ब्रिटिश ने भारत क्यों छोड़ दिया?...


user

PKS

Assistant Professor, Dept Of History

8:17
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

यूट्रस में ब्रिटिश ने भारत क्यों छोड़ दिया तथा अंग्रेजों ने भारत क्यों छोड़ा 15 अगस्त 1947 को हमें आजादी मिली तो यह प्रश्न उठना स्वाभाविक है कि 200 लगभग 200 वर्षों के बाद अंग्रेजों ने भारत को स्वतंत्र किया इसके बहुत सारे कारण थे उस समय कुछ परिस्थितियां ऐसी थी कि अंकिता अंग्रेजों को भारत छोड़ना ही पड़ा तो एक प्रमुख कारण था कि भारतीय राष्ट्रीय आंदोलन की शक्ति और लगातार 1885 से राष्ट्रीय आंदोलन के प्रति बेहतर होता चला गया और जब द्वितीय विश्व युद्ध प्रारंभ हुआ उस समय राष्ट्रीय चेतना अपने चरमोत्कर्ष पर थी और 1942 का भारत छोड़ो आंदोलन एक प्रकार से ब्रिटेन को भारत छोड़ देने की चेतावनी दी थी गांधी जी ने भारतीय जनता को करो या मरो का संदेश दिया था दूसरी तरफ आजाद हिंद फौज के को पर अभियोग और सैनिक विद्रोह की घटनाओं ने राजनीतिक जागृति का परिचय दिया था तो एक बहुत बड़ा कारण था कि परिस्थितियां धीरे-धीरे अंग्रेजों के विपरीत होती जा रही थी दूसरा कारण यह था कि द्वितीय विश्व युद्ध के बाद इंग्लैंड की कमजोर स्थिति अब द्वितीय विश्व युद्ध हुआ 1939 से 43 के बीच और इससे पूर्व इंग्लैंड विश्व में प्रथम श्रेणी का राष्ट्र था लेकिन द्वितीय विश्व युद्ध के बाद इंग्लैंड की स्थिति बहुत कमजोर हो गई थी उसकी अर्थव्यवस्था पर भी आघात सोचा था उसके सैनिक शक्ति कम हो गई थी इसलिए अब ब्रिटेन इस स्थिति में नहीं था कि वह भारत पर नियंत्रण बनाए रखने के लिए आर्थिक और सैनिक भार को सहन कर सके इसलिए इंग्लैंड की कमजोर स्थिति दिन ही उसे भारत छोड़ने के लिए बाध्य किया तीसरा कारण यह है कि इंग्लैंड की जरूरत भी भारतीय स्वतंत्रता के पक्ष में था परिस्थिति वर्ष 1940 के बाद ब्रिटिश जनमत भारत के पक्ष में हो गया ब्रिटेन के चुनाव में मजदूर लेबर पार्टी मजदूर दल के जितने का कारण यह भी था कि मजदूर दल भारतीय हितों से सहानुभूति रखता है और ब्रिटेन की प्रजातंत्र आत्मक सरकारें अपने देश के जन्म की उपेक्षा नहीं कर सकती थी दूसरी ओर ब्रिटिश सरकार साम्यवाद के प्रसार के विरुद्ध थी और उसमें भारत पर भी साम्यवाद का प्रचार हो रहा था तो भारत में संवाद के प्रसार को रोकने के लिए भी भारत को सिगड़ी स्वतंत्रता प्रदान करना था प्रदान करना जरूरी था और एक कारण है इंग्लैंड पर अंतरराष्ट्रीय दमाद द्वितीय विश्व युद्ध के समय अमेरिका के राष्ट्रपति रूजवेल्ट चीनी के त्याग का इसे ऑस्ट्रेलिया के विदेश मंत्री भाट के द्वारा देकर पर भारत को स्वतंत्रता देने के लिए जोर डाला गया और बेटे को यह भी जितने में अमेरिका द्वारा बहुत ज्यादा सहायता प्रदान की गई थी इसलिए युद्ध के बाद अमेरिका द्वारा बेटे पर फिर से दबाव डाला गया था तो उसे अस्वीकार करना संभव नहीं था एक कारण इसका है 1945 के चुनाव में मजदूर दल की विजय इंग्लैंड में मजदूर दल भारत के प्रति सहानुभूति रखता था और उसका विचार था कि भारत को सिगरेट स्वतंत्रता प्रदान कर दी जानी चाहिए 1945 के चुनाव में जब सत्ता मजदूर दल के हाथ में आ गई तो उसने अपनी घोषणाओं को कार्य रूप दिया और अगले कारण है सैनिक विद्रोह की 18 57 से लेकर 1945 तक भारतीय सेना ने ब्रिटिश शासक शासन का कभी विरोध नहीं किया था लेकिन 1946 में मुंबई में सेना द्वारा ब्रिटिश शासन के विरुद्ध विद्रोह किया गया अब जब ब्रिटिश सरकार ने देखा कि भारतीय सेना भी उनके विरुद्ध हो रही है तो उन्होंने भारत छोड़ देने में अब तक कल्याण समझा और अंतिम माउंटबेटन योजना स्वीकार करना जब मुस्लिम लीग और कांग्रेस दोनों के द्वारा माउंटबेटन योजना को स्वीकार कर लिया गया तो भारतीय स्वतंत्रता के मार्ग की सांप्रदायिक बाधा भी दूर हो गई इसलिए भारत को स्वतंत्र देने में देर नहीं थी इस तरह से हम लोग क्या देखते हैं कि भारतीय अंग्रेजों के भारत छोड़ने के अनेक कारण थे इसलिए डॉक्टर पट्टाबी सीता मैया लिखा था कि भारतीय स्वतंत्रता समय की गति और परिस्थितियों के दबाव का परिणाम थी तो स्पष्ट है कि अंग्रेजों ने भारत को क्यों छोड़ा इसके बहुत सारे कारण थे उम्मीद है आपको या तर्क संघ लगा होगा मैं इनको मैंने जो यहां पर बातें बताई है यह सारे कोई पुस्तकों के आधार पर है और तथ्यपरक है उम्मीद है आप इसे सही मानेंगे

yutras me british ne bharat kyon chhod diya tatha angrejo ne bharat kyon choda 15 august 1947 ko hamein azadi mili toh yah prashna uthna swabhavik hai ki 200 lagbhag 200 varshon ke baad angrejo ne bharat ko swatantra kiya iske bahut saare karan the us samay kuch paristhiyaann aisi thi ki ankita angrejo ko bharat chhodna hi pada toh ek pramukh karan tha ki bharatiya rashtriya andolan ki shakti aur lagatar 1885 se rashtriya andolan ke prati behtar hota chala gaya aur jab dwitiya vishwa yudh prarambh hua us samay rashtriya chetna apne charamotkarsh par thi aur 1942 ka bharat chodo andolan ek prakar se britain ko bharat chhod dene ki chetavani di thi gandhi ji ne bharatiya janta ko karo ya maro ka sandesh diya tha dusri taraf azad hind fauj ke ko par abhiyog aur sainik vidroh ki ghatnaon ne raajnitik jagriti ka parichay diya tha toh ek bahut bada karan tha ki paristhiyaann dhire dhire angrejo ke viprit hoti ja rahi thi doosra karan yah tha ki dwitiya vishwa yudh ke baad england ki kamjor sthiti ab dwitiya vishwa yudh hua 1939 se 43 ke beech aur isse purv england vishwa me pratham shreni ka rashtra tha lekin dwitiya vishwa yudh ke baad england ki sthiti bahut kamjor ho gayi thi uski arthavyavastha par bhi aaghat socha tha uske sainik shakti kam ho gayi thi isliye ab britain is sthiti me nahi tha ki vaah bharat par niyantran banaye rakhne ke liye aarthik aur sainik bhar ko sahan kar sake isliye england ki kamjor sthiti din hi use bharat chodne ke liye badhya kiya teesra karan yah hai ki england ki zarurat bhi bharatiya swatantrata ke paksh me tha paristhiti varsh 1940 ke baad british janmat bharat ke paksh me ho gaya britain ke chunav me majdur labour party majdur dal ke jitne ka karan yah bhi tha ki majdur dal bharatiya hiton se sahanubhuti rakhta hai aur britain ki prajatantra aatmkatha sarkaren apne desh ke janam ki upeksha nahi kar sakti thi dusri aur british sarkar samyavaad ke prasaar ke viruddh thi aur usme bharat par bhi samyavaad ka prachar ho raha tha toh bharat me samvaad ke prasaar ko rokne ke liye bhi bharat ko sigdi swatantrata pradan karna tha pradan karna zaroori tha aur ek karan hai england par antararashtriya damad dwitiya vishwa yudh ke samay america ke rashtrapati rujvelt chini ke tyag ka ise austrailia ke videsh mantri bhaat ke dwara dekar par bharat ko swatantrata dene ke liye jor dala gaya aur bete ko yah bhi jitne me america dwara bahut zyada sahayta pradan ki gayi thi isliye yudh ke baad america dwara bete par phir se dabaav dala gaya tha toh use aswikar karna sambhav nahi tha ek karan iska hai 1945 ke chunav me majdur dal ki vijay england me majdur dal bharat ke prati sahanubhuti rakhta tha aur uska vichar tha ki bharat ko cigarette swatantrata pradan kar di jani chahiye 1945 ke chunav me jab satta majdur dal ke hath me aa gayi toh usne apni ghoshnaon ko karya roop diya aur agle karan hai sainik vidroh ki 18 57 se lekar 1945 tak bharatiya sena ne british shasak shasan ka kabhi virodh nahi kiya tha lekin 1946 me mumbai me sena dwara british shasan ke viruddh vidroh kiya gaya ab jab british sarkar ne dekha ki bharatiya sena bhi unke viruddh ho rahi hai toh unhone bharat chhod dene me ab tak kalyan samjha aur antim mountbatten yojana sweekar karna jab muslim league aur congress dono ke dwara mountbatten yojana ko sweekar kar liya gaya toh bharatiya swatantrata ke marg ki sampradayik badha bhi dur ho gayi isliye bharat ko swatantra dene me der nahi thi is tarah se hum log kya dekhte hain ki bharatiya angrejo ke bharat chodne ke anek karan the isliye doctor pattabi sita maiya likha tha ki bharatiya swatantrata samay ki gati aur paristhitiyon ke dabaav ka parinam thi toh spasht hai ki angrejo ne bharat ko kyon choda iske bahut saare karan the ummid hai aapko ya tark sangh laga hoga main inko maine jo yahan par batein batai hai yah saare koi pustakon ke aadhar par hai aur tathyaparak hai ummid hai aap ise sahi manenge

यूट्रस में ब्रिटिश ने भारत क्यों छोड़ दिया तथा अंग्रेजों ने भारत क्यों छोड़ा 15 अगस्त 1947

Romanized Version
Likes  8  Dislikes    views  123
WhatsApp_icon
4 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Bhavya

Teacher

0:26
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

इस राज्य को भारत के छोड़ना पड़ा क्योंकि ब्रिटिश का अप आक्रमण भारत में नहीं चल रहा था जब भारत स्वतंत्र स्वतंत्र भारत स्वतंत्र हुई तो भारत में ब्रिटिश सरकार को ब्रिटिश राज्य को अपनाना नहीं किया और उन्होंने वर्कआउट शुरू कर दिया और अपने स्वदेशी गुड्स को इस्तेमाल करने के लिए सोचा ही प्रदेश सरकार की फिर जो सरकार नियम से वह खत्म होने का कहते

is rajya ko bharat ke chhodna pada kyonki british ka up aakraman bharat mein nahi chal raha tha jab bharat swatantra swatantra bharat swatantra hui toh bharat mein british sarkar ko british rajya ko apnana nahi kiya aur unhone workout shuru kar diya aur apne swadeshi goods ko istemal karne ke liye socha hi pradesh sarkar ki phir jo sarkar niyam se vaah khatam hone ka kehte

इस राज्य को भारत के छोड़ना पड़ा क्योंकि ब्रिटिश का अप आक्रमण भारत में नहीं चल रहा था जब भा

Romanized Version
Likes  6  Dislikes    views  152
WhatsApp_icon
play
user

Dilsh Sheikh

Journalist

1:24

Likes  2  Dislikes    views  139
WhatsApp_icon
play
user

Snehasish Gupta

Journalist / Traveller

0:33

Likes  14  Dislikes    views  381
WhatsApp_icon
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!