मुझे पब्लिक स्पीकिंग से बहुत डर लगता है। इस वजह से मैं अपने ऑफ़िस में किसी भी मीटिंग में हिस्सा नहीं ले सकता। मैं इस प्रॉब्लम को ठीक कैसे करूँ?...


user

Dr. Swatantra Jain

Psychotherapist, Family & Career Counsellor and Parenting & Life Coach

5:09
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका प्रश्न है कि आपको पब्लिक पैकिंग से बहुत डर लगता है इस वजह से आप अपने ऑफिस में किसी भी मीटिंग में हिस्सा नहीं ले सकते मैं प्रॉब्लम को ठीक करना चाहती हूं देखोगे पब्लिक स्पीकिंग बहुत ही अहम विषय है और सीधे ऑफिस में काम करने के लिए जरूरी है कि आप अपनी राय को शिक्षकों पर इस तरीके से अपनी राय रख सकने बोल्डली और आग्रह पूर्वक अपनी राय बता सके और दूसरे की रानी को अगर आपको पसंद नहीं है अगर उसमें कमी लगती है तो आग्रह पूर्वक कुछ राय को बदल या अपनी राय के बदले अपने आए उनको कह सकें कि यह राय से मैं सहमत नहीं हूं तो इसमें सबसे पहले तो आपको ही सोचना होगा कि आपको अपनी राय रखने का अधिकार है आपको दूसरों की राय से सहमत या असहमत होने का अधिकार है यह कॉन्फिडेंस आपने होना चाहिए कि आप अपनी राय को रखो और दूसरे की राय से सहमत हो या नहीं हो वह ऑप्शन अपनी दो अब सवाल उठता है कि पब्लिक स्पीकिंग से ही आपको डर लगता है या नहीं पब्लिक के सामने हम बोल नहीं सकते इसका मतलब है कि शुरू से आपने पब्लिक के सामने नहीं बोला देखो कमी तो आप ही रह गई कि सोचा नहीं पड़ते देख कर आपको जब नौकरी करनी पड़ेगी तो औरों के सामने बोलना भी पड़ेगा चलिए जो हो गया सो हो गया उसे पछताने से कोई फायदा नहीं है अभी भी आप पब्लिक स्पीकिंग के लिए ऑनलाइन कोर्सेज के होते हैं वैसे स्पेशल कहीं ना कहीं आप पता नहीं छोटे गांव से संबंधित है या बड़े से आपके आसपास कहीं भी पब्लिक स्पीकिंग स्किल जहां बिछाते हैं वह कोर्स ज्वाइन कर लो और रेल समय लगेगा पैसे खर्च होंगे लेकिन इसके बिना कोई चारा नहीं आपको पब्लिक स्पीकिंग कोर्स ज्वाइन करना चाहिए जिससे कि आपको आपका डेट निकल जाए और नहीं कर सकते आप सोचते हैं कि बिना पैसे खर्च किए बिना बाहर ही आपको काम काम चल जाए आपका इंतजार खत्म हो जाए तो फिर एक ही तरीका है उससे कुछ तो फर्क पड़ेगा आप घर में इसकी प्रैक्टिस करिए आप अपने घर वालों से पिताजी के सामने घर में भाई बहन ने उनके सामने उनकी अपनी राय रखी है अलग-अलग विषय पर डिस्टेंस करिए उसने अपनी राय रखें और राय को देखिए राय रखने के दो तीन बातें ध्यान रखनी है तो राय अपने स्पष्ट कहिए छोटे में कहिए फंक्शन आकर कहे यह नहीं कि मतलब मेरा मतलब मेरा मतलब मेरा मतलब नहीं करते रहिए आई मीन आई मीन टू से कंफ्यूजन होती है और उनके सामने भी अगर अपनी राय रखने से हिचकी चाहते हैं तो फिर आप अपनी बात को जो आप बात कहना चाहते हैं उसको रिकॉर्ड करिए कि आजकल तो रिकॉर्ड की कोई समस्या नहीं है उन सब के पास होते हैं मोबाइल फोन मोबाइल में रिकॉर्ड सविता बत्ती तो बहुत आसानी से अपनी बात को आप रिकॉर्ड कर सकते हैं और फिर कुछ कुछ उनके देखिए अगर उसने कोई कमी लगती है तो दूसरे रिकॉर्डिंग में उस कमी को दूर करें फिर तुम के देखिए वह कमी दूर हुई या नहीं हुई कि किसी बर्थडे की चोटी में देखें तो यह बार-बार और अलग-अलग विषय पर रोज रिकॉर्डिंग करें फिर आप कल्पना करें कि आप किसी ग्रुप के सामने अपनी राय रख रहे हैं ग्रुप को इमेजिन करके फिर अपनी राय रखी कुछ सुन कर देखिए कैसे रोज-रोज प्रेक्टिस करने से और सुनने से फिर उसको सही करने से प्रभावशाली बनाने से आप एक प्रभावशाली वक्ता बन सकते हैं तो जहां चाहा वहां रहा है कोशिश करोगी तो जरूर आपको सफलता मिलेगी

aapka prashna hai ki aapko public packing se bahut dar lagta hai is wajah se aap apne office me kisi bhi meeting me hissa nahi le sakte main problem ko theek karna chahti hoon dekhoge public speaking bahut hi aham vishay hai aur sidhe office me kaam karne ke liye zaroori hai ki aap apni rai ko shikshakon par is tarike se apni rai rakh sakne boldali aur agrah purvak apni rai bata sake aur dusre ki rani ko agar aapko pasand nahi hai agar usme kami lagti hai toh agrah purvak kuch rai ko badal ya apni rai ke badle apne aaye unko keh sake ki yah rai se main sahmat nahi hoon toh isme sabse pehle toh aapko hi sochna hoga ki aapko apni rai rakhne ka adhikaar hai aapko dusro ki rai se sahmat ya asahamat hone ka adhikaar hai yah confidence aapne hona chahiye ki aap apni rai ko rakho aur dusre ki rai se sahmat ho ya nahi ho vaah option apni do ab sawaal uthata hai ki public speaking se hi aapko dar lagta hai ya nahi public ke saamne hum bol nahi sakte iska matlab hai ki shuru se aapne public ke saamne nahi bola dekho kami toh aap hi reh gayi ki socha nahi padate dekh kar aapko jab naukri karni padegi toh auron ke saamne bolna bhi padega chaliye jo ho gaya so ho gaya use pachtane se koi fayda nahi hai abhi bhi aap public speaking ke liye online courses ke hote hain waise special kahin na kahin aap pata nahi chote gaon se sambandhit hai ya bade se aapke aaspass kahin bhi public speaking skill jaha bichate hain vaah course join kar lo aur rail samay lagega paise kharch honge lekin iske bina koi chara nahi aapko public speaking course join karna chahiye jisse ki aapko aapka date nikal jaaye aur nahi kar sakte aap sochte hain ki bina paise kharch kiye bina bahar hi aapko kaam kaam chal jaaye aapka intejar khatam ho jaaye toh phir ek hi tarika hai usse kuch toh fark padega aap ghar me iski practice kariye aap apne ghar walon se pitaji ke saamne ghar me bhai behen ne unke saamne unki apni rai rakhi hai alag alag vishay par distance kariye usne apni rai rakhen aur rai ko dekhiye rai rakhne ke do teen batein dhyan rakhni hai toh rai apne spasht kahiye chote me kahiye function aakar kahe yah nahi ki matlab mera matlab mera matlab mera matlab nahi karte rahiye I meen I meen to se confusion hoti hai aur unke saamne bhi agar apni rai rakhne se hichki chahte hain toh phir aap apni baat ko jo aap baat kehna chahte hain usko record kariye ki aajkal toh record ki koi samasya nahi hai un sab ke paas hote hain mobile phone mobile me record savita batti toh bahut aasani se apni baat ko aap record kar sakte hain aur phir kuch kuch unke dekhiye agar usne koi kami lagti hai toh dusre recording me us kami ko dur kare phir tum ke dekhiye vaah kami dur hui ya nahi hui ki kisi birthday ki choti me dekhen toh yah baar baar aur alag alag vishay par roj recording kare phir aap kalpana kare ki aap kisi group ke saamne apni rai rakh rahe hain group ko imejin karke phir apni rai rakhi kuch sun kar dekhiye kaise roj roj practice karne se aur sunne se phir usko sahi karne se prabhavshali banane se aap ek prabhavshali vakta ban sakte hain toh jaha chaha wahan raha hai koshish karogi toh zaroor aapko safalta milegi

आपका प्रश्न है कि आपको पब्लिक पैकिंग से बहुत डर लगता है इस वजह से आप अपने ऑफिस में किसी भी

Romanized Version
Likes  355  Dislikes    views  4104
KooApp_icon
WhatsApp_icon
9 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!