नाथूराम गोडसे ने गांधी को क्यों मार डाला?...


user

Vedachary Pathak Singrauli

सनातन सुरक्षा परिषद् संस्थापक

3:32
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हेलो दोस्तो नमस्कार सवाल है कि नाथूराम गोडसे ने गांधी को क्यों मार डाला देखे आपको पता है कि गांधी जी का भजन था गांधी जी ने कहा था कि देश हमारी लाश के ऊपर ही बटेगा साथ मेरे जीते जी देश से नहीं बटने पाएगा लेकिन गांधीजी के रहते हुए मुस्लिम लीग की जमा गोटी हमें एक अलग देश चाहिए तो गांधीजी ने उसे स्वीकार कर लिया जबकि देश की जनता के सामने गांधी जी ने वादा किया था तुम्हें देश को नहीं बांटने दूंगा बेस्ट उत्सव जब बेटा तो पाकिस्तान दो भागों में बटा एक पूर्वी पाकिस्तान और एक पश्चिमी पाकिस्तान और भी पाकिस्तान वही है जो आज बांग्लादेश और बीच में भारत का हिस्सा था गांधीजी ने बंटवारे में 2 पार्ट में पाकिस्तान को बांट दिया अब पाकिस्तान की मांग उठी कि हमें एक रोड भी चाहिए आने जाने के लिए जीटी रोड पूर्वी पाकिस्तान से पश्चिमी पाकिस्तान और रोड के दोनों साइड में 10 किलोमीटर की जमीन भी चाहिए लगभग लगभग यह बात गांधीजी ने स्वीकार ही कर लिया था लिखित प्रस्ताव की गई कार्रवाई पूरी ना होने के पहले ही नाथूराम गोडसे ने गांधी जी की गोली मारकर हत्या कर दिए थे कारण यही था कि वह जानते थे कि आज के समय में गांधीजी को सजा देने के लिए कोई कोर्ट या कोई बड़े वर्चस्व व्यक्ति नहीं है जिनका प्रभाव गांधी पर पढ़ सके ना कोई पुलिस है कि गांधीजी को दंड दे सकती है और गांधीजी अपनी बात से पीछे नहीं हटने वाले हैं उन्हें कोई समझा नहीं सकता है क्योंकि वह जिद्दी थे अनशन पर बैठ जाते थे बूढ़े थे पूरा समाज ही उनके साथी आ जाता था नाथूराम गोडसे को लगा कि अगर यह बात गांधीजी स्वीकार लेते हैं पूर्वी पाकिस्तान से पश्चिम पाकिस्तान रोड देने के लिए और दोनों साइड जमीन तो लगभग लगभग हमारा उत्तर प्रदेश से लेते हुए भारत का उत्तरी उत्तर प्रदेश की लेते हुए लगभग जम्मू कश्मीर का पूरा हिस्सा पाकिस्तान के कब्जे में चला जाता तो आखिर में से कैसे बचाया जाए उन्हें कुछ नहीं सोचा इसलिए उन्होंने गांधीजी को हत्या करने के लिए ही उचित समझा और उनकी हत्या कर दी लिखी अगर आपको वास्तविक में इसकी पूरी जानकारी पूरी वास्तविकता पूरा इतिहास अगर मालूम करना है तो आप दो पुस्तके जरूर पढ़ें पहला है गांधी वध और क्यों दूसरी है गांधी बस और मैं दोनों को आप पढ़ेंगे तो गांधी और गोडसे के बीच का जो आपके अंदर शंका है वह समाप्त हो जाएगी धन्यवाद

hello doston namaskar sawaal hai ki nathuram godse ne gandhi ko kyon maar dala dekhe aapko pata hai ki gandhi ji ka bhajan tha gandhi ji ne kaha tha ki desh hamari laash ke upar hi batega saath mere jeete ji desh se nahi bata payega lekin gandhiji ke rehte hue muslim league ki jama goti hamein ek alag desh chahiye toh gandhiji ne use sweekar kar liya jabki desh ki janta ke saamne gandhi ji ne vada kiya tha tumhe desh ko nahi baantne dunga best utsav jab beta toh pakistan do bhaagon mein bataa ek purvi pakistan aur ek pashchimi pakistan aur bhi pakistan wahi hai jo aaj bangladesh aur beech mein bharat ka hissa tha gandhiji ne batware mein 2 part mein pakistan ko baant diya ab pakistan ki maang uthi ki hamein ek road bhi chahiye aane jaane ke liye GT road purvi pakistan se pashchimi pakistan aur road ke dono side mein 10 kilometre ki jameen bhi chahiye lagbhag lagbhag yah baat gandhiji ne sweekar hi kar liya tha likhit prastaav ki gayi karyawahi puri na hone ke pehle hi nathuram godse ne gandhi ji ki goli marakar hatya kar diye the karan yahi tha ki vaah jante the ki aaj ke samay mein gandhiji ko saza dene ke liye koi court ya koi bade varchaswa vyakti nahi hai jinka prabhav gandhi par padh sake na koi police hai ki gandhiji ko dand de sakti hai aur gandhiji apni baat se peeche nahi hatane waale hai unhe koi samjha nahi sakta hai kyonki vaah jiddi the anshan par baith jaate the budhe the pura samaj hi unke sathi aa jata tha nathuram godse ko laga ki agar yah baat gandhiji sweekar lete hai purvi pakistan se paschim pakistan road dene ke liye aur dono side jameen toh lagbhag lagbhag hamara uttar pradesh se lete hue bharat ka uttari uttar pradesh ki lete hue lagbhag jammu kashmir ka pura hissa pakistan ke kabje mein chala jata toh aakhir mein se kaise bachaya jaaye unhe kuch nahi socha isliye unhone gandhiji ko hatya karne ke liye hi uchit samjha aur unki hatya kar di likhi agar aapko vastavik mein iski puri jaankari puri vastavikta pura itihas agar maloom karna hai toh aap do pustake zaroor padhen pehla hai gandhi vadh aur kyon dusri hai gandhi bus aur main dono ko aap padhenge toh gandhi aur godse ke beech ka jo aapke andar shanka hai vaah samapt ho jayegi dhanyavad

हेलो दोस्तो नमस्कार सवाल है कि नाथूराम गोडसे ने गांधी को क्यों मार डाला देखे आपको पता है

Romanized Version
Likes  115  Dislikes    views  893
WhatsApp_icon
12 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Dr. Guddy Kumari

UPSC Coach / Ph.d

1:26
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्ते आपने जो प्रश्न किया कि नाथूराम गोडसे ने गांधी को क्यों मारा अजीब रस्में लेकिन मैं आपको बताऊं कि नाथूराम गोडसे ऐसा नहीं कि गांधी को पसंद नहीं करते थे गांधी को पसंद करते थे लेकिन गांधी का जो मिलाजुला रवैया था उनका डिसीजन क्लियर नहीं था इस कारण से नाथूराम गोडसे ने गांधी को मारा क्योंकि ना गांधी चाहते थे कि मुस्लिम भी भारत से रहें इतना सारा दंगा होने के बावजूद गांधी चाहते थे कि मुस्लिम भारत में रहे हिंदू की भारत में रहे जबकि पाकिस्तान साइड से स्कूलों हिंदुओं को मार मार के भगा रहे थे उनके साथ दुर्व्यवहार कर रहे थे जा कर रहे थे ऐसी परिस्थिति में यहां के लोग भी चाहते थे कि मुस्लिम या चले जाएं लेकिन गांधीजी ऐसा करना नहीं चाहते थे वह खुद इमोशनल अत्याचार एक रस्म चुका है तो उस तरह से वह खुद आमरण अनशन करके मुसलमानों को रोकते थे इन सब बातों से नाथूराम गोडसे जो था वह बहुत इच्छुक था और वह उसे अपने से पता था कि वह बहुत बड़ी गलती करने जा रहा है इसके बावजूद भी मैंने यह डिसीजन लिया और गांधीजी को मारा धन्यवाद

namaste aapne jo prashna kiya ki nathuram godse ne gandhi ko kyon mara ajib rasmen lekin main aapko bataun ki nathuram godse aisa nahi ki gandhi ko pasand nahi karte the gandhi ko pasand karte the lekin gandhi ka jo milajula ravaiya tha unka decision clear nahi tha is karan se nathuram godse ne gandhi ko mara kyonki na gandhi chahte the ki muslim bhi bharat se rahein itna saara danga hone ke bawajud gandhi chahte the ki muslim bharat mein rahe hindu ki bharat mein rahe jabki pakistan side se schoolon hinduon ko maar maar ke bhaga rahe the unke saath durvyavahar kar rahe the ja kar rahe the aisi paristithi mein yahan ke log bhi chahte the ki muslim ya chale jayen lekin gandhiji aisa karna nahi chahte the vaah khud emotional atyachar ek rasm chuka hai toh us tarah se vaah khud aamran anshan karke musalmanon ko rokte the in sab baaton se nathuram godse jo tha vaah bahut icchhuk tha aur vaah use apne se pata tha ki vaah bahut badi galti karne ja raha hai iske bawajud bhi maine yah decision liya aur gandhiji ko mara dhanyavad

नमस्ते आपने जो प्रश्न किया कि नाथूराम गोडसे ने गांधी को क्यों मारा अजीब रस्में लेकिन मैं आ

Romanized Version
Likes  43  Dislikes    views  625
WhatsApp_icon
user
0:49
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आधे सर इस बात पर तो अभी भी डाउट कराना कि नाथूराम गोडसे ने महात्मा गांधी जी को क्यों मार रहा है विशाल का जो अभी भी नहीं मिला है कई लोग का अलग-अलग होता जब पूछेंगे लगाते जब देंगे जब अलग अलग होंगे कि क्यों उन्होंने गांधीजी को मारा एमपी रीवा में क्या चल रहा था उधर रहते क्यों किया उनको ऐसा क्या लग क्यों लगता है क्या लिखने में कुछ गलती होती हो रखी है और बताओ

aadhe sir is baat par toh abhi bhi doubt krana ki nathuram godse ne mahatma gandhi ji ko kyon maar raha hai vishal ka jo abhi bhi nahi mila hai kai log ka alag alag hota jab puchenge lagate jab denge jab alag alag honge ki kyon unhone gandhiji ko mara mp reeva mein kya chal raha tha udhar rehte kyon kiya unko aisa kya lag kyon lagta hai kya likhne mein kuch galti hoti ho rakhi hai aur batao

आधे सर इस बात पर तो अभी भी डाउट कराना कि नाथूराम गोडसे ने महात्मा गांधी जी को क्यों मार रह

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  150
WhatsApp_icon
user
0:44
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नाथूराम गोडसे ने 30 जनवरी 1948 को महात्मा गांधी को गोली मार इसका मुख्य कारण है वह महात्मा गांधी को मुस्लिमों का प्रतिनिधियों समझता था वह समझता था कि गांधी मुस्तक मुस्लिम लोगों का पक्ष लेता है तो इसलिए नाथूराम गोडसे ने गांधी जी को 30 जनवरी 1948 को दिल्ली बिरला हाउस में गोली मार दी शाम 7:00 बजे के समथिंग

nathuram godse ne 30 january 1948 ko mahatma gandhi ko goli maar iska mukhya karan hai vaah mahatma gandhi ko muslimo ka pratinidhiyo samajhata tha vaah samajhata tha ki gandhi mustak muslim logo ka paksh leta hai toh isliye nathuram godse ne gandhi ji ko 30 january 1948 ko delhi birala house mein goli maar di shaam 7 00 baje ke something

नाथूराम गोडसे ने 30 जनवरी 1948 को महात्मा गांधी को गोली मार इसका मुख्य कारण है वह महात्मा

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  119
WhatsApp_icon
user

guest_1AJ5M Dr.Prabhat Kumar Sinha

Assistant Professor, Dept Of History

6:02
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नाथूराम गोडसे ने गांधी को क्यों मार डाला है यह बड़ा ही यह प्रश्न बहुत होते मन में मन में कौन देता है कि जो राष्ट्रपिता का लाते हैं महात्मा गांधी जिन्होंने देश की आजादी के लिए सप्ताह के मार्ग को अपनाने और देश को आजाद करके ही दम लिया लेकिन देश आजाद तो हुआ उसका बंटवारा भी हो गया और भारत और पाकिस्तान दो भाग हो गए तो वह इससे बहुत-बहुत हो कोई कष्ट था कि यह मानते थे कि गांधीजी का देश के बंटवारे में गांधी जी कहां थे और गांधीजी मुसलमानों को बहुत ज्यादा तरजीह देते थे इस बात से बहुत सारे लोग नाराज थे वैसे ही लोगों में नाथूराम गोडसे भी थी ₹550000000 देने के लिए गांधीजी अनशन करने वाले के पाकिस्तान का जब विभाजन हुआ तो लानी चाहते थे कि पाकिस्तान को 55 करोड़ रुपिया भी दिया जाए वह सारी बातों से दूसरे लोगों में आक्रोश था और नाथूराम गोडसे जो सिंधुवादी थे तो उनमें भी आक्रोश था और इसीलिए उन्होंने 30 जनवरी को शाम में 5:05 पर जब गांधीजी प्रार्थना स्थल पर पहुंच रहे पहुंचे तो नाथूराम गोडसे ने उनकी हत्या कर दी पिस्तौल से गोली मार दी तो इस प्रश्न का जवाब जाने के लिए नाथूराम गोडसे ने गांधी को क्यों मार डाला इस प्रश्न का जवाब आपको अगर आप गंभीरता से इस प्रश्न को के बारे में जानना चाहते हैं तो आप खुद इस पुस्तक को पढ़ ले मैंने गांधी वध क्यों किया नाथूराम गोडसे की पुस्तक है मैंने गांधी वध क्यों किया और यह पुस्तक भगत सिंह विचार मंच दिल्ली से प्रकाशित है आप इसको पढ़ सकते हैं मैं उसी से नाथूराम गोडसे की आत्म स्वीकृति की भूमिका मैं आपको पढ़कर सुनाना चाहूंगा नाथूराम गोडसे ने वास्तव में मेरे जीवन का उचित समय अंत हो गया था जब मैंने गांधी जी पर गोली चलाई थी उसके पश्चात से मानो मैं समाधि में हूं और अनासक्त जीवन बिता रहा हूं मैं मानता हूं गांधी जी ने देश के लिए काफी कथाएं जिसके कारण मैं उनके कार्यों के प्रति उनके प्रति नतमस्तक हूं किंतु देश के इस सेवक को भी जनता को धोखा देकर मातृभूमि के विभाजन का अधिकार नहीं था मैं किसी प्रकार की दया नहीं चाहता हूं मैं यह भी नहीं चाहता कि मेरी ओर से कोई दया की याचना करें अपने देश के प्रति भक्तिभाव रखना यदि पाप है तो मैं स्वीकार करता हूं कि आप आप मैंने किया है यदि यह पुल है तो उससे जनित पुण्य पद पर मेरा नम्र अधिकार है मेरा विश्वास अडिग है कि मेरा कार्य नीति के दृष्टि से पूर्णतया उचित है मुझे इस बात में लेश मात्र भी संदेह नहीं कि भविष्य में किसी समय सच्चे इतिहासकार इतिहास लिखेंगे तो वे मेरे इस कार्य को उचित ठहराया तो देश आपने देखा कि नाथूराम गोडसे की या आतंकी फिरती है वह मानते हैं कि गांधी जी ने देश की आजादी के लिए बहुत सारा कष्ट उठाए लेकिन नाथूराम गोडसे को एक ही बात के लिए तकलीफ था कि कि उन्होंने भारत के विभाजन को स्वीकार कर लिया नथुराम गोडसे लिखते हैं यदि देशभक्ति पाप है तो मैं मानता हूं कि मैंने पाप किया है यदि प्रशंसनीय है तो मैं अपने आप को उस प्रशंसा का अधिकारी समझता हूं मुझे विश्वास है कि मनुष्यों द्वारा स्थापित न्यायालय के ऊपर कोई न्यायालय हो तो उसमें मेरे काम को अपराध नहीं समझा जाएगा मैंने देश और जाति की भलाई के लिए यह काम किया मैंने उस व्यक्ति पर गोली चलाई जिसकी नीति से हिंदुओं पर घोर संकट आए हिंदू नष्ट हुए तो स्पष्ट नाथूराम गोडसे की आत्म स्वीकृति को सुन लिए और इसी से स्पष्ट होता है कि गांधी जी को नाथूराम गोडसे ने क्यों मारा और इसके लिए मैंने गांधी वध क्यों किया इस पुस्तक से बेहतर और कोई पुस्तक नहीं हो सकती आप नाथूराम गोडसे की पर के विस्तार से समझ सकते हैं

nathuram godse ne gandhi ko kyon maar dala hai yah bada hi yah prashna bahut hote man me man me kaun deta hai ki jo rashtrapita ka laate hain mahatma gandhi jinhone desh ki azadi ke liye saptah ke marg ko apnane aur desh ko azad karke hi dum liya lekin desh azad toh hua uska batwara bhi ho gaya aur bharat aur pakistan do bhag ho gaye toh vaah isse bahut bahut ho koi kasht tha ki yah maante the ki gandhiji ka desh ke batware me gandhi ji kaha the aur gandhiji musalmanon ko bahut zyada tarajih dete the is baat se bahut saare log naaraj the waise hi logo me nathuram godse bhi thi Rs dene ke liye gandhiji anshan karne waale ke pakistan ka jab vibhajan hua toh lani chahte the ki pakistan ko 55 crore rupiya bhi diya jaaye vaah saari baaton se dusre logo me aakrosh tha aur nathuram godse jo sindhuvadi the toh unmen bhi aakrosh tha aur isliye unhone 30 january ko shaam me 5 05 par jab gandhiji prarthna sthal par pohch rahe pahuche toh nathuram godse ne unki hatya kar di pistol se goli maar di toh is prashna ka jawab jaane ke liye nathuram godse ne gandhi ko kyon maar dala is prashna ka jawab aapko agar aap gambhirta se is prashna ko ke bare me janana chahte hain toh aap khud is pustak ko padh le maine gandhi vadh kyon kiya nathuram godse ki pustak hai maine gandhi vadh kyon kiya aur yah pustak bhagat Singh vichar manch delhi se prakashit hai aap isko padh sakte hain main usi se nathuram godse ki aatm swikriti ki bhumika main aapko padhakar sunana chahunga nathuram godse ne vaastav me mere jeevan ka uchit samay ant ho gaya tha jab maine gandhi ji par goli chalai thi uske pashchat se maano main samadhi me hoon aur anasakt jeevan bita raha hoon main maanta hoon gandhi ji ne desh ke liye kaafi kathaen jiske karan main unke karyo ke prati unke prati natamastak hoon kintu desh ke is sevak ko bhi janta ko dhokha dekar matribhoomi ke vibhajan ka adhikaar nahi tha main kisi prakar ki daya nahi chahta hoon main yah bhi nahi chahta ki meri aur se koi daya ki yachana kare apne desh ke prati bhaktibhav rakhna yadi paap hai toh main sweekar karta hoon ki aap aap maine kiya hai yadi yah pool hai toh usse janit punya pad par mera namr adhikaar hai mera vishwas adig hai ki mera karya niti ke drishti se purnataya uchit hai mujhe is baat me lesh matra bhi sandeh nahi ki bhavishya me kisi samay sacche itihaaskar itihas likhenge toh ve mere is karya ko uchit thehraya toh desh aapne dekha ki nathuram godse ki ya aatanki firti hai vaah maante hain ki gandhi ji ne desh ki azadi ke liye bahut saara kasht uthye lekin nathuram godse ko ek hi baat ke liye takleef tha ki ki unhone bharat ke vibhajan ko sweekar kar liya nathuram godse likhte hain yadi deshbhakti paap hai toh main maanta hoon ki maine paap kiya hai yadi prashansaniya hai toh main apne aap ko us prashansa ka adhikari samajhata hoon mujhe vishwas hai ki manushyo dwara sthapit nyayalaya ke upar koi nyayalaya ho toh usme mere kaam ko apradh nahi samjha jaega maine desh aur jati ki bhalai ke liye yah kaam kiya maine us vyakti par goli chalai jiski niti se hinduon par ghor sankat aaye hindu nasht hue toh spasht nathuram godse ki aatm swikriti ko sun liye aur isi se spasht hota hai ki gandhi ji ko nathuram godse ne kyon mara aur iske liye maine gandhi vadh kyon kiya is pustak se behtar aur koi pustak nahi ho sakti aap nathuram godse ki par ke vistaar se samajh sakte hain

नाथूराम गोडसे ने गांधी को क्यों मार डाला है यह बड़ा ही यह प्रश्न बहुत होते मन में मन में

Romanized Version
Likes  8  Dislikes    views  126
WhatsApp_icon
user

Suman Saurav

Government Teacher & Carrear Counsultent

0:17
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

गाना नाथूराम गोडसे द्वारा लिखित पुस्तक में स्पष्ट वर्णित है कि वह उन्होंने भारत-पाकिस्तान बंटवारे एवं पाकिस्तान और हिंदुओं पर हो रहे अत्याचारों की अनदेखी करने के लिए महात्मा गांधी का वध किया था

gaana nathuram godse dwara likhit pustak mein spasht varnit hai ki vaah unhone bharat pakistan batware evam pakistan aur hinduon par ho rahe atyacharo ki andekha karne ke liye mahatma gandhi ka vadh kiya tha

गाना नाथूराम गोडसे द्वारा लिखित पुस्तक में स्पष्ट वर्णित है कि वह उन्होंने भारत-पाकिस्तान

Romanized Version
Likes  6  Dislikes    views  172
WhatsApp_icon
user

GURUDAYAL

Teacher

0:53
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

पहली बात तो यह कि नाथूराम गोडसे ने महात्मा गांधी की हत्या क्यों की इसका रीजन नाथूराम गोडसे के पास था किसी को नहीं पता दूसरी बातें नाथूराम गोडसे कट्टर हिंदू थे और उनके जद्दोजहद में उनके दिमाग में गुरदास तो वादा किया था राष्ट्रवाद तक तो ठीक रहता है उग्र राष्ट्रवाद आ गया था जिसके चलते उन्होंने यह मानना था कि महात्मा गांधी की वजह से देश का बंटवारा हुआ है यह महात्मा गांधी की वजह से यह सब कुछ हुआ है उन्होंने इसके पीछे गांधी को जिम्मेदार करें और गांधी चक्कर

pehli baat toh yah ki nathuram godse ne mahatma gandhi ki hatya kyon ki iska reason nathuram godse ke paas tha kisi ko nahi pata dusri batein nathuram godse kattar hindu the aur unke jaddojahad mein unke dimag mein gurdas toh vada kiya tha rashtravad tak toh theek rehta hai ugra rashtravad aa gaya tha jiske chalte unhone yah manana tha ki mahatma gandhi ki wajah se desh ka batwara hua hai yah mahatma gandhi ki wajah se yah sab kuch hua hai unhone iske peeche gandhi ko zimmedar kare aur gandhi chakkar

पहली बात तो यह कि नाथूराम गोडसे ने महात्मा गांधी की हत्या क्यों की इसका रीजन नाथूराम गोडसे

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  127
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

क्योंकि गांधी जी पूरे भारत को दो भागों में या अपने पूर्वजों के बारे में बांटने के लिए इसलिए उनको नहीं मारते तो के लोग गाने सभी लोग आते की मीरा राजपूत नाथूराम ने उन्हें मार दो

kyonki gandhi ji poore bharat ko do bhaagon mein ya apne purvajon ke bare mein baantne ke liye isliye unko nahi marte toh ke log gaane sabhi log aate ki meera rajput nathuram ne unhe maar do

क्योंकि गांधी जी पूरे भारत को दो भागों में या अपने पूर्वजों के बारे में बांटने के लिए इसलि

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  136
WhatsApp_icon
user

Mohit Chowdhary

Health Coach

0:47
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नथुराम गोडसे ने महात्मा गांधी को क्यों मारा नाथूराम गोडसे ने महात्मा गांधी को महात्मा गांधी चाहते तो भगतसिंह सुखदेव राजगुरु की फांसी लेकिन उन्होंने ऐसा नहीं किया उनको अपने पद का बॉर्डर था इस वजह से उन्होंने उनको समय से पहले ही फांसी दी और वह नहीं चाहते थे वह चाहते थे यहां जिंदा रहेंगे तुम मेरी कौन सुनेगा इसलिए महात्मा गांधी जी ने उनको टाइम से पहले ही उनकी टाइम से ही करवा दी और नथुराम गोडसे ने इस चीज को लेकर ज्यादा विवाद छिड़ा लेकिन उनकी बात नहीं मानी तो नाथूराम गोडसे ने स्टेशन पर उनको गोली मारकर हत्या कर दी

nathuram godse ne mahatma gandhi ko kyon mara nathuram godse ne mahatma gandhi ko mahatma gandhi chahte toh bhagatsinh sukhadeva raajguru ki fansi lekin unhone aisa nahi kiya unko apne pad ka border tha is wajah se unhone unko samay se pehle hi fansi di aur vaah nahi chahte the vaah chahte the yahan zinda rahenge tum meri kaun sunegaa isliye mahatma gandhi ji ne unko time se pehle hi unki time se hi karva di aur nathuram godse ne is cheez ko lekar zyada vivaad chida lekin unki baat nahi maani toh nathuram godse ne station par unko goli marakar hatya kar di

नथुराम गोडसे ने महात्मा गांधी को क्यों मारा नाथूराम गोडसे ने महात्मा गांधी को महात्मा गांध

Romanized Version
Likes  13  Dislikes    views  407
WhatsApp_icon
user

Preetisingh

Junior Volunteer

0:39
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हां देखे नाथूराम जो थे वह हिंदूवादी थे और जो पहले जो है गांधीजी को फॉलो करते थे लेकिन जब उनको बीच में उनको आइए लगने लगा कि जो गांधी जी हैं वह मुस्लिम मुसलमानों को ज्यादा सपोर्ट कर रहे हैं जैसे कि पाकिस्तान भी उन्होंने डिवाइड किया था और काफी सारे जो हक से उन्होंने मुसलमान को मुसलमान उनका जो था वह उनको लगा कि ज्यादा वह मुसलमानों की और ज्यादा ज्यादा ज्यादा सपोर्ट मुसलमानों को करते हैं इस वजह से उनको लगा कि आगे जाकर जो हिंदुओं को प्रॉब्लम हो जाएगी तो इसलिए नाथूराम गोडसे ने गांधी जी को गोली मार दी थी

haan dekhe nathuram jo the vaah hinduvaadi the aur jo pehle jo hai gandhiji ko follow karte the lekin jab unko beech mein unko aaiye lagne laga ki jo gandhi ji hain vaah muslim musalmanon ko zyada support kar rahe hain jaise ki pakistan bhi unhone divide kiya tha aur kaafi saare jo haq se unhone musalman ko musalman unka jo tha vaah unko laga ki zyada vaah musalmanon ki aur zyada zyada zyada support musalmanon ko karte hain is wajah se unko laga ki aage jaakar jo hinduon ko problem ho jayegi toh isliye nathuram godse ne gandhi ji ko goli maar di thi

हां देखे नाथूराम जो थे वह हिंदूवादी थे और जो पहले जो है गांधीजी को फॉलो करते थे लेकिन जब उ

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  10
WhatsApp_icon
play
user

Dilsh Sheikh

Journalist

1:56

Likes  4  Dislikes    views  106
WhatsApp_icon
play
user

Snehasish Gupta

Journalist / Traveller

0:43

Likes  13  Dislikes    views  199
WhatsApp_icon
qIcon
ask

Related Searches:
गोडसे ने गांधी को क्यों मारा ; नाथूराम गोडसे ने गोली क्यों मारी ;

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!