मैं किसी को चोट पहुँचाए बिना उनकी ग़लती को कैसे सही कर सकता हूँ?...


user

Ragini Kshatriya

Lifecoach@Lifezhonour

2:00
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

पहले तो आप कि यहां पर सोच बड़ी अच्छी है कि आप दिनों किसी को हार्ट नहीं करना चाहते और उनकी गलती सुधार देना चाहते हैं तो आप का पोस्टमार्टम क्वेश्चन है कि आप किसी को हार्ट नहीं करना चाहते वह बहुत अच्छी बात है और आप ही सोचें कि आप किसी और की गलती को सही करें यहां पर मैं तुलसी और सहमत हूं मैं आपको कहना चाहूंगी कि आप किसी की गलती को सही करने का ठेका अपने दिल में फिनाले गुस्सा एंड सन आपके पास और भी बहुत सारी अच्छी-अच्छी चीजें करने के लिए हैं आप जितने भी गलती की है आप उसे समझाएं ताकि वह व्यक्ति वह सिम गलती वापस ना करें बिकॉज़ आज उसने यह गलती की है तो आप उसको ठीक करने के लिए है आप वह बिगड़ा उठाने के लिए है हमेशा शायद ना रहे तो यदि आप उस व्यक्ति को समझा दे कि यह चीज गलत है और उसको कैसे ठीक किया जा सकता है तो ज्यादा सही अप्रोचों का नाम बिकॉज़ अब किसी को भी गलती से बताई जाती है तो वह उसको इतना पॉजिटिवली नहीं लेता है तो दे दो बोर्ड कॉल कंस्ट्रक्टेड बाय जवाब किसी को फिट बैठती रहे हैं वह फिर बाद में उनकी गलतियां बतानी है बहुत ही पॉजिटिव तरीके से बतानी है जैसे कि आप कह सकते हैं कि अगर आपके साथ में कोई कमी है जो बहुत ही अग्रसर है छोटी-छोटी बात पर गुस्सा हो जाता है एंड वह चीज आपको बहुत-बहुत देर करती है क्या रिश्ते इतना गुस्सा क्यों मेटल वेट करूं तो आप उससे यह कहने की बदली क्या तू बहुत गुस्से वाले तेरे साथ काम करने में तकलीफ है आप यह कह सकते हैं कि आज तेरे अंदर काम का इतना ज्यादा पैशन है कि मतलब कभी-कभी लगता है शायद तू ही समझ नहीं पाता है कि तू कब क्या दिया शिंदे रहा है एंड वह देख कर शायद किसी को कुछ खराब लग सकता है तो प्लीज वह कोंडा

pehle toh aap ki yahan par soch badi achi hai ki aap dino kisi ko heart nahi karna chahte aur unki galti sudhaar dena chahte hain toh aap ka postmortem question hai ki aap kisi ko heart nahi karna chahte vaah bahut achi baat hai aur aap hi sochen ki aap kisi aur ki galti ko sahi kare yahan par main tulsi aur sahmat hoon main aapko kehna chahungi ki aap kisi ki galti ko sahi karne ka theka apne dil mein finale gussa and san aapke paas aur bhi bahut saree achi achi cheezen karne ke liye hain aap jitne bhi galti ki hai aap use samjhayen taki vaah vyakti vaah sim galti wapas na kare because aaj usne yah galti ki hai toh aap usko theek karne ke liye hai aap vaah bigda uthane ke liye hai hamesha shayad na rahe toh yadi aap us vyakti ko samjha de ki yah cheez galat hai aur usko kaise theek kiya ja sakta hai toh zyada sahi aprochon ka naam because ab kisi ko bhi galti se batai jaati hai toh vaah usko itna positively nahi leta hai toh de do board call constructed bye jawab kisi ko fit baithati rahe hain vaah phir baad mein unki galtiya batani hai bahut hi positive tarike se batani hai jaise ki aap keh sakte hain ki agar aapke saath mein koi kami hai jo bahut hi agrasar hai choti choti baat par gussa ho jata hai and vaah cheez aapko bahut bahut der karti hai kya rishte itna gussa kyon metal wait karu toh aap usse yah kehne ki badli kya tu bahut gusse waale tere saath kaam karne mein takleef hai aap yah keh sakte hain ki aaj tere andar kaam ka itna zyada passion hai ki matlab kabhi kabhi lagta hai shayad tu hi samajh nahi pata hai ki tu kab kya diya shinde raha hai and vaah dekh kar shayad kisi ko kuch kharab lag sakta hai toh please vaah konda

पहले तो आप कि यहां पर सोच बड़ी अच्छी है कि आप दिनों किसी को हार्ट नहीं करना चाहते और उनकी

Romanized Version
Likes  19  Dislikes    views  471
WhatsApp_icon
14 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Maulin Pandya

Life Coach and Entrepreneur

2:00
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आईफोन से मेरा नाम ऑल इंडिया है और यह जो सवाल है कि किसी को चोट पहुंचाए मीना में किस तरीके से किसी को सुधार सकता हूं या फिर उनकी गलती को कैसे सही पकड़ कर सकता हूं देखिए इंसान हमेशा दो चीजों से आगे बढ़ता है पॉजिटिव और नेगेटिव से अगर किसी को इमीडीएटली नेगेटिव चीज बताते हैं तो उसे इमीडीएटली शायद साइकोलॉजी कली ए कंपैक्ट आता है और वह नेगेटिव को एक्सेप्ट करने से ज्यादा आपके लिए शायद वह गलत साबित हो सकता है तो पहली चीज तो यह है कि किसी की गलती बताने से पहले उनके पॉजिटिव प्वाइंट्स बोलने से थोड़ी है आप उनके शायद पांच से छह पहुंचने पॉइंट बताइए आपने अच्छा किया है वह अच्छा किया है लेकिन कहीं पर आपने यहां पर अगर थोड़ा सा अच्छा किया होता तो शायद हमें ज्यादा खुशी हुई होती तो पहले तुम गलतियां कहां पर हो रही है या फिर किसको आप कहां सुधारना चाहते हैं वह जानना जरूरी है जैसे ही आगे कुछ कम नहीं होती है कंपनी अपने एम्पलाइज को कहना चाहते हैं कि आप पर कॉमन सही नहीं कर रहे थे कि अगर आप डायरेक्ट कहेंगे तो वह एम्पलाई बुरा मान सकता है और उसे एक नेगेटिव पिलाती है कमली और उसके टारगेट के बारे में तो आप उसे यह कह सकते उनके पॉजिटिव प्वाइंट्स है कि आपने यह सारी चीजें अच्छी की है लेकिन अगर आपने इसके अंदर सुधार किया होता थोड़ी सी ज्यादा मेहनत की होती तो ज्यादा अच्छा होता मोस्ट इंपॉर्टेंट कोई नहीं आता है कि अगर इंसान को सीधा यह कह देते हैं कि यह गलत है या फिर सीधा उसको व्हाट्सएप पर ही दिखा देंगे तो वह अच्छा नहीं रहेगा बल्कि हो सकता है तो अगर आप उस इंसान को शायद सुधारने के लिए किए जाने की टोटल वीक है ऐसा मत बताइए बल्की अगर वह कोशिश करते तो ज्यादा अच्छा होता वैसे कहने की कोशिश कीजिए तो शायद वहां पर उसको चोट नहीं पहुंचेगी तो इंसान को सीधा गलत साबित कर देना वह सही बात नहीं है अगर आप उस इंसान को अच्छा साबित करना चाहते हो तो धीरे-धीरे शुरुआत कीजिए थैंक यू

iphone se mera naam all india hai aur yah jo sawaal hai ki kisi ko chot pahunchaye meena mein kis tarike se kisi ko sudhaar sakta hoon ya phir unki galti ko kaise sahi pakad kar sakta hoon dekhiye insaan hamesha do chijon se aage badhta hai positive aur Negative se agar kisi ko imidietali Negative cheez batatey hain toh use imidietali shayad psychology kalee a compact aata hai aur vaah Negative ko except karne se zyada aapke liye shayad vaah galat saabit ho sakta hai toh pehli cheez toh yah hai ki kisi ki galti batane se pehle unke positive pwaints bolne se thodi hai aap unke shayad paanch se cheh pahuchne point bataye aapne accha kiya hai vaah accha kiya hai lekin kahin par aapne yahan par agar thoda sa accha kiya hota toh shayad hamein zyada khushi hui hoti toh pehle tum galtiya kahaan par ho rahi hai ya phir kisko aap kahaan sudharna chahte hain vaah janana zaroori hai jaise hi aage kuch kam nahi hoti hai company apne implies ko kehna chahte hain ki aap par common sahi nahi kar rahe the ki agar aap direct kahenge toh vaah employee bura maan sakta hai aur use ek Negative pilati hai kamli aur uske target ke bare mein toh aap use yah keh sakte unke positive pwaints hai ki aapne yah saree cheezen achi ki hai lekin agar aapne iske andar sudhaar kiya hota thodi si zyada mehnat ki hoti toh zyada accha hota most important koi nahi aata hai ki agar insaan ko seedha yah keh dete hain ki yah galat hai ya phir seedha usko whatsapp par hi dikha denge toh vaah accha nahi rahega balki ho sakta hai toh agar aap us insaan ko shayad sudhaarne ke liye kiye jaane ki total weak hai aisa mat bataye bulky agar vaah koshish karte toh zyada accha hota waise kehne ki koshish kijiye toh shayad wahan par usko chot nahi pahunchegi toh insaan ko seedha galat saabit kar dena vaah sahi baat nahi hai agar aap us insaan ko accha saabit karna chahte ho toh dhire dhire shuruat kijiye thank you

आईफोन से मेरा नाम ऑल इंडिया है और यह जो सवाल है कि किसी को चोट पहुंचाए मीना में किस तरीके

Romanized Version
Likes  13  Dislikes    views  417
WhatsApp_icon
user

Suman Bhardwaj

Psychologist/Yoga Trainer/Marriage Counsellor,Child And Adolscent Counsellor

1:19
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

यहां पर किसी को चोट पहुंचाए बिना या किसी को बताए बिना अगर आपको लगता है कि आप बिना बताए किसी की गलती को सुधार सकते हैं तो आप कोशिश करें सुधार है लेकिन गलती सुधारने के बाद एक बार यह आप जरूर कोशिश करें कि उस रात गलती का पता जरूर होना चाहिए उन्होंने क्या गलती की और उसको आपने कैसे 4 दिया कैसे मॉडिफाई कर दिया क्योंकि यहां पर इनकी एक प्रॉब्लम और क्रिकेट हो जाती है जब हम किसी की गलतियों को छुपाते जाते हैं और करेक्ट कर जाते हैं तो वह इंसान की समझ पाता कि वह कोई गलती कर रहा है और उसकी यह गलती करने की जो चलती है और जो फ्रिकवेंसी हो तो यहां पर अगर आप सिर्फ हेल्प की बात कर रहे हैं कि हम उनकी हेल्प कर दी है और उसका इंडिया कभी कभी तो ठीक है लेकिन फिर भी आप उनको बताएं कि आपने उनकी हेल्प कर दी उन्होंने गलती की और आपसे उसको सुधार दिया और एक्टिव सुधारा तो अगर आप उनके पास तो नहीं शुभचिंतक है तो आप उनको बता कर गलती या गलत बताएं

yahan par kisi ko chot pahunchaye bina ya kisi ko bataye bina agar aapko lagta hai ki aap bina bataye kisi ki galti ko sudhaar sakte hain toh aap koshish karein sudhaar hai lekin galti sudhaarne ke baad ek baar yeh aap zaroor koshish karein ki us raat galti ka pata zaroor hona chahiye unhone kya galti ki aur usko aapne kaise 4 diya kaise madifai kar diya kyonki yahan par inki ek problem aur cricket ho jati hai jab hum kisi ki galatiyon ko chhupaate jaate hain aur correct kar jaate hain toh wah insaan ki samajh pata ki wah koi galti kar raha hai aur uski yeh galti karne ki jo chalti hai aur jo frequency ho toh yahan par agar aap sirf help ki baat kar rahe hain ki hum unki help kar di hai aur uska india kabhi kabhi toh theek hai lekin phir bhi aap unko bataye ki aapne unki help kar di unhone galti ki aur aapse usko sudhaar diya aur active sudhara toh agar aap unke paas toh nahi shubhchintak hai toh aap unko bata kar galti ya galat bataye

यहां पर किसी को चोट पहुंचाए बिना या किसी को बताए बिना अगर आपको लगता है कि आप बिना बताए किस

Romanized Version
Likes  24  Dislikes    views  1689
WhatsApp_icon
user

Sushant

Life Coach

1:53
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

किसी की गलती को लगाना चाहते हैं तो नॉर्मल के बाद किसी को नफरत के सुधारने की कोशिश करते हैं आपके शब्द अलग प्रकार के होते हैं उसके अपनी पसंद करो आप उसको जो भी कुछ कही जो भी कुछ कहेंगे वह कहीं ना कहीं आपकी नफरत तो रिप्लाई कर देना सुंदर बहुत पॉलीटिकल आप है तो अलग बात अच्छी तरह से भरें लव अपने अंदर है और आप समझ मुस्कान की कोशिश करते हैं थोड़ा स्लो खुद का काम करती हो सही-सही उसकी गलती दिखाने के लिए क्या कर सकते हैं आप इसको इंग्लिश करते हुए बताएं कि

kisi ki galti ko lagana chahte hain toh normal ke baad kisi ko nafrat ke sudhaarne ki koshish karte hain aapke shabd alag prakar ke hote hain uske apni pasand karo aap usko jo bhi kuch kahi jo bhi kuch kahenge wah kahin na kahin aapki nafrat toh reply kar dena sundar bahut political aap hai toh alag baat acchi tarah se bhare love apne andar hai aur aap samajh muskaan ki koshish karte hain thoda slow khud ka kaam karti ho sahi sahi uski galti dikhane ke liye kya kar sakte hain aap isko english karte hue bataye ki

किसी की गलती को लगाना चाहते हैं तो नॉर्मल के बाद किसी को नफरत के सुधारने की कोशिश करते हैं

Romanized Version
Likes  384  Dislikes    views  1755
WhatsApp_icon
user

Neha Makhija

Clinical Psychologist

0:21
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अपनी गलती होता उसने भागीदारी समझना और स्पष्ट बात करना हमेशा यह ध्यान रखना कि दूसरे को हमारी बातों से कष्ट ना हो यह संभव नहीं है क्योंकि कल जब कोई हमें गलती बता कर तो कल तो हम तुम को इस तरह से कहना देते हम सुनना चाहेंगे ध्यान रखिए

apni galti hota usne bhagidari samajhna aur spasht baat karna hamesha yah dhyan rakhna ki dusre ko hamari baaton se kasht na ho yah sambhav nahi hai kyonki kal jab koi hamein galti bata kar toh kal toh hum tum ko is tarah se kehna dete hum sunana chahenge dhyan rakhiye

अपनी गलती होता उसने भागीदारी समझना और स्पष्ट बात करना हमेशा यह ध्यान रखना कि दूसरे को हमार

Romanized Version
Likes  64  Dislikes    views  809
WhatsApp_icon
user

Rishi Mishra

Rehabilitation Psychologist

1:36
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

इसको हम जानते हैं कि हम अपनी बात बोलने लग जाते हैं तो धीरे-धीरे हसन की तरफ चले जाते हैं तो उसके लिए होने के लिए अपनी बात सामने वाले को समझ में भी आ गया और उसको बुरा भी नहीं लगे उसके लिए हमारे को यह करना चाहिए क्या हमें व्यक्ति विशेष पर टिप्पणी देने की वजह उसकी आदत पर हमें फोकस करना चाहिए हमें यह बताने की आदत है यह हम लोगों के लिए भी नुकसानदायक है आगे की है उसके बीच में इगो की दीवार कब खड़ी कर देंगे दीवाने से ऊपर नहीं कर पाएगा मैसेज सुबह ही रहता है कि आपका जो कम्युनिकेशन स्टाइल है आप उसे फोकस करें और इस पैकिंग की जाती है वह न्यूडिटी है मतलब के मिस्टेक्स आपका जो भी होना चाहिए मतलब किसी एक का नहीं होना चाहिए

isko hum jante hain ki hum apni baat bolne lag jaate hain toh dhire dhire hasan ki taraf chale jaate hain toh uske liye hone ke liye apni baat saamne waale ko samajh mein bhi aa gaya aur usko bura bhi nahi lage uske liye hamare ko yah karna chahiye kya hamein vyakti vishesh par tippani dene ki wajah uski aadat par hamein focus karna chahiye hamein yah bata ki aadat hai yah hum logo ke liye bhi nukasanadayak hai aage ki hai uske beech mein ego ki deewaar kab khadi kar denge deewane se upar nahi kar payega massage subah hi rehta hai ki aapka jo communication style hai aap use focus kare aur is packing ki jaati hai vaah nyuditi hai matlab ke mistakes aapka jo bhi hona chahiye matlab kisi ek ka nahi hona chahiye

इसको हम जानते हैं कि हम अपनी बात बोलने लग जाते हैं तो धीरे-धीरे हसन की तरफ चले जाते हैं तो

Romanized Version
Likes  16  Dislikes    views  485
WhatsApp_icon
user

Dr. Alpana Rastogi

Psychologist

0:34
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

पहली बात तो यह कि मेरा पहला सेंटेंस यही होता है स्वीकारोक्ति पैलेस एक्सेप्ट करिए और उस पर उस को जज ना करें जैसमिन छुपा था जो हम जजमेंट जो पास करते हैं लोगों के बारे में कि तुम बिल्कुल उंगली दिखाने की जगह अगर हम उसे थोड़ी सी बात करें उसका रे में समझे थोड़ा अपना प्रोजेक्ट बताएं तो वह शायद बिना चोट पहुंचाए खुद को ठीक कर सकते

pehli baat toh yah ki mera pehla sentence yahi hota hai swikarokti Palace except kariye aur us par us ko judge na kare jaismin chupa tha jo hum judgement jo paas karte hain logo ke bare mein ki tum bilkul ungli dikhane ki jagah agar hum use thodi si baat kare uska ray mein samjhe thoda apna project bataye toh vaah shayad bina chot pahunchaye khud ko theek kar sakte

पहली बात तो यह कि मेरा पहला सेंटेंस यही होता है स्वीकारोक्ति पैलेस एक्सेप्ट करिए और उस पर

Romanized Version
Likes  17  Dislikes    views  225
WhatsApp_icon
user

Akashdeep Ghoshal

Clinical Psychologist

1:08
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

लेकिन उनको देने के लिए नहीं अपने आप को बहुत ही चलता है यहां पर कि अगर हम अपने गुस्से में तो हम कुत्ते कुत्ते कुत्ते हैं उसी को पहले खुद लिखे शब्दों में मैं एक इंसान को यह कहूंगा यह वह रिकॉर्डिंग करके भेज विचार और पेन पेंसिल एंड लाइव क्रिकेट स्कोर कभी बुरा ना मिटे और वही तो मैंने लिखा है

lekin unko dene ke liye nahi apne aap ko bahut hi chalta hai yahan par ki agar hum apne gusse mein toh hum kutte kutte kutte hain usi ko pehle khud likhe shabdon mein main ek insaan ko yah kahunga yah vaah recording karke bhej vichar aur pen pencil and live cricket score kabhi bura na mite aur wahi toh maine likha hai

लेकिन उनको देने के लिए नहीं अपने आप को बहुत ही चलता है यहां पर कि अगर हम अपने गुस्से में त

Romanized Version
Likes  20  Dislikes    views  724
WhatsApp_icon
user

Sakshi Gupta

Clinical Psychologist

1:03
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए चोट पहुंचाए बिना गलती की करना पहली बात तो यह कि गलती है क्या तो क्या अगर आपको लगता है कि हम सामने वाले में कुछ बहुत गलत किया है शायद बच्चों की कैसे बात करें या कुछ प्रदान करें प्यार जो हम से क्यूट हैं बच्चों को बहुत अच्छे करती हैं आप हमको डांट कर देती है वह कभी अच्छी बात नहीं सुनी तो वैसे मैं कॉफ़ी ज्यादा समझेंगे और दूसरी बात एक पॉजिटिव रिपोर्ट होता है कि अगर वह अपनी गलती करते हैं तो उनके शाम को चोदना पहुंचा कि उनकी जो अच्छी चीज है उनको लगती है और कितनी ही देखना खेलना है ना वह बंद कर देंगे तो समझेंगे काम करूंगा तुम मुझे अच्छी करने को नहीं मिलेगी

dekhiye chot pahunchaye bina galti ki karna pehli baat toh yah ki galti hai kya toh kya agar aapko lagta hai ki hum saamne waale mein kuch bahut galat kiya hai shayad baccho ki kaise baat kare ya kuch pradan kare pyar jo hum se cute hain baccho ko bahut acche karti hain aap hamko dant kar deti hai vaah kabhi achi baat nahi suni toh waise main coffee zyada samjhenge aur dusri baat ek positive report hota hai ki agar vaah apni galti karte hain toh unke shaam ko chodana pohcha ki unki jo achi cheez hai unko lagti hai aur kitni hi dekhna khelna hai na vaah band kar denge toh samjhenge kaam karunga tum mujhe achi karne ko nahi milegi

देखिए चोट पहुंचाए बिना गलती की करना पहली बात तो यह कि गलती है क्या तो क्या अगर आपको लगता ह

Romanized Version
Likes  14  Dislikes    views  411
WhatsApp_icon
user

Anuradha Rakesh

Clinical Psychologist

2:18
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बिना किसी की भावनाओं को दुख पहुंचा है उन्हें उन्हें उनकी गलती एहसास कराने का सबसे अच्छा तरीका यह है कि हम अपनी बात को सच और सही ढंग से उनके सामने रखें हम खुली भाषण में अगर अपनी बात को जाहिर करेंगे तो होगा कि दूसरा इंसान उस बात को समझ सकेगा दूसरी बात हमें यह ध्यान रखने की जरूरत है कि हम अपनी इच्छाएं अपना सलूशन अपना जो भी हमें लगता है कि किस तरह से इस परेशानी को हटाया जा सकता था वह दूसरे पर थोपे नहीं इसको करने का एक सबसे अच्छा तरीका होता है जब भी हम कभी किसी से बात करें चाहे वह हम अपने घर में अपने दोस्तों से अपने परिवार जनों से अपने बच्चों से अगर हम इन दो-तीन चीजों का दो तीन शब्दों का इस्तेमाल करें हम अपनी बात को थोड़ा अच्छे ढंग से रख सकते हैं जैसे कि हम अक्सर बोलते हैं कि जब भी हमें किसी को कुछ चीज कहनी है उस बात को कहने से पहले अगर हम यह कहें कि मेरे हिसाब से अगर आप ऐसा करें तो शायद अच्छा हो मेरे एक्सपीरियंस मृत्यु वैसे मैंने देखा है कि शायद यह इस तरह से करना अच्छा होता है मुझे लगता है मैं सोचता हूं कि शायद ऐसा हो तो अच्छा हो इस तरह की बातों का इस्तेमाल करते हैं इन तीन शब्दों का इस्तेमाल करते हैं तो हम अपनी बात उस वक्त नहीं है बल्कि मुझे ऐसा लगता है वही करूं आपको लगता है आपने किया है तो इससे क्या होता है कि हम जिम्मेदारी उस परेशानी कोष प्रॉब्लम को सॉल्व करने की दूसरे इंसान रहते हैं पर हम अपनी सलूशन जो हमें लगता है कि इसको इस परेशानी को हल करने का तरीका है यह भी हो सकता है हमको बता पाते हैं यह बात दूसरों को समझने में थोड़ी आसान लगती है इससे उन्हें हम पर विश्वास होता है कि हम उस दिन तक नहीं रहे हैं पर शायद ही हम अपना एक सजेशन उनको दे रहे हैं इससे उन्हें बुरा नहीं लगता है भावना नहीं होती है थैंक यू

bina kisi ki bhavnao ko dukh pohcha hai unhein unhein unki galti ehsaas karane ka sabse accha tarika yeh hai ki hum apni baat ko sach aur sahi dhang se unke saamne rakhen hum khuli bhashan mein agar apni baat ko jaahir karenge toh hoga ki doosra insaan us baat ko samajh sakega dusri baat humein yeh dhyan rakhne ki zarurat hai ki hum apni ichhaen apna salution apna jo bhi humein lagta hai ki kis tarah se is pareshani ko hataya ja sakta tha wah dusre par thope nahi isko karne ka ek sabse accha tarika hota hai jab bhi hum kabhi kisi se baat karein chahe wah hum apne ghar mein apne doston se apne parivar jano se apne baccho se agar hum in do teen chijon ka do teen shabdo ka istemal karein hum apni baat ko thoda acche dhang se rakh sakte hain jaise ki hum aksar bolte hain ki jab bhi humein kisi ko kuch cheez kahani hai us baat ko kehne se pehle agar hum yeh kahein ki mere hisab se agar aap aisa karein toh shayad accha ho mere experience mrityu waise maine dekha hai ki shayad yeh is tarah se karna accha hota hai mujhe lagta hai sochta hoon ki shayad aisa ho toh accha ho is tarah ki baaton ka istemal karte hain in teen shabdo ka istemal karte hain toh hum apni baat us waqt nahi hai balki mujhe aisa lagta hai wahi karu aapko lagta hai aapne kiya hai toh isse kya hota hai ki hum jimmedari us pareshani kosh problem ko solve karne ki dusre insaan rehte hain par hum apni salution jo humein lagta hai ki isko is pareshani ko hal karne ka tarika hai yeh bhi ho sakta hai hamko bata paate hain yeh baat dusro ko samjhne mein thodi aasaan lagti hai isse unhein hum par vishwas hota hai ki hum us din tak nahi rahe hain par shayad hi hum apna ek suggestion unko de rahe hain isse unhein bura nahi lagta hai bhavna nahi hoti hai thank you

बिना किसी की भावनाओं को दुख पहुंचा है उन्हें उन्हें उनकी गलती एहसास कराने का सबसे अच्छा तर

Romanized Version
Likes  22  Dislikes    views  480
WhatsApp_icon
user

Chaina Karmakar

Spiritual Healer & Life Coach

1:37
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

किसी को चोट पहुंचाए बिना उसकी गलती को कैसे सही करना किया जा सकता है सबसे पहली बात आप की यह जान लीजिए अगर आप सही बात बताएंगे तो अक्सर लोगों को चोट पहुंचती है पर आपका बताने का तरीका जो है इस चोट को जो है मिनिमाइज कर सकती है अगर आप ही को लेकर या चोट पहुंचाने की टेंशन के साथ आप उस गलती को प्वाइंट आउट करेंगे तो इंसान को चोट पहुंचेगा अब शांति के साथ इसको बहुत अच्छे तरीके से कन्वे कर सकते हैं बिना किसी जजमेंट पास के कमरे में होता है कि किसी को किसी का गलती का अहसास कराना गलत नहीं होता है उस जजमेंट को कैरी करके जिंदगी भर उस इंसान को ताना देते रहना और बार-बार अहसास कराना वह गलत है आप की इंटरनेट अगर प्योर है उसकी गलती को बता के बिना जजमेंट को जारी किए आगे बढ़ जाए इंसान की इच्छा है उस गलती को सुधारे उस गलती के साथ रहे आपने अपना काम इन टेंडर चेन टेंट के साथ कर दिया है आप आगे बढ़ जाएगी अब उस इंसान को तय करने दीजिए कि क्या उसके लिए सही है और क्या बुरा है आपको नहीं करना है वह

kisi ko chot pahunchaye bina uski galti ko kaise sahi karna kiya ja sakta hai sabse pehli baat aap ki yah jaan lijiye agar aap sahi baat batayenge toh aksar logo ko chot pohchti hai par aapka batane ka tarika jo hai is chot ko jo hai minimaij kar sakti hai agar aap hi ko lekar ya chot pahunchane ki tension ke saath aap us galti ko point out karenge toh insaan ko chot pahunchaega ab shanti ke saath isko bahut acche tarike se convey kar sakte hain bina kisi judgement paas ke kamre mein hota hai ki kisi ko kisi ka galti ka ehsaas krana galat nahi hota hai us judgement ko carry karke zindagi bhar us insaan ko tana dete rehna aur baar baar ehsaas krana vaah galat hai aap ki internet agar pure hai uski galti ko bata ke bina judgement ko jaari kiye aage badh jaaye insaan ki iccha hai us galti ko sudhare us galti ke saath rahe aapne apna kaam in tender chain tent ke saath kar diya hai aap aage badh jayegi ab us insaan ko tay karne dijiye ki kya uske liye sahi hai aur kya bura hai aapko nahi karna hai vaah

किसी को चोट पहुंचाए बिना उसकी गलती को कैसे सही करना किया जा सकता है सबसे पहली बात आप की यह

Romanized Version
Likes  14  Dislikes    views  249
WhatsApp_icon
play
user

Kavita

Writer

1:16

Likes  17  Dislikes    views  404
WhatsApp_icon
play
user

TS Bhanot

Teacher

1:04

Likes  21  Dislikes    views  267
WhatsApp_icon
play
user

Aahil

Storyteller

1:48

Likes  11  Dislikes    views  308
WhatsApp_icon
qIcon
ask

Related Searches:
khud ko chot kaise pahuchaye ;

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!