क्या भारत रूस के साथ अपने संबंधों को खो रहा है यदि हाँ, तो क्यों?...


play
user

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अंतरराष्ट्रीय संबंध लाभ और हानि पर आधारित होते हैं जीवन की पॉलिसी पर आधारित होते हैं यूटीवी चुन के बाद 1 वर्षीय युद्ध शुरू हुआ और पूरी दुनिया दो महाशक्ति में पड़ गई रूस और अमेरिका में उस समय भारत गुट निरपेक्ष होते हुए भी रूस के साथ रहा और रूस ने भारत को समझ सके तो मदद थी कि इसमें कहीं कोई दो राय नहीं लेकिन उस मदद की भारी कीमत भी रूस ने वसूली है तो अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कोई सी दो देशों के संबंध में एक और लाभ और हानि की पर ही आधारित होते हैं फिर भी बदलते परिदृश्य में आज भारत एक वैश्विक शक्ति बनकर के उभर रहा है ऐसे में नए दोस्त बनने और पुराने दोस्त कमजोर होने या छुटने छूटना यह स्वाभाविक है इस पर बहुत विचार करने की आवश्यकता नहीं है आवश्यकता इस बात की है कि भारत किस संबंधों से बच भूत हो रहा है चाहे वह व्यापार की दृष्टि से हो चाहे सामरिक दृष्टि से हो चाहे तकनीक की दृष्टि से भारत की मजबूती भारत का सशक्तीकरण विकास विकसित देश बनने की दिशा में आगे बढ़ना ज्यादा महत्वपूर्ण है वनस्पति इस बात की इस देश के साथ संबंध अच्छे या खराब है आज कई देशों के साथ भारत के संबंध नवीन हुए अच्छे हुए चीन के साथ अच्छे हुए बांग्लादेश के साथ में मार के साथ भूटान नेपाल के साथ एक पाकिस्तान को छोड़ दे तो दुनिया का ऐसा कोई देश नहीं है जहां से भारत के संबंध कभी बिल्कुल नहीं थे लेकिन आज बहुत मधुर है कई ऐसे देश है जहां पर पिछले 30 साल 40 साल से देश का कोई प्रधानमंत्री नहीं किया वहां से भी आज संबंध बने हैं आज दुनिया के लगभग 200 से भी ज्यादा देश भारत के योग को अपना चुके हैं संयुक्त राष्ट्र ने 21 जून को योग दिवस के रूप में मनाने का संकल्प लिया है यह सब अपने आप लोग बताता है कि यह बदलता हुआ भारत है और दुनिया इस भारत को स्वीकार कर रही है

antararashtriya sambandh labh aur hani par aadharit hote hain jeevan ki policy par aadharit hote hain UTV chun ke baad 1 varshiye yudh shuru hua aur puri duniya do mahashakti mein pad gayi rus aur america mein us samay bharat gut nirpeksh hote hue bhi rus ke saath raha aur rus ne bharat ko samajh sake toh madad thi ki isme kahin koi do rai nahi lekin us madad ki bhari kimat bhi rus ne vasuli hai toh antararashtriya sthar par koi si do deshon ke sambandh mein ek aur labh aur hani ki par hi aadharit hote hain phir bhi badalte paridrishya mein aaj bharat ek vaishvik shakti bankar ke ubhar raha hai aise mein naye dost banne aur purane dost kamjor hone ya chutne chutana yah swabhavik hai is par bahut vichar karne ki avashyakta nahi hai avashyakta is baat ki hai ki bharat kis sambandhon se bach bhoot ho raha hai chahen vaah vyapar ki drishti se ho chahen samarik drishti se ho chahen taknik ki drishti se bharat ki majbuti bharat ka sashaktikarn vikas viksit desh banne ki disha mein aage badhana zyada mahatvapurna hai vanaspati is baat ki is desh ke saath sambandh acche ya kharab hai aaj kai deshon ke saath bharat ke sambandh naveen hue acche hue china ke saath acche hue bangladesh ke saath mein maar ke saath bhutan nepal ke saath ek pakistan ko chod de toh duniya ka aisa koi desh nahi hai jaha se bharat ke sambandh kabhi bilkul nahi the lekin aaj bahut madhur hai kai aise desh hai jaha par pichle 30 saal 40 saal se desh ka koi pradhanmantri nahi kiya wahan se bhi aaj sambandh bane hain aaj duniya ke lagbhag 200 se bhi zyada desh bharat ke yog ko apna chuke hain sanyukt rashtra ne 21 june ko yog divas ke roop mein manane ka sankalp liya hai yah sab apne aap log batata hai ki yah badalta hua bharat hai aur duniya is bharat ko sweekar kar rahi hai

अंतरराष्ट्रीय संबंध लाभ और हानि पर आधारित होते हैं जीवन की पॉलिसी पर आधारित होते हैं यूटीव

Romanized Version
Likes  61  Dislikes    views  1156
WhatsApp_icon
3 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user
2:09
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बिल्कुल सही फरमाया है आपने मेरा उत्तर आ में होगा क्योंकि भारत और रूस यह दोनों बहुत ज्यादा घने सारे और अच्छे संबंधों में माने जाते थे लेकिन अब कुछ राजनीतिक परिस्थितियां बदलने के कारण दूध से हम द्वारका आप होते जा रहे हैं यह नहीं होना चाहिए लेकिन अंदर मानते हैं कि अमेरिका बहुत मजबूत और शक्तिशाली है परंतु रूप भी कम नहीं है रूस का जो कांड हुआ था अलग-अलग भारत के संबंध अच्छे संबंध थे और इन्हीं दो व्यक्तित्व के व्यक्ति नहीं व्यक्तित्व कम गाने में यह दो लोगों के कारण भारत और रूस के संबंध काफी अधिक प्रकार के वहां हमारी फिल्में राज कपूर की फिल्में बहुत उत्साह से देखी जाती थी वही चाय की पत्ती और अन्य तरह के जो प्रोडक्ट हैं वहां पर वहां जाते थे और रूस से हथियार और अन्य सामग्री जो कि वहां की थी लेकिन उस समय से बंद हमारे अमेरिका से नजदीकियों के कारण रूप से दुनिया बढ़ती जा रही है लेकिन हमें पालिटी यह अपनाई जानी चाहिए कि दोनों देशों के तुलनात्मक हम संबंध रखें और अनुज को भी मित्रता में शामिल करें और उससे पुराने रिश्ते उन्हें याद दिलाएं और उनको हम बहुत अच्छे ढंग से दोस्ती निभाई और उनसे भी अच्छे संबंध रखें रूस और अमेरिका दोनों से हमारे संबंध पड़ेंगे तो हमारा देश और ज्यादा हर तरह से मजबूत होगा

bilkul sahi farmaya hai aapne mera uttar aa mein hoga kyonki bharat aur rus yah dono bahut zyada ghane saare aur acche sambandhon mein maane jaate the lekin ab kuch raajnitik paristhiyaann badalne ke karan doodh se hum dwarka aap hote ja rahe hain yah nahi hona chahiye lekin andar maante hain ki america bahut majboot aur shaktishali hai parantu roop bhi kam nahi hai rus ka jo kaand hua tha alag alag bharat ke sambandh acche sambandh the aur inhin do vyaktitva ke vyakti nahi vyaktitva kam gaane mein yah do logo ke karan bharat aur rus ke sambandh kaafi adhik prakar ke wahan hamari filme raj kapur ki filme bahut utsaah se dekhi jaati thi wahi chai ki patti aur anya tarah ke jo product hain wahan par wahan jaate the aur rus se hathiyar aur anya samagri jo ki wahan ki thi lekin us samay se band hamare america se najadikiyon ke karan roop se duniya badhti ja rahi hai lekin hamein polity yah apnai jani chahiye ki dono deshon ke tulnaatmak hum sambandh rakhen aur anuj ko bhi mitrata mein shaamil kare aur usse purane rishte unhe yaad dilaye aur unko hum bahut acche dhang se dosti nibhaai aur unse bhi acche sambandh rakhen rus aur america dono se hamare sambandh padenge toh hamara desh aur zyada har tarah se majboot hoga

बिल्कुल सही फरमाया है आपने मेरा उत्तर आ में होगा क्योंकि भारत और रूस यह दोनों बहुत ज्यादा

Romanized Version
Likes  56  Dislikes    views  985
WhatsApp_icon
user

Vikas Singh

Political Analyst

1:17
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए मैं आपको बताना चाहता हूं भारत का रूस संबंध अब बहुत ही बढ़िया हो चुका है फिर फिर उससे नहीं अमेरिका इजराइल और रसिया और भी बहुत सारे मुस्लिम कंट्री से भी भारत का संबंध आज के डेट में बहुत ही अच्छा हो गया है हां कांग्रेस के टाइम में हमारा संबंध कांग्रेस वाले अमेरिका से बनाने के चक्कर में रूस से संबंध उन लोगों ने खराब कर दिया था लेकिन उसने हमेशा हमारा मदद किया है और आगे भी आने वाले टाइम में भी रसिया हमारी मदद करेगा रसिया इजराइल और अमेरिका तीनों बिट्टू पावर के देश आज हमारे साथ हैं प्रधानमंत्री मोदी जी के नेतृत्व में आज हमारे साथ बिट्टू पावर के सबसे शक्तिशाली देश हैं और मोदी जी को मैं बहुत ही धन्यवाद करना चाहता हूं क्योंकि उनके माध्यम से हमारा देश आज बहुत तेजी से आगे बढ़ा है बहुत तेजी से डेवलपमेंट हुआ है हमारे देश में हमारे देश से भ्रष्टाचार का खात्मा हुआ है मैं यह नहीं कर को की पूरा खतना हुआ है लेकिन थोड़ा-बहुत खात्मा हुआ है और हमारे देश की जनता अब जागरूक हो चुकी है 19वीं सदी अंग्रेजों की थी 20वीं सदी अमेरिका का था लेकिन 21वीं सदी हिंदुस्तान का होगा धन्यवाद

dekhiye main aapko bataana chahta hoon bharat ka rus sambandh ab bahut hi badhiya ho chuka hai phir phir usse nahi america israel aur rasiya aur bhi bahut saare muslim country se bhi bharat ka sambandh aaj ke date mein bahut hi accha ho gaya hai haan congress ke time mein hamara sambandh congress waale america se banane ke chakkar mein rus se sambandh un logo ne kharab kar diya tha lekin usne hamesha hamara madad kiya hai aur aage bhi aane waale time mein bhi rasiya hamari madad karega rasiya israel aur america tatvo bittu power ke desh aaj hamare saath hain pradhanmantri modi ji ke netritva mein aaj hamare saath bittu power ke sabse shaktishali desh hain aur modi ji ko main bahut hi dhanyavad karna chahta hoon kyonki unke madhyam se hamara desh aaj bahut teji se aage badha hai bahut teji se development hua hai hamare desh mein hamare desh se bhrashtachar ka khatma hua hai yah nahi kar ko ki pura khatana hua hai lekin thoda bahut khatma hua hai aur hamare desh ki janta ab jagruk ho chuki hai vi sadi angrejo ki thi vi sadi america ka tha lekin vi sadi Hindustan ka hoga dhanyavad

देखिए मैं आपको बताना चाहता हूं भारत का रूस संबंध अब बहुत ही बढ़िया हो चुका है फिर फिर उससे

Romanized Version
Likes  16  Dislikes    views  389
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!