आपके अनुसार क्या नोटबंदी असफल रहा?...


user

Prateek Mishra

Journalist

1:26
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सबसे पहली बात तो जिस तरीके से इसे नाम दिया गया है नोटबंदी यह नाम पूरी तरीके से निरर्थक है और गलत है और भ्रामक है क्योंकि देश में लोड बंद नहीं किए गए थे नोट बदले गए नोटों का रंग बदला गया था और तो कुछ नोट जो बंद किए गए उसमें 1000 का जन्म है उसको सरकार में बंद कर दिया बाकि सारे करेंसी नोट चालू है उनकी केवल रंग और आकार बदले हैं और जिस तरीके से सरकार में इतना बड़ा फैसला लिया तो इसके पीछे सरकार की कोई ना कोई माने सकता होगी कोई ना कोई उचित होगा बिना किसी उद्देश्य के इतना बड़ा फैसला लेना संभव है इस तरीके से लागू किया था उसने कहीं ना कहीं कुछ कमियां थी उसको लागू करने के पहले उन्होंने बेहतर तैयारी नहीं कि उसकी तैयारी उन्होंने करना चाहिए ठीक उसके बाद में अभी की स्थिति में देश के सामने उन्होंने यह आंकड़े और आधार पर करना चाहिए कि डिमॉन्टाइजेशन करने से देश को क्या लाभ हुआ है और क्या हानि हुई है कुल मिलाकर इसके पीछे सरकार की जीवन साथी हो यह रही होगी कि जो पूरा पैसा बाजार में घूम रहा है और यह कहानी है उसको पूरी तरीके से देवर करना शुद्ध करना है को शुद्ध करने की मानसिकता से जो काम दी वर्ल्ड एच डी मोनेटाइजेशन का किया है तो स्पष्ट तौर पर सरकार को उसके आंकड़े और उसका आधार लोगों के सामने स्पष्ट करना चाहिए बाकी मुझे यह नहीं लगता व्यक्तिगत तौर पर कि यह सरकार का गलत निर्णय था क्योंकि सरकार ने दिन निर्णय लिया है तो स्वाभाविक तौर पर सोच कर ही लिया होगा

sabse pehli baat toh jis tarike se ise naam diya gaya hai notebandi yah naam puri tarike se nirarthak hai aur galat hai aur bhramak hai kyonki desh mein load band nahi kiye gaye the note badle gaye noton ka rang badla gaya tha aur toh kuch note jo band kiye gaye usme 1000 ka janam hai usko sarkar mein band kar diya baki saare currency note chaalu hai unki keval rang aur aakaar badle hain aur jis tarike se sarkar mein itna bada faisla liya toh iske peeche sarkar ki koi na koi maane sakta hogi koi na koi uchit hoga bina kisi uddeshya ke itna bada faisla lena sambhav hai is tarike se laagu kiya tha usne kahin na kahin kuch kamiyan thi usko laagu karne ke pehle unhone behtar taiyari nahi ki uski taiyari unhone karna chahiye theek uske baad mein abhi ki sthiti mein desh ke saamne unhone yah aankade aur aadhaar par karna chahiye ki dimantaijeshan karne se desh ko kya labh hua hai aur kya hani hui hai kul milakar iske peeche sarkar ki jeevan sathi ho yah rahi hogi ki jo pura paisa bazaar mein ghum raha hai aur yah kahani hai usko puri tarike se devar karna shudh karna hai ko shudh karne ki mansikta se jo kaam di world h d monetaijeshan ka kiya hai toh spasht taur par sarkar ko uske aankade aur uska aadhaar logo ke saamne spasht karna chahiye baki mujhe yah nahi lagta vyaktigat taur par ki yah sarkar ka galat nirnay tha kyonki sarkar ne din nirnay liya hai toh swabhavik taur par soch kar hi liya hoga

सबसे पहली बात तो जिस तरीके से इसे नाम दिया गया है नोटबंदी यह नाम पूरी तरीके से निरर्थक है

Romanized Version
Likes  5  Dislikes    views  139
KooApp_icon
WhatsApp_icon
15 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

Related Searches:
भारत में सबसे पहले नोटबंदी कब हुई थी ; सबसे पहले नोटबंदी किस देश में हुई थी ;

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!