1975 में भारत में इमर्जन्सी क्यों लगायी गयी थी? देश में इसके सकारात्मक और नकारात्मक प्रभाव क्या थे? इसका नतीजा क्या था?...


user

Ajay Sinh Pawar

Founder & M.D. Of Radiant Group Of Industries

7:23
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

1975 में भारत में इमरजेंसी क्यों लगाई थी कि देश में इसके सकारात्मक और नकारात्मक प्रभाव क्या है इसका नतीजा क्या है कि 1975 में जो इमरजेंसी लगाई गई थी उसका कारण यह था कि उस समय की प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी जी इलाहबाद हाईकोर्ट से अपना मुकाबला हार गई थी और उनकी कुर्सी खतरे में पड़ गई थी वह भी को चुनाव उन्होंने लड़ा था एसएमटी का वहां उनको हार का सामना करना पड़ा था और इलाहाबाद हाईकोर्ट ने उनको जो गिर लाइक करा दिया था अब उसके बाद जब जब उनके पास तू ही चला था क्या तो वह अपने पद से इस्तीफा दे और व्यापक कानून में संशोधन कर लेकिन इलाहाबाद हाईकोर्ट के पास वैसा कर पाने में सक्षम नहीं हो पाती क्योंकि उनको तुरंत इस्तीफा देना था लेकिन उन्होंने देश में आंतरिक इमरजेंसी जाने के आंतरिक सुरक्षा खतरे में है कहकर पूरे भारत देश में आपातकाल की घोषणा पत्र कैसे हस्ताक्षर करवाएंगे इस तरह से रातों-रात जिसने भी पूरे देश के विरोधी नेता थे उन सब को पकड़ पकड़ कर और जेल में बंद कर दिया गया निशा के कानून के तहत यह सब किया गया था हमारे पिताजी मीसा के तहत 1 साल जेल में गए थे क्योंकि वे गुजरात से गुजराती में बाबू भाई पटेल की सरकार थी इसलिए पूरा बच्चा हो गया था लेकिन बाद में उन्हें जाना पड़ा था अब तो इमरजेंसी लगा दी गई उसके बाद बोलो गांधी के सुपुत्र सुपुत्र से पहले यानी कि संजय गांधी उन्होंने लोगों की जबरदस्ती नसबंदी बहुत सारी करवाई लोगों के हक है उसके ऊपर एक तरफ एक तरफ मरेंगे उनकी जो बोलने की वाणी स्वतंत्र है उसके सीधा हस्तक्षेप किया गया था समाचार पत्र और उस समय सबको कलेक्ट कड़ी हिदायत दी गई थी कि सरकार के विरोध में कुछ भी अपना नहीं चाहिए और सेंसरशिप का कायदा उस समय लागू कर दिया गया था विद्याचरण शुक्ल उस समय यह वाला संभालते से मंत्री और यहां तक कि जो कराने बचते हैं अंजली डीपी उसमें जो भी वजह से का विरोध किया था तो जैसे किशोर कुमार हैं उनके भी गाने नहीं बालासाहेब ठाकरे ने इसका उस समय समर्थन किया था बहुत ही नकारात्मक प्रभाव पड़े थे लोकशाही का गला घोट दिया गया था इस तरह से लोगों के हक पर हस्तक्षेप कर दिया गया था लोगों की वाणी स्वतंत्र और आर्थिक स्वतंत्रता पर भी एक तरह से कालापन जा पड़ा था विरोधियों को जेल में डाला गया था आज बंदी कराई जा रही थी इन सब बातों के बीच अगस्त सकारात्मक बाद में देखें को सकारात्मक पांडे यह हुई थी कि लोगों में खौफ पैदा होता था सप्ताह के प्रथम सप्ताह से लोग डरने लगे प्लेसाए है कि कसाई की वजह से उठाकर सब लोग समय पर अपने कार्यालय में पहुंच जाते थे ट्रेन की सेवाएं समय ऑन टाइम होती कोई भी ट्रेन डेट नहीं होती थी कोई भी फ्लाइट लेट नहीं होती थी यह सकारात्मक बात कही जाएगी लेकिन उसके लिए इमरजेंसी लगाना कोई तरफ नहीं हम चला सकते नकारात्मक असर बहुत ज्यादा थी और अंत में जब विश्व समुदाय के देशों में जब इसकी कड़ी आलोचना होने लगी और हमारे देश में भी इसका जमकर विरोध हुआ और जयप्रकाश नारायण उन्होंने सभी विरोधियों को इकट्ठा करके नेताओं को और जो जेल में थे और जो अंडरग्राउंड हो गए थे उन सब ने मिलकर जनता पार्टी की रचना की और गांधी के विरुद्ध में जैसे इमरजेंसी हटे 1977 में चुनाव हुए और जनता पार्टी की मुरारी जी देसाई और मंदारिया और सब लोगों ने चुनाव जीता था और जनता सरकार जनता पार्टी की सरकार अस्तित्व में आई थी 1977 में जो रंडी की उसमें से अटल बिहारी वाजपेयी लालकृष्ण आडवाणी ने जनता पार्टी में चित्र के नीचे चुनाव में जीत हासिल करके और सरकार पहली बार बनी थी भारत देश में और इंदिरा गांधी जी को संसद में भी धोती अपमान का सामना करना पड़ा था यह सकारात्मक और नकारात्मक प्रभाव से भारत के आजाद भारत के इतिहास में यह 22 महीने का इमरजेंसी का जो काल रहा कलंकित काला इतिहास इतना सा ही वाला इतिहास के रूप में काला अध्याय जोड़ा जाएगा और याद रखा जाएगा कि भविष्य में कोई भी शासक भारत में इस तरह का दुस्साहस नहीं करेगा धन्यवाद आपका दिन शुभ हो

1975 mein bharat mein emergency kyon lagayi thi ki desh mein iske sakaratmak aur nakaratmak prabhav kya hai iska natija kya hai ki 1975 mein jo emergency lagayi gayi thi uska karan yah tha ki us samay ki pradhanmantri indira gandhi ji allahabad highcourt se apna muqabla haar gayi thi aur unki kursi khatre mein pad gayi thi vaah bhi ko chunav unhone lada tha SMT ka wahan unko haar ka samana karna pada tha aur allahabad highcourt ne unko jo gir like kara diya tha ab uske baad jab jab unke paas tu hi chala tha kya toh vaah apne pad se istifa de aur vyapak kanoon mein sanshodhan kar lekin allahabad highcourt ke paas waisa kar paane mein saksham nahi ho pati kyonki unko turant istifa dena tha lekin unhone desh mein aantarik emergency jaane ke aantarik suraksha khatre mein hai kehkar poore bharat desh mein aapatkal ki ghoshana patra kaise hastakshar karavaenge is tarah se raatoon raat jisne bhi poore desh ke virodhi neta the un sab ko pakad pakad kar aur jail mein band kar diya gaya nisha ke kanoon ke tahat yah sab kiya gaya tha hamare pitaji meesa ke tahat 1 saal jail mein gaye the kyonki ve gujarat se gujarati mein babu bhai patel ki sarkar thi isliye pura baccha ho gaya tha lekin baad mein unhe jana pada tha ab toh emergency laga di gayi uske baad bolo gandhi ke suputr suputr se pehle yani ki sanjay gandhi unhone logo ki jabardasti nasbandi bahut saree karwai logo ke haq hai uske upar ek taraf ek taraf marenge unki jo bolne ki vani swatantra hai uske seedha hastakshep kiya gaya tha samachar patra aur us samay sabko collect kadi hidayat di gayi thi ki sarkar ke virodh mein kuch bhi apna nahi chahiye aur censorship ka kayada us samay laagu kar diya gaya tha vidyacharan shukla us samay yah vala sambhalate se mantri aur yahan tak ki jo karane bachte hai anjali dipi usme jo bhi wajah se ka virodh kiya tha toh jaise kishore kumar hai unke bhi gaane nahi balasaheb thakare ne iska us samay samarthan kiya tha bahut hi nakaratmak prabhav pade the lokshahi ka gala ghot diya gaya tha is tarah se logo ke haq par hastakshep kar diya gaya tha logo ki vani swatantra aur aarthik swatantrata par bhi ek tarah se kalapan ja pada tha virodhiyon ko jail mein dala gaya tha aaj bandi karai ja rahi thi in sab baaton ke beech august sakaratmak baad mein dekhen ko sakaratmak pandey yah hui thi ki logo mein khauf paida hota tha saptah ke pratham saptah se log darane lage plesaye hai ki kasai ki wajah se uthaakar sab log samay par apne karyalay mein pohch jaate the train ki sevayen samay on time hoti koi bhi train date nahi hoti thi koi bhi flight late nahi hoti thi yah sakaratmak baat kahi jayegi lekin uske liye emergency lagana koi taraf nahi hum chala sakte nakaratmak asar bahut zyada thi aur ant mein jab vishwa samuday ke deshon mein jab iski kadi aalochana hone lagi aur hamare desh mein bhi iska jamakar virodh hua aur jayprakash narayan unhone sabhi virodhiyon ko ikattha karke netaon ko aur jo jail mein the aur jo underground ho gaye the un sab ne milkar janta party ki rachna ki aur gandhi ke viruddh mein jaise emergency hate 1977 mein chunav hue aur janta party ki murari ji desai aur mandariya aur sab logo ne chunav jita tha aur janta sarkar janta party ki sarkar astitva mein I thi 1977 mein jo randi ki usme se atal bihari vajpayee lalkrishna advani ne janta party mein chitra ke niche chunav mein jeet hasil karke aur sarkar pehli baar bani thi bharat desh mein aur indira gandhi ji ko sansad mein bhi dhoti apman ka samana karna pada tha yah sakaratmak aur nakaratmak prabhav se bharat ke azad bharat ke itihas mein yah 22 mahine ka emergency ka jo kaal raha kalankit kaala itihas itna sa hi vala itihas ke roop mein kaala adhyay joda jaega aur yaad rakha jaega ki bhavishya mein koi bhi shasak bharat mein is tarah ka dussahas nahi karega dhanyavad aapka din shubha ho

1975 में भारत में इमरजेंसी क्यों लगाई थी कि देश में इसके सकारात्मक और नकारात्मक प्रभाव क्य

Romanized Version
Likes  49  Dislikes    views  956
WhatsApp_icon
2 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
play
user

Rahul Bharat

राजनैतिक विश्लेषक

1:59

Likes  78  Dislikes    views  1323
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!