क्या लालू प्रसाद यादव को लेकर बिहारी लोगों को शर्मिंदगी महसूस होती है?...


user

Kavita

Writer

1:52
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जी मुझे तो लगता है लालू प्रसाद को लेकर जो है सर बिहारी लोग भी शर्मिंदा नहीं है बल्कि पूरी भारत जमीन पर शर्मिंदा है एक तो मुझे लगता है सबसे बड़ी गलती यहां पर हमारे देश जो करती हम एजुकेशन को देखकर नेता नेत्री को नहीं चूकते की जरूरत है कि ज्यादा जरूरी है उनको कोई नहीं होगा चीजों के बारे में अगर बॉस बिग बॉस बनकर मंदिर बन जाएंगे फिर तो यार मतलबी नहीं होता उनको कोई समझ नहीं है बल्कि शोषण नॉलेज की बात है कैसी आपको देख चलाना कैसे जो है कि जग्गू को आप लोगों को कैसे आप शांति बनाए रख सकती नॉलेज मुझे लगता है काफी ज्यादा लैकिंग है और यह तो लालू प्रसाद जी जो है पढ़े-लिखे नहीं है और उन कहते हैं उनकी बात करने के ढंग जैसी है जैसी बुद्धि की बात करते हैं और जैसे उनका इंटरव्यू देखा गया है ऐसी बात होगी कि वह नेता बन सके और 1 जनों को जो है शांतिप्रिय तरीके से चला पाए खुद ही अपने आप में जुड़े हैं और पहली पहली बात तो यह कि उनको नेता है बना नहीं ठीक हुआ था और दूसरी बात तब देखी आप कहीं के नेता तो बन रहे हैं अब भ्रष्टाचार तो करेंगे ही है ना अब तो सभी सभी करने लगे हैं अपने फायदे के लिए कैसे जो है गवर्नमेंट की फौंट्स का फायदा उठाकर जो है गलत काम में लगाया जाए भारत में ही होता आया है और उसको हटाने की बड़ी जरूरत है तो बिल्कुल शर्मिंदा तो है ही है

ji mujhe toh lagta hai lalu prasad ko lekar jo hai sir bihari log bhi sharminda nahi hai balki puri bharat jameen par sharminda hai ek toh mujhe lagta hai sabse badi galti yahan par hamare desh jo karti hum education ko dekhkar neta netri ko nahi chukte ki zarurat hai ki zyada zaroori hai unko koi nahi hoga chijon ke bare mein agar boss big boss bankar mandir ban jaenge phir toh yaar matlabi nahi hota unko koi samajh nahi hai balki shoshan knowledge ki baat hai kaisi aapko dekh chalana kaise jo hai ki jaggu ko aap logo ko kaise aap shanti banaye rakh sakti knowledge mujhe lagta hai kaafi zyada lacking hai aur yah toh lalu prasad ji jo hai padhe likhe nahi hai aur un kehte hain unki baat karne ke dhang jaisi hai jaisi buddhi ki baat karte hain aur jaise unka interview dekha gaya hai aisi baat hogi ki vaah neta ban sake aur 1 jano ko jo hai shantipriye tarike se chala paye khud hi apne aap mein jude hain aur pehli pehli baat toh yah ki unko neta hai bana nahi theek hua tha aur dusri baat tab dekhi aap kahin ke neta toh ban rahe hain ab bhrashtachar toh karenge hi hai na ab toh sabhi sabhi karne lage hain apne fayde ke liye kaise jo hai government ki faunts ka fayda uthaakar jo hai galat kaam mein lagaya jaaye bharat mein hi hota aaya hai aur usko hatane ki badi zarurat hai toh bilkul sharminda toh hai hi hai

जी मुझे तो लगता है लालू प्रसाद को लेकर जो है सर बिहारी लोग भी शर्मिंदा नहीं है बल्कि पूरी

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  130
WhatsApp_icon
4 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
play
user

TS Bhanot

Teacher

1:23

Likes  16  Dislikes    views  164
WhatsApp_icon
user

Dilsh Sheikh

Journalist

1:44
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

ऐसा बिलकुल नहीं है कि लालू प्रसाद के बारे में बिहार क्यों शर्मिंदा है लालू प्रसाद एक अलग तरह की छवि रखने वाले व्यक्ति व्यक्ति हैं और उन्होंने बिहार का नाम रोशन किया है इस बात से हटा नहीं जा सकता है इनकार नहीं किया जा सकता है कि लालू प्रसाद यादव चारा घोटाले में जब आरोपी साबित हुए तो उनके चरित्र पर काला दाग लग गया और पढ़ इस बात से आप मुकर नहीं सकते हैं कि लालू प्रसाद यादव जब रेल मंत्री थे तो वह रेलवे को काफी ज्यादा प्रॉफिट पहुंचाए थे और उन्होंने 90 हजार करोड़ का रेलवे को फायदा पहुंचाया था तो और बिहारियों को लालू प्रसाद यादव पकड़ है पर चारा घोटाला उनसे एक गलती हो गई जिसमें से कुछ कुछ बिहारियों को लगता है कि हमारे नेता है जो गलत काम में फंस गए पढ़ नेता तो सारे जगह के सभी के पास कुछ ना कुछ गलत आरोप होते हैं अगर उन्हें कोर्ट अग्रसर हो जाती है तो वह एक चिंता का विषय बन जाता है पर लालू प्रसाद यादव जी फोन में बात करते हैं वह बिहारी टोन में बात करते हैं और वह बिहार वासियों का नाम को काफी बिहार का जो अस्तित्व है वह बिहार के बिहारी लोग अपने भाषा में किस तरह से भारत में भूमिका निभाते हैं उन्होंने इस चीज को भी रखा है तो दोनों पक्ष है उन्होंने आरोप साबित नहीं हुआ था तब तक उन्होंने बिहार के नाम काफी रोशन किया और उन पर तो काफी लोग मजाक भी करते हैं कि उनके बोलने के स्टाइल की वजह से तू बेसिकली कर मोटा मोटी बात किया जाए तो लालू प्रसाद यादव बिहार लोग शर्मिंदा नहीं है बस उन्होंने गलत काम किया होने से मिली

aisa bilkul nahi hai ki lalu prasad ke bare mein bihar kyon sharminda hai lalu prasad ek alag tarah ki chhavi rakhne waale vyakti vyakti hain aur unhone bihar ka naam roshan kiya hai is baat se hata nahi ja sakta hai inkar nahi kiya ja sakta hai ki lalu prasad yadav chara ghotale mein jab aaropi saabit hue toh unke charitra par kaala daag lag gaya aur padh is baat se aap mukar nahi sakte hain ki lalu prasad yadav jab rail mantri the toh vaah railway ko kaafi zyada profit pahunchaye the aur unhone 90 hazaar crore ka railway ko fayda pahunchaya tha toh aur bihariyon ko lalu prasad yadav pakad hai par chara ghotala unse ek galti ho gayi jisme se kuch kuch bihariyon ko lagta hai ki hamare neta hai jo galat kaam mein fans gaye padh neta toh saare jagah ke sabhi ke paas kuch na kuch galat aarop hote hain agar unhe court agrasar ho jaati hai toh vaah ek chinta ka vishay ban jata hai par lalu prasad yadav ji phone mein baat karte hain vaah bihari tone mein baat karte hain aur vaah bihar vasiyo ka naam ko kaafi bihar ka jo astitva hai vaah bihar ke bihari log apne bhasha mein kis tarah se bharat mein bhumika nibhate hain unhone is cheez ko bhi rakha hai toh dono paksh hai unhone aarop saabit nahi hua tha tab tak unhone bihar ke naam kaafi roshan kiya aur un par toh kaafi log mazak bhi karte hain ki unke bolne ke style ki wajah se tu basically kar mota moti baat kiya jaaye toh lalu prasad yadav bihar log sharminda nahi hai bus unhone galat kaam kiya hone se mili

ऐसा बिलकुल नहीं है कि लालू प्रसाद के बारे में बिहार क्यों शर्मिंदा है लालू प्रसाद एक अलग त

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  66
WhatsApp_icon
play
user

Akshansh Tripathy

Bachelor's of Mass Media

0:00

Likes  11  Dislikes    views  320
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!