बिहार का प्रथम मुख्यमंत्री कौन थे?...


user

Ranjeet Singh Uppal

Retired GM ONGC

2:07
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बिहार के प्रथम मुख्यमंत्री कृष्ण सिंह थे जिनको बिहार के प्रीति कहा जाता है उन्होंने कोलकाता से m.a. की डिग्री ली थी फिर कानून की डिग्री दी थी उनके पास पर उन्होंने बाद में स्वतंत्रता आंदोलन में भाग लेना शुरू किया और साइमन कमीशन का विरोध किया और स्वतंत्रता संग्राम में भाग लेने के कारण जब 1937 में अंग्रेजों के समय में क्रांति सरकारी बनी तो उस समय वह बिहार के मुख्यमंत्री बने 37 से 39 तक बिहार के मुख्यमंत्री थे पर फिर द्वितीय विश्व युद्ध शुरू हो गया जो 1945 तक चला जिसमें उस दौर में वह बिहार के मुख्यमंत्री नहीं थे पर ज्योतिष युद्ध खत्म होने के बाद फिर अंग्रेजों के समय ही 1946 में बिहार के मुख्यमंत्री बने और उस समय से लेकर वह अपने निधन तक जनवरी 1961 तक बिहार के मुख्यमंत्री रहे मतलब करीब 16 साल बिहार के मुख्यमंत्री रहे और उन्होंने ढेरों काम किए बिहार के लिए अभी भी लोग उनको बिहार का सर्वश्रेष्ठ मुख्यमंत्री बोलते हैं उन्होंने बोकारो रिफाइनरी लगवाई बोकारो स्टील प्लांट लगवाया पहला घाट का कारखाना था उन्होंने लगवाया एचईसी हटिया की स्थापना की एशिया का बिगेस्ट रेलवे यार्ड गड़हरा में किया ऐसे ढेरों परियोजनाएं थी जो वह बिहार में लेकर आए उस समय जो केंद्रीय समिति की रिपोर्ट थी उसके हिसाब से बिहार देश का दूसरे नंबर का आर्थिक दृष्टि से राज्य धन्यवाद

bihar ke pratham mukhyamantri krishna Singh the jinako bihar ke preeti kaha jata hai unhone kolkata se m a ki degree li thi phir kanoon ki degree di thi unke paas par unhone baad me swatantrata andolan me bhag lena shuru kiya aur simon commision ka virodh kiya aur swatantrata sangram me bhag lene ke karan jab 1937 me angrejo ke samay me kranti sarkari bani toh us samay vaah bihar ke mukhyamantri bane 37 se 39 tak bihar ke mukhyamantri the par phir dwitiya vishwa yudh shuru ho gaya jo 1945 tak chala jisme us daur me vaah bihar ke mukhyamantri nahi the par jyotish yudh khatam hone ke baad phir angrejo ke samay hi 1946 me bihar ke mukhyamantri bane aur us samay se lekar vaah apne nidhan tak january 1961 tak bihar ke mukhyamantri rahe matlab kareeb 16 saal bihar ke mukhyamantri rahe aur unhone dheron kaam kiye bihar ke liye abhi bhi log unko bihar ka sarvashreshtha mukhyamantri bolte hain unhone bokaro refinery lagwai bokaro steel plant lagwaya pehla ghat ka karkhana tha unhone lagwaya HEC hatiya ki sthapna ki asia ka biggest railway yard gadhara me kiya aise dheron pariyojanayen thi jo vaah bihar me lekar aaye us samay jo kendriya samiti ki report thi uske hisab se bihar desh ka dusre number ka aarthik drishti se rajya dhanyavad

बिहार के प्रथम मुख्यमंत्री कृष्ण सिंह थे जिनको बिहार के प्रीति कहा जाता है उन्होंने कोलकात

Romanized Version
Likes  153  Dislikes    views  1406
KooApp_icon
WhatsApp_icon
2 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!