इतिहास को कितने भागों में बांटा गया है?...


user

guest_1AJ5M Dr.Prabhat Kumar Sinha

Assistant Professor, Dept Of History

4:46
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

दोस्तों प्रश्न इतिहास को कितने भाग में बांटा गया है तो अगर हम भारत के इतिहास को देखें तो भारत के इतिहास को तीन भागों में बांटा गया है सबसे पहले प्राचीन भारत का इतिहास जो प्रारंभ से लेकर 1206 ईस्वी तक है इसके बाद मध्यकालीन भारत जो 1206 से लेकर 1757 तक है और इसका तीसरा भाग है आधुनिक भारत जो 17100 57 से 1947 तक आया 1950 तक तो भारत के इतिहास को प्राचीन मध्यकालीन और आधुनिक भारत में बांटा गया है अब मध्यकालीन भारत को भी दो भागों में बांटा जाता है 1206 से 1526 तक के काल को पूरा का पूरा निकाल या दिल्ली सल्तनत का जाता है 1206 से 1526 तक और 15:26 से 17:00 से 7:00 तक के काल को मुगल काल कहा जाता है तो मत कल को दो भागों में बांट दिया कि आपको बता दें दोस्तों की कोई भी हम कहां से काल को भर देंगे तू कुछ मत बोल घटना होती है वहीं से बताया जाता है कि इस काल की समाप्ति और दूसरे कान का शुभारंभ हुआ तो जैसे आप देखेंगे 1206 ईस्वी में तो 12 ईस्वी में भारत में मुस्लिम शासन 1206 से ही प्रारंभ हुआ जब कुतुबुद्दीन ऐबक ने भारत में गुलाम वंश की स्थापना की फिर आप जानते ही हैं 1526 इसमें तो 1206 से लेकर 1526 तक सल्तनत काल करते हैं या तुर्काबाद कालका दे चुके इस समय के सभी शासक प्रकरण थे तुरंत तो इसलिए उसे तुर्क अफगान काल कहा जाता है यह सब तत्काल इसलिए कहते हैं कि उसमें जो भी शासक थे उदय सुल्तान तो सुल्तान के कारण वश उपलब्ध था किसी सुल्तान का सपना इसलिए सल्तनत काल कहलाता है यह मैं साधारण बता रहा हूं और तू इसलिए 1526 में क्या हुआ जानते हैं कि 1526 में बाबर ने इब्राहिम लोदी को पराजित कर दिया पानीपत की पहली लड़ाई में और भारत में उसने मुगल समराज की स्थापना की तो यह भी महत्वपूर्ण तिथि इसीलिए 1526 को अत्यंत महत्वपूर्ण इतिहास का देश किसे माना जाता है और फिर मुगल काल में दिखलाया 1770 तो दोस्तों 1707 में मुगलों के अंतिम सशस्त्र शक्तिशाली शासक औरंगजेब की मृत्यु हो गई 1707 में और मुगल साम्राज्य का पतन प्रारंभ हो गया इसीलिए इसे मुगल काल करते हैं फिर 1707 से 1757 के बीच में अनेक बंगाल मैसूर अधिक कई राज्य मुगल समराज से अलग हो गए तो इसीलिए इस काल को छोड़कर फिर हमने 1757 से अग्नि काल का है आदमी कल को भी दोस्तों दो भाग में बढ़ जाता है 1757 से 18 सो 57 का काल को कंपनी कालीन शासन कहा जाता है मुकेश में ईस्ट इंडिया कंपनी का विस्तार हुआ और 18 सो 58 से 1947 तक के काल को ब्रिटिश कालीन भारत कहा जाता है क्योंकि डायरेक्ट ब्रिटिश ताज में 858 से भारत पर शासन किया इस तरह से दोस्तों भारत के इतिहास को तीन भागों में बांट कर पढ़ा जाता है धन्यवाद

doston prashna itihas ko kitne bhag me baata gaya hai toh agar hum bharat ke itihas ko dekhen toh bharat ke itihas ko teen bhaagon me baata gaya hai sabse pehle prachin bharat ka itihas jo prarambh se lekar 1206 isvi tak hai iske baad madhyakalin bharat jo 1206 se lekar 1757 tak hai aur iska teesra bhag hai aadhunik bharat jo 17100 57 se 1947 tak aaya 1950 tak toh bharat ke itihas ko prachin madhyakalin aur aadhunik bharat me baata gaya hai ab madhyakalin bharat ko bhi do bhaagon me baata jata hai 1206 se 1526 tak ke kaal ko pura ka pura nikaal ya delhi sultanate ka jata hai 1206 se 1526 tak aur 15 26 se 17 00 se 7 00 tak ke kaal ko mughal kaal kaha jata hai toh mat kal ko do bhaagon me baant diya ki aapko bata de doston ki koi bhi hum kaha se kaal ko bhar denge tu kuch mat bol ghatna hoti hai wahi se bataya jata hai ki is kaal ki samapti aur dusre kaan ka shubharambh hua toh jaise aap dekhenge 1206 isvi me toh 12 isvi me bharat me muslim shasan 1206 se hi prarambh hua jab kutubuddin aibak ne bharat me gulam vansh ki sthapna ki phir aap jante hi hain 1526 isme toh 1206 se lekar 1526 tak sultanate kaal karte hain ya turkabad kalka de chuke is samay ke sabhi shasak prakaran the turant toh isliye use turk afgan kaal kaha jata hai yah sab tatkal isliye kehte hain ki usme jo bhi shasak the uday sultan toh sultan ke karan vash uplabdh tha kisi sultan ka sapna isliye sultanate kaal kehlata hai yah main sadhaaran bata raha hoon aur tu isliye 1526 me kya hua jante hain ki 1526 me babar ne ibrahim lodi ko parajit kar diya panipat ki pehli ladai me aur bharat me usne mughal samraj ki sthapna ki toh yah bhi mahatvapurna tithi isliye 1526 ko atyant mahatvapurna itihas ka desh kise mana jata hai aur phir mughal kaal me dikhlaya 1770 toh doston 1707 me mugalon ke antim sashastra shaktishali shasak aurangzeb ki mrityu ho gayi 1707 me aur mughal samrajya ka patan prarambh ho gaya isliye ise mughal kaal karte hain phir 1707 se 1757 ke beech me anek bengal mysore adhik kai rajya mughal samraj se alag ho gaye toh isliye is kaal ko chhodkar phir humne 1757 se agni kaal ka hai aadmi kal ko bhi doston do bhag me badh jata hai 1757 se 18 so 57 ka kaal ko company kaleen shasan kaha jata hai mukesh me east india company ka vistaar hua aur 18 so 58 se 1947 tak ke kaal ko british kaleen bharat kaha jata hai kyonki direct british taj me 858 se bharat par shasan kiya is tarah se doston bharat ke itihas ko teen bhaagon me baant kar padha jata hai dhanyavad

दोस्तों प्रश्न इतिहास को कितने भाग में बांटा गया है तो अगर हम भारत के इतिहास को देखें तो भ

Romanized Version
Likes  11  Dislikes    views  178
WhatsApp_icon
2 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
play
user
0:18

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अर्जुन तो आपका सवाल एक इतिहास को कितने भागों में है मैं बता दूं आपको कि तिहाड़ को तीन भागों में बांटा गया पहला प्राचीन भारत दूसरा मध्यकालीन भारत का आधुनिक भारत धन्यवाद

arjun toh aapka sawaal ek itihas ko kitne bhaagon me hai main bata doon aapko ki tihad ko teen bhaagon me baata gaya pehla prachin bharat doosra madhyakalin bharat ka aadhunik bharat dhanyavad

अर्जुन तो आपका सवाल एक इतिहास को कितने भागों में है मैं बता दूं आपको कि तिहाड़ को तीन भागो

Romanized Version
Likes  10  Dislikes    views  284
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!