आप जीवन में सबसे ज़्यादा कब रोए हैं और क्यों?...


user

Rajan Chaudhary

Teacher Motivational Speaker

0:31
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मैं सबसे ज्यादा जीवन में अपने पिताजी के लिए रोया था उनकी किसी से कोई बहस हो गई थी तो उनकी आंखें नम हुई थी और उनको देखकर मुझे रोना आ गया था क्योंकि वह मेरी लाइफ में कैसी इंसान है जिनकी आंख में बैठ कभी आंसू नहीं देख सकता मेरी जिंदगी मेरे लिए इतने इंपोर्टेंट नहीं है जितनी मेरे लिए मेरे पिताजी की खुशी महत्व रखती है

main sabse zyada jeevan mein apne pitaji ke liye roya tha unki kisi se koi bahas ho gayi thi toh unki aankhen nam hui thi aur unko dekhkar mujhe rona aa gaya tha kyonki vaah meri life mein kaisi insaan hai jinki aankh mein baith kabhi aansu nahi dekh sakta meri zindagi mere liye itne important nahi hai jitni mere liye mere pitaji ki khushi mahatva rakhti hai

मैं सबसे ज्यादा जीवन में अपने पिताजी के लिए रोया था उनकी किसी से कोई बहस हो गई थी तो उनकी

Romanized Version
Likes  11  Dislikes    views  360
KooApp_icon
WhatsApp_icon
5 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!