आयुर्वेद में कोरोनावायरस का क्या रोग निदान करेंगे?...


user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

चार वेदों के अंदर आपका सवाल है कि कोरोनावायरस का क्या रोग निदान करेंगे तुझे आयुर्वेदा के अंदर तीन चीजें होती हैं बागपत और कब दूसरे को बंद करके रखते हैं और इनसे सीखिए जनपद एडवांस चल रहा है अभी जो कोरोना वायरस एलिफेंटा में कंडीशन है और इसके अंदर देशकाल यह सारी चीजें भी मायने रखती है जो पंद्रह बताए गए हैं जो भी हो रहे हैं तो इसका रोगनिदान ऐसे ही हो सकता है कि इससे यह है जो संस्कृति पर बैठकर है तो इसमें कफ दोष प्रधान हैं वैसे ही अपनी दोस्त शादी है लेकिन इसमें कफ दोष प्रधान माना गया है और इस कारण संप्राप्ति इस तरह की है कि यह सबसे पहले आपको कांटेक्ट में होते हैं इंफेक्शन के कोंटेक्ट में आते हैं फिर आप मैदान परिमार्जन नहीं करते जैसे कि आपका खाना पानी है सब ले रहे हैं और सारे मैदानों का सेवन कर रहे हैं उसके पश्चात ही आपके मुख में रहता है मुख्य द्वारा गले में कफ जम आता है गले के द्वारा यह सांस नदीम के अचूक लम्हे जाता है और वहां के शोषण का विरोध करता है फिर यह पूरे शरीर में उसमें बुखार होता है सेंटर में चाहते हैं तो उसकी संप्राप्ति कह सकते हैं

char vedo ke andar aapka sawaal hai ki coronavirus ka kya rog nidan karenge tujhe ayurveda ke andar teen cheezen hoti hain bagpat aur kab dusre ko band karke rakhte hain aur inse sikhiye janpad advance chal raha hai abhi jo corona virus elifenta me condition hai aur iske andar deshkal yah saari cheezen bhi maayne rakhti hai jo pandrah bataye gaye hain jo bhi ho rahe hain toh iska rognidan aise hi ho sakta hai ki isse yah hai jo sanskriti par baithkar hai toh isme cough dosh pradhan hain waise hi apni dost shaadi hai lekin isme cough dosh pradhan mana gaya hai aur is karan samprapti is tarah ki hai ki yah sabse pehle aapko Contact me hote hain infection ke contact me aate hain phir aap maidan parimarjan nahi karte jaise ki aapka khana paani hai sab le rahe hain aur saare maidano ka seven kar rahe hain uske pashchat hi aapke mukh me rehta hai mukhya dwara gale me cough jam aata hai gale ke dwara yah saans nadeem ke achuk lamhe jata hai aur wahan ke shoshan ka virodh karta hai phir yah poore sharir me usme bukhar hota hai center me chahte hain toh uski samprapti keh sakte hain

चार वेदों के अंदर आपका सवाल है कि कोरोनावायरस का क्या रोग निदान करेंगे तुझे आयुर्वेदा के अ

Romanized Version
Likes  16  Dislikes    views  117
WhatsApp_icon
13 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

DR SUNIL K. VAIDIK

Psychologist, Spritualist, Doctor, Philosopher

7:30
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपने पूछा है कि आयुर्वेद में कोरोनावायरस का क्या रोग निदान करेंगे नमस्ते मैं डॉक्टर सुनील के वैदिक आपके प्रश्न का समाधान करने के लिए आज पर उपस्थित हूं आपने जो प्रश्न पूछा है उस संबंध में केवल आपको रोग निदान याने की डायग्नोसिस के बारे में जानना है या फिर कि उसके उपचार के बारे में अगर डायग्नोसिस के बारे में आप जानना चाहते हैं तो यह समझ ले कि कोरोना वायरस एक प्रकार का संक्रामक रोग है आयुर्वेद में से संक्रामक रोग की श्रेणी में रखा गया है यह विभिन्न प्रकार के जन समुदाय में एकत्रित होकर के किसी एक व्यक्ति से किसी दूसरे व्यक्ति में पैदा होने वाला एक संक्रमित रोग है ऑलरेडी किसी व्यक्ति को कोई रोग लगा हुआ है उस रोका उसे संक्रमण है और किसी दूसरे में यह उसके हाथ लगाने का स्नेह चिकन्या किसी भी प्रकार के शारीरिक संपर्क में आने से यदि सही जाता है तो उसे संक्रामक रोग कहते हैं कोरोनावायरस उसका एक प्रकार है कई प्रकार के अन्य भी संक्रामक रोग पूर्व में हुए हैं भूतकाल में इतिहास में हुए हैं केवल भारतवर्ष में नहीं बल्कि विदेशों में भी कई देशों में भी समय-समय पर युगों युगों में कई शताब्दियों में यह हुए हैं अभी हाल ही की एक स्टडी में यह बताया गया कि लगभग हर 100 वर्ष में एक बार वैश्विक स्तर पर महामारी के रूप में एक संक्रामक रोग फैलता है हालांकि इस बात की पुष्टि कई लोगों ने अभी तक कई चिकित्सकों ने अभी तक पूरी तरह से नहीं की है लेकिन फिर भी यह एक धारणा एक सिद्धांत माना जा रहा है अब यदि इसकी चिकित्सा की बात करें तो हम सभी जानते हैं हम सभी आजकल दूरदर्शन पर और टीवी चैनल्स पर कई प्रकार के वीडियोस जो बन रहे हैं उसमें एक स्टैंडर्ड ट्रीटमेंट बताया जा रहा है या स्टैंडर्ड को बताए जा रहे हैं उसको करना तो हमें जरूरी है ही स्टैंड प्रोकेयर प्रिकॉशंस में जैसे हमें मास्क लगाकर चलना या कहीं भी हम बाहर जाते हैं और बाहर जाने के बाद में अगर वहां से आते हैं तो हाथ धोना साबुन से हाथ धोना और इसके अलावा कपड़ों को किसी अलग गुप्त जगह पर रख देना और उससे बात किए बिना आपसे नहीं पहनना और इमरजेंसी कंडीशंस में ही बाहर जाना यह सभी स्टैंडर्ड सेफ्टी प्रिकॉशंस है ऐसे तो हमेशा करना ही है लेकिन अगर बात करें हम चिकित्सा की तो क्या आयुर्वेद में इसकी कोई चिकित्सा है जैसा कि मैंने बताया कि आयुर्वेद में जहां निदान विभाग है जहां से संक्रामक रोगों की श्रेणी में रखा गया है वहीं इसकी संक्रामक रोगों की कैसे चिकित्सा हो इस संबंध में भी बताया यहां मैं आपको बहुत ही सरल तरीके से किस प्रकार से इस कोरोनावायरस कि हम चिकित्सक कर सके सहज रूप से मैं आपको बता रहा हूं तुझे समझ नहीं कि अगर हम को रोना संक्रमित व्यक्ति को जलनेति कराएं उसमें थोड़ा-सा सेंधा नमक डालकर के नीमजल के साथ में जो जल नेती हो नीम जल के साथ में हूं प्रतिदिन नियत से दो बार जलनेति कराएं इसके अलावा उसे वाष्प का आस्वादन दे याने की एक बॉल में पानी डालकर के उसमें अजवाइन का सत पुदीने का सत कपूर देसी और नीम का साथ और नीलगिरी का तेल डालकर के थोड़ा सा इसकी वास प्ले इन हिल करें 10 मिनट तक प्रतिदिन दो बार और फिर साथ ही साथ पांच पत्ते तुलसी के 2 पत्ते नीम पांच पत्ती मीठी नहीं आधा इंच अदरक का टुकड़ा आधा छोटा चम्मच आमा हल्दी आधा इंच मुलेठी का टुकड़ा 1 इंच गिलोय पांच दाने कालीमिर्च एक लोंग डिड गिलास पानी में उबाल ते हुए एक गिलास रहते हुए छानकर मधुमेह रोगी को छोड़कर के एक चम्मच पुराना गुड़ लगभग 20 ग्राम और 15 में नींबू का रस प्लस एक ग्रीन टी बैग यह सब 5 मिनट के लिए छोड़ दें तो उसके बाद ग्रीन टी पैक को 20 25 * डीप करके उसे अच्छी तरह निचोड़ कर उसमें 10ml सेब का सिरका मिलाकर चाय की भांति दिन में दो बार जरूरी है ध्यान रखिए सब चीजों को उबालकर के और बाद में ही इसमें पुराना गुण और नींबू का रस और ग्रीन टी बैग और सेब का सिरका या ने प्रदर्शनी का डालना है ऐसा दिन में दो बार करना है इसके अलावा प्रत्येक 20 मिनट के अंतराल पर 50ml गरमा गरम पानी उसकी लेते हुए पीना है प्रत्येक बार एक बूंद अमृतधारा डालकर जरूर पिएं सरसों का तेल प्लस नीम का तेल एक-एक बूंद दोनों मिलाकर दाएं और बाएं नाक में दिन में दो बार जरूर डालें अमृतधारा की दो से तीन बूंदे पुणे गले और सीने के मध्य भाग पर दिन में दो बार मने भोजन में फलों को खट्टे पदार्थों को दूध से संबंधित सभी उत्पाद सब्जियों में बैंगन कैरी टमाटर भिंडी गोंडा आदिल इससे एवं चिपचिपा पदार्थ ठंडा जलियां कोई भी पेय पदार्थ प्लस सलाद उड़द की दाल चावल आइसक्रीम तले हुए हैं चिकने तथा बाहर के भोजन को छोड़ दें भोजन में क्या लेना है अंकुरित मूंग मोठ आदि को व्हाट्सएप में पकाकर खाएं जो की रोटियां सब्जियों में लौकी तुरई टिंडा करेला पालक अधिक साहस चना पीली मूंग हरी मूंग की दाल प्लस सब्जियों का सूप प्लस फलों में केवल सिर्फ परंतु वह भी खट्टे ना हो आदि का सेवन कर सकते हैं या फिर नारंगी और नींबू आदि के रस को गर्मा गर्म पानी में डालकर उसको भी पी सकते हैं यदि किसी कारण से बुखार का स्तर कम ना हो 102 डिग्री के ऊपर बनने लगे तो ही एलोपैथिक इमरजेंसी सेवा लें अन्यथा 102 डिग्री के पहले पहले तक वाले बुखार में पानी की ठंडी पट्टियों से शरीर पर सेट करें प्राणायाम में कपालभाति 15:15 मिनट सुबह शाम अनुलोम-विलोम 15:15 मिनट सुबह शाम जालंधर बंध के साथ में भामरी प्राणायाम पांच-पांच मिनट सुबह शाम आसन में केवल सिंहासन 33 चक्र करने हैं योगनिद्रा या फिर चेतन क्रिया सुबह-शाम करनी है और जितना हो सके यह ध्यान रखिए कि आपको विश्राम करना है यदि आपको रोना शंकर में क्या किसी भी प्रकार के संक्रमण से पीड़ित हैं तो विश्राम एक बहुत ही अच्छी औषधि के रूप में आपका काम करेगा ध्यान रखी अपनी एबिलिटी आने रोग प्रतिरोधक क्षमता को आप जितना अधिक विकसित करेंगे उतना शीघ्र आप इस संक्रामक बीमारी से बाहर निकलेंगे केवल कोरोनावायरस प्रकार की संक्रामक बीमारी में आप इस प्रकार की प्रक्रिया को अपना सकते ध्यान रखिए श्वसन संबंधी संक्रामक रोग है श्वसन संबंधी संक्रामक रोग की मैंने ही आपको चिकित्सा बताइए इसे आप पूरे विश्वास के साथ करें और ध्यान रखिए आप जितना हो सके बार-बार अपने मन में इस बात को धो रही है कि यह एक सामान्य रोग है जो कि शरीर में किसी विकृति के कारण से हुआ है मैं इसे ठीक करने के लिए अपना प्रयास कर रहा हूं मैं सरलता से ठीक हो जाऊंगा जिस प्रकार रात के बाद दिन आता है सुबह होती है ठीक इसी प्रकार के पास रोक के पश्चात स्वास्थ्य भी उपलब्ध होता है तो पूरे सकारात्मक भाव के साथ इस चिकित्सा को करते रहिए और यदि किसी प्रकार के आपातकाल की स्थिति हो तो ही एलोपैथिक चिकित्सा लीजिए अन्यथा आप आयुर्वेद के माध्यम से इस संक्रामक महामारी से निपट सकते हैं आपका शुभ हो इसी आशीर्वचन के साथ नमस्ते

aapne poocha hai ki ayurveda me coronavirus ka kya rog nidan karenge namaste main doctor sunil ke vaidik aapke prashna ka samadhan karne ke liye aaj par upasthit hoon aapne jo prashna poocha hai us sambandh me keval aapko rog nidan yane ki diagnosis ke bare me janana hai ya phir ki uske upchaar ke bare me agar diagnosis ke bare me aap janana chahte hain toh yah samajh le ki corona virus ek prakar ka sankramak rog hai ayurveda me se sankramak rog ki shreni me rakha gaya hai yah vibhinn prakar ke jan samuday me ekatrit hokar ke kisi ek vyakti se kisi dusre vyakti me paida hone vala ek sankrameet rog hai already kisi vyakti ko koi rog laga hua hai us roka use sankraman hai aur kisi dusre me yah uske hath lagane ka sneh chikanya kisi bhi prakar ke sharirik sampark me aane se yadi sahi jata hai toh use sankramak rog kehte hain coronavirus uska ek prakar hai kai prakar ke anya bhi sankramak rog purv me hue hain bhootkaal me itihas me hue hain keval bharatvarsh me nahi balki videshon me bhi kai deshon me bhi samay samay par yugon yugon me kai shatabdiyon me yah hue hain abhi haal hi ki ek study me yah bataya gaya ki lagbhag har 100 varsh me ek baar vaishvik sthar par mahamari ke roop me ek sankramak rog failata hai halaki is baat ki pushti kai logo ne abhi tak kai chikitsakon ne abhi tak puri tarah se nahi ki hai lekin phir bhi yah ek dharana ek siddhant mana ja raha hai ab yadi iski chikitsa ki baat kare toh hum sabhi jante hain hum sabhi aajkal doordarshan par aur TV channels par kai prakar ke videos jo ban rahe hain usme ek standard treatment bataya ja raha hai ya standard ko bataye ja rahe hain usko karna toh hamein zaroori hai hi stand prokeyar prikashans me jaise hamein mask lagakar chalna ya kahin bhi hum bahar jaate hain aur bahar jaane ke baad me agar wahan se aate hain toh hath dhona sabun se hath dhona aur iske alava kapdo ko kisi alag gupt jagah par rakh dena aur usse baat kiye bina aapse nahi pahanna aur emergency conditions me hi bahar jana yah sabhi standard safety prikashans hai aise toh hamesha karna hi hai lekin agar baat kare hum chikitsa ki toh kya ayurveda me iski koi chikitsa hai jaisa ki maine bataya ki ayurveda me jaha nidan vibhag hai jaha se sankramak rogo ki shreni me rakha gaya hai wahi iski sankramak rogo ki kaise chikitsa ho is sambandh me bhi bataya yahan main aapko bahut hi saral tarike se kis prakar se is coronavirus ki hum chikitsak kar sake sehaz roop se main aapko bata raha hoon tujhe samajh nahi ki agar hum ko rona sankrameet vyakti ko jalneti karaye usme thoda sa sendha namak dalkar ke nimajal ke saath me jo jal neti ho neem jal ke saath me hoon pratidin niyat se do baar jalneti karaye iske alava use vashp ka aswadan de yane ki ek ball me paani dalkar ke usme ajwain ka sat pudine ka sat kapur desi aur neem ka saath aur nilgiri ka tel dalkar ke thoda sa iski was play in hil kare 10 minute tak pratidin do baar aur phir saath hi saath paanch patte tulsi ke 2 patte neem paanch patti mithi nahi aadha inch adrak ka tukda aadha chota chammach ama haldi aadha inch mulethi ka tukda 1 inch giloy paanch daane kalimirch ek long did gilas paani me ubaal te hue ek gilas rehte hue chanakar madhumeh rogi ko chhodkar ke ek chammach purana good lagbhag 20 gram aur 15 me nimbu ka ras plus ek green T bag yah sab 5 minute ke liye chhod de toh uske baad green T pack ko 20 25 deep karke use achi tarah nichod kar usme 10ml seb ka sirka milakar chai ki bhanti din me do baar zaroori hai dhyan rakhiye sab chijon ko ubalkar ke aur baad me hi isme purana gun aur nimbu ka ras aur green T bag aur seb ka sirka ya ne pradarshani ka dalna hai aisa din me do baar karna hai iske alava pratyek 20 minute ke antaral par 50ml grma garam paani uski lete hue peena hai pratyek baar ek boond amritdhara dalkar zaroor pien sarso ka tel plus neem ka tel ek ek boond dono milakar dayen aur baen nak me din me do baar zaroor Daalein amritdhara ki do se teen bundein pune gale aur seene ke madhya bhag par din me do baar mane bhojan me falon ko khatte padarthon ko doodh se sambandhit sabhi utpaad sabjiyon me baingan carry tamatar bhindi gonda adil isse evam chipchipa padarth thanda jaliyan koi bhi pey padarth plus salad udad ki daal chawal icecream tale hue hain chikne tatha bahar ke bhojan ko chhod de bhojan me kya lena hai ankurit moong motha aadi ko whatsapp me pakaakar khayen jo ki rotiyan sabjiyon me lauki turai tinda karela paalak adhik saahas chana pili moong hari moong ki daal plus sabjiyon ka soup plus falon me keval sirf parantu vaah bhi khatte na ho aadi ka seven kar sakte hain ya phir narangi aur nimbu aadi ke ras ko gamra garam paani me dalkar usko bhi p sakte hain yadi kisi karan se bukhar ka sthar kam na ho 102 degree ke upar banne lage toh hi allopathic emergency seva le anyatha 102 degree ke pehle pehle tak waale bukhar me paani ki thandi pattiyon se sharir par set kare pranayaam me kapalbhati 15 15 minute subah shaam anulom vilom 15 15 minute subah shaam jalandhar bandh ke saath me bhamri pranayaam paanch paanch minute subah shaam aasan me keval sinhaasan 33 chakra karne hain yognidra ya phir chetan kriya subah shaam karni hai aur jitna ho sake yah dhyan rakhiye ki aapko vishram karna hai yadi aapko rona shankar me kya kisi bhi prakar ke sankraman se peedit hain toh vishram ek bahut hi achi aushadhi ke roop me aapka kaam karega dhyan rakhi apni ability aane rog pratirodhak kshamta ko aap jitna adhik viksit karenge utana shighra aap is sankramak bimari se bahar nikalenge keval coronavirus prakar ki sankramak bimari me aap is prakar ki prakriya ko apna sakte dhyan rakhiye shwasan sambandhi sankramak rog hai shwasan sambandhi sankramak rog ki maine hi aapko chikitsa bataiye ise aap poore vishwas ke saath kare aur dhyan rakhiye aap jitna ho sake baar baar apne man me is baat ko dho rahi hai ki yah ek samanya rog hai jo ki sharir me kisi vikriti ke karan se hua hai main ise theek karne ke liye apna prayas kar raha hoon main saralata se theek ho jaunga jis prakar raat ke baad din aata hai subah hoti hai theek isi prakar ke paas rok ke pashchat swasthya bhi uplabdh hota hai toh poore sakaratmak bhav ke saath is chikitsa ko karte rahiye aur yadi kisi prakar ke aapatkal ki sthiti ho toh hi allopathic chikitsa lijiye anyatha aap ayurveda ke madhyam se is sankramak mahamari se nipat sakte hain aapka shubha ho isi ashirvachan ke saath namaste

आपने पूछा है कि आयुर्वेद में कोरोनावायरस का क्या रोग निदान करेंगे नमस्ते मैं डॉक्टर सुनील

Romanized Version
Likes  7  Dislikes    views  116
WhatsApp_icon
user

Dr Ramswaroop Babele

Astrologer Doctor Ayurveda Hypnotherepist

0:19
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आयुर्वेद में हमारे यहां जो हर्बल औषधि आए हैं उनसे अपना जीवन सिस्टम आपको कोरोनावायरस प्रसार हो ही नहीं पाएगा आप करो ना आपको होगा ही नहीं

ayurveda me hamare yahan jo herbal aushadhi aaye hain unse apna jeevan system aapko coronavirus prasaar ho hi nahi payega aap karo na aapko hoga hi nahi

आयुर्वेद में हमारे यहां जो हर्बल औषधि आए हैं उनसे अपना जीवन सिस्टम आपको कोरोनावायरस प्रसार

Romanized Version
Likes  177  Dislikes    views  3957
WhatsApp_icon
user

Shailesh Kumar Dubey

Yoga Teacher , Retired Government Employee

0:46
Play

Likes  112  Dislikes    views  1986
WhatsApp_icon
user
4:33
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार दीदी आयुर्वेद में करो ना वायरस जो है वह अगर आप देखे तो हो एक कम्युनिकेबल डिसीज तो है जिसे आयुर्वेद में नाम दिया गया है जनपद हरदोई जनपद के पानी और ज्यादा लोगों को मारती है तो ज्यादा लोग जिस से मरते हैं उसे जनपद हम कैसे कह सकते हैं वह होती है इंसान की खुद की गलतियों की वजह से जो कि यह भी है कि जो चीजें नहीं खानी है वह खाई जाए तो फिर बात से बताया जा रहा है कि उससे इन्फेक्शन आया है तो करो ना तो उसे लक्षण तो हम सबको पता है हाई ग्रेड फीवर रॉक रनिंग नोज और यह ऑफ रेस्पिरेटरी प्रॉब्लम है सांस लेने में दिक्कत आ रही है कुछ लोगों को सिर में ज्यादा दर्द है इस चीज से आयुर्वेद में जो बचा जा सकता है इसमें अभी तक तो कोई भी दुनिया में अभी तक का यह चीजें तो इस बीमारी का इलाज तो नहीं बताया गया लेकिन इससे बचा जरूर जा सकता है प्रॉपर हाइजीन का मेंटेन करके और बाहर ना निकला जाए क्योंकि हवा से ही तालरिया बाहर अगर आप जाते तो उससे कह रही है तो अब जितना हो सके अपने घर में रहें और स्वस्थ रहें और एक और जो चीज है जिससे कि बीमारी जो जिन लोगों की म्यूजिक कम है या जो जो जो एल्डरली पीपल है जिनकी मिनट कम हो जाती है उसकी वजह से यह प्रॉब्लम उनको ज्यादा दिक्कत आ रही है उनको सरवाइव करने में प्रॉब्लम हो जा रही है उनको अगर कोरोना वायरस का इंफेक्शन हो भी जाता है तो उसके बाद भी और रिकवर करने में दिक्कत आ रही है तो बैटर है अगर आप अपनी मिर्ची बढ़ाएं प्रॉपर अनुलोम विलोम कपालभाति और भरतरी का प्राणायाम अगर आप करते हैं प्रॉपर दिल्ली में तो उससे क्या होगा कि जो इनकी बढ़ेगी और आपका जो वफा पर यह शरीर है तंदुरुस्त मतलब गुनगुना पानी जो है उन्हें टीपॉट्स गुनगुना पानी उसमें नमक डालके रिपोर्ट से अगर आप जल्दी करते हैं रोज सुबह खाली पेट बुक करनी होती है तो वो एक बहुत अच्छा यह है अगर कोई इंफेक्शन है नाक में या कुछ भी है तो वह जो हमारे रेस्पिरेट्री प्रॉब्लम्स जो होती है वह सारी उससे चली जाती है तो जल्दी थी बहुत अच्छा काम है जो कर सकते हैं उन्हें जरूर करना चाहिए और जो आयुर्वेद में इसको इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए जो चीज बताई गई है वह उसने जैसे जोगी लॉय है वह मुस्लिम हर घर में पाई जाती है वह है एक तुलसी का जो पौधा है वह हर घर में पाया जाता तुलसी के पत्ते का जरूर करें और यह हमारा पुदीना जो है वह उसने बहुत अच्छे एंटीऑक्सीडेंट्स होते हैं वह यूनिटी बढ़ाने में काम कर ले तुलसी गिलोय और पुदीना और काली मिर्च एंड एक और नीम के पत्ते जो है वह सारे एंटी बैक्टीरियल एंटी वायरल और एंटी फंगल का काम करते हैं यह चीजें जो है अगर आप पर डेली बेसिस पर अपनी और अपने खान-पान में या काढ़ा बना कर लेते हैं जिनके पत्ते भी खा लेते हैं तो बहुत अच्छा है यह क्योंकि यह आपकी इम्यूनिटी को बढ़ाएंगे आपके शरीर को तंदुरुस्त करेंगे एंटी ऑक्सीडेंट प्रॉब्लम है जो एंटीबैक्टीरियल का काम करते हैं तो आपके शरीर को अच्छा तंदुरुस्त बनाने में हेल्प करेंगे और एक और जो चीज है वह दूध में अगर आप हल्दी डालकर लेते हैं तो वह बहुत हेल्दी है क्योंकि दूध में जो हमारी गलती है वह बहुत अच्छा एंटी बैक्टीरियल एंटी फंगल एंटी वायरल का काम करती है तो गलती भी इम्यूनिटी बढ़ाने का काम कर तो इम्यूनोबूस्टर का काम करते हैं यह चीजें जो है वह अपने डैडी खाने में इस्तेमाल करें और लहसुन है वह दिल्ली अपने खाने में इस्तेमाल करें अदरक जो है वह भी बहुत अच्छा होता है तो इंटरप्लेनेटरी एंटीवायरस आईडी अपने खाने में प्रयोग करें तो अपने-अपने हेल्थ का अच्छा यह रखेंगे और इनकी बढ़ाएंगे तो कोरोना वायरस का जो इंजेक्शन अगर बाई चांस हो भी जाता है तो उसमें भी वह इसलिए आपको रिकवर करने में हेल्प करेगा थैंक यू सो मच

namaskar didi ayurveda me karo na virus jo hai vaah agar aap dekhe toh ho ek communicable disease toh hai jise ayurveda me naam diya gaya hai janpad hardoi janpad ke paani aur zyada logo ko marti hai toh zyada log jis se marte hain use janpad hum kaise keh sakte hain vaah hoti hai insaan ki khud ki galatiyon ki wajah se jo ki yah bhi hai ki jo cheezen nahi khaani hai vaah khai jaaye toh phir baat se bataya ja raha hai ki usse infection aaya hai toh karo na toh use lakshan toh hum sabko pata hai high grade fever rock running nose aur yah of respiratory problem hai saans lene me dikkat aa rahi hai kuch logo ko sir me zyada dard hai is cheez se ayurveda me jo bacha ja sakta hai isme abhi tak toh koi bhi duniya me abhi tak ka yah cheezen toh is bimari ka ilaj toh nahi bataya gaya lekin isse bacha zaroor ja sakta hai proper hygiene ka maintain karke aur bahar na nikala jaaye kyonki hawa se hi talriya bahar agar aap jaate toh usse keh rahi hai toh ab jitna ho sake apne ghar me rahein aur swasth rahein aur ek aur jo cheez hai jisse ki bimari jo jin logo ki music kam hai ya jo jo jo eldarali pipal hai jinki minute kam ho jaati hai uski wajah se yah problem unko zyada dikkat aa rahi hai unko survive karne me problem ho ja rahi hai unko agar corona virus ka infection ho bhi jata hai toh uske baad bhi aur recover karne me dikkat aa rahi hai toh better hai agar aap apni mirchi badhaye proper anulom vilom kapalbhati aur bhartari ka pranayaam agar aap karte hain proper delhi me toh usse kya hoga ki jo inki badhegi aur aapka jo wafa par yah sharir hai tandurust matlab gunguna paani jo hai unhe tipats gunguna paani usme namak dalke report se agar aap jaldi karte hain roj subah khaali pet book karni hoti hai toh vo ek bahut accha yah hai agar koi infection hai nak me ya kuch bhi hai toh vaah jo hamare respiratory problems jo hoti hai vaah saari usse chali jaati hai toh jaldi thi bahut accha kaam hai jo kar sakte hain unhe zaroor karna chahiye aur jo ayurveda me isko immunity badhane ke liye jo cheez batai gayi hai vaah usne jaise jogi lay hai vaah muslim har ghar me payi jaati hai vaah hai ek tulsi ka jo paudha hai vaah har ghar me paya jata tulsi ke patte ka zaroor kare aur yah hamara pudina jo hai vaah usne bahut acche entiaksidents hote hain vaah unity badhane me kaam kar le tulsi giloy aur pudina aur kali mirch and ek aur neem ke patte jo hai vaah saare anti baiktiriyal anti viral aur anti fungal ka kaam karte hain yah cheezen jo hai agar aap par daily basis par apni aur apne khan pan me ya kadha bana kar lete hain jinke patte bhi kha lete hain toh bahut accha hai yah kyonki yah aapki immunity ko badhaenge aapke sharir ko tandurust karenge anti aksident problem hai jo entibaiktiriyal ka kaam karte hain toh aapke sharir ko accha tandurust banane me help karenge aur ek aur jo cheez hai vaah doodh me agar aap haldi dalkar lete hain toh vaah bahut healthy hai kyonki doodh me jo hamari galti hai vaah bahut accha anti baiktiriyal anti fungal anti viral ka kaam karti hai toh galti bhi immunity badhane ka kaam kar toh imyunobustar ka kaam karte hain yah cheezen jo hai vaah apne daddy khane me istemal kare aur lehsun hai vaah delhi apne khane me istemal kare adrak jo hai vaah bhi bahut accha hota hai toh intaraplenetri antivirus id apne khane me prayog kare toh apne apne health ka accha yah rakhenge aur inki badhaenge toh corona virus ka jo injection agar bai chance ho bhi jata hai toh usme bhi vaah isliye aapko recover karne me help karega thank you so match

नमस्कार दीदी आयुर्वेद में करो ना वायरस जो है वह अगर आप देखे तो हो एक कम्युनिकेबल डिसीज तो

Romanized Version
Likes  39  Dislikes    views  652
WhatsApp_icon
play
user

vivek sharma

BANK PO| Astrologer | Mutual Fund Advisor। Career Counselor

1:03

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आयुर्वेद में कोरोनावायरस का क्या रोग निदान है आयुर्वेदिक के अंदर अगर आप देखें तो आपने गिलोय का नाम सुना गागरो तो गिलोय घनवटी आती है गिलोय का रस आता है इसके साथ में गिलोय तुलसी काली मिर्च दालचीनी का एक काढ़ा बना ले उसको अगर आप सुबह शाम पीते रहेंगे तो फिर आप देखेंगे कि आपको जनरल दिक्कतें भी नहीं आएंगे सारे शरीर की बनती बढ़ जाएगी आंकड़ों में से कफ आना बंद हो जाएगा दूसरा आप चमनप्रास रेगुलर बेसिस पर खाएं तो आप देखेंगे कि धीरे-धीरे यह आपकी उन्नति बढ़ती जाएगी मतलब शरीर में जो एलर्जी है वह बाहर हो जाएंगे नाक के अंदर आप तेल या फिर कोई ना कोई आ थोड़ा सा घी देसी घी डालें उसका भी बहुत फायदा होगा और धन्यवाद

ayurveda me coronavirus ka kya rog nidan hai ayurvedic ke andar agar aap dekhen toh aapne giloy ka naam suna gagro toh giloy ghanvati aati hai giloy ka ras aata hai iske saath me giloy tulsi kali mirch daalchini ka ek kadha bana le usko agar aap subah shaam peete rahenge toh phir aap dekhenge ki aapko general dikkaten bhi nahi aayenge saare sharir ki banti badh jayegi aankado me se cough aana band ho jaega doosra aap regular basis par khayen toh aap dekhenge ki dhire dhire yah aapki unnati badhti jayegi matlab sharir me jo allergy hai vaah bahar ho jaenge nak ke andar aap tel ya phir koi na koi aa thoda sa ghee desi ghee Daalein uska bhi bahut fayda hoga aur dhanyavad

आयुर्वेद में कोरोनावायरस का क्या रोग निदान है आयुर्वेदिक के अंदर अगर आप देखें तो आपने गिल

Romanized Version
Likes  149  Dislikes    views  2002
WhatsApp_icon
user

S Bajpay

Yoga Expert | Beautician & Gharelu Nuskhe Expert

0:24
Play

Likes  659  Dislikes    views  9422
WhatsApp_icon
user

Dr.Murli Manohar

Ayurvedic Doctor

1:14
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

करुणा भारत का जो निदान अभी तक समझ में आया है उसके अनुसार है कि यह बात कफन कफन पिता में बंद प्रॉब्लम है यानी कि तू तो सच तो है ही यह नीचे से लेकिन सबसे पहले बात फिर कब और फिर इतने का अनुबंध हो रहा है और इसी के चलते सरकार ने जो गाइडलाइन भी जारी किया है इस इंसान को ध्यान में रखते हुए ट्रीटमेंट प्रोटोकोल सेट किया गया जिसमें की बात के संबंध के लिए उन्होंने अश्वगंधा को रखा है पिता के अनुबंध को तोड़ने के लिए वहां पर औषधि के रूप में भूसी का प्रयोग किया है और आयुष की एक कॉमिनेशन का प्रयोग किया है यह तीनों कॉमिनेशन एक साथ यूज़ करने के बाद उसमें पेशेंट्स रिजल्ट भी अच्छे आ रहे हैं तो अभी तक की जो स्थिति है उसके अनुसार इंसान बन रहा है वह यही है कि बात का फर्क पिता निबंध और यह यही अनुबंध की संप्राप्ति इसकी अभी तक तो यही पता चला अब आगे जाकर के यदि रोग में परिवर्तन आता है या प्रकृति विकृति के अनुसार जी को इस चिंतन से आ रहे हैं तो उसके निदान आगे कंफर्म की जाएगी लेकिन फिलहाल की स्थिति में इसी मैदान पर काम किया जा रहा है

corona bharat ka jo nidan abhi tak samajh me aaya hai uske anusaar hai ki yah baat kafan kafan pita me band problem hai yani ki tu toh sach toh hai hi yah niche se lekin sabse pehle baat phir kab aur phir itne ka anubandh ho raha hai aur isi ke chalte sarkar ne jo guideline bhi jaari kiya hai is insaan ko dhyan me rakhte hue treatment protocol set kiya gaya jisme ki baat ke sambandh ke liye unhone ashawagandha ko rakha hai pita ke anubandh ko todne ke liye wahan par aushadhi ke roop me bhoosi ka prayog kiya hai aur ayush ki ek kamineshan ka prayog kiya hai yah tatvo kamineshan ek saath use karne ke baad usme patients result bhi acche aa rahe hain toh abhi tak ki jo sthiti hai uske anusaar insaan ban raha hai vaah yahi hai ki baat ka fark pita nibandh aur yah yahi anubandh ki samprapti iski abhi tak toh yahi pata chala ab aage jaakar ke yadi rog me parivartan aata hai ya prakriti vikriti ke anusaar ji ko is chintan se aa rahe hain toh uske nidan aage confirm ki jayegi lekin filhal ki sthiti me isi maidan par kaam kiya ja raha hai

करुणा भारत का जो निदान अभी तक समझ में आया है उसके अनुसार है कि यह बात कफन कफन पिता में बंद

Romanized Version
Likes  10  Dislikes    views  244
WhatsApp_icon
user

Dr. Rajesh Suri

Ayurvedic Doctor

0:22
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मुस्कान आपकी आयुर्वेद में करो ना वायरस का क्या रोग निदान करेंगे इस पर काम चल रहा है इसमें थोड़ा समय लगता है आयुर्वेद अभी काम शुरू हुआ यह के द्वारा इसमें टाइम लगेगा लेकिन नहीं होगा जरूर

muskaan aapki ayurveda me karo na virus ka kya rog nidan karenge is par kaam chal raha hai isme thoda samay lagta hai ayurveda abhi kaam shuru hua yah ke dwara isme time lagega lekin nahi hoga zaroor

मुस्कान आपकी आयुर्वेद में करो ना वायरस का क्या रोग निदान करेंगे इस पर काम चल रहा है इसमें

Romanized Version
Likes  18  Dislikes    views  512
WhatsApp_icon
user
1:21
Play

Likes  35  Dislikes    views  722
WhatsApp_icon
user
0:24
Play

Likes  56  Dislikes    views  1254
WhatsApp_icon
user

Manoj Kumar Sahu

MEDICAL REPRASANTATIVE

0:34
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आयुर्वेद में कोरोनावायरस का क्या रोग निदान करेंगे बताना चाहूंगा आयुर्वेद में करो ना वायरस का निदान नहीं है कि हम नीति वाला जो मटेरियल से जो फूड प्रोडक्ट्स है उनको खाना होगा लाइक एलाइची है बट मेरे साथ दालचीनी हैं और इन सब चीजों को का सेवन अधिक करना होगा

ayurveda me coronavirus ka kya rog nidan karenge batana chahunga ayurveda me karo na virus ka nidan nahi hai ki hum niti vala jo material se jo food products hai unko khana hoga like elaichi hai but mere saath daalchini hain aur in sab chijon ko ka seven adhik karna hoga

आयुर्वेद में कोरोनावायरस का क्या रोग निदान करेंगे बताना चाहूंगा आयुर्वेद में करो ना वायरस

Romanized Version
Likes  10  Dislikes    views  168
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!