लोग जात-पात और भेदभाव क्यों मानते हैं इसका निवारण क्या है?...


user
3:28
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका प्रश्न है कि लोग जात-पात और भेदभाव क्यों मानते हैं इसका निवारण क्या है सबसे पहले तो आपको बता दूं कि हिंदू धर्म में मनुस्मृति ने सबसे पहले इस प्रकार का जात पात भेदभाव लैंगिक असमानता यह चीज आया हेलो हां हां हां हां चलो ठीक है हां हां भाई मुझे क्या लगा कि अभी कुछ और जानकारी आज ही थोड़ी ठीक है तो मैं उसको अपना डिलीट कर देता हूं मुझे आपका डिले आपका थोड़ी डिलीट आपका डिलीट नहीं कर रहा हूं मैं जो डाला हूं वह डिलीट कर रहा हूं आपको तो रात को कहां जा रहे हो साले को साले इतने दिन तू जिए हजारों साल से हिंदू धर्म चला आ रहा है और यह पूरी तरीके से अंधविश्वासी और रूढ़िवादी धारणा है इसका कोई वैज्ञानिक आधार नहीं है और इसका निवारण जो है कानून तो बहुत सारे बने हैं लेकिन कानून से हर चीज रूप में संभव नहीं है इसका निवारण है कि हम बच्चों को वैज्ञानिक शिक्षा न केवल स्कूलों में घर में संस्कार डालते हैं तू भी उनके दिमाग में वैज्ञानिक सोच डालें ना कि रूढ़िवादी और अंधविश्वासी सोच तो धीरे-धीरे यह समाप्त हो जाएगा हम घर में बच्चों को बिल्कुल ना सिखाएं कि कोई व्यक्ति इस जात का है तो निम्न जात का है कौन जात का है हम बचपन से ही बच्चों को संस्कार की सभी मनुष्य समान है सवाल योग्यता का है ना कि जात पात का अपने पैसों पूछा धन्यवाद आपका दिन शुभ हो

aapka prashna hai ki log jaat pat aur bhedbhav kyon maante hain iska nivaran kya hai sabse pehle toh aapko bata doon ki hindu dharm me manusmriti ne sabse pehle is prakar ka jaat pat bhedbhav laingik asamanta yah cheez aaya hello haan haan haan haan chalo theek hai haan haan bhai mujhe kya laga ki abhi kuch aur jaankari aaj hi thodi theek hai toh main usko apna delete kar deta hoon mujhe aapka delay aapka thodi delete aapka delete nahi kar raha hoon main jo dala hoon vaah delete kar raha hoon aapko toh raat ko kaha ja rahe ho saale ko saale itne din tu jiye hazaro saal se hindu dharm chala aa raha hai aur yah puri tarike se andhavishvasi aur rudhivadi dharana hai iska koi vaigyanik aadhar nahi hai aur iska nivaran jo hai kanoon toh bahut saare bane hain lekin kanoon se har cheez roop me sambhav nahi hai iska nivaran hai ki hum baccho ko vaigyanik shiksha na keval schoolon me ghar me sanskar daalte hain tu bhi unke dimag me vaigyanik soch Daalein na ki rudhivadi aur andhavishvasi soch toh dhire dhire yah samapt ho jaega hum ghar me baccho ko bilkul na sikhaye ki koi vyakti is jaat ka hai toh nimn jaat ka hai kaun jaat ka hai hum bachpan se hi baccho ko sanskar ki sabhi manushya saman hai sawaal yogyata ka hai na ki jaat pat ka apne paison poocha dhanyavad aapka din shubha ho

आपका प्रश्न है कि लोग जात-पात और भेदभाव क्यों मानते हैं इसका निवारण क्या है सबसे पहले तो आ

Romanized Version
Likes  61  Dislikes    views  762
KooApp_icon
WhatsApp_icon
18 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!