लोकतंत्र में लोगों को सरकार की अपेक्षा रहती है?...


play
user

Hemant jha

Accountant

2:28

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका प्रश्न है लोकतंत्र में लोगों को सरकार से क्या अपेक्षा रहती है तो सबसे पहले आपको यह जानना आवश्यक है कि लोकतंत्र एक ऐसी शासन प्रणाली जिसमें जनता के द्वारा चुना गया प्रतिनिधि जनता पर शासन करता है अतः जनता अपने द्वारा चुने गए प्रतिनिधि अपने द्वारा चुने अपने मधु के द्वारा बनाए गए सरकार से यह अपेक्षा रखती है कि वह उनकी यानी जनता की मूलभूत आवश्यकताओं के साथ-साथ उनके विकास के लिए और देश हित के लिए अच्छे कार्य करें जैसे कि अच्छे अस्पताल बनाना अच्छे शिक्षण संस्थान बनाना सर के बनवाना बिजली की सुविधा रोजगार की सुविधा स्वास्थ्य की सुविधा देश के विकास के लिए देश की उन्नति के लिए बेहतरी के लिए अच्छी योजना बनाना तथा उसे क्रियान्वयन करना यह सभी अपेक्षाएं हर देश के नागरिकों की अपने सरकार से होती है अपने प्रतिनिधियों से होती है चाहे वह छोटे पैमाने का प्रतिनिधि हो या फिर देश का प्रतिनिधित्व करता जनता अपने सरकार से अपने प्रतिनिधि से अपने बेहतरी के लिए अपने देश की बेहतरी के लिए हमेशा करती रहती है और जब देश में लोकतांत्रिक शासन व्यवस्था लागू हो देश में लोकतांत्रिक शासन पता करो तो जनता का यह अपेक्षा और बढ़ जाती है जो प्रतिनिधि जो सरकार जनता की अपेक्षाओं पर खरा उतरता है जनता उन्हें पुनः अपने मतों के द्वारा विजय श्री का आशीर्वाद देती है तथा फिर से उन्हें अपना प्रतिनिधि चुनती है उन्हें सरकार बनाने का मौका दोबारा देती है धन्यवाद

aapka prashna hai loktantra me logo ko sarkar se kya apeksha rehti hai toh sabse pehle aapko yah janana aavashyak hai ki loktantra ek aisi shasan pranali jisme janta ke dwara chuna gaya pratinidhi janta par shasan karta hai atah janta apne dwara chune gaye pratinidhi apne dwara chune apne madhu ke dwara banaye gaye sarkar se yah apeksha rakhti hai ki vaah unki yani janta ki mulbhut avashayaktaon ke saath saath unke vikas ke liye aur desh hit ke liye acche karya kare jaise ki acche aspatal banana acche shikshan sansthan banana sir ke banwana bijli ki suvidha rojgar ki suvidha swasthya ki suvidha desh ke vikas ke liye desh ki unnati ke liye behatari ke liye achi yojana banana tatha use kriyanvayan karna yah sabhi apekshayen har desh ke nagriko ki apne sarkar se hoti hai apne pratinidhiyo se hoti hai chahen vaah chote paimane ka pratinidhi ho ya phir desh ka pratinidhitva karta janta apne sarkar se apne pratinidhi se apne behatari ke liye apne desh ki behatari ke liye hamesha karti rehti hai aur jab desh me loktantrik shasan vyavastha laagu ho desh me loktantrik shasan pata karo toh janta ka yah apeksha aur badh jaati hai jo pratinidhi jo sarkar janta ki apekshaon par Khara utarata hai janta unhe punh apne maton ke dwara vijay shri ka ashirvaad deti hai tatha phir se unhe apna pratinidhi chunati hai unhe sarkar banane ka mauka dobara deti hai dhanyavad

आपका प्रश्न है लोकतंत्र में लोगों को सरकार से क्या अपेक्षा रहती है तो सबसे पहले आपको यह जा

Romanized Version
Likes  8  Dislikes    views  110
WhatsApp_icon
2 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

virendra agrawal

AAPKA MITRA

2:40
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

लोकतंत्र से लोगों की अपेक्षाएं अपने सुखद भविष्य को लेकर के रहती है एक लोकतांत्रिक देश में रहने वाला नागरिक उस देश में रह करके यह अपेक्षा रखता है कि उसका जीवन का सम्मान सुचारू रूप से वहां चल सके वह बिना किसी भय भेदभाव के धन का उपार्जन कर अपने परिवार का पालन पोषण कर सके उस देश के किसी भी विभाग में वह स्वतंत्रता से आना जाना कर सके उसको किसी भी कठिन परिस्थितियों में सरकार से सहायता और मार्गदर्शन मिले से अच्छी चिकित्सा व्यवस्था अच्छी शिक्षा व्यवस्था और जीवन जीने के लिए जो भी आवश्यक वस्तुएं हैं वह सुचारू रूप से उसे मिलता रहे हर देश जो कि लोकतांत्रिक देश कहलाता है उसमें जीवन के मूलभूत आवश्यकताओं की पूर्ति की अपेक्षा हर नागरिक अपनी सरकार से रखता है यह एक लोकतांत्रिक देश की व्यवस्था होती है जहां वह अपने मन के विचारों को खुले रूप से प्रकट कर सकता है सरकार के नियमों में अपनी सहभागिता निभा सकता है हर दृष्टिकोण से एक लोकतांत्रिक देश का नागरिक होना सौभाग्य की बात होती है

loktantra se logo ki apekshayen apne sukhad bhavishya ko lekar ke rehti hai ek loktantrik desh me rehne vala nagarik us desh me reh karke yah apeksha rakhta hai ki uska jeevan ka sammaan sucharu roop se wahan chal sake vaah bina kisi bhay bhedbhav ke dhan ka uparjan kar apne parivar ka palan poshan kar sake us desh ke kisi bhi vibhag me vaah swatantrata se aana jana kar sake usko kisi bhi kathin paristhitiyon me sarkar se sahayta aur margdarshan mile se achi chikitsa vyavastha achi shiksha vyavastha aur jeevan jeene ke liye jo bhi aavashyak vastuyen hain vaah sucharu roop se use milta rahe har desh jo ki loktantrik desh kehlata hai usme jeevan ke mulbhut avashayaktaon ki purti ki apeksha har nagarik apni sarkar se rakhta hai yah ek loktantrik desh ki vyavastha hoti hai jaha vaah apne man ke vicharon ko khule roop se prakat kar sakta hai sarkar ke niyamon me apni sahabhagita nibha sakta hai har drishtikon se ek loktantrik desh ka nagarik hona saubhagya ki baat hoti hai

लोकतंत्र से लोगों की अपेक्षाएं अपने सुखद भविष्य को लेकर के रहती है एक लोकतांत्रिक देश

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  122
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!