur swayam ko janana apne sharir ko janana nahi hai usse pehle sharir ke baad apne vicharon ko apne vicharon ko apne niyantran me lo control your heart me vikram your action control election isme vikram tractor swami vivekananda ji ne aisa kaha apne vicharon ko apne niyantran milao chitt vrittiyon ka nirodh apni bhavnao apne emotional ko apne control me liya tab jaakar tum atam prerit ho paoge spenako janoge tabhi hussain ke upar jo parda pada hua hai parda hatna hatna chahiye vaah parda hai parda hai vrittiyon ka vaah parda hai karm sanskaron aur vasana hota toh ho jata hai tab jaakar tab jaakar hamein sirf aap tum prerit hamko sakte hain hamein kisi aur se prerit hone ki zarurat nahi padegi hum swayam se prerit hote rahenge toh uske liye swayam ko janana bhi zaroori hai atmagyan bhi zaroori hai isliye apne aap ko aur adhik astin prerit kaise kar sakte hain swayam ke prati jagruk hui aatma ke prati jagruk chahiye tabhi jaakar aap apne aap ko aamantrit kar sakte hain anyatha nahi agar aap Spain ke prati zimmedar nahi hain apne aur Spain ke prati zimmedar neta apne sharir ke prati kaise kapde pehne kaisa bhojan kiya accha bhojan kiya ki nahi kiya akshay kapde pahanne ke liye itna dhyan aapka apne acche bhojan aur akshay vastuon par hota hai utana dhyan aapke aapko apne acche vicharon par bhi hona chahiye acche vicharon par jis tarah se hum gande kapde nahi pehente hain gande bhojan jo kharab ho gaya hai sada gala bhoj nahi khate hain waise hi hamein gande bure nakhra tumak vicharon ko apne man me asthan nahi dena chahiye agar vaah aaye aa sakte hain p bhi sakte hain filmo sakte hain Newspaper sakte hain charo taraf se toh vichar aa rahe hain kyon sabhi hum atmavritt kar payenge apne aap jitna dhyan hum bhojan par aur kapdo par dete itna dhyan apni soch par do bhojan accha kapde acche lekin soch buri free gadbad ho jaega soch ko apni sahi hum jab tak nahi karenge tab tak hum aag me prayukt hone ke liye sabse pehle hath me jagruk hona zaroori hai itne me tera apni soch par dhyan do ki tum sochte ki prakriti prakar yah bahut dhyan hai ki hum vastra kaise pehne hum bhojan kaisa kare usi prakar jagrukta honi chahiye ki hum soch kya rahe jab is par jagrukta aayegi aaj tum prateet ho na aur adhik atmavritt hona saral ho jaega

स्वाध्याय से अगर आप अपने आप को आमंत्रित करना चाहते हैं तो स्वाध्याय करें फिर स्वाध्याय करन

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  85
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

तुम प्रेरित करने के लिए सबसे पहले आत्ममंथन जरूरी प्रेरित किस मामले में करना है आप अपने जीवन के उद्देश्य बनाइए क्या उद्देश है आप आईपीएस बनना चाहते हैं क्या यह बनना चाहते हैं कि सामाजिक कार्यकर्ता बनना चाहते हैं कि दार्शनिक बनना चाहते हैं कि विद्वान मतलब रामायणी बनना चाहते हैं कि गीता के वक्ता बनना चाहते हैं जब कोई व्यापार करने गए थे उसको अच्छी तरह से मंथन कीजिए अपने गुणों से उसको तो लिए उसके नकारात्मकता को हटाइए उसके पास ड्यूटी को सोचे आगे बढ़ने के तरीकों को देखें तब आपको प्रेरणा मिलेगी इस कार्य में मुझे इतना फायदा है इसने मेरा सामाजिक सम्मान मिलेगा मेरे माता-पिता को सम्मान मिलेगा इससे धन का रीजन भी होगा और सत्ता के साथ में आगे बढ़ कर के मैं अपनी सफलता का परचम लहराता

tum prerit karne ke liye sabse pehle atmamanthan zaroori prerit kis mamle me karna hai aap apne jeevan ke uddeshya banaiye kya uddesh hai aap ips banna chahte hain kya yah banna chahte hain ki samajik karyakarta banna chahte hain ki darshnik banna chahte hain ki vidhwaan matlab ramayani banna chahte hain ki geeta ke vakta banna chahte hain jab koi vyapar karne gaye the usko achi tarah se manthan kijiye apne gunon se usko toh liye uske nakaratmakta ko hataiye uske paas duty ko soche aage badhne ke trikon ko dekhen tab aapko prerna milegi is karya me mujhe itna fayda hai isne mera samajik sammaan milega mere mata pita ko sammaan milega isse dhan ka reason bhi hoga aur satta ke saath me aage badh kar ke main apni safalta ka parcham lahrata

तुम प्रेरित करने के लिए सबसे पहले आत्ममंथन जरूरी प्रेरित किस मामले में करना है आप अपने जीव

Romanized Version
Likes  232  Dislikes    views  408
WhatsApp_icon
user

Govind Khalmania

Ayurvedic Doctor

0:54
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हां नमस्कार आपने पूछा कि मैं अपने आप अपने आप को आप में प्रिंट कैसे कर सकते हैं आप अपने आप को आकर्षित कर सकते हैं आप अच्छे काम कीजिए आप लोगों की भलाई का काम कीजिए आप अपने काम को जो कर रहे हैं उसे ईमानदारी से कीजिए मैं नशे के लिए जो भी काम करते हैं आप घर पर काम कर रहे हैं बाहर काम कर रहे हैं किसके लिए काम कर रहे हैं इस पैसे के लिए आप काम कर रहे हैं पूरी ईमानदारी से अपने काम को करिए और आपकी वजह से किसी को परेशानी नहीं हो सबसे कम कीजिए और अपराध को प्रेरित करने की बात आप करें आदमी प्रजेंट की बात करते हैं तो कहीं सारी चीजें ऐसी है जिसमें आप अपना आप को प्रेरित कर सकते हैं बहुत अच्छे आप काम कर सकते हैं वह लोगों के लिए हेल्प कर सकते हैं तो आपको ऑटोमेटिक आदमी प्रेरणा मिलेगी आप इसे काम करके समाज में नाम रोशन कर सकते हैं

haan namaskar aapne poocha ki main apne aap apne aap ko aap me print kaise kar sakte hain aap apne aap ko aakarshit kar sakte hain aap acche kaam kijiye aap logo ki bhalai ka kaam kijiye aap apne kaam ko jo kar rahe hain use imaandaari se kijiye main nashe ke liye jo bhi kaam karte hain aap ghar par kaam kar rahe hain bahar kaam kar rahe hain kiske liye kaam kar rahe hain is paise ke liye aap kaam kar rahe hain puri imaandaari se apne kaam ko kariye aur aapki wajah se kisi ko pareshani nahi ho sabse kam kijiye aur apradh ko prerit karne ki baat aap kare aadmi present ki baat karte hain toh kahin saari cheezen aisi hai jisme aap apna aap ko prerit kar sakte hain bahut acche aap kaam kar sakte hain vaah logo ke liye help kar sakte hain toh aapko Automatic aadmi prerna milegi aap ise kaam karke samaj me naam roshan kar sakte hain

हां नमस्कार आपने पूछा कि मैं अपने आप अपने आप को आप में प्रिंट कैसे कर सकते हैं आप अपने आप

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  88
WhatsApp_icon
user

Manoj Kumar Srivastava

सेवानिवृत्त उपसचिव,स्वास्थ्य, चिकित्सा शिक्षा एवं परिवार कल्याण विभाग, झारखंड रांची

0:34
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

ऐसा करने के लिए आपको खुद से जोड़ना होगा आत्मवृत्त आप मतलब आत्मा आत्मा से बहुत कम लोग जुड़े हुए हैं जबकि वहीं हमारे वजूद के अस्तित्व कारण है तो आत्मवृत्त होने के लिए अपने आपसे स्वयं से खुद से अपने चोलिया एक्सप्रेस से जुड़ी है और इसके लिए सबसे अच्छा उपाय है ध्यान या मेडिटेशन

aisa karne ke liye aapko khud se jodna hoga atmavritt aap matlab aatma aatma se bahut kam log jude hue hain jabki wahi hamare wajood ke astitva karan hai toh atmavritt hone ke liye apne aapse swayam se khud se apne chaulia express se judi hai aur iske liye sabse accha upay hai dhyan ya meditation

ऐसा करने के लिए आपको खुद से जोड़ना होगा आत्मवृत्त आप मतलब आत्मा आत्मा से बहुत कम लोग जुड़े

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  98
WhatsApp_icon
qIcon
ask

Related Searches:
abhi prerit ; badi aapa ; कैसे कर सकता हूं ; क्या मैं आपको किस कर सकता हूं ; दिविनिटी ;

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!