आज की राजनीति क्या को राजनीती नहीं है, सभी दल बस अपना काम कर रहे है?...


play
user

Daulat Ram Sharma Shastri

Psychologist | Ex-Senior Teacher

1:59

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आज की राजनीति पिछले दौर की राजनीति से बहुत गई गुजरी राजनीति है इसके दौर के जितने भी राजनेता थे राजनीतिज्ञ थे राजनीतिक पार्टियां थी उनका एकमात्र दृश्यता हमारे देश को स्तब्ध कर आना उसके लिए पक्ष-विपक्ष सभी एक साथ होकर के प्रयास करते थे गरम दल और नरम दल ने भी आपस में सहयोग करके देश को स्वतंत्र कराया वीर शहीदों ने विचारों ने अपनी जान दे दी उनके परिवार बर्बाद हो गए लेकिन उन्होंने देश में सुधार के लिए पूरा प्रयास किया धर्म धर्म धर्म दरबारों में किंतु आज की जो राजनीति है वह तो भ्रष्ट गई बीते राजनीतिज्ञों से भरी हुई राजनीति अच्छी है बहुत गंदी है इनका तो केवल एक मात्र उद्देश्य सत्या सत्ता की आना है यह देश की रक्षा के मुद्दे विकास के मुद्दे देश की सुरक्षा से संबंधित बातों के लिए कभी एक होते हुए नजर नहीं आते कभी गठबंधन नहीं करते कभी विचार-विमर्श नहीं करते हैं हमारी देश की जो जन समस्याएं हैं बढ़ती हुई जनसंख्या है कि समस्या भोजन आवास आदि की समस्या भरते हुए भ्रष्टाचार को रोकने के लिए प्रयास आदि हैं उस उन संबंधित दिए कभी विचार-विमर्श नहीं करते बेरोजगारी को मिटाने के लिए कभी प्रयास नहीं करते हैं जबकि इनका मेरे विचार से इन मुद्दों पर विचार करना चाहिए और मैं तो यहां तक कहना चाहूंगा कि चाहिए रोज आपस में लड़े किंतु देश की रक्षा का संबंध हो देश की विकास के संबंध हो तो उसके लिए उनको समस्त को एक मंच पर एक साथ खड़े होना चाहिए जैसे कि विदेशों में इंग्लैंड फ्रांस आदि की राजनीतिक दलों को देख लीजिए वह आपस में लड़ते हैं किंतु देश सुरक्षा के लिए समस्त एक हैं

aaj ki raajneeti pichle daur ki raajneeti se BA hut gayi gujari raajneeti hai iske daur ke jitne bhi raajneta the rajanitigya the raajnitik partyian thi unka ekmatra drishyata hamare desh ko stabdh kar aana uske liye paksh vipaksh sabhi ek saath hokar ke prayas karte the garam dal aur naram dal ne bhi aapas mein sahyog karke desh ko swatantra raya veer shaheedo ne vicharon ne apni jaan de di unke parivar BA rbad ho gaye lekin unhone desh mein sudhaar ke liye pura prayas kiya dharm dharm dharm darbaron mein kintu aaj ki jo raajneeti hai vaah toh bhrasht gayi bite rajaneetigyon se bhari hui raajneeti achi hai BA hut gandi hai inka toh keval ek matra uddeshya satya satta ki aana hai yah desh ki raksha ke mudde vikas ke mudde desh ki suraksha se sambandhit BA aton ke liye kabhi ek hote hue nazar nahi aate kabhi gathbandhan nahi karte kabhi vichar vimarsh nahi karte hai hamari desh ki jo jan samasyaen hai BA dhti hui jansankhya hai ki samasya bhojan aawas aadi ki samasya bharte hue bhrashtachar ko rokne ke liye prayas aadi hai us un sambandhit diye kabhi vichar vimarsh nahi karte berojgari ko mitne ke liye kabhi prayas nahi karte hai jabki inka mere vichar se in muddon par vichar karna chahiye aur main toh yahan tak kehna chahunga ki chahiye roj aapas mein lade kintu desh ki raksha ka sambandh ho desh ki vikas ke sambandh ho toh uske liye unko samast ko ek manch par ek saath khade hona chahiye jaise ki videshon mein england france aadi ki raajnitik dalon ko dekh lijiye vaah aapas mein ladte hai kintu desh suraksha ke liye samast ek hain

आज की राजनीति पिछले दौर की राजनीति से बहुत गई गुजरी राजनीति है इसके दौर के जितने भी राजनेत

Romanized Version
Likes  15  Dislikes    views  388
KooApp_icon
WhatsApp_icon
2 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!