समाजशास्त्र की परिभाषा क्या होती है?...


user
1:55
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

समाजशास्त्र की अलग-अलग समाज शास्त्रियों ने अलग-अलग परिभाषाएं दी है कुछ नहीं महा का है कि समाजशास्त्र अंतर अंतर क्रियाओं का विज्ञान है कुछ लोगों का मानना है कि समाजशास्त्र सामूहिक प्रतिनिधियों कलेक्टिव रिप्रेजेंटेशन का अध्ययन है लेकिन सबसे लोकप्रिय परिभाषा जो है समाजशास्त्र की वह मैकाइवर एवं पेज की है यह उनकी परिभाषा है एक लाइन की परिभाषा है समाज सामाजिक संबंधों का जाल है हम समाज में रहते तो हमारे अनेक प्रकार के प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष संबंध बन जाते हैं तो चेक संबंध में आप एक प्रकार से देखिए तो किंशिप आती है रिश्तेदारी आती है हम किसी के चाचा लगते हैं मामा लगते कोई हमारा चाचा लगता है मामा लगता है इस प्रकार के लोग आते हैं कुछ लोगों से हमारे संबंध होते हैं जैसे मान लीजिए हमारे दर्जी से संबंध होते हैं दुकानदारों से संबंध होते हैं दूध वालों से संबंधों से यह कुछ जब संबंध होते कुछ संबंध अप्रत्यक्ष होते हैं जिनसे हम कभी मिले भी नहीं है लेकिन मानसिक रूप से हम अपना जुड़ाव से महसूस करते हैं जैसे कुछ लोग अमिताभ बच्चन से कुछ लोग जो है महेंद्र सिंह धोनी से विराट कोहली से या सचिन तेंदुलकर से कुछ लोग महान फुटबॉलर मेसी से या रोनाल्डो से अपने जुड़ाव महसूस कर तो यह कुछ अप्रत्यक्ष संबंध है यह सब समाजशास्त्र में संबंधी महत्वपूर्ण है और संबंधों को ही समाज शास्त्र की उचित परिभाषा इसलिए मानी गई है इस समाज अमूर्त है इसको हम देख नहीं सकते केवल महसूस कर सकते हैं तो समाज सामाजिक संबंधों का जाल है

samajshastra ki alag alag samaj shastriyo ne alag alag paribhashayen di hai kuch nahi maha ka hai ki samajshastra antar antar kriyaon ka vigyan hai kuch logo ka manana hai ki samajshastra samuhik pratinidhiyo collective riprejenteshan ka adhyayan hai lekin sabse lokpriya paribhasha jo hai samajshastra ki vaah maikaivar evam page ki hai yah unki paribhasha hai ek line ki paribhasha hai samaj samajik sambandhon ka jaal hai hum samaj me rehte toh hamare anek prakar ke pratyaksh aur apratyaksh sambandh ban jaate hain toh check sambandh me aap ek prakar se dekhiye toh kinship aati hai rishtedaari aati hai hum kisi ke chacha lagte hain mama lagte koi hamara chacha lagta hai mama lagta hai is prakar ke log aate hain kuch logo se hamare sambandh hote hain jaise maan lijiye hamare darji se sambandh hote hain dukaanadaaron se sambandh hote hain doodh walon se sambandhon se yah kuch jab sambandh hote kuch sambandh apratyaksh hote hain jinse hum kabhi mile bhi nahi hai lekin mansik roop se hum apna judav se mehsus karte hain jaise kuch log amitabh bachchan se kuch log jo hai mahendra Singh dhoni se virat kohli se ya sachin tendulkar se kuch log mahaan footballer messy se ya ronaldo se apne judav mehsus kar toh yah kuch apratyaksh sambandh hai yah sab samajshastra me sambandhi mahatvapurna hai aur sambandhon ko hi samaj shastra ki uchit paribhasha isliye maani gayi hai is samaj amrut hai isko hum dekh nahi sakte keval mehsus kar sakte hain toh samaj samajik sambandhon ka jaal hai

समाजशास्त्र की अलग-अलग समाज शास्त्रियों ने अलग-अलग परिभाषाएं दी है कुछ नहीं महा का है कि

Romanized Version
Likes  56  Dislikes    views  1471
WhatsApp_icon
3 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
play
user
2:55

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार बहनों भाइयों आपका सवाल है समाजशास्त्र की परिभाषा क्या होती है तो मैं आपको बता दूं कि साधारणतया सभी समाजशास्त्रीय स्वीकार करते हैं कि समाजशास्त्र समाज का अध्ययन है जैसा कि नाम से ही पता चलता है समाजशास्त्र लेकिन फिर भी विभिन्न समाज शास्त्रियों ने समाजशास्त्र को भिन्न-भिन्न आधारों पर परिभाषित किया है और मैं आपको कुछ और भी बात बता दूं कि यह समाजशास्त्र का व्यवहार जो है उतना ही प्राचीन है जितना कि समाज है लेकिन आज हम जिस वैज्ञानिक दृष्टिकोण से समाजशास्त्र को समझने का प्रयास करते हैं उसका इतिहास अधिक पुराना नहीं है आगाज कॉमटे वह पहले वैज्ञानिक थे विद्वान थे समाज वैज्ञानिक जिन्होंने 1838 में सर्वप्रथम सोशियोलॉजी शब्द की रचना की यही कारण है कि अगस्त काम्टे को समाजशास्त्र का पिता कहा जाता है शास्त्र के अर्थ को वैज्ञानिक रूप रूप से तभी समझा जा सकता है जबकि सबसे पहले इससे संबंधित दोनों शब्दों समाज और शास्त्र को भलीभांति स्पष्ट कर दिया जाए समाज व्यक्तियों का समूह न होकर इस से बिल्कुल भिन्न है लेकर का कथन है समाज मनुष्यों का एक समूह का नाम नहीं है बल्कि मनुष्यों के बीच होने वाली अंतः क्रिया और उनके प्रति मानव को ही हम समाज कहते हैं और शास्त्र विज्ञान कार्यक्रम और व्यवस्थित ज्ञान से है कि उबर के अनुसार युवा वैज्ञानिक है विज्ञान अवलोकन और पुनः अवलोकन के द्वारा विश्व में पाई जाने वाली समानता ओं की खोज करने वाली एक पद्धति है और यह एक ऐसी पद्धति है जिसके परिणाम सिद्धांतों के रूप में प्रस्तुत किए जाते हैं तथा ज्ञान के क्षेत्र में व्यवस्थित रखे जाते हैं इस प्रकार समाज और शास्त्र शब्दों का अलग-अलग अर्थ समझने के बाद हम इस निष्कर्ष पर पहुंचते हैं कि सामाजिक संबंधों का व्यवस्थित और क्रमबद्ध अध्ययन करने वाले विज्ञान का नाम ही समाजशास्त्र है अब थोड़ा सा इस पर कुछ प्रमुख बातों को जो है देखा जाए

namaskar bahnon bhaiyo aapka sawaal hai samajshastra ki paribhasha kya hoti hai toh main aapko bata doon ki sadharanataya sabhi samajashastreey sweekar karte hain ki samajshastra samaj ka adhyayan hai jaisa ki naam se hi pata chalta hai samajshastra lekin phir bhi vibhinn samaj shastriyo ne samajshastra ko bhinn bhinn aadharon par paribhashit kiya hai aur main aapko kuch aur bhi baat bata doon ki yah samajshastra ka vyavhar jo hai utana hi prachin hai jitna ki samaj hai lekin aaj hum jis vaigyanik drishtikon se samajshastra ko samjhne ka prayas karte hain uska itihas adhik purana nahi hai agaj kamte vaah pehle vaigyanik the vidhwaan the samaj vaigyanik jinhone 1838 me sarvapratham sociology shabd ki rachna ki yahi karan hai ki august kamte ko samajshastra ka pita kaha jata hai shastra ke arth ko vaigyanik roop roop se tabhi samjha ja sakta hai jabki sabse pehle isse sambandhit dono shabdon samaj aur shastra ko bhalibhanti spasht kar diya jaaye samaj vyaktiyon ka samuh na hokar is se bilkul bhinn hai lekar ka kathan hai samaj manushyo ka ek samuh ka naam nahi hai balki manushyo ke beech hone wali antah kriya aur unke prati manav ko hi hum samaj kehte hain aur shastra vigyan karyakram aur vyavasthit gyaan se hai ki ubar ke anusaar yuva vaigyanik hai vigyan avalokan aur punh avalokan ke dwara vishwa me payi jaane wali samanata on ki khoj karne wali ek paddhatee hai aur yah ek aisi paddhatee hai jiske parinam siddhanto ke roop me prastut kiye jaate hain tatha gyaan ke kshetra me vyavasthit rakhe jaate hain is prakar samaj aur shastra shabdon ka alag alag arth samjhne ke baad hum is nishkarsh par pahunchate hain ki samajik sambandhon ka vyavasthit aur krambaddh adhyayan karne waale vigyan ka naam hi samajshastra hai ab thoda sa is par kuch pramukh baaton ko jo hai dekha jaaye

नमस्कार बहनों भाइयों आपका सवाल है समाजशास्त्र की परिभाषा क्या होती है तो मैं आपको बता दूं

Romanized Version
Likes  10  Dislikes    views  139
WhatsApp_icon
user
Play

Likes  3  Dislikes    views  137
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!