भारत में प्रथम विपक्ष के नेता कौन थे?...


user

Ranjeet Singh Uppal

Retired GM ONGC

5:07
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

लोकसभा में श्री ए के गोपालन जो कम्युनिस्ट पार्टी के थे उनको 1952 से 1969 तक लोकसभा के विपक्ष के नेता के रूप में इज्जत देती जा रही थी परंतु ऑफीशियली बोल लोकसभा में विपक्ष के नेता नहीं थे उनके पास में 16 सीटें थी पहले आम चुनाव में तो बाद में भी मोर ओर लेस वैसी ही सीटें थी उनके पास में इसलिए उनको बुलाया तो जाता था अच्छे नेता के रूप में लेकिन ऑफिशियल पोजीशन नहीं थी पहली बार जो ऑफिसर पोजीशन मिली लोकसभा में विपक्ष के नेता को वोट से रामसेवक सिंह कांग्रेस अपोजिशन से थे या मोरारजी देसाई नंबूद्रीपद वगैरह ने कांग्रेस का विभाजन किया था 1969 में उस समय लोकसभा के जूते विपक्ष के नेता को ऑफिस अली पोजीशन रामसेवक सिंह को दी गई थी दिसंबर 69 में और वह दिसंबर 70 तक इस पद पर रहे थे उसके बाद 1970 से 77 तक 7 साल कोई भी नहीं था इस पद के ऊपर मुकेश लोकसभा भंग करने के पश्चात बाद में किसी को भी पार्टी को 10% सीटें नहीं मिली और 1977 में क्या किया जो लोकसभा में विपक्ष का नेता होता है उसको ऑफिशियल नेता होने की स्थिति में वह अनाउंसर चोरों के क्या क्या सैलरी मिलेगी क्या क्या फर्क मिलेंगे कैबिनेट रैंक के कॉलेज जो सुविधाएं होती है वह देने का प्रावधान किया गया और उस प्रावधान के साथ पहली बार जो लोकसभा के ऑफिशल नेता विपक्ष के नेता बने वह चाहिए मंत्र और चौहान उसके पश्चात जब मोरारजी देसाई की गवर्नमेंट गिर गई तक जगी जगजीवन राम समय में विपक्ष के नेता बने और उसी समय में जब लोकसभा भंग हो गई ऐसी में चुनाव हुए तो 79 से 19 तक विपक्ष का कोई भी नेता नहीं था क्योंकि 10% किसी को भी नहीं मिली विपक्ष में और जब 138 में राजीव गांधी है चुनाव हार गए तो दिसंबर 30 दिसंबर 19 तक वह विपक्ष के नेता थे उसके पश्चात आडवाणी जी विपक्ष लोकसभा में विपक्ष के नेता रहे 90 से ट्रेन में तक सिर्फ बाजपेई जी फ्रेंड मैसेज 1996 तक रहे फिर बाजपेई जी इस दौरान 15 दिन की खुशी 16 दिन के लिए प्रधानमंत्री थे 16 मई से 31 मई को उस समय पीवी नरसिम्हा राव साहब लोकसभा में नेता के पद पर बाजपेई जी ने त्यागपत्र दिया उसके बाद में बाजपेई जी विपक्ष के नेता रहे 1996 97 में उसके बाद वाजपेई जी प्रधानमंत्री बने तो शरद पवार विपक्ष के नेता रहे 9899 शरद पवार ने कांग्रेस छोड़ी सोनिया गांधी से मतभेद के चलते तो सोनिया गांधी विपक्ष की नेता रही लोकसभा में 1999 से 2004 तक जब 2004 में मनमोहन सिंह प्रधानमंत्री बने तो पहले कार्यकाल में आडवाणी जी लोकसभा में विपक्ष के नेता थे और दूसरे कार्यकाल में मनमोहन सिंह के सुषमा स्वराज विपक्ष की नेता थी जब से मोदी जी प्रधानमंत्री बने हैं 2014 से तब से विपक्ष का नेता कोई नहीं है क्योंकि किसी भी पार्टी को 10% से ज्यादा सीटें नहीं मिली है जो कोई भी इस पद का हकदार नहीं है तो नेता विपक्ष का पद खाली है लोकसभा में राज्यसभा में भी ऐसी परंपरा रही थी 52 से 69 तक जो भी जिसके पास में सबसे ज्यादा सीटें होती थी उसको विपक्ष का नेता कह कर संबोधित कर लिया जाता था लेकिन ऑफिशियल पोजीशन नहीं थी ऑफिशियल पोजीशन 1969 में राज्यसभा में नेता विपक्ष की जब कांग्रेस का विभाजन हुआ तो शाम नंदन मिश्रा जो थे वह हम कांग्रेसो की तरफ से अपोजिशन की तरफ से पहले ऑफिशियल नेता विपक्ष बने राज्यसभा के उसके बाद राज्यसभा में नेता विपक्ष की सीट कभी भी खाली नहीं रही हमेशा कोई ना कोई अस्पष्ट पर रखा और इस पद पर विराजमान हुए उनमें मनमोहन सिंह भी थे लालकृष्ण आडवाणी थे अरुण जेटली थे यह सब इस पद पर रह चुके हैं और 2014 से कांग्रेस के गुलाम नबी आजाद नेता विपक्ष के पद पर हैं धन्यवाद

lok sabha me shri a ke gopalan jo communist party ke the unko 1952 se 1969 tak lok sabha ke vipaksh ke neta ke roop me izzat deti ja rahi thi parantu afishiyali bol lok sabha me vipaksh ke neta nahi the unke paas me 16 seaten thi pehle aam chunav me toh baad me bhi mor aur less vaisi hi seaten thi unke paas me isliye unko bulaya toh jata tha acche neta ke roop me lekin official position nahi thi pehli baar jo officer position mili lok sabha me vipaksh ke neta ko vote se ramsewak Singh congress opposition se the ya morarji desai nambudripad vagera ne congress ka vibhajan kiya tha 1969 me us samay lok sabha ke joote vipaksh ke neta ko office ali position ramsewak Singh ko di gayi thi december 69 me aur vaah december 70 tak is pad par rahe the uske baad 1970 se 77 tak 7 saal koi bhi nahi tha is pad ke upar mukesh lok sabha bhang karne ke pashchat baad me kisi ko bhi party ko 10 seaten nahi mili aur 1977 me kya kiya jo lok sabha me vipaksh ka neta hota hai usko official neta hone ki sthiti me vaah announcer choron ke kya kya salary milegi kya kya fark milenge cabinet rank ke college jo suvidhaen hoti hai vaah dene ka pravadhan kiya gaya aur us pravadhan ke saath pehli baar jo lok sabha ke official neta vipaksh ke neta bane vaah chahiye mantra aur Chauhan uske pashchat jab morarji desai ki government gir gayi tak jagi jagjivan ram samay me vipaksh ke neta bane aur usi samay me jab lok sabha bhang ho gayi aisi me chunav hue toh 79 se 19 tak vipaksh ka koi bhi neta nahi tha kyonki 10 kisi ko bhi nahi mili vipaksh me aur jab 138 me rajeev gandhi hai chunav haar gaye toh december 30 december 19 tak vaah vipaksh ke neta the uske pashchat advani ji vipaksh lok sabha me vipaksh ke neta rahe 90 se train me tak sirf baajpayee ji friend massage 1996 tak rahe phir baajpayee ji is dauran 15 din ki khushi 16 din ke liye pradhanmantri the 16 may se 31 may ko us samay pv narsimha rav saheb lok sabha me neta ke pad par baajpayee ji ne tyagpatra diya uske baad me baajpayee ji vipaksh ke neta rahe 1996 97 me uske baad vajpayee ji pradhanmantri bane toh sharad power vipaksh ke neta rahe 9899 sharad power ne congress chodi sonia gandhi se matbhed ke chalte toh sonia gandhi vipaksh ki neta rahi lok sabha me 1999 se 2004 tak jab 2004 me manmohan Singh pradhanmantri bane toh pehle karyakal me advani ji lok sabha me vipaksh ke neta the aur dusre karyakal me manmohan Singh ke sushma swaraj vipaksh ki neta thi jab se modi ji pradhanmantri bane hain 2014 se tab se vipaksh ka neta koi nahi hai kyonki kisi bhi party ko 10 se zyada seaten nahi mili hai jo koi bhi is pad ka haqdaar nahi hai toh neta vipaksh ka pad khaali hai lok sabha me rajya sabha me bhi aisi parampara rahi thi 52 se 69 tak jo bhi jiske paas me sabse zyada seaten hoti thi usko vipaksh ka neta keh kar sambodhit kar liya jata tha lekin official position nahi thi official position 1969 me rajya sabha me neta vipaksh ki jab congress ka vibhajan hua toh shaam nandan mishra jo the vaah hum kangreso ki taraf se opposition ki taraf se pehle official neta vipaksh bane rajya sabha ke uske baad rajya sabha me neta vipaksh ki seat kabhi bhi khaali nahi rahi hamesha koi na koi aspast par rakha aur is pad par viraajamaan hue unmen manmohan Singh bhi the lalkrishna advani the arun jaitley the yah sab is pad par reh chuke hain aur 2014 se congress ke gulam nabi azad neta vipaksh ke pad par hain dhanyavad

लोकसभा में श्री ए के गोपालन जो कम्युनिस्ट पार्टी के थे उनको 1952 से 1969 तक लोकसभा के विपक

Romanized Version
Likes  112  Dislikes    views  1618
KooApp_icon
WhatsApp_icon
1 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!