एनवायरनमेंट को कैसे बचाएं?...


play
user

Daulat Ram Sharma Shastri

Psychologist | Ex-Senior Teacher

2:00

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जैसे यह जिम्मेदारी तो पूरे समाज पूरे देश क्यों नहीं चाहिए एनवायरनमेंट बनाए जाने की इंप्रूवमेंट को शुद्ध करने कि हमारे आजकल वेस्टर्न कल्चर रखा जा रहा है खुदगर्जी का लालच से उभरता हुआ इन्वायरमेंट को दिन प्रतिदिन ही दूषित करता जा रहा है लो छल कपट पूर्ण अन्यतम का पुल का सहारा ले रहे हैं बेईमानी चारों तरफ नजर आ सकती आपको अब देखिए देश में कोरोना वायरस के कारण संकट आया हुआ है सरकार पूरा प्रयास कर रही है कि संक्रमण को रोका जाए और उधर कुछ राजनीतिक पार्टियां सिर्फ देश के कारण से इस को सफल बनाने का प्रयास कर रही है कि कई सफल हो गया तो उसका सारा क्रेडिट बी जे पी ली जाए इसलिए उनका पूरा भरपूर प्रयास हो रहा है चलना चाहिए कुछ लोग धर्म रो रहे कुछ अशिक्षित हो गए वह इस लापरवाही के कारण सिस्को खेला ना चाहे इंवॉल्वमेंट घोषित करना नहीं है तो क्या है इन बारे में कुछ शब्द किया जाए राष्ट्रीयता के भाव रखे जाएं केवल मानव मात्र का इंसानियत धर्म का पालन करते हुए की और विश्वास रखते हुए इस संक्रमण को मैं रोकना चाहिए जी जान से रोकना चाहिए देश की पॉलिटिकल पार्टियों से अपना कोई संबंध नहीं अपना कोई वास्ता नहीं लेकिन भारतीयों की सुरक्षा कर कर के संक्रमण को रोक को जिससे कि एनवायरोमेंट शब्द बन सके रह सके और भारतीय लोग शान से जी सकें

jaise yah jimmedari toh poore samaj poore desh kyon nahi chahiye environment banaye jaane ki improvement ko shudh karne ki hamare aajkal western culture rakha ja raha hai khudagarji ka lalach se ubharata hua environment ko din pratidin hi dushit karta ja raha hai lo chhal kapat purn anyatam ka pool ka sahara le rahe hain baimani charo taraf nazar aa sakti aapko ab dekhiye desh me corona virus ke karan sankat aaya hua hai sarkar pura prayas kar rahi hai ki sankraman ko roka jaaye aur udhar kuch raajnitik partyian sirf desh ke karan se is ko safal banane ka prayas kar rahi hai ki kai safal ho gaya toh uska saara credit be je p li jaaye isliye unka pura bharpur prayas ho raha hai chalna chahiye kuch log dharm ro rahe kuch ashikshit ho gaye vaah is laparwahi ke karan Cisco khela na chahen invalwament ghoshit karna nahi hai toh kya hai in bare me kuch shabd kiya jaaye rastriyata ke bhav rakhe jayen keval manav matra ka insaniyat dharm ka palan karte hue ki aur vishwas rakhte hue is sankraman ko main rokna chahiye ji jaan se rokna chahiye desh ki political partiyon se apna koi sambandh nahi apna koi vasta nahi lekin bharatiyon ki suraksha kar kar ke sankraman ko rok ko jisse ki enavayroment shabd ban sake reh sake aur bharatiya log shan se ji sake

जैसे यह जिम्मेदारी तो पूरे समाज पूरे देश क्यों नहीं चाहिए एनवायरनमेंट बनाए जाने की इंप्रूव

Romanized Version
Likes  521  Dislikes    views  6153
KooApp_icon
WhatsApp_icon
8 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!