ग्लोबल वार्मिंग में मुफ्त गए थे?...


play
user

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

ग्लोबल वार्मिंग जो है उसका अर्थ होता है वैश्विक तापमान में होने वाली वृद्धि यानी जो हमारी पृथ्वी है उसके बारे में मंडल में जो तापमान में वृद्धि हो रही है उससे ग्लोबल वार्मिंग के थे जिसके परिणाम स्वरूप कई बार जंगलों में अपने आप सूखी पत्तियों में वगैरह में घास लग जाती है और जिसके कारण हमारी पृथ्वी पर जो गर्मी बहुत ज्यादा फेवरेट लिस्ट जिसके कारण निकल रहे थे और इसका एक बड़ा कारण था प्रदूषण का स्तर और इसके साथ ही जो रोड पर चलने वाली गाड़ियां फैक्ट्री इन सबके अलावा जो हमारी दैनिक गतिविधियां होती थी वह भी इसमें काफी प्रकार से सहायक होती थी परंतु आज के समय में जब ब्लॉक डाउन है काफी हद तक यह सारी गतिविधियां रुक चुकी है और सड़कों पर गाड़ियां बिल्कुल ना के बराबर हैं और एसपी ने भी कुछ इसी प्रकार से खुली है ना के बराबर तो इसका परिणाम यह हो रहा है कि वातावरण में जो वायु है उसको दूरी है और जो अश्लील चित्र हो रहा था ओजोन लेयर में ओजोन लेयर डिप्लीशन कहा जाता है वह भी बहुत जल्द ही रिपेयर हो गया है अब वैज्ञानिकों का यह भी कहना है नई स्टडी में कि वह पूरी तरह से भर गया है उसका भी परिणाम यह रहेगा कि वहां से जो हानिकारक किरणें पृथ्वी की तरफ आ रही थी लोंग वे ऑफ रेडिएशन और यहां से जो शार्ट पर ऑफ रेडिएशन रुक जा रही थी वह भी रुकेगी क्योंकि जो कार्बन डाइऑक्साइड की मात्रा बढ़ रही थी वह पूरी तरह से काफी राहत की खबर आई है बहुत जल्द हम अगर इसी प्रकार से हमने अपनी प्रकृति को बनाए रखा तो ग्लोबल वार्मिंग की समस्या पर विजय प्राप्त कर ली

global warming jo hai uska arth hota hai vaishvik taapman me hone wali vriddhi yani jo hamari prithvi hai uske bare me mandal me jo taapman me vriddhi ho rahi hai usse global warming ke the jiske parinam swaroop kai baar jungalon me apne aap sukhi pattiyo me vagera me ghas lag jaati hai aur jiske karan hamari prithvi par jo garmi bahut zyada favourite list jiske karan nikal rahe the aur iska ek bada karan tha pradushan ka sthar aur iske saath hi jo road par chalne wali gadiyan factory in sabke alava jo hamari dainik gatividhiyan hoti thi vaah bhi isme kaafi prakar se sahayak hoti thi parantu aaj ke samay me jab block down hai kaafi had tak yah saari gatividhiyan ruk chuki hai aur sadkon par gadiyan bilkul na ke barabar hain aur SP ne bhi kuch isi prakar se khuli hai na ke barabar toh iska parinam yah ho raha hai ki vatavaran me jo vayu hai usko doori hai aur jo ashleel chitra ho raha tha ozone layer me ozone layer diplishan kaha jata hai vaah bhi bahut jald hi repair ho gaya hai ab vaigyaniko ka yah bhi kehna hai nayi study me ki vaah puri tarah se bhar gaya hai uska bhi parinam yah rahega ki wahan se jo haanikarak kirne prithvi ki taraf aa rahi thi long ve of radiation aur yahan se jo shaart par of radiation ruk ja rahi thi vaah bhi rukegi kyonki jo carbon dioxide ki matra badh rahi thi vaah puri tarah se kaafi rahat ki khabar I hai bahut jald hum agar isi prakar se humne apni prakriti ko banaye rakha toh global warming ki samasya par vijay prapt kar li

ग्लोबल वार्मिंग जो है उसका अर्थ होता है वैश्विक तापमान में होने वाली वृद्धि यानी जो हमारी

Romanized Version
Likes  7  Dislikes    views  238
WhatsApp_icon
1 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
Likes    Dislikes    views  
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!