लोग मरने से क्यों डरते हैं?...


user

N. K. SINGH 'Nitesh'

Educator, Life Coach, Writer and Expert in British English Language, Author of Book/Fiction Lucky Girl (Love vs Marriage)

4:46
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

एक ही आपने पूछा है कि लोग मरने से क्यों डरते हैं जी हां बिल्कुल जीवन की यह एक बहुत बड़ी सच्चाई है कि हर व्यक्ति जानता है उसे एक दिन बता फिर भी वह मरने से डरता है क्या कारण है वह माया मुंह का जाल जिसमें वह अब तक फंसा रहा था मिट्टी के पहले तक उसने न जाने क्या-क्या संघर्ष किया कौन-कौन से तरीके अपनाए झूठ और फरेब को भी अपना हथियार बनाया अपनी संपत्ति बढ़ाने में अपनी संतानों को सुविधा देने में संतान उत्पत्ति कार्यों में उसने अपनी उर्जा की खपत धन संचय नहीं उसने अपनी उर्जा की समाज में उसने अपनी उर्जा की पत्ती और उसने इसके साथ-साथ बड़ी-बड़ी कल्पनाएं अपने मन में कर चुका ले शरीर को ऑन सुविधाओं का आभास कराया जिन सुविधाओं को वह चाहता था मन आत्मा को तो कोई सुविधा और असुविधा होती है बॉडी करती है तो आदमी में मौजूद सबसे छोटा नहीं है और उसी से क्या बड़े-बड़े मक्खियों से मजबूत ज्ञान 1 लोगों से ना छूटे ज्ञान चक्षु डिटेक्टर लेने वाले लोगों से अपील है तो साधारण लोगों साथिया सदन किसे कहते हैं कि तुम मुझे छोड़ के न जाओ जो भी कहता है मैं तुझे छोड़कर नहीं जाऊंगा आदमी के शरीर और माया के सारे बंधन यह एक दूसरे से चिपक नहीं लगता है लगता है कुछ नहीं लगता है क्या उसे बहुत परेशानी होती है इन सब कुछ छोड़ कर के जाने के लिए सोच करते इसलिए वह काफी नहीं जाना था आपने देखा होगा कि जब कोई व्यक्ति अपने ओनर पसीने को लगा कर के कोई मकान बनाता है और उसने अपना पसीना बहाया है पैसा नहीं पसीना उसने भी उसने फावड़े चलाएं उसने भी उसने पानी डाला तो फिर उसकी एक-एक जब कोई तो होता है तो आ जाता है वह नहीं चाहता किसी एक भी थोड़ी है पैसा पैसा लगा उससे एक दीवार को तोड़कर और दूसरे दीवाल को उसकी जगह लगाने में कोई दिक्कत नहीं होती क्योंकि शरीर का मुझसे जुदा नहीं मुंह के ऐसे पास में बस जाता है उसके लिए उससे पीछा छुड़ाना मुश्किल होता है उसका लुक बना नहीं क्या आपने उस माया के जाल निकलना नहीं उसी मूवी जीवन के प्रति बच्चों के प्रति आनंदरा नहीं थी इसीलिए मनुष्य मरने से डरता है धन्यवाद

ek hi aapne poocha hai ki log marne se kyon darte hain ji haan bilkul jeevan ki yah ek bahut badi sacchai hai ki har vyakti jaanta hai use ek din bata phir bhi vaah marne se darta hai kya karan hai vaah maya mooh ka jaal jisme vaah ab tak fansa raha tha mitti ke pehle tak usne na jaane kya kya sangharsh kiya kaun kaun se tarike apnaye jhuth aur fareb ko bhi apna hathiyar banaya apni sampatti badhane me apni santano ko suvidha dene me santan utpatti karyo me usne apni urja ki khapat dhan sanchaya nahi usne apni urja ki samaj me usne apni urja ki patti aur usne iske saath saath badi badi kalpanaen apne man me kar chuka le sharir ko on suvidhaon ka aabhas karaya jin suvidhaon ko vaah chahta tha man aatma ko toh koi suvidha aur asuvidha hoti hai body karti hai toh aadmi me maujud sabse chota nahi hai aur usi se kya bade bade makkhiyon se majboot gyaan 1 logo se na chhoote gyaan chakshu detector lene waale logo se appeal hai toh sadhaaran logo sathiya sadan kise kehte hain ki tum mujhe chhod ke na jao jo bhi kahata hai main tujhe chhodkar nahi jaunga aadmi ke sharir aur maya ke saare bandhan yah ek dusre se chipak nahi lagta hai lagta hai kuch nahi lagta hai kya use bahut pareshani hoti hai in sab kuch chhod kar ke jaane ke liye soch karte isliye vaah kaafi nahi jana tha aapne dekha hoga ki jab koi vyakti apne owner pasine ko laga kar ke koi makan banata hai aur usne apna paseena bahaya hai paisa nahi paseena usne bhi usne favade chalaye usne bhi usne paani dala toh phir uski ek ek jab koi toh hota hai toh aa jata hai vaah nahi chahta kisi ek bhi thodi hai paisa paisa laga usse ek deewaar ko todkar aur dusre diwal ko uski jagah lagane me koi dikkat nahi hoti kyonki sharir ka mujhse juda nahi mooh ke aise paas me bus jata hai uske liye usse picha chhudana mushkil hota hai uska look bana nahi kya aapne us maya ke jaal nikalna nahi usi movie jeevan ke prati baccho ke prati anandara nahi thi isliye manushya marne se darta hai dhanyavad

एक ही आपने पूछा है कि लोग मरने से क्यों डरते हैं जी हां बिल्कुल जीवन की यह एक बहुत बड़ी सच

Romanized Version
Likes  474  Dislikes    views  8441
WhatsApp_icon
6 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
play
user

Yogi Prashant Nath

Business Consultant / M D

2:23

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार सर्वप्रथम सराहनीय है आपके द्वारा पूछा गया यह प्रश्न जो जीवन के महत्वता को दर्शाता है उसके उपरांत में अपना परिचय कराना चाहूंगा आप सभी से मेरा नाम है योगी प्रशांत राज चलिए बढ़ते हैं आपके प्रश्न की तरफ आप ने प्रश्न किया के लोग मरने से क्यों डरते हैं यह जीवन सभी को प्यारा है चाहे वह मनुष्य हो चाहे वह कोई जानवर हो हम अपने जीवन की महत्वता को व्यक्त कर सकते हैं जीव जंतु जो कि इतना हमें प्रभावित नहीं कर पाते जो इतना महत्वता दर्शनी पाते जीवन का इसलिए हमें उनके जीवन के मूल्य को हम कहीं ना कहीं कम मांगते हैं और हालांकि सभी के जीवन का अपना ही एक महत्व है अपना ही एक मूल्य है और अपने जीवन का सार्थक करो को अपनाना चाहिए सभी को और यह कह सकते हैं कि जिस तरह से गॉड गिफ्ट होता है और गिफ्ट होता है एक धन होता है जिस पर गाड़ी और हर एक व्यक्ति अपने धन को खोने से डरता है उसी प्रकार से जीवन भी एक मूल्यवान धन है और इस धन को खोने से हर व्यक्ति डरता है क्योंकि यह एक बहुत सुंदर उपहार है भगवान का दिया हुआ इसमें बहुत ज्यादा और खास तौर पर जीवन का जो है मनुष्य जीवन जो है वह कहा जाता है शास्त्रों में भी की करोड़ों लोगों में से करो योनियों में से तब जाके मनुष्य का जीवन मिलता है तो इसकी महत्वता को समझते हुए इसकी जो लाभ है हमारे जीवन में पूरे प्राणियों में देखा जाए सर्वश्रेष्ठ होता है मनुष्य का आजीवन तो इसलिए कहीं ना कहीं व्यक्ति से खोने से डरता है मरने से इसीलिए डरता है क्योंकि वह से खोना नहीं चाहता इससे उपहार को और बहुत आगे जीना चाहता है बहुत आगे बढ़ना चाहता है बहुत कुछ करना चाहता है अपने जीवन में और जिसकी वजह से उसे लगता है कि यह जीवन कम पड़ रहा है जीवन के कुछ पल कम है यह जो महत्वपूर्ण कारण है जिससे लोगों को महत्वता पता है होती है जीवन की इसी वजह से यही कारण है कि हर व्यक्ति को अपना जीवन बहुत ज्यादा प्रिय होता है आई होप फॉर द पोस्ट ऑफ ले काफी हेल्पफुल और मैं आपका आभार व्यक्त करता हूं कि आपने अपना मूल्यवान समय दिया इस पोस्ट को सुनने के लिए धन्यवाद आपका

namaskar sarvapratham sarahniya hai aapke dwara poocha gaya yah prashna jo jeevan ke mahatvata ko darshata hai uske uprant me apna parichay krana chahunga aap sabhi se mera naam hai yogi prashant raj chaliye badhte hain aapke prashna ki taraf aap ne prashna kiya ke log marne se kyon darte hain yah jeevan sabhi ko pyara hai chahen vaah manushya ho chahen vaah koi janwar ho hum apne jeevan ki mahatvata ko vyakt kar sakte hain jeev jantu jo ki itna hamein prabhavit nahi kar paate jo itna mahatvata darshani paate jeevan ka isliye hamein unke jeevan ke mulya ko hum kahin na kahin kam mangate hain aur halaki sabhi ke jeevan ka apna hi ek mahatva hai apna hi ek mulya hai aur apne jeevan ka sarthak karo ko apnana chahiye sabhi ko aur yah keh sakte hain ki jis tarah se god gift hota hai aur gift hota hai ek dhan hota hai jis par gaadi aur har ek vyakti apne dhan ko khone se darta hai usi prakar se jeevan bhi ek mulyavan dhan hai aur is dhan ko khone se har vyakti darta hai kyonki yah ek bahut sundar upahar hai bhagwan ka diya hua isme bahut zyada aur khas taur par jeevan ka jo hai manushya jeevan jo hai vaah kaha jata hai shastron me bhi ki karodo logo me se karo yoniyon me se tab jake manushya ka jeevan milta hai toh iski mahatvata ko samajhte hue iski jo labh hai hamare jeevan me poore praniyo me dekha jaaye sarvashreshtha hota hai manushya ka aajivan toh isliye kahin na kahin vyakti se khone se darta hai marne se isliye darta hai kyonki vaah se khona nahi chahta isse upahar ko aur bahut aage jeena chahta hai bahut aage badhana chahta hai bahut kuch karna chahta hai apne jeevan me aur jiski wajah se use lagta hai ki yah jeevan kam pad raha hai jeevan ke kuch pal kam hai yah jo mahatvapurna karan hai jisse logo ko mahatvata pata hai hoti hai jeevan ki isi wajah se yahi karan hai ki har vyakti ko apna jeevan bahut zyada priya hota hai I hope for the post of le kaafi helpful aur main aapka abhar vyakt karta hoon ki aapne apna mulyavan samay diya is post ko sunne ke liye dhanyavad aapka

नमस्कार सर्वप्रथम सराहनीय है आपके द्वारा पूछा गया यह प्रश्न जो जीवन के महत्वता को दर्शाता

Romanized Version
Likes  165  Dislikes    views  1570
WhatsApp_icon
user

Raj Raj

Business Mob No 9102116006

0:57
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

लोग मैंने इसलिए डरते ही खुशी लोग को मरने का डर नहीं है उनको एक तरह का क्या बोलता है जैसे कोई काम करते तो भी डर लगता है उस एक्टर का मरने का डर सकता है मरने का साथ नहीं रहता उल्लू के मंत्र वशीकरण करते कि मर जाएंगे तुम्हें कहां जाएंगे क्या समस्या भोगना पड़ेगा कथा गाना पानी में खोला जाता है यह वह खुद बन जाऊंगा यह पार्वती अमर कथा बीमार हो गए कि आपका तो बोलेगा कि आप क्या था कि तुमने बना दिया कि भारत की पिक्चर कोई भी कंट्री में लोग से डरते भूत बन जाओगे बन जाओगे

log maine isliye darte hi khushi log ko marne ka dar nahi hai unko ek tarah ka kya bolta hai jaise koi kaam karte toh bhi dar lagta hai us actor ka marne ka dar sakta hai marne ka saath nahi rehta ullu ke mantra vashikaran karte ki mar jaenge tumhe kaha jaenge kya samasya bhogna padega katha gaana paani me khola jata hai yah vaah khud ban jaunga yah parvati amar katha bimar ho gaye ki aapka toh bolega ki aap kya tha ki tumne bana diya ki bharat ki picture koi bhi country me log se darte bhoot ban jaoge ban jaoge

लोग मैंने इसलिए डरते ही खुशी लोग को मरने का डर नहीं है उनको एक तरह का क्या बोलता है जैसे क

Romanized Version
Likes  20  Dislikes    views  280
WhatsApp_icon
user

MonuTiwari

Little Businessman And Motivational Teacher

2:36
Play

Likes  10  Dislikes    views  196
WhatsApp_icon
user

Mdtausifzn

Gurkhan

2:07
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अगर आप किसी से पूछे कि उसे मौत से डर लगता है तो ज्यादातर लोग कहेंगे कि मुझे मौत से डर नहीं लगता है लेकिन यह सच नहीं है सबको मौत से डर लगता है ठीक है देखिए ऐसा क्यों होता है देखिए एक रिसर्च के मुताबिक अमेरिका में एक रिसर्च किया गया ठीक है उसकी साइज में वकील को उसको मौत के कल्पना कराई गई थी कि उसको महसूस कर आएगा कि उसकी मौत कैसे हो रही है ठीक है और एक और जो कुछ वकीलों को ठीक है उस वकीलों ने अपने मौत के कल्पना की थी क्या और उसे महसूस किया उसके बाद उससे फैसला सुनाया जमानत का फैसला सुनाया सुनाने को कहा गया वह लोग सबसे सख्त फैसला सुनाए ठीक है तो इस बात से साबित हुआ कि जो इंसान मानने का सोचते हैं वह बहुत सख्त होते हैं ठीक है ठीक है मरने के बाद सुनकर इंसानों को इसलिए ज्यादा दुख होता है क्योंकि इंसान अपने अपने आसपास की चीजों से प्यार करता अपने मोबाइल से प्यार करते हैं अपने देश से प्यार करते हैं और वह उसे छोड़ना नहीं चाहता ठीक है पर कभी-कभी ऐसा भी होता है कि मौत का नाम सुनकर इंसान इसलिए घबरा जाते हैं क्योंकि उसकी जिंदगी जो अभी रहती है वह अच्छी रहती है ठीक है इसलिए वह मौत को से डरते हैं क्योंकि आप जो इंसान सपना देखते हैं वह तो सबसे ज्यादा मौत से डरते क्योंकि वह चाहते हैं कि उसका सपना पूरा हो जाए इसलिए वह मौत से डरते थे कि आधे के कुछ लोग तो मौत को गले लगा लेते तो आपको ऐसा भी क्या सकते उन्हें तो मौत से डर ही नहीं लगता देखिए कुछ लोग गरीबी से अपने आप को फांसी लगा लेते हैं रोजाना लाखों किसान ने लाखों किसान तो नहीं बोल सकते हैं ठीक है हजारों किसान ऐसे हैं कि जो खुदकुशी कर ले तो आप यह कह सकते कि उसे गरीबी से ज्यादा अपने मां गरीबी से तलाक तन्हा की मौत से डर लगता हर इंसान को किसी ना किसी चीज से डर लगता किसी को अपने माता-पिता से किसी को अपनी बीवी से किसी को अपने प्यार को खोने से हर चीज हर इंसान हर चीज को खोने से डरता ठीक है इस तरह इंसान अपने जिस्म को खोने से डरते अपने अपनों को खोने से डरते अपनी दुनिया संसार को खोने से डरता है इसलिए उसे मौत से डर लगता है ठीक है शुक्रिया दिन शुक्रिया

agar aap kisi se pooche ki use maut se dar lagta hai toh jyadatar log kahenge ki mujhe maut se dar nahi lagta hai lekin yah sach nahi hai sabko maut se dar lagta hai theek hai dekhiye aisa kyon hota hai dekhiye ek research ke mutabik america me ek research kiya gaya theek hai uski size me vakil ko usko maut ke kalpana karai gayi thi ki usko mehsus kar aayega ki uski maut kaise ho rahi hai theek hai aur ek aur jo kuch vakilon ko theek hai us vakilon ne apne maut ke kalpana ki thi kya aur use mehsus kiya uske baad usse faisla sunaya jamanat ka faisla sunaya sunaane ko kaha gaya vaah log sabse sakht faisla sunaye theek hai toh is baat se saabit hua ki jo insaan manne ka sochte hain vaah bahut sakht hote hain theek hai theek hai marne ke baad sunkar insano ko isliye zyada dukh hota hai kyonki insaan apne apne aaspass ki chijon se pyar karta apne mobile se pyar karte hain apne desh se pyar karte hain aur vaah use chhodna nahi chahta theek hai par kabhi kabhi aisa bhi hota hai ki maut ka naam sunkar insaan isliye ghabara jaate hain kyonki uski zindagi jo abhi rehti hai vaah achi rehti hai theek hai isliye vaah maut ko se darte hain kyonki aap jo insaan sapna dekhte hain vaah toh sabse zyada maut se darte kyonki vaah chahte hain ki uska sapna pura ho jaaye isliye vaah maut se darte the ki aadhe ke kuch log toh maut ko gale laga lete toh aapko aisa bhi kya sakte unhe toh maut se dar hi nahi lagta dekhiye kuch log garibi se apne aap ko fansi laga lete hain rojana laakhon kisan ne laakhon kisan toh nahi bol sakte hain theek hai hazaro kisan aise hain ki jo khudkhushi kar le toh aap yah keh sakte ki use garibi se zyada apne maa garibi se talak tanha ki maut se dar lagta har insaan ko kisi na kisi cheez se dar lagta kisi ko apne mata pita se kisi ko apni biwi se kisi ko apne pyar ko khone se har cheez har insaan har cheez ko khone se darta theek hai is tarah insaan apne jism ko khone se darte apne apnon ko khone se darte apni duniya sansar ko khone se darta hai isliye use maut se dar lagta hai theek hai shukriya din shukriya

अगर आप किसी से पूछे कि उसे मौत से डर लगता है तो ज्यादातर लोग कहेंगे कि मुझे मौत से डर नहीं

Romanized Version
Likes  10  Dislikes    views  110
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्ते दोस्तों आदमी लोग मरने से क्यों डरते हैं जबकि उत्तर देने जा रहा हूं लोग मरने से डरते हैं क्योंकि लोगों ने पाप किया है उन्होंने विभिन्न धर्म शास्त्र में पड़ा हुआ है उनको पता है जो लोग पाप करते हैं वह नरक में जाते हैं इसीलिए उनको यह डर होता है कि हम मरने से कहां जाएंगे हम क्योंकि हर कोई पाप करता है और किसी को लगता है मेरे किसने प्राप्त किया है

namaste doston aadmi log marne se kyon darte hain jabki uttar dene ja raha hoon log marne se darte hain kyonki logo ne paap kiya hai unhone vibhinn dharm shastra me pada hua hai unko pata hai jo log paap karte hain vaah narak me jaate hain isliye unko yah dar hota hai ki hum marne se kaha jaenge hum kyonki har koi paap karta hai aur kisi ko lagta hai mere kisne prapt kiya hai

नमस्ते दोस्तों आदमी लोग मरने से क्यों डरते हैं जबकि उत्तर देने जा रहा हूं लोग मरने से डरते

Romanized Version
Likes  6  Dislikes    views  178
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!