इंडस वैली सभ्यता क्यों और कैसे ख़त्म हुई?...


user

Race academy maneesh

Competitive Exam Expert (Youtube- Race Academy Maneesh)https://www.youtube.com/channel/UCEwGqvTOdzZnbc70zgFiJYQ

0:17
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आते हुए पानी के बाढ़ के 2 पहलू में हो सकती है की सभ्यता नष्ट होगी

aate hue paani ke baadh ke 2 pahaloo me ho sakti hai ki sabhyata nasht hogi

आते हुए पानी के बाढ़ के 2 पहलू में हो सकती है की सभ्यता नष्ट होगी

Romanized Version
Likes  18  Dislikes    views  376
WhatsApp_icon
4 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user
0:28
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

इंडस वैली सभ्यता को हिंदी में सिंधु सभ्यता कहते हैं इसके विनाश होने के कारण प्रशासनिक कमजोर जलवायु परिवर्तन बाढ़ विदेशी व्यापार में गतिरोध भौतिक परिवर्तन बाय आक्रमण महामारी अदृश्य गज के कारण हुआ था

indus valley sabhyata ko hindi me sindhu sabhyata kehte hain iske vinash hone ke karan prashaasnik kamjor jalvayu parivartan baadh videshi vyapar me gatirodh bhautik parivartan bye aakraman mahamari adrishya gaj ke karan hua tha

इंडस वैली सभ्यता को हिंदी में सिंधु सभ्यता कहते हैं इसके विनाश होने के कारण प्रशासनिक कमजो

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  106
WhatsApp_icon
user
0:55
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

इस सभ्यता के पतन के लिए को एक कारक उत्तरदाई नहीं था अलग-अलग स्थलों के लिए अलग-अलग कारक उत्तरदाई थी सिंधु सभ्यता आंतरिक एवं व्यापार की संतुलन पर आधारित जिसमें बहुत सारे कारण ऐसे थे कि वर्षा की मात्रा जैसे वहां आसींद वाले लोग जानकारी कृषि पर डिपेंड होते थे तो कृषि के लिए व्हाट्सएप बहुत जरूरी है व्हाट्सएप पर बहुत ज्यादा होती थी कहीं पर कम होता था और आरंभ में कम हो गई थी इससे खेती और पशुपालन पर बहुत बुरा असर पड़ता था कहा जाता है कि वहां की मिट्टी की लवणता बढ़ गई थी और उड़ता घट गई थी जो भी कृषि के लिए बहुत अच्छा नहीं था बहुत से लोगों यह कहते हैं कि कहीं शायद वहां पर बाढ़ का पानी जमा हो गया होगा इसलिए भी वहां खत्म हो गया होगा मतलब पर्यावरण नहीं रीजन भी बहुत सारे हैं

is sabhyata ke patan ke liye ko ek kaarak uttardai nahi tha alag alag sthalon ke liye alag alag kaarak uttardai thi sindhu sabhyata aantarik evam vyapar ki santulan par aadharit jisme bahut saare karan aise the ki varsha ki matra jaise wahan asind waale log jaankari krishi par depend hote the toh krishi ke liye whatsapp bahut zaroori hai whatsapp par bahut zyada hoti thi kahin par kam hota tha aur aarambh me kam ho gayi thi isse kheti aur pashupalan par bahut bura asar padta tha kaha jata hai ki wahan ki mitti ki lavanta badh gayi thi aur udta ghat gayi thi jo bhi krishi ke liye bahut accha nahi tha bahut se logo yah kehte hain ki kahin shayad wahan par baadh ka paani jama ho gaya hoga isliye bhi wahan khatam ho gaya hoga matlab paryavaran nahi reason bhi bahut saare hain

इस सभ्यता के पतन के लिए को एक कारक उत्तरदाई नहीं था अलग-अलग स्थलों के लिए अलग-अलग कारक उत्

Romanized Version
Likes  2  Dislikes    views  70
WhatsApp_icon
play
user

Snehasish Gupta

Journalist / Traveller

0:14

Likes  14  Dislikes    views  430
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!